RenuSuresh
RenuSuresh Apr 18, 2019

: _*भक्ति की राह में पाने से खोने का मजा कुछ और है।*_ _*प्रभु के लिये बंद आखों से रोने का मजा कुछ और है।*_ _*आँसू बने लफ्ज और लफ्ज बने भजन।*_ _*और*_ _*उन भजनों मे श्री हरि तेरे होने का मजा कुछ और है। 👏🕉🌹🚩*_ : _*संतो का संग* जीवन में साथी तो अनेक मिल जाते है परन्तु *"संतो का संग" भाग्य से मिलता है* जैसी संगत वैसी रंगत संतो का संग हमें निराकार परमात्मा के निकट करता है निःसंदेह प्रभु सबके निकट ही है परन्तु यह महसूस केवल ब्रम्हज्ञानियों को ही होता है🙏🏻_ _मैं किसी और प्रेम की बात कर रहा हूँ। आँख खोलकर एक प्रेम होता है, वह रूप से है। आँख बंद करके एक प्रेम होता है, व अरूप से है। कुछ पा लेने की इच्छा से एक प्रेम होता है वह लोभ है, लिप्सा है। अपने को समर्पित कर देने का एक प्रेम होता है, वही भक्ति है।_ 💐🙏🙏💐 [ _*जा की रही भावन जैसी,प्रभु मूरत देखहि तिन तैसी*_ _एक बार तुलसी दास जी वृन्दावन आये वहा पर वह नित्य ही कृष्ण स्वरूप श्री नाथ जी के दर्शन को जाते थे उस मंदिर में एक महंत थे जिनका नाम परशुराम था ।_ _एक दिन जब नित्य कि तरह तुलसी बाबा दर्शन करने पहुँचे तो उनहोंने देखा कि_ _*बंशी लकुट काछनी काछे |*_ _*मुकुट माथ माला उर आछे ||*_ _प्रभु के एक हाथ में बंशी है और एक हाथ में लकुटि है प्रभु ने धोती काछ रखी है माथे पर सुन्दर मुकुट है और गले में माला है_ _तुलसीदास दर्शन कर ही रह थे कि महंत बोले_ _*अपने अपने इष्टके, नमन करै सब कोय |*_ _*परशुराम बिन इष्टके, नवै सो मूरख होय ||*_ _महंत जी बोले कि हर कोई अपने इष्ट को वंदन करता है और आप के इष्ट तो राम हैं ये तो मेरे इष्ट हैं और जो दूसरे के इष्ट को नमन करता है वो मूरख कहलाता है_ _इतना सुनते ही पहले तो तुलसीदास हँसे फिर मन में सीताराम को याद करक बोले_ _*कहा कहो छबि आजुकी, भले बने हो नाथ |*_ _*तुलसी मस्तक तब नवै, धरौ धनुष शर हाथ ||*_ _बाबा बोले प्रभु आज कि छबि का क्या वर्णन क्या जाए प्रभु कि आप कितने सुन्दर हो लेकिन अब ये तुलसी मस्तक जब झुकेगा जब आप धनुष बाण हाथ मे लोगे।_ _अब जैसे ही इतना बोला तो क्या हुआ कि_ _*मुरली लकुट दुरायके, धरयो धनुष शर हाथ |*_ _*तुलसी लखि रूचि दासकी, नाथ भये रघुनाथ ||*_ _जैसे हि तुलसी दास ने कहा तो प्रभु कि मुरली लकुटी गायब हो गयी जो श्री नाथ कि प्रतिमा थी वो श्री राम की प्रतिमा हो गयी और हाथ में धनुष बाण आ गये।_ _चारो तरफ तुलसीदास जी की जय जय कार होने लगी तुलसी बाबा ने प्रसन्न मन से प्रभु को शीश नवाया_ _अब बात ये आती है कि ऐसा हुआ कैसे और अब क्यों नही होता तो इसका सीधा सा प्रमाण रामचरित मानस में देखने को मिलता है जब प्रभु श्री राम कहते है_ _*निर्मल मन जन सो मोहि पावा ।*_ _*मोहि कपट छल छिद्र न भावा ||*_ _कि मुझे कपट,छल,निन्दयी नहीं बल्कि निर्मल और शुद्ध ह्रदय वाले लोग भाते है इसलिये निर्मल ह्रदय से प्रभु को भजिये और सबको प्यार करिये किसी से द्वेश मत रखिये क्योंकि_ _*रामहि केवल प्रेम पियारा |*_ _*जान लेहु जेहि जान निहारा ||*_ _*!! हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे !!*_ _*हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे !!*_ -🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

+51 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 62 शेयर

कामेंट्स

🌲💜राजकुमार राठोड💜🌲 Apr 18, 2019
,🚩जय श्री हरि🚩 🚩🙏जय सांईराम 🙏🚩 🙏💙जय माता दी💙🙏 ,,#Զเधे_Զเधे ..जी.🌹 ❇️ 🚩जय_श्री_कृष्णा🚩❇️

Brajesh Sharma Apr 18, 2019
जय श्री राधे राधे जी🙏 जय श्री राधे कृष्णा जी🙏 मंगलयम सुप्रभात जी.🙏

Harpal bhanot Apr 18, 2019
jai Shree radhe Krishna ji very good morning ji Sister

Vanita Kale Apr 18, 2019
🙏🌷Om nmo bhagwata vasudevaye Namoh Om Vishna namah jai shree Krishna Radhe Radhe Thakurji ki Kripa app per are aapke pariwar per Sada hi bani rahe my sister ji 🌷🙏

Alka Mehta Apr 18, 2019
Radhe Radhe ji Jai shree Krishna sister ji God Bless you Good afternoon sister ji 🌹🙏🌹

Harpal bhanot Apr 18, 2019
jai Shree radhe Krishna ji very good Night ji mere Sister

+90 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 114 शेयर

+9 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 14 शेयर

+20 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 28 शेयर
Vishal Pawar May 18, 2019

+13 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 12 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB