हरि ऊँ

#प्रवचन हरि ऊँ

+28 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 17 शेयर
🙏🌹Mahi🚩🙏 May 14, 2021

*ऑनलाइन क्लासेस में टीचर ने बच्चों को कोरोना पर निबंध लिखने को बोला।* *एक बच्चे को सबसे ज्यादा नम्बर मिले। उसका निबंध-* *आप भी पढ़िए व आनंद लीजिए-* कोरोना एक नया त्योहार है जो होली के बाद आता है। इसके आने पर बहुत सारे दिन की छुट्टियां हो जाती हैं। सब लोग थाली और ताली बजाकर और खूब सारे दिए जलाकर इस त्योहार की शुरुआत करते हैं। हमारे देश के प्रधानमंत्री सबसे पहले थाली बजाते है। स्कूल और ऑफिस सब बंद हो जाते हैं, सब लोग मिलकर घर पर रहते हैं। मम्मी रोज़ नये फ़ूड बनाकर फेसबुक पर डिस्प्ले करती हैं। पापा बर्तन और झाड़ू पोंछा करते हैं । कोरोना का त्योहार मास्क पहनकर और नमस्ते करके मनाया जाता है। उसके अलावा एक कड़वा काढ़ा पीना भी ज़रुरी होता है, इस त्योहार में नए कपडे़ नहीं पहने जाते। पापा कच्छा और बनियान पहनते हैं और मम्मी गाउन पहन कर ही इस त्योहार को सेलिब्रेट करती हैं। इस त्योहार में हाथों को दिन में 10/20 बार धोना पड़ता है, सेनिटाइजर किया जाता है। गर्म पानी का गारगिल और भाप भी लेना होता है बाकी त्योहारों में गले मिलना, हाथ मिलाकर सेलिब्रेट किये जाते हैं लेकिन इस त्योहार में एक दूसरे से दूरी बनाकर रखनी पड़ती है। बजाय खुशी के डर का माहौल रहता है। बाहर का खरीदा हर सामान साग-सब्जी को धोकर एवं सूखे सामान को एक दिन रखकर दूसरे दिन काम में लिया जाता है। इस त्योहार में हमें सावधानियां रखना सिखाया जाता है। इस त्योहार पर भक्तिकाल के कवियों ने इस प्रकार अपनी अभिव्यक्ति दी है- *रहीमदास* रहिमन घर से जब चलो, रखियो मास्क लगाय। न जाने किस वेश में मिले करोना आय।। *कबीरदास* कबीरा काढ़ा पीजिए, काली मिरिच मिलाय। रात दूध हल्दी पियो, सुबह पीजिए चाय।। *तुलसीदास* छोटा सेनिटाइजर, तुलसी रखिए जेब। न काहू सो मागिहो, न काहू को देब।। *सूरदास* सूरदास घर में रह्यो, ये है सबसे बेस्ट। जर, जुकाम, सर्दी लगे, तुरंत करालो टेस्ट।। *मलूकदास* बिस्तर पर लेटे रहो सुबह शाम दिन रात। एक तो रोग भयंकरा ऊपर से बरसात।। रहिमन वैक्सीन ढूंढ़िए, बिन वैक्सीन सब सून, वैक्सीन बिना ही बीत गए, अप्रैल मई और जून... कबीरा वैक्सीन ढूंढ़ लिया लिया एक लगवाय दूसरा डोज तब लगे जब अठाईस दिन हो जाय।। 😊 *खुश रहें, मस्त रहें* 😷

+8 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 4 शेयर

एक बैंक डकैती के दौरान डाकुओ ने कहा :" सभी अपने हाथों को ऊपर कर लोक्योंकि यह पैसा देश का है पर जान आपकी अपनी है",....... यह है ब्रेन वाश करना..... डकैती के दौरान एक महिला बदहवास सी हो गयी तो डाकू बोला.." सभ्यता का परिचय दो, यह केवल डकैती है कोई बलात्कार नहीं" यह है प्रोफेशनल होना....... 20 लाख रुपए लूट कर जब घर गए तो छोटा वाला डाकू बोला...आओ पैसे गिनते है,तो बड़े वाले ने कहा : " कल न्यूज़ में आ जायेगी गिनने की क्या ज़रुरत"..... यह है अनुभव....... लुटने के बाद बैंक मेनेजर ने खजांची को बुलाया और कहा :" रुक पुलिस बुलाने से पहले 10 लाख निकाल के मेरे साले को देदे"..... यह है बहती गंगा में हाथ साफ़ करना....... खजांची बोला : ओके... एक करोड़ चोरी हुए है ऐसा रिपोर्ट में लिखवाता हूँ ताकि अपने पिछले 70 लाख डूबे हुए भी कवर हो जायेंगे..... यह है मौके पे चौका........ अगले दिन न्यूज़ में आया " सिटी बैंक में 1 करोड़ की डकेती"..... डाकूओ ने बार बार गिने लेकिन 20 लाख ही निकले... डाकू बोले हमने जान पर खेल कर सिर्फ 20 लाख कमाए लेकिन मैनेजर ने एक झटके में 80 लाख..... इसे कहते है "ज्ञान सोने से ज्यादा मूल्यवान है".............

+7 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 62 शेयर

राधे - राधे -आज का भगवद् चिंतन 12- 05- 2021 🌞जीवन में सब कुछ एक निवेश की तरह ही होता है। प्रेम,समय, साथ, खुशी, सम्मान और अपमान, जितना - जितना हम दूसरों को देते जायेंगे, समय आने पर एक दिन वह व्याज सहित हमें अवश्य वापस मिलने वाला है। 🌞कभी दुख के क्षणों में अपने को अलग - थलग पाओ तो एक बार आत्मनिरीक्षण अवश्य कर लेना कि क्या जब मेरे अपनों को अथवा समाज को मेरी जरूरत थी तो मैं उन्हें अपना समय दे पाया था..? क्या किसी के दुख में मैं कभी सहभागी बन पाया था..? आपको अपने प्रति दूसरों के उदासीन व्यवहार का कारण स्वयं स्पष्ट हो जायेगा। 🌞कभी जीवन में अकेलापन महसूस होने लगे और आपको अपने आसपास कोई दिखाई न दे जिससे मन की दो चार बात करके मन को हल्का किया जा सके तो आपको एक बार पुनः आत्मनिरीक्षण की आवश्यकता है। क्या आपकी उपस्थिति कभी किसी के अकेलेपन को दूर करने का कारण बन पाई थी अथवा नहीं...? आपको अपने एकाकी जीवन का कारण स्वयं समझ आ जायेगा। 🌞श्रीमदभागवत जी की कथा में हम लोग गाते है कि देवी द्रौपदी ने वासुदेव श्रीकृष्ण को एक बार एक छोटे से चीर का दान किया था और समय आने व आवश्यकता पड़ने पर विधि द्वारा वही चीर देवी द्रौपदी को साड़ियों के भंडार के रूप में लौटाया गया। 🌞अच्छा - बुरा, मान - अपमान, समय - साथ, और सुख - दुख जो कुछ भी आपके द्वारा बाँटा जायेगा, देर से सही मगर एक दिन आपको दोगुना होकर मिलेगा जरूर, ये तय है।

+4 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Devendra SHARMA May 12, 2021

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB