Neha Sharma, Haryana
Neha Sharma, Haryana Apr 15, 2021

🌸*॥हरि ॐ तत्सत्॥*🌸🙏🌸*श्रीमद्भागवत-कथा*🌸 🌸🙏*श्रीमद्भागवत-महापुराण*🙏🌸 🌸🙏*पोस्ट - 183*🌸🙏🌸*स्कन्ध - 08*🙏🌸 🌸🙏*अध्याय - 24 (अन्तिम)*🙏🌸 *इस अध्याय में भगवान के मत्स्यावतार की कथा..... *राजा परीक्षित ने पूछा- 'भगवान के कर्म बड़े अद्भुत हैं। उन्होंने एक बार अपनी योगमाया से मत्स्यावतार धारण करके बड़ी सुन्दर लीला की थी, मैं उनके उसी आदि-अवतार की कथा सुनना चाहता हूँ। भगवन्! मत्स्ययोनि एक तो यों ही लोकनिन्दित है, दूसरे तमोगुणी और असह्य परतन्त्रता से युक्त भी है। सर्वशक्तिमान् होने पर भी भगवान ने कर्मबन्धन में बँधे हुए जीव की तरह यह मत्स्य का रूप क्यों धारण किया? भगवन्! महात्माओं के कीर्तनीय भगवान का चरित्र समस्त प्राणियों को सुख देने वाला है। आप कृपा करके उनकी वह सब लीला हमारे सामने पूर्ण रूप से वर्णन कीजिये।' *सूत जी कहते हैं- शौनकादि ऋषियों! जब राजा परीक्षित ने भगवान श्रीशुकदेव जी से यह प्रश्न किया, तब उन्होंने विष्णु भगवान का वह चरित्र जो उन्होंने मत्स्यावतार धारण करके किया था, वर्णन किया। *श्रीशुकदेव जी कहते हैं- परीक्षित! यों तो भगवान सबके एकमात्र प्रभु हैं; फिर भी वे गौ, ब्राह्मण, देवता, साधु, वेद, धर्म और अर्थ की रक्षा के लिये शरीर धारण किया करते हैं। वे सर्वशक्तिमान प्रभु वायु की तरह नीचे-ऊँचे, छोटे-बड़े सभी प्राणियों में अन्तर्यामी रूप से लीला करते रहते हैं। परन्तु उन-उन प्राणियों के बुद्धिगत गुणों से वे छोटे-बड़े या ऊँचे-नीचे नहीं हो जाते। क्योंकि वे वास्तव में समस्त प्राकृत गुणों से रहित-निर्गुण हैं। परीक्षित! पिछले कल्प के अन्त में ब्रह्मा जी के सो जाने के कारण ब्राह्म नामक नैमित्तिक प्रलय हुआ था। उस समय भूर्लोक आदि सारे लोक समुद्र में डूब गये थे। प्रलयकाल आ जाने के कारण ब्रह्मा जी को नींद आ रही थी, वे सोना चाहते थे। उसी समय वेद उनके मुख से निकल पड़े और उनसे पास ही रहने वाले हयग्रीव नामक बली दैत्य ने उन्हें योगबल से चुरा लिया। सर्वशक्तिमान् भगवान श्रीहरि ने दानवराज हयग्रीव की यह चेष्टा जान ली। इसलिये उन्होंने मत्स्यावतार ग्रहण किया। *परीक्षित! उस समय सत्यव्रत नाम के एक बड़े उदार एवं भगवत्परायण राजर्षि केवल जल पीकर तपस्या कर रहे थे। वही सत्यव्रत वर्तमान महाकल्प में विवस्वान् (सूर्य) के पुत्र श्राद्धदेव के नाम से विख्यात हुए और उन्हें भगवान ने वैवस्वत मनु बना दिया। एक दिन वे राजर्षि कृतमाला नदी में जल से तर्पण कर रहे थे। उसी समय उनकी अंजलि के जल में एक छोटी-सी मछली आ गयी। परीक्षित! द्रविड़ देश के राजा सत्यव्रत ने अपनी अंजलि में आयी हुई मछली को जल के साथ ही फिर से नदी में डाल दिया। उस मछली ने बड़ी करुणा के साथ परमदयालु राजा सत्यव्रत से कहा- ‘राजन! आप बड़े दीन दयालु हैं। आप जानते ही हैं कि जल में रहने वाले जन्तु अपनी जाति वालों को भी खा डालते है। मैं उनके भय से अत्यन्त व्याकुल हो रही हूँ। आप मुझे फिर इसी नदी के जल में क्यों छोड़ रहे हैं?' *राजा सत्यव्रत को इस बात का पता नहीं था कि स्वयं भगवान मुझ पर प्रसन्न होकर कृपा करने के लिये मछली के रूप में पधारे हैं। इसलिये उन्होंने उस मछली की रक्षा का मन-ही-मन संकल्प किया। राजा सत्यव्रत ने उस मछली की अत्यन्त दीनता से भरी बात सुनकर बड़ी दया से उसे अपने पात्र के जल में रख दिया और अपने आश्रम पर ले आये। *आश्रम पर लाने के बाद एक रात में ही वह मछली उस कमण्डलु में इतनी बढ़ गयी कि उसमें उसके लिये स्थान ही न रहा। उस समय मछली ने राजा से कहा- ‘अब तो इस कमण्डलु में मैं कष्टपूर्वक भी नहीं रह सकती; अतः मेरे लिये कोई बड़ा-सा स्थान नियत कर दें, जहाँ मैं सुखपूर्वक रह सकूँ’। *राजा सत्यव्रत ने मछली को कमण्डलु से निकालकर एक बहुत बड़े पानी के मटके में रख दिया। परन्तु वहाँ डालने पर वह मछली दो ही घड़ी में तीन हाथ बढ़ गयी। फिर उसने राजा सत्यव्रत से कहा- ‘राजन! अब यह मटका भी मेरे लिये पर्याप्त नहीं है। इसमें मैं सुखपूर्वक नहीं रह सकती। मैं तुम्हारी शरण में हूँ, इसलिये मेरे रहने योग्य कोई बड़ा-सा स्थान मुझे दो।' *परीक्षित! सत्यव्रत ने वहाँ से उस मछली को उठाकर एक सरोवर में डाल दिया। परन्तु वह थोड़ी ही देर में इतनी बढ़ गयी कि उसने एक महामत्स्य का आकार धारण कर उस सरोवर के जल को घेर लिया और कहा- ‘राजन! मैं जलचर प्राणी हूँ। इस सरोवर का जल भी मेरे सुखपूर्वक रहने के लिये पर्याप्त नहीं है। इसलिये आप मेरी रक्षा कीजिये और मुझे किसी अगाध सरोवर में रख दीजिये। मत्स्य भगवान के इस प्रकार कहने पर वे एक-एक करके उन्हें कई अटूट जल वाले सरोवरों में ले गये; परन्तु जितना बड़ा सरोवर होता, उतने ही बड़े वे बन जाते। अन्त में उन्होंने उस लीला मत्स्य को समुद्र में छोड़ दिया। *समुद्र में डालते समय मत्स्य भगवान ने सत्यव्रत से कहा- ‘वीर! समुद्र में बड़े-बड़े बली मगर आदि रहते हैं, वे मुझे खा जायेंगे, इसलिये आप मुझे समुद्र के जल में मत छोड़िये’। *मत्स्य भगवान की यह मधुर वाणी सुनकर राजा सत्यव्रत मोहमुग्ध हो गये। उन्होंने कहा- ‘मत्स्य का रूप धारण करके मुझे मोहित करने वाले आप कौन हैं? आपने एक ही दिन में चार सौ कोस के विस्तार का सरोवर घेर लिया। आज तक ऐसी शक्ति रखने वाला जलचर जीव तो न मैंने कभी देखा था और न सुना ही था। अवश्य ही आप साक्षात् सर्वशक्तिमान सर्वान्तर्यामी अविनाशी श्रीहरि हैं। जीवों पर अनुग्रह करने के लिये ही आपने जलचर का रूप धारण किया है। *पुरुषोत्तम! आप जगत की उत्पत्ति, स्थिति और प्रलय के स्वामी हैं। आपको मैं नमस्कार करता हूँ। प्रभो! हम शरणागत भक्तों के लिये आप ही आत्मा और आश्रय हैं। यद्यपि आपके सभी लीलावतार प्राणियों के अभ्युदय के लिये ही होते हैं, तथापि मैं यह जानना चाहता हूँ कि आपने यह रूप किस उद्देश्य से ग्रहण किया है। कमलनयन प्रभो! जैसे देहादि अनात्म पदार्थों में अपनेपन का अभिमान करने वाले संसारी पुरुषों का आश्रय व्यर्थ होता है, उस प्रकार आपके चरणों की शरण तो व्यर्थ हो नहीं सकती; क्योंकि आप सबके अहैतुक प्रेमी, परम प्रियतम और आत्मा हैं। आपने इस समय जो रूप धारण करके हमें दर्शन दिया है, यह बड़ा ही अद्भुत है।' *श्रीशुकदेव जी कहते हैं- परीक्षित! भगवान अपने अनन्य प्रेमी भक्तों पर अत्यन्त प्रेम करते हैं। जब जगत्पति मत्स्य भगवान ने अपने प्यारे भक्त राजर्षि सत्यव्रत की यह प्रार्थना सुनी तो उनका प्रिय और हित करने के लिये, साथ ही कल्पान्त के प्रलयकालीन समुद्र में विहार करने के लिये उनसे कहा। *श्रीभगवान ने कहा- 'सत्यव्रत! आज से सातवें दिन भूर्लोक आदि तीनों लोक प्रलय के समुद्र में डूब जायेंगे। उस समय जब तीनों लोक प्रलयकाल की जलराशि में डूबने लगेंगे, तब मेरी प्रेरणा से तुम्हारे पास एक बहुत बड़ी नौका आयेगी। उस समय तुम समस्त प्राणियों एक सूक्ष्म शरीरों को लेकर सप्तर्षियों के साथ उस नौका पर चढ़ जाना और समस्त धान्य तथा छोटे-बड़े अन्य प्रकार के बीजों को साथ रख लेना। उस समय सब ओर एकमात्र महासागर लहराता होगा। प्रकाश नहीं होगा। केवल ऋषियों की दिव्य ज्योति के सहारे ही बिना किसी प्रकार की विकलता के तुम उस बड़ी नाव पर चढ़कर चारों ओर विचरण करना। जब प्रचण्ड आँधी चलने के कारण नाव डगमगाने लगेगी, तब मैं इसी रूप में वहाँ आ जाऊँगा और तुम लोग वासुकि नाग के द्वारा उस नाव को मेरे सींग में बाँध देना। *सत्यव्रत! इसके बाद जब तक ब्रह्मा जी की रात रहेगी, तब तक मैं ऋषियों के साथ तुम्हें उस नाव में बैठाकर उसे खींचता हुआ समुद्र में विचरण करूँगा। उस समय जब तुम प्रश्न करोगे, तब मैं तुम्हें उपदेश दूँगा। मेरे अनुग्रह से मेरी वास्तविक महिमा, जिसका नाम ‘परब्रह्म’ है, तुम्हारे हृदय में प्रकट हो जायेगी और तुम उसे ठीक-ठीक जान लोगे।' *भगवान राजा सत्यव्रत को यह आदेश देकर अन्तर्धान हो गये। अतः अब राजा सत्यव्रत उसी समय की प्रतीक्षा करने लगे, जिसके लिये भगवान ने आज्ञा दी थी। कुशों का अग्रभाग पूर्व की ओर करके राजर्षि सत्यव्रत उन पर पूर्वोत्तर मुख से बैठ गये और मत्स्यरूप भगवान के चरणों का चिन्तन करने लगे। इतने में ही भगवान का बताया हुआ वह समय आ पहुँचा। राजा ने देखा कि समुद्र अपनी मर्यादा छोड़कर बढ़ रहा है। प्रलयकाल के भयंकर मेघ वर्षा करने लगे। देखते-ही-देखते सारी पृथ्वी डूबने लगी। तब राजा ने भगवान की आज्ञा का स्मरण किया और देखा कि नाव भी आ गयी है। तब वे धान्य तथा अन्य बीजों को लेकर सप्तर्षियों को लेकर उस पर सवार हो गये। *सप्तर्षियों ने बड़े प्रेम से राजा सत्यव्रत से कहा- ‘राजन! तुम भगवान का ध्यान करो। वे ही हमें इस संकट से बचायेंगे और हमारा कल्याण करेंगे’। उनकी आज्ञा से राजा ने भगवान का ध्यान किया। उसी समय उस महान् समुद्र में मत्स्य के रूप में भगवान प्रकट हुए। मत्स्य भगवान का शरीर सोने के समान देदीप्यमान था और शरीर का विस्तार था चार लाख कोस। उनके शरीर में एक बड़ा भारी सींग भी था। भगवान ने पहले जैसी आज्ञा दी थी, उसके अनुसार वह नौका वासुकि नाग के द्वारा भगवान के सींग में बाँध दी गयी और राजा सत्यव्रत ने प्रसन्न होकर भगवान की स्तुति की। *राजा सत्यव्रत ने कहा- 'प्रभो! संसार के जीवों का आत्मज्ञान अनादि अविद्या से ढक गया है। इसी कारण वे संसार के अनेकानेक क्लेशों के भार से पीड़ित हो रहे हैं। जब अनायास ही आपके अनुग्रह से वे आपकी शरण में पहुँच जाते हैं, तब आपको प्राप्त कर लेते हैं। इसलिये हमें बन्धन से छुड़ाकर वास्तविक मुक्ति देने वाले परमगुरु आप ही हैं। यह जीव अज्ञानी है, अपने ही कर्मों से बँधा हुआ है। वह सुख की इच्छा से दुःखप्रद कर्मों का अनुष्ठान करता है। जिनकी सेवा से उसका यह अज्ञान नष्ट हो जाता है, वे ही मेरे परमगुरु आप मेरे हृदय की गाँठ काट दें। जैसे अग्नि में तपाने से सोने-चाँदी के मल दूर हो जाते हैं और उनका सच्चा स्वरूप निखर आता है, वैसे ही आपकी सेवा से जीव अपने अन्तःकरण का अज्ञानरूप मल त्याग देता है और अपने वास्तविक स्वरूप में स्थित हो जाता है। आप सर्वशक्तिमान् अविनाशी प्रभु ही हमारे गुरुजनों के भी परमगुरु हैं। अतः आप ही हमारे भी गुरु बनें। *वे सब यदि स्वतन्त्र रूप से एक साथ मिलकर भी कृपा करें, तो आपकी कृपा के दस हजारवें अंश के अंश की भी बराबरी नहीं कर सकते। प्रभो! आप ही सर्वशक्तिमान हैं। मैं आपकी शरण ग्रहण करता हूँ। जैसे कोई अंधा अंधे को ही अपना पथ प्रदर्शक बना ले, वैसे ही अज्ञानी जीव अज्ञानी को ही अपना गुरु बनाते हैं। आप सूर्य के समान स्वयं प्रकाश और समस्त इन्द्रियों के प्रेरक हैं। हम आत्मतत्त्व के जिज्ञासु आपको ही गुरुरूप में वरण करते हैं। अज्ञानी मनुष्य अज्ञानियों को जिस ज्ञान का उपदेश करता है, वह तो अज्ञान ही है। उसके द्वारा संसाररूप घोर अन्धकार की अधिकाधिक प्राप्ति होती है। परन्तु आप तो उस अविनाशी और अमोघ ज्ञान का उपदेश करते हैं, जिससे मनुष्य अनायास ही अपने वास्तविक स्वरूप को प्राप्त कर लेता है। *आप सारे लोक के सुहृद्, प्रियतम, ईश्वर और आत्मा हैं। गुरु, उसके द्वारा प्राप्त होने वाला ज्ञान और अभीष्ट की सिद्धि भी आपका ही स्वरूप है। फिर भी कामनाओं के बन्धन में जकड़े जाकर लोग अंधे हो रहे हैं। उन्हें इस बात का पता ही नहीं है कि आप उनके हृदय में ही विराजमान हैं। आप देवताओं के भी आराध्यदेव, परमपूजनीय परमेश्वर हैं। मैं आपसे ज्ञान प्राप्त करने के लिये आपकी शरण में आया हूँ। भगवन्! आप परमार्थ को प्रकाशित करने वाली अपनी वाणी के द्वारा मेरे हृदय की ग्रन्थि काट डालिये और अपने स्वरूप को प्रकाशित कीजिये।' *श्रीशुकदेव जी कहते हैं- परीक्षित! जब राजा सत्यव्रत ने इस प्रकार प्रार्थना की; तब मत्स्य रूपधारी पुरुषोत्तम भगवान ने प्रलय के समुद्र में विहार करते हुए उन्हें आत्मतत्त्व का उपदेश किया। *भगवान ने राजर्षि सत्यव्रत को अपने स्वरूप के सम्पूर्ण रहस्य का वर्णन करते हुए ज्ञान, भक्ति और कर्मयोग से परिपूर्ण दिव्य पुराण का उपदेश किया, जिसको ‘मत्स्यपुराण’ कहते हैं। *सत्यव्रत ने ऋषियों के साथ नाव में बैठे हुए ही सन्देहरहित होकर भगवान के द्वारा उपदिष्ट सनातन ब्रह्मस्वरूप आत्मतत्त्व का श्रवण किया। इसके बाद जब पिछले प्रलय का अन्त हो गया और ब्रह्मा जी की नींद टूटी, तब भगवान ने हयग्रीव असुर को मारकर उससे वेद छीन लिये और ब्रह्मा जी को दे दिये। भगवान की कृपा से राजा सत्यव्रत ज्ञान और विज्ञान से संयुक्त होकर इस कल्प में वैवस्वत मनु हुए। अपनी योगमाया से मत्स्यरूप धारण करने वाले भगवान विष्णु और राजर्षि सत्यव्रत का यह संवाद एवं श्रेष्ठ आख्यान सुनकर मनुष्य सब प्रकार के पापों से मुक्त हो जाता है। *जो मनुष्य भगवान के इस अवतार का प्रतिदिन कीर्तन करता है, उसके सारे संकल्प सिद्ध हो जाते हैं और उसे परमगति की प्राप्ति होती है। प्रलयकालीन समुद्र में जब ब्रह्मा जी सो गये थे, उनकी सृष्टिशक्ति लुप्त हो चुकी थी, उस समय उनके मुख से निकली हुई श्रुतियों को चुराकर हयग्रीव दैत्य पाताल में ले गया था। भगवान ने उसे मारकर वे श्रुतियाँ ब्रह्मा जी को लौटा दीं एवं सत्यव्रत तथा सप्तर्षियों को ब्रह्मतत्त्व का उपदेश किया। उस समस्त जगत के परमकारण लीला मत्स्य भगवान को मैं नमस्कार करता हूँ। ~~~०~~~ *श्रीकृष्ण गोविन्द हरे मुरारे। *हे नाथ नारायण वासुदेवाय॥ "जय जय श्री हरि" 🌸🌸🙏🌸🌸 ********************************************

🌸*॥हरि ॐ तत्सत्॥*🌸🙏🌸*श्रीमद्भागवत-कथा*🌸
              🌸🙏*श्रीमद्भागवत-महापुराण*🙏🌸
 🌸🙏*पोस्ट - 183*🌸🙏🌸*स्कन्ध - 08*🙏🌸
            🌸🙏*अध्याय - 24 (अन्तिम)*🙏🌸
*इस अध्याय में भगवान के मत्स्यावतार की कथा.....

          *राजा परीक्षित ने पूछा- 'भगवान के कर्म बड़े अद्भुत हैं। उन्होंने एक बार अपनी योगमाया से मत्स्यावतार धारण करके बड़ी सुन्दर लीला की थी, मैं उनके उसी आदि-अवतार की कथा सुनना चाहता हूँ। भगवन्! मत्स्ययोनि एक तो यों ही लोकनिन्दित है, दूसरे तमोगुणी और असह्य परतन्त्रता से युक्त भी है। सर्वशक्तिमान् होने पर भी भगवान ने कर्मबन्धन में बँधे हुए जीव की तरह यह मत्स्य का रूप क्यों धारण किया? भगवन्! महात्माओं के कीर्तनीय भगवान का चरित्र समस्त प्राणियों को सुख देने वाला है। आप कृपा करके उनकी वह सब लीला हमारे सामने पूर्ण रूप से वर्णन कीजिये।'
          *सूत जी कहते हैं- शौनकादि ऋषियों! जब राजा परीक्षित ने भगवान श्रीशुकदेव जी से यह प्रश्न किया, तब उन्होंने विष्णु भगवान का वह चरित्र जो उन्होंने मत्स्यावतार धारण करके किया था, वर्णन किया।
          *श्रीशुकदेव जी कहते हैं- परीक्षित! यों तो भगवान सबके एकमात्र प्रभु हैं; फिर भी वे गौ, ब्राह्मण, देवता, साधु, वेद, धर्म और अर्थ की रक्षा के लिये शरीर धारण किया करते हैं। वे सर्वशक्तिमान प्रभु वायु की तरह नीचे-ऊँचे, छोटे-बड़े सभी प्राणियों में अन्तर्यामी रूप से लीला करते रहते हैं। परन्तु उन-उन प्राणियों के बुद्धिगत गुणों से वे छोटे-बड़े या ऊँचे-नीचे नहीं हो जाते। क्योंकि वे वास्तव में समस्त प्राकृत गुणों से रहित-निर्गुण हैं। परीक्षित! पिछले कल्प के अन्त में ब्रह्मा जी के सो जाने के कारण ब्राह्म नामक नैमित्तिक प्रलय हुआ था। उस समय भूर्लोक आदि सारे लोक समुद्र में डूब गये थे। प्रलयकाल आ जाने के कारण ब्रह्मा जी को नींद आ रही थी, वे सोना चाहते थे। उसी समय वेद उनके मुख से निकल पड़े और उनसे पास ही रहने वाले हयग्रीव नामक बली दैत्य ने उन्हें योगबल से चुरा लिया। सर्वशक्तिमान् भगवान श्रीहरि ने दानवराज हयग्रीव की यह चेष्टा जान ली। इसलिये उन्होंने मत्स्यावतार ग्रहण किया।
          *परीक्षित! उस समय सत्यव्रत नाम के एक बड़े उदार एवं भगवत्परायण राजर्षि केवल जल पीकर तपस्या कर रहे थे। वही सत्यव्रत वर्तमान महाकल्प में विवस्वान् (सूर्य) के पुत्र श्राद्धदेव के नाम से विख्यात हुए और उन्हें भगवान ने वैवस्वत मनु बना दिया। एक दिन वे राजर्षि कृतमाला नदी में जल से तर्पण कर रहे थे। उसी समय उनकी अंजलि के जल में एक छोटी-सी मछली आ गयी। परीक्षित! द्रविड़ देश के राजा सत्यव्रत ने अपनी अंजलि में आयी हुई मछली को जल के साथ ही फिर से नदी में डाल दिया। उस मछली ने बड़ी करुणा के साथ परमदयालु राजा सत्यव्रत से कहा- ‘राजन! आप बड़े दीन दयालु हैं। आप जानते ही हैं कि जल में रहने वाले जन्तु अपनी जाति वालों को भी खा डालते है। मैं उनके भय से अत्यन्त व्याकुल हो रही हूँ। आप मुझे फिर इसी नदी के जल में क्यों छोड़ रहे हैं?'
          *राजा सत्यव्रत को इस बात का पता नहीं था कि स्वयं भगवान मुझ पर प्रसन्न होकर कृपा करने के लिये मछली के रूप में पधारे हैं। इसलिये उन्होंने उस मछली की रक्षा का मन-ही-मन संकल्प किया। राजा सत्यव्रत ने उस मछली की अत्यन्त दीनता से भरी बात सुनकर बड़ी दया से उसे अपने पात्र के जल में रख दिया और अपने आश्रम पर ले आये।
          *आश्रम पर लाने के बाद एक रात में ही वह मछली उस कमण्डलु में इतनी बढ़ गयी कि उसमें उसके लिये स्थान ही न रहा। उस समय मछली ने राजा से कहा- ‘अब तो इस कमण्डलु में मैं कष्टपूर्वक भी नहीं रह सकती; अतः मेरे लिये कोई बड़ा-सा स्थान नियत कर दें, जहाँ मैं सुखपूर्वक रह सकूँ’। 
          *राजा सत्यव्रत ने मछली को कमण्डलु से निकालकर एक बहुत बड़े पानी के मटके में रख दिया। परन्तु वहाँ डालने पर वह मछली दो ही घड़ी में तीन हाथ बढ़ गयी। फिर उसने राजा सत्यव्रत से कहा- ‘राजन! अब यह मटका भी मेरे लिये पर्याप्त नहीं है। इसमें मैं सुखपूर्वक नहीं रह सकती। मैं तुम्हारी शरण में हूँ, इसलिये मेरे रहने योग्य कोई बड़ा-सा स्थान मुझे दो।' 
          *परीक्षित! सत्यव्रत ने वहाँ से उस मछली को उठाकर एक सरोवर में डाल दिया। परन्तु वह थोड़ी ही देर में इतनी बढ़ गयी कि उसने एक महामत्स्य का आकार धारण कर उस सरोवर के जल को घेर लिया और कहा- ‘राजन! मैं जलचर प्राणी हूँ। इस सरोवर का जल भी मेरे सुखपूर्वक रहने के लिये पर्याप्त नहीं है। इसलिये आप मेरी रक्षा कीजिये और मुझे किसी अगाध सरोवर में रख दीजिये। मत्स्य भगवान के इस प्रकार कहने पर वे एक-एक करके उन्हें कई अटूट जल वाले सरोवरों में ले गये; परन्तु जितना बड़ा सरोवर होता, उतने ही बड़े वे बन जाते। अन्त में उन्होंने उस लीला मत्स्य को समुद्र में छोड़ दिया। 
          *समुद्र में डालते समय मत्स्य भगवान ने सत्यव्रत से कहा- ‘वीर! समुद्र में बड़े-बड़े बली मगर आदि रहते हैं, वे मुझे खा जायेंगे, इसलिये आप मुझे समुद्र के जल में मत छोड़िये’। 
          *मत्स्य भगवान की यह मधुर वाणी सुनकर राजा सत्यव्रत मोहमुग्ध हो गये। उन्होंने कहा- ‘मत्स्य का रूप धारण करके मुझे मोहित करने वाले आप कौन हैं? आपने एक ही दिन में चार सौ कोस के विस्तार का सरोवर घेर लिया। आज तक ऐसी शक्ति रखने वाला जलचर जीव तो न मैंने कभी देखा था और न सुना ही था। अवश्य ही आप साक्षात् सर्वशक्तिमान सर्वान्तर्यामी अविनाशी श्रीहरि हैं। जीवों पर अनुग्रह करने के लिये ही आपने जलचर का रूप धारण किया है। 
          *पुरुषोत्तम! आप जगत की उत्पत्ति, स्थिति और प्रलय के स्वामी हैं। आपको मैं नमस्कार करता हूँ। प्रभो! हम शरणागत भक्तों के लिये आप ही आत्मा और आश्रय हैं। यद्यपि आपके सभी लीलावतार प्राणियों के अभ्युदय के लिये ही होते हैं, तथापि मैं यह जानना चाहता हूँ कि आपने यह रूप किस उद्देश्य से ग्रहण किया है। कमलनयन प्रभो! जैसे देहादि अनात्म पदार्थों में अपनेपन का अभिमान करने वाले संसारी पुरुषों का आश्रय व्यर्थ होता है, उस प्रकार आपके चरणों की शरण तो व्यर्थ हो नहीं सकती; क्योंकि आप सबके अहैतुक प्रेमी, परम प्रियतम और आत्मा हैं। आपने इस समय जो रूप धारण करके हमें दर्शन दिया है, यह बड़ा ही अद्भुत है।' 
          *श्रीशुकदेव जी कहते हैं- परीक्षित! भगवान अपने अनन्य प्रेमी भक्तों पर अत्यन्त प्रेम करते हैं। जब जगत्पति मत्स्य भगवान ने अपने प्यारे भक्त राजर्षि सत्यव्रत की यह प्रार्थना सुनी तो उनका प्रिय और हित करने के लिये, साथ ही कल्पान्त के प्रलयकालीन समुद्र में विहार करने के लिये उनसे कहा।
          *श्रीभगवान ने कहा- 'सत्यव्रत! आज से सातवें दिन भूर्लोक आदि तीनों लोक प्रलय के समुद्र में डूब जायेंगे। उस समय जब तीनों लोक प्रलयकाल की जलराशि में डूबने लगेंगे, तब मेरी प्रेरणा से तुम्हारे पास एक बहुत बड़ी नौका आयेगी। उस समय तुम समस्त प्राणियों एक सूक्ष्म शरीरों को लेकर सप्तर्षियों के साथ उस नौका पर चढ़ जाना और समस्त धान्य तथा छोटे-बड़े अन्य प्रकार के बीजों को साथ रख लेना। उस समय सब ओर एकमात्र महासागर लहराता होगा। प्रकाश नहीं होगा। केवल ऋषियों की दिव्य ज्योति के सहारे ही बिना किसी प्रकार की विकलता के तुम उस बड़ी नाव पर चढ़कर चारों ओर विचरण करना। जब प्रचण्ड आँधी चलने के कारण नाव डगमगाने लगेगी, तब मैं इसी रूप में वहाँ आ जाऊँगा और तुम लोग वासुकि नाग के द्वारा उस नाव को मेरे सींग में बाँध देना।
          *सत्यव्रत! इसके बाद जब तक ब्रह्मा जी की रात रहेगी, तब तक मैं ऋषियों के साथ तुम्हें उस नाव में बैठाकर उसे खींचता हुआ समुद्र में विचरण करूँगा। उस समय जब तुम प्रश्न करोगे, तब मैं तुम्हें उपदेश दूँगा। मेरे अनुग्रह से मेरी वास्तविक महिमा, जिसका नाम ‘परब्रह्म’ है, तुम्हारे हृदय में प्रकट हो जायेगी और तुम उसे ठीक-ठीक जान लोगे।'
          *भगवान राजा सत्यव्रत को यह आदेश देकर अन्तर्धान हो गये। अतः अब राजा सत्यव्रत उसी समय की प्रतीक्षा करने लगे, जिसके लिये भगवान ने आज्ञा दी थी। कुशों का अग्रभाग पूर्व की ओर करके राजर्षि सत्यव्रत उन पर पूर्वोत्तर मुख से बैठ गये और मत्स्यरूप भगवान के चरणों का चिन्तन करने लगे। इतने में ही भगवान का बताया हुआ वह समय आ पहुँचा। राजा ने देखा कि समुद्र अपनी मर्यादा छोड़कर बढ़ रहा है। प्रलयकाल के भयंकर मेघ वर्षा करने लगे। देखते-ही-देखते सारी पृथ्वी डूबने लगी। तब राजा ने भगवान की आज्ञा का स्मरण किया और देखा कि नाव भी आ गयी है। तब वे धान्य तथा अन्य बीजों को लेकर सप्तर्षियों को लेकर उस पर सवार हो गये।
          *सप्तर्षियों ने बड़े प्रेम से राजा सत्यव्रत से कहा- ‘राजन! तुम भगवान का ध्यान करो। वे ही हमें इस संकट से बचायेंगे और हमारा कल्याण करेंगे’। उनकी आज्ञा से राजा ने भगवान का ध्यान किया। उसी समय उस महान् समुद्र में मत्स्य के रूप में भगवान प्रकट हुए। मत्स्य भगवान का शरीर सोने के समान देदीप्यमान था और शरीर का विस्तार था चार लाख कोस। उनके शरीर में एक बड़ा भारी सींग भी था। भगवान ने पहले जैसी आज्ञा दी थी, उसके अनुसार वह नौका वासुकि नाग के द्वारा भगवान के सींग में बाँध दी गयी और राजा सत्यव्रत ने प्रसन्न होकर भगवान की स्तुति की।
          *राजा सत्यव्रत ने कहा- 'प्रभो! संसार के जीवों का आत्मज्ञान अनादि अविद्या से ढक गया है। इसी कारण वे संसार के अनेकानेक क्लेशों के भार से पीड़ित हो रहे हैं। जब अनायास ही आपके अनुग्रह से वे आपकी शरण में पहुँच जाते हैं, तब आपको प्राप्त कर लेते हैं। इसलिये हमें बन्धन से छुड़ाकर वास्तविक मुक्ति देने वाले परमगुरु आप ही हैं। यह जीव अज्ञानी है, अपने ही कर्मों से बँधा हुआ है। वह सुख की इच्छा से दुःखप्रद कर्मों का अनुष्ठान करता है। जिनकी सेवा से उसका यह अज्ञान नष्ट हो जाता है, वे ही मेरे परमगुरु आप मेरे हृदय की गाँठ काट दें। जैसे अग्नि में तपाने से सोने-चाँदी के मल दूर हो जाते हैं और उनका सच्चा स्वरूप निखर आता है, वैसे ही आपकी सेवा से जीव अपने अन्तःकरण का अज्ञानरूप मल त्याग देता है और अपने वास्तविक स्वरूप में स्थित हो जाता है। आप सर्वशक्तिमान् अविनाशी प्रभु ही हमारे गुरुजनों के भी परमगुरु हैं। अतः आप ही हमारे भी गुरु बनें।
          *वे सब यदि स्वतन्त्र रूप से एक साथ मिलकर भी कृपा करें, तो आपकी कृपा के दस हजारवें अंश के अंश की भी बराबरी नहीं कर सकते। प्रभो! आप ही सर्वशक्तिमान हैं। मैं आपकी शरण ग्रहण करता हूँ। जैसे कोई अंधा अंधे को ही अपना पथ प्रदर्शक बना ले, वैसे ही अज्ञानी जीव अज्ञानी को ही अपना गुरु बनाते हैं। आप सूर्य के समान स्वयं प्रकाश और समस्त इन्द्रियों के प्रेरक हैं। हम आत्मतत्त्व के जिज्ञासु आपको ही गुरुरूप में वरण करते हैं। अज्ञानी मनुष्य अज्ञानियों को जिस ज्ञान का उपदेश करता है, वह तो अज्ञान ही है। उसके द्वारा संसाररूप घोर अन्धकार की अधिकाधिक प्राप्ति होती है। परन्तु आप तो उस अविनाशी और अमोघ ज्ञान का उपदेश करते हैं, जिससे मनुष्य अनायास ही अपने वास्तविक स्वरूप को प्राप्त कर लेता है। 
          *आप सारे लोक के सुहृद्, प्रियतम, ईश्वर और आत्मा हैं। गुरु, उसके द्वारा प्राप्त होने वाला ज्ञान और अभीष्ट की सिद्धि भी आपका ही स्वरूप है। फिर भी कामनाओं के बन्धन में जकड़े जाकर लोग अंधे हो रहे हैं। उन्हें इस बात का पता ही नहीं है कि आप उनके हृदय में ही विराजमान हैं। आप देवताओं के भी आराध्यदेव, परमपूजनीय परमेश्वर हैं। मैं आपसे ज्ञान प्राप्त करने के लिये आपकी शरण में आया हूँ। भगवन्! आप परमार्थ को प्रकाशित करने वाली अपनी वाणी के द्वारा मेरे हृदय की ग्रन्थि काट डालिये और अपने स्वरूप को प्रकाशित कीजिये।' 
          *श्रीशुकदेव जी कहते हैं- परीक्षित! जब राजा सत्यव्रत ने इस प्रकार प्रार्थना की; तब मत्स्य रूपधारी पुरुषोत्तम भगवान ने प्रलय के समुद्र में विहार करते हुए उन्हें आत्मतत्त्व का उपदेश किया। 
          *भगवान ने राजर्षि सत्यव्रत को अपने स्वरूप के सम्पूर्ण रहस्य का वर्णन करते हुए ज्ञान, भक्ति और कर्मयोग से परिपूर्ण दिव्य पुराण का उपदेश किया, जिसको ‘मत्स्यपुराण’ कहते हैं। 
          *सत्यव्रत ने ऋषियों के साथ नाव में बैठे हुए ही सन्देहरहित होकर भगवान के द्वारा उपदिष्ट सनातन ब्रह्मस्वरूप आत्मतत्त्व का श्रवण किया। इसके बाद जब पिछले प्रलय का अन्त हो गया और ब्रह्मा जी की नींद टूटी, तब भगवान ने हयग्रीव असुर को मारकर उससे वेद छीन लिये और ब्रह्मा जी को दे दिये। भगवान की कृपा से राजा सत्यव्रत ज्ञान और विज्ञान से संयुक्त होकर इस कल्प में वैवस्वत मनु हुए। अपनी योगमाया से मत्स्यरूप धारण करने वाले भगवान विष्णु और राजर्षि सत्यव्रत का यह संवाद एवं श्रेष्ठ आख्यान सुनकर मनुष्य सब प्रकार के पापों से मुक्त हो जाता है। 
          *जो मनुष्य भगवान के इस अवतार का प्रतिदिन कीर्तन करता है, उसके सारे संकल्प सिद्ध हो जाते हैं और उसे परमगति की प्राप्ति होती है। प्रलयकालीन समुद्र में जब ब्रह्मा जी सो गये थे, उनकी सृष्टिशक्ति लुप्त हो चुकी थी, उस समय उनके मुख से निकली हुई श्रुतियों को चुराकर हयग्रीव दैत्य पाताल में ले गया था। भगवान ने उसे मारकर वे श्रुतियाँ ब्रह्मा जी को लौटा दीं एवं सत्यव्रत तथा सप्तर्षियों को ब्रह्मतत्त्व का उपदेश किया। उस समस्त जगत के परमकारण लीला मत्स्य भगवान को मैं नमस्कार करता हूँ।
                             ~~~०~~~
                   *श्रीकृष्ण  गोविन्द  हरे मुरारे।
                   *हे नाथ नारायण वासुदेवाय॥
                           "जय जय श्री हरि"
                           🌸🌸🙏🌸🌸
********************************************

+110 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 106 शेयर

कामेंट्स

Ranveer soni Apr 15, 2021
🌹🌹जय श्री कृष्णा🌹🌹

🙋🅰NJALI😊ⓂISH®🅰🙏 Apr 15, 2021
IIॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमःll🌷जय माता दी 🌷शुभ रात्रि वंदन बहना जी🙏भगवान् श्री लक्ष्मी नारायण जी एवम👁️माँ👁️ चंद्रघंटा की कृपा आप और आपके समस्त परिवार पर सदा बनी रहैं🙌 माता जगदंबा जी आप सभी को स्वस्थ और सुखी रखें ( चैत्र नवरात्रि )के तीसरे दिन की आपको शुभकामनाएं मेरी प्यारी आदरणीय behna ji 🙏🥀🌸🌻🌺🎋🌻🌷🌾!! हरि ओम नमो नारायण !!🌷🙏हर हर महादेव☘️🌿🍃🍊🍊🍎🍎🍇🍇

YOGESH kumar bansal Apr 15, 2021
GOOD MORNING TO ALL NEAREST AND DEAREST OMG GANESH ÝOGESH KUMAR BANSAL GOOD LUCK FOR TODAY TO ALL NEAREST AND DEAREST OMG GANESH ÝOGESH KUMAR RADHE RADHE SHYAM

madan pal 🌷🙏🏼 Apr 15, 2021
जय श्री राधे कृष्णा जी शूभ प्रभात वंदन जी आपका हर पल शूभ मंगल हों जी को 🙏🏼🙏🏼🙏🏼🌷🌷🌷🌹🌹🌹

Ravi Kumar Taneja Apr 15, 2021
🕉या देवी सर्वभूतेषु शांतिरूपेण संस्थिता, नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।🙏 🙏🌷🙏जय मांअम्बे जय जय जगदम्बे 🙏🌷🙏 🚩🚩‘या देवी सर्वभूतेषु मां चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नसस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:‘🚩🚩 🌷🌷आप सभी को माँ दुर्गा जी का तृतीय स्वरूप माँ चंद्रघंटा पूजन की हार्दिक शुभकामनाएँ 🌷🌷 माँ चंद्रघंटा की कृपा से सभी के जीवन में उत्साह, उर्जा, सुख ,समृद्धि ,शांति , स्वlस्थ का आगमन हो माता जी का शुभ आशीष सदा बना रहे 🙏🐾🙏 🌹🌹जय माता दी 🌹🌹 माता चंद्रघंटाजी की कृपा से आपका जीवन मंगल मय हो देवी माँ की कृपा से आप स्वस्थ रहें सम्रद्ध रहें भक्ति भाव से भरे रहें!!!🕉🙏🐾🙏🐾🙏🕉

Bhagat ram Apr 16, 2021
🌹🌹 जय माता दी 🙏🙏🌺💐🌿🌹 सुप्रभात वंदन जी 🙏🙏🌺💐🌿🌹 जय श्री कृष्णा राधे राधे जी 🙏🙏🌺💐🌿🌹

Madhuben patel Apr 16, 2021
जय श्रीराधे कृष्णा जी स्नेहानुराग प्रभात की स्नेहवंदन प्यारी बहना जी कान्हाजी का आशीर्वाद बनी रहेवे जी

RAJ RATHOD Apr 16, 2021
🚩🚩या देवी सर्वभू‍तेषु मां कूष्‍मांडा रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।🚩🚩 🌷🙏शुभ शुक्रवार.. प्रभात वंदन 🙏🌷 🌸🌸माँ कूष्मांडा की कृपा आप पर बनी रहे 🌸🌸

Brajesh Sharma Apr 16, 2021
जय श्री राधे कृष्णा जी

Manoj manu Apr 16, 2021
🚩🌺जय माता दी जगत जननी माँ भगवती की अनंत सुंदर एवं ममतामयी कृपा के साथ में शुभ दिन मधुर मंगल जी दीदी 🌹🙏

anju joshi Apr 16, 2021
जय माता दी सुप्रभात 🌹🙏 आदरणीय बहना जी आज की नई सुबह इतनी सुहानी हो जाए आपके दुखों की सारी बातें पुरानी हो जाए । दे जाए इतनी खुशियां ये शुक्रवार आपको कि खुशी भी आपकी मुस्कुराहट की दीवानी हो जाए

Manoj Gupta AGRA Apr 16, 2021
jai shree radhe krishna ji 🙏🙏🌷🌸💐🌀 shubh prabhat vandan ji 🙏🙏🌷🌸

Yogi Kashyap May 13, 2021

+40 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 98 शेयर
Renu Singh May 13, 2021

+839 प्रतिक्रिया 173 कॉमेंट्स • 1085 शेयर
muskan May 13, 2021

+272 प्रतिक्रिया 110 कॉमेंट्स • 85 शेयर

+83 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 350 शेयर
Mohinder Dhingra May 13, 2021

+14 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Jai Mata Di May 12, 2021

+154 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 102 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB