माँ कालिका जी के दर्शन, अमृतसर पंजाब से।

+389 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 90 शेयर

कामेंट्स

Manoj manu Jan 6, 2018
🚩🙏jai maa mahakale 🙏🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

Baldevgiri Jan 6, 2018
🙏 शरणागत दिनार्त परित्राण परायणे सर्वस्यार्तिं हरे देवी नारायणी नमोस्तुते ।। ॐ ऐं ह्रीं क्लीं महाकाली माताय नमः 🌸

Narayan Tiwari Aug 7, 2020

श्रीबगलामुखी पीताम्बरा स्तुति एवं अवतरण:🚩 """"""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""" ।। अथ श्री बगलामुखी स्तुति।। 1- नमो महाविधा बरदा, बगलामुखी दयाल। स्तम्भन क्षण में करे, सुमरित अरिकुल काल।। नमो नमो पीताम्बरा भवानी, बगलामुखी नमो कल्यानी। भक्त वत्सला शत्रु नशानी, नमो महाविधा वरदानी।। 2- अमृत सागर बीच तुम्हारा, रत्न जड़ित मणि मंडित प्यारा। स्वर्ण सिंहासन पर आसीना, पीताम्बर अति दिव्य नवीना।। स्वर्णभूषण सुन्दर धारे, सिर पर चन्द्र मुकुट श्रृंगारे। तीन नेत्र दो भुजा मृणाला, धारे मुद्गर पाश कराला।। 3- भैरव करे सदा सेवकाई, सिद्ध काम सब विघ्न नसाई। तुम हताश का निपट सहारा, करे अकिंचन अरिकल धारा।। तुम काली तारा भुवनेशी, त्रिपुर सुन्दरी भैरवी वेशी। छिन्नभाल धूमा मातंगी, गायत्री तुम बगला रंगी।। 4- सकल शक्तियाँ तुम में साजें, ह्रीं बीज के बीज बिराजे। दुष्ट स्तम्भन अरिकुल कीलन, मारण वशीकरण सम्मोहन।। दुष्टोच्चाटन कारक माता, अरि जिव्हा कीलक सघाता। साधक के विपति की त्राता, नमो महामाया प्रख्याता।। 5- मुद्गर शिला लिये अति भारी, प्रेतासन पर किये सवारी। तीन लोक दस दिशा भवानी, बिचरहु तुम हित कल्यानी।। अरि अरिष्ट सोचे जो जन को, बुध्दि नाशकर कीलक तन को। हाथ पांव बाँधहु तुम ताके, हनहु जीभ बिच मुद्गर बाके।। 6- चोरो का जब संकट आवे, रण में रिपुओं से घिर जावे। अनल अनिल बिप्लव घहरावे, वाद विवाद न निर्णय पावे।। मूठ आदि अभिचारण संकट, राजभीति आपत्ति सन्निकट। ध्यान करत सब कष्ट नसावे, भूत प्रेत न बाधा आवे।। 7- सुमरित राजव्दार बंध जावे, सभा बीच स्तम्भवन छावे। नाग सर्प ब्रर्चिश्रकादि भयंकर, खल विहंग भागहिं सब सत्वर।। सर्व रोग की नाशन हारी, अरिकुल मूलच्चाटन कारी। स्त्री पुरुष राज सम्मोहक, नमो नमो पीताम्बर सोहक।। 8- तुमको सदा कुबेर मनावे, श्री समृद्धि सुयश नित गावें। शक्ति शौर्य की तुम्हीं विधाता, दुःख दारिद्र विनाशक माता।। यश ऐश्वर्य सिद्धि की दाता, शत्रु नाशिनी विजय प्रदाता। पीताम्बरा नमो कल्यानी, नमो माता बगला महारानी।। 9- जो तुमको सुमरै चितलाई, योग क्षेम से करो सहाई। आपत्ति जन की तुरत निवारो, आधि व्याधि संकट सब टारो।। पूजा विधि नहिं जानत तुम्हरी, अर्थ न आखर करहूँ निहोरी। मैं कुपुत्र अति निवल उपाया, हाथ जोड़ शरणागत आया।। 10- जग में केवल तुम्हीं सहारा, सारे संकट करहुँ निवारा। नमो महादेवी हे माता, पीताम्बरा नमो सुखदाता।। सोम्य रूप धर बनती माता, सुख सम्पत्ति सुयश की दाता। रोद्र रूप धर शत्रु संहारो, अरि जिव्हा में मुद्गर मारो।। 11- नमो महाविधा आगारा, आदि शक्ति सुन्दरी आपारा। अरि भंजक विपत्ति की त्राता, दया करो पीताम्बरी माता।। रिद्धि सिद्धि दाता तुम्हीं, अरि समूल कुल काल। मेरी सब बाधा हरो, माँ बगले तत्काल..!! 🙏 || श्री पीताम्बरायै नमः || 🙏 🚩|| जय मांई की ||🚩

+284 प्रतिक्रिया 38 कॉमेंट्स • 23 शेयर

आज के मंगला विडियों आरती पूर्व दर्शन कालका माता जी के कालका धाम दिल्ली से 🚩जय माता दी 🌹🙏 🌹🌹जय माता लक्ष्मी जी 🌹🌹 🙏🙏इन्द्र को लक्ष्मीहीन होने का श्राप क्यों दिया था महर्षि दुर्वासा ने, पढ़ें पौराणिक कथा ! भारतीय धर्म-संस्कृति में फूलों का महत्व बताया गया है। फूलों में दैवीय शक्तियां विद्यमान होती होती हैं, जो भक्तों की शक्ति को बढ़ा देती हैं। यह शक्ति हमें आंखों से दिखाई नहीं देती है, लेकिन फूलों से देवी-देवता का पूजन करने से हमें लक्ष्मी, धन-संपत्ति, वैभव तथा सभी तरह के सुखों की प्राप्ति होती है। इन्हीं फूलों में है एक खास वैजयंती का फूल, जो भगवान श्रीकृष्ण को बहुत प्रिय है तथा जिसकी माला वे हमेशा अपने गले में धारण किए रहते हैं। अगर आपने कभी गलती से या अहंकार के चलते भगवान को चढ़ाए जाने वाले फूलों का अपमान कर दिया तो आपको मां लक्ष्मी के कोप का शिकार होना पड़ सकता है। अत: देवी-देवताओं को चढ़ाए जाने वाले फूलों का कभी भी अपमान मत कीजिए। इस संबंध में कही गई एक पौराणिक कथा के अनुसार ब्रह्मा को भी महालक्ष्मी ने दर-दर भटकने के लिए विवश कर दिया था। आइए पढ़ें- एक कथा के अनुसार इन्द्र ने अंहकारवश वैजयंतीमाला का अपमान किया था, परिणामस्वरूप महालक्ष्मी उनसे रुष्ट हो गईं और उन्हें दर-दर भटकना पड़ा था। देवराज इन्द्र अपने हाथी ऐरावत पर भ्रमण कर रहे थे। मार्ग में उनकी भेंट महर्षि दुर्वासा से हुई। उन्होंने इन्द्र को अपने गले से पुष्पमाला उतारकर भेंटस्वरूप दे दी। इन्द्र ने अभिमानवश उस पुष्पमाला को ऐरावत के गले में डाल दिया और ऐरावत ने उसे गले से उतारकर अपने पैरों तले रौंद डाला। अपने द्वारा दी हुई भेंट का अपमान देखकर महर्षि दुर्वासा को बहुत क्रोध आया। उन्होंने इन्द्र को लक्ष्मीहीन होने का श्राप दे दिया। महर्षि दुर्वासा के श्राप के प्रभाव से लक्ष्मीहीन इन्द्र दैत्यों के राजा बलि से युद्ध में हार गए जिसके परिणास्वरूप राजा बलि ने तीनों लोकों पर अपना आधिपत्य स्थापित कर लिया। हताश और निराश हुए देवता ब्रह्माजी को साथ लेकर श्रीहरि के आश्रय में गए और उनसे अपना स्वर्गलोक वापस पाने के लिए प्रार्थना करने लगे। श्रीहरि ने कहा कि आप सभी देवतागण दैत्यों से सुलह कर लें और उनका सहयोग पाकर मंदराचल को मथानी तथा वासुकि नाग को रस्सी बनाकर क्षीरसागर का मंथन करें। समुद्र मंथन से जो अमृत प्राप्त होगा उसे पिलाकर मैं आप सभी देवताओं को अजर-अमर कर दूंगा तत्पश्चात ही देवता, दैत्यों का विनाश करके पुन: स्वर्ग का आधिपत्य पा सकेंगे। इन्द्र दैत्यों के राजा बलि के पास गए और उनके समक्ष समुद्र मंथन का प्रस्ताव रखा। अमृत के लालच में आकर दैत्य, देवताओं के साथ मिल गए। देवताओं और दैत्यों ने अपनी पूरी शक्ति लगाकर मंदराचल पर्वत को उठाकर समुद्र तट पर लेकर जाने की चेष्टा की, परंतु अशक्त रहे। सभी मिलकर श्रीहरि का ध्यान करने लगे। भक्तों की पुकार पर श्रीहरि चले आए। उन्होंने क्रीड़ा करना आरंभ किया और भारी मंदराचल पर्वत को उठाकर गरूड़ पर स्थापित किया एवं पलभर में क्षीरसागर के तट पर पहुंचा दिया। मंदराचल को मथानी एवं वासुकि नाग की रस्सी बनाकर समुद्र मंथन का शुभ कार्य आरंभ हुआ। श्रीहरि की नजर मथानी पर पड़ी, जो कि अंदर की ओर धंसती चली जा रही थी। यह देखकर श्रीहरि ने स्वयं कच्छप रूप में मंदराचल को मौलिकता प्रदान की। शास्त्रों में वर्णित है कि समुद्र मंथन में सबसे पहले विष निकला जिसकी उग्र लपटों से सभी प्राणियों के प्राण संकट में पड़ गए। इसे भगवान शिव ने अपने कंठ में धारण किया और उसे अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया जिससे उनका कंठ नीला हो गया और वे नीलकंठ कहलाए। तत्पश्चात समुद्र मंथन से लक्ष्मी, कौस्तुभ, पारिजात, सुरा, धन्वंतरि, चन्द्रमा, पुष्पक, ऐरावत, पाञ्चजन्य, शंख, रम्भा, कामधेनु, उच्चै:श्रवा और अंत में अमृत कुंभ निकला जिसे लेकर धन्वंतरिजी आए। उनके हाथों से अमृत कलश छीनकर दैत्य भागने लगे ताकि देवताओं से पूर्व अमृतपान करके वे अमर हो जाएं। दैत्यों के बीच कलश के लिए झगड़ा शुरू हो गया और देवता हताश खड़े थे। श्रीहरि अति सुंदर नारी रूप धारण करके देवता और दानवों के बीच पहुंच गए। इनके रूप पर मोहित होकर दानवों ने अमृत का कलश इन्हें सौंप दिया। मोहिनी रूपधारी भगवान ने कहा कि मैं जैसे भी विभाजन का कार्य करूं, चाहे वह उचित हो या अनुचित, तुम लोग बीच में बाधा उत्पन्न न करने का वचन दो तभी मैं इस काम को करूंगी। सभी ने मोहिनीरूपी भगवान की बात मान ली। देवता और दैत्य अलग-अलग पंक्तियों में बैठ गए। मोहिनी रूप धारण करके श्रीहरि ने सारा अमृत देवताओं को पिला दिया जिससे देवता अमर हो गए और उन्हें अपना स्वर्ग वापस मिल गया।

+594 प्रतिक्रिया 80 कॉमेंट्स • 129 शेयर
Surender kumar Aug 7, 2020

+97 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 21 शेयर
Shanti Pathak Aug 7, 2020

+107 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 25 शेयर
R N Agroya Aug 6, 2020

+25 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 87 शेयर
vandna Aug 7, 2020

+37 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 56 शेयर
Komal dagar Aug 7, 2020

+23 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 17 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB