🇮🇳 जय हिन्द🇮🇳💙💙💙 !! जय माता दी !! 💙💙💙🇮🇳वंदे मातरम 🇮🇳 🌺🌺 चैत्री नवरात्रि पर्व के तीसरे दिन माँ चंद्रधंटा की पूजा अर्चना करने वाली सुबह का आप सभी को सादर प्रणाम 🌺🌺 🌷🌷 आपका दिन शुभ एवं मंगलमय रहें🌷🌷 💛💛 जय माता दी 💛💛 🔮✍... आज नवरात्रि का तीसरा दिन है। इस दिन देवी दुर्गा के चंद्रघंटा (chandraghanta Maa) स्वरूप की अराधना की जाती है। पौराणिक ग्रंथों में मां चंद्रघंटा को अलौकिक शक्तियां दिलाने वाली देवी माना गया है। इनके शरीर का रंग सोने की तरह चमकीला है। इस देवी के दस हाथ हैं और इनकी मुद्रा युद्ध में उद्यत रहने की होती है। देवी चंद्रघंटा का वाहन सिंह यानी शेर है। ऐसी मान्यता है कि देवी की साधना और भक्ति करने से अलौकिक वस्तुओं के दर्शन होते हैं। इस देवी के माथे पर घंटे के आकार का आधा चंद्र विराजमान है। इसीलिए इस देवी को चंद्रघंटा कहा गया है। जानिए नवरात्रि के तीसरे दिन की पूजा विधि, कथा, मंत्र और आरती… नवरात्रि के तीसरे दिन की पूजा विधि नवरात्रि के तीसरे दिन मां का साज-श्रृंगार करें। फिर पुष्‍प, दुर्वा, अक्षत, गुलाब, लौंग कपूर आदि से मां की पूजा-अर्चना करें। चाहें तो एक चौकी पर साफ वस्‍त्र बिछाकर मां चंद्रघंटा की प्रतिमा को स्‍थापित करें। व्रत का संकल्‍प लें और वैदिक एवं सप्तशती मंत्रों द्वारा मां चंद्रघंटा समेत सभी देवताओं की षोडशोपचार पूजा करें। इस दिन मां को गंगाजल, दूध, दही, घी, शहद यानी पंचामृत से स्‍नान कराएं और उन्हें मिष्‍ठान और फल का अर्पण करें। इस दिन मां के इस स्वरूप की कथा सुनकर आरती उतारें। मां को हलवे का भोग लगा सकते हैं। 🔮✍... देवी चंद्रघंटा की पूजा का महत्व ...✍🔮 चंद्रघंटा शक्ति की पूजा और साधना से मणिपुर चक्र जाग्रत होता है। इनकी पूजा करने से वीरता-निर्भरता एवं विनम्रता का विकास होता है। इनकी पूजा से मुख, नेत्र तथा सम्पूर्ण काया में कान्ति बढ़ने लगती है। मां चन्द्रघंटा की पूजा करने वालों को शान्ति और सुख का अनुभव होने लगता है। मां चन्द्रघंटा की कृपा से हर तरह के पाप और सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं।  🔮✍... नवरात्रि तीसरे दिन की कथा ...✍🔮 कि जब देवी का वही मुख क्रोध से युक्त होने पर उदयकाल के चन्द्रमा की भांति लाल और तनी हुई भौहों के कारण विकराल हो उठा, तब उसे देखकर जो महिषासुर के प्राण तुरंत निकल गये, यह उससे भी बढ़कर आश्चर्य की बात है, क्योंकि क्रोध में भरे हुए यमराज को देखकर भला कौन जीवित रह सकता है। देवि! आप प्रसन्न हों। परमात्मस्वरूपा आपके प्रसन्न होने पर जगत् का अभ्युदय होता है और क्रोध में भर जाने पर आप तत्काल ही कितने कुलों का सर्वनाश कर डालती हैं, यह बात अभी अनुभव में आयी है, क्योंकि महिषासुर की यह विशाल सेना क्षण भर में आपके कोप से नष्ट हो गयी है। कहते है कि देवी चन्द्रघण्टा ने राक्षस समूहों का संहार करने के लिए जैसे ही धनुष की टंकार को धरा व गगन में गुजा दिया वैसे ही माँ के वाहन सिंह ने भी दहाड़ना आरम्भ कर दिया और माता फिर घण्टे के शब्द से उस ध्वनि को और बढ़ा दिया, जिससे धनुष की टंकार, सिंह की दहाड़ और घण्टे की ध्वनि से सम्पूर्ण दिशाएं गूँज उठी। उस भयंकर शब्द व अपने प्रताप से वह दैत्य समूहों का संहार कर विजय हुई। मां चंद्रघंटा की उपासना करते समय इस मंत्र का जरूर करें जाप या देवी सर्वभू‍तेषु माँ चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।। अर्थ : हे माँ! सर्वत्र विराजमान और चंद्रघंटा के रूप में प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार प्रणाम है। या मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूँ। हे माँ, मुझे सब पापों से मुक्ति प्रदान करें। ⚜🔱⚜ शुभ मंगल कामनाओ के साथ ⚜🔱⚜

🇮🇳 जय हिन्द🇮🇳💙💙💙 !! जय माता दी !! 💙💙💙🇮🇳वंदे मातरम 🇮🇳
🌺🌺 चैत्री नवरात्रि पर्व के तीसरे दिन माँ चंद्रधंटा की पूजा अर्चना करने   
                            वाली सुबह का आप सभी को सादर प्रणाम  🌺🌺
            🌷🌷 आपका दिन शुभ एवं मंगलमय रहें🌷🌷
                             💛💛 जय माता दी 💛💛


🔮✍... आज नवरात्रि का तीसरा दिन है। इस दिन देवी दुर्गा के चंद्रघंटा (chandraghanta Maa) स्वरूप की अराधना की जाती है। पौराणिक ग्रंथों में मां चंद्रघंटा को अलौकिक शक्तियां दिलाने वाली देवी माना गया है। इनके शरीर का रंग सोने की तरह चमकीला है। इस देवी के दस हाथ हैं और इनकी मुद्रा युद्ध में उद्यत रहने की होती है। देवी चंद्रघंटा का वाहन सिंह यानी शेर है। ऐसी मान्यता है कि देवी की साधना और भक्ति करने से अलौकिक वस्तुओं के दर्शन होते हैं। इस देवी के माथे पर घंटे के आकार का आधा चंद्र विराजमान है। इसीलिए इस देवी को चंद्रघंटा कहा गया है। जानिए नवरात्रि के तीसरे दिन की पूजा विधि, कथा, मंत्र और आरती…

नवरात्रि के तीसरे दिन की पूजा विधि 

नवरात्रि के तीसरे दिन मां का साज-श्रृंगार करें। फिर पुष्‍प, दुर्वा, अक्षत, गुलाब, लौंग कपूर आदि से मां की पूजा-अर्चना करें। चाहें तो एक चौकी पर साफ वस्‍त्र बिछाकर मां चंद्रघंटा की प्रतिमा को स्‍थापित करें। व्रत का संकल्‍प लें और वैदिक एवं सप्तशती मंत्रों द्वारा मां चंद्रघंटा समेत सभी देवताओं की षोडशोपचार पूजा करें। इस दिन मां को गंगाजल, दूध, दही, घी, शहद यानी पंचामृत से स्‍नान कराएं और उन्हें मिष्‍ठान और फल का अर्पण करें। इस दिन मां के इस स्वरूप की कथा सुनकर आरती उतारें। मां को हलवे का भोग लगा सकते हैं।

🔮✍... देवी चंद्रघंटा की पूजा का महत्व ...✍🔮

चंद्रघंटा शक्ति की पूजा और साधना से मणिपुर चक्र जाग्रत होता है। इनकी पूजा करने से वीरता-निर्भरता एवं विनम्रता का विकास होता है। इनकी पूजा से मुख, नेत्र तथा सम्पूर्ण काया में कान्ति बढ़ने लगती है। मां चन्द्रघंटा की पूजा करने वालों को शान्ति और सुख का अनुभव होने लगता है। मां चन्द्रघंटा की कृपा से हर तरह के पाप और सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं। 

🔮✍... नवरात्रि तीसरे दिन की कथा ...✍🔮

कि जब देवी का वही मुख क्रोध से युक्त होने पर उदयकाल के चन्द्रमा की भांति लाल और तनी हुई भौहों के कारण विकराल हो उठा, तब उसे देखकर जो महिषासुर के प्राण तुरंत निकल गये, यह उससे भी बढ़कर आश्चर्य की बात है, क्योंकि क्रोध में भरे हुए यमराज को देखकर भला कौन जीवित रह सकता है। देवि! आप प्रसन्न हों। परमात्मस्वरूपा आपके प्रसन्न होने पर जगत् का अभ्युदय होता है और क्रोध में भर जाने पर आप तत्काल ही कितने कुलों का सर्वनाश कर डालती हैं, यह बात अभी अनुभव में आयी है, क्योंकि महिषासुर की यह विशाल सेना क्षण भर में आपके कोप से नष्ट हो गयी है। कहते है कि देवी चन्द्रघण्टा ने राक्षस समूहों का संहार करने के लिए जैसे ही धनुष की टंकार को धरा व गगन में गुजा दिया वैसे ही माँ के वाहन सिंह ने भी दहाड़ना आरम्भ कर दिया और माता फिर घण्टे के शब्द से उस ध्वनि को और बढ़ा दिया, जिससे धनुष की टंकार, सिंह की दहाड़ और घण्टे की ध्वनि से सम्पूर्ण दिशाएं गूँज उठी। उस भयंकर शब्द व अपने प्रताप से वह दैत्य समूहों का संहार कर विजय हुई।

मां चंद्रघंटा की उपासना करते समय इस मंत्र का जरूर करें जाप

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
अर्थ : हे माँ! सर्वत्र विराजमान और चंद्रघंटा के रूप में प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार प्रणाम है। या मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूँ। हे माँ, मुझे सब पापों से मुक्ति प्रदान करें।

              ⚜🔱⚜ शुभ मंगल कामनाओ के साथ ⚜🔱⚜

+246 प्रतिक्रिया 38 कॉमेंट्स • 25 शेयर

कामेंट्स

D.Mir Mar 27, 2020
Jay Mata ji Ane Vala Har Pal Apka khusiuo se bhara Rahe Apka din Shub Rahe Nice post Shub Dopahar Pravin Bhai ji 👌👌👌🌹🌹🌹🙏🙏🙏

Dr. SEEMA SONI Mar 27, 2020
जय माता दी भैयाजी🌹🙏जो जलता है वो बुझता जरूर है। जो चलता है वो रुकता जरूर है। जो बहता है वो थमता जरूर है। संयम रखें ये एक वायरस है।ये भी एक दिन बुझेगा, रुकेगा,थमेगा जरूर।मता रानी हम सभी को सदा स्वस्थ और प्रसन्न रखेंगी।🙏🌹🙏

Vijay Pandey Mar 27, 2020
🙏🌷🌷 जय माता दी ‌🌷🌷 शुभ दोपहर की शुभ मंगल कामनाएं भाई मां चंद्रघंटा देवी जी आपका सदा मंगल करें, आप और आपका परिवार सदा स्वस्थ एवं सुखी रहे ‌🌷🙌😂😂😂😂😂😂😂😂 केम छो भइला ?😜😜😜😝😝😂😂

Vijay Pandey Mar 27, 2020
@donmir भाई, मने लागे छे के माय मंदिर मा पण कोरोना वायरस घुसी ग्यो छे,येटले मारी पोस्ट पर लाईक कमेंट नथी आवती !🤣🤣🤣🤣😜😜😜😜😝😝😝😂😂😂😂 बहु कंटाणो आवे छे भइला !😇😂😂😂

Babita Sharma Mar 27, 2020
शुभ दोपहर वंदन भाई🙏🙏जय माता दी 🚩 मां चंद्रघंटा सदा आपका कल्याण करें आपके जीवन में सदा सुख शांति एवं समृद्धि का वास हो। शुभ नवरात्रि

Sanjeev Chakravarty 9819751240 Mar 27, 2020
🙏🌸🌷जय मां चंद्रघंटा🌷🌸🙏 आप सभी को चैत्र नवरात्रि के तृतीय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं। माता रानी के आशीर्वाद से हमारे देश और समस्त विश्व पर छाए हुए संकट से शीघ्र मुक्ति मिले। सभी स्वस्थ रहें प्रसन्न रहें।

Poonam Aggarwal Mar 27, 2020
🔔 जय मां चंद्रघंटा जय माता दी 🔔🚩🙏 माता रानी की कृपा से आप के घर परिवार में सुख शांति और समृद्धि हमेशा बनी रहे शुभ मंगलमय हो 👣🦚 शुभ दोपहर वंदन भाई जी राधे कृष्णा जी ‼️👏🌷🌷🎪BE SAFE AND HEALTHY 😷😊

Manish Soni🌹 जय महादेव 🌹👏 Mar 27, 2020
@manishsoni62 घर में ही प्रॉब्लम बाहर है प्रॉब्लम आते जाते आजू-बाजू प्रॉब्लम ही प्रॉब्लम डोंट वेरी यू हैप्पी😀😀

Mohanmira.nigam Mar 27, 2020
Jay.shri Chandr.Ghanta mata Rani kali.mata ji Santosi mata Rani Sarasvati mata Rani ji hanuman ji Bholay.baba.ki.jay very nice

🌹 लड्डू🌹 Mar 27, 2020
🌹🙏🌹 जय माता दी शुभ संध्या जी जय भोलेनाथ की🌹🌹🙏🙏

Narayan Tiwari Mar 27, 2020
श्रीमृत्युंजय🚩जय मांई🚩जय भारत भारतीय नव-संवत्सर २०७७ एवं चैत्र नवरात्रि पर हमें पुनः अवसर मिला है, राष्ट्र के प्रति अपना कर्तव्य निभाने का. घर पर रहें, सुरक्षित रहें,राष्ट्र की रक्षा करें!

D.Mir Mar 27, 2020
Jay Mata ji Pravin Bhai Shub Ratri 🙏🙏

Pinu Dhiman Jai Shiva 🙏 Mar 27, 2020
Jai mata di shubh ratri vandan bhai ji 🙏✳️🙏mata rani aap pr apni kirpa sda bnay rakhe aap or aap ke parivar ki hamesha raksha kre god bless u bhai ji 🙏🙌🙋‍♀️❣️🙋‍♀️❣️🙋‍♀️❣️🙋‍♀️❣️🙋‍♀️❣️🙋‍♀️⭐⭐🌼⭐🌼⭐🌼⭐🌼

Vanita Kale Mar 27, 2020
🙏🔔जय माता दी 🔔🙏शुभ रात्रि वंदन मेरे आदरणीय भाईजी माता रानी की असीम कृपा दृष्टि आप और आपके पुरे परिवार पर सदा ही बनी रहे माता रानी आपकी रक्षा करें 🙏🏡 घर पर ही रहे अपने परिवार के साथ 😷😷😷👈🙏🙏🙏

Anjana Gupta Mar 28, 2020
जय माता दी भाई जी आप और आप के परिवार को माता रानी सदा खुश सुखी और स्वस्थ रखे आप का हर पल खुशियों भरा हो शुभ प्रभात वंदन भाई जी 🌹🙏

Renu Singh Mar 28, 2020
🙏🌹 Jai Mata Di 🌹🙏 👏👏👏👏👏

Sanjay Singh May 8, 2020

+222 प्रतिक्रिया 17 कॉमेंट्स • 17 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर

*🌷॥ॐ॥🌷* *जय श्री राधे...👏* 🚩॥जय हिन्द🇮🇳जय नमो॥👏 ************************** *🔱शुभ शुक्रवार🌞* _हे भगवन विश्व को "कोरोना वायरस" रुपी राक्षस से मुक्त करें 👏_ ************************** *॥ॐ श्री दुर्गाय नमः॥👏* *धरती गगन में होती है, तेरी जय जयकार...🙏* ************************** जय जय शेरावाली माँ, जय जय मेहरा वाली माँ॥ जय जय ज्योता वाली माँ, जय जय लाटा वाली माँ॥ जयकारा शेरावाली दा॥ बोल साँचे दरबार की जय॥ धरती गगन में होती है, तेरी जय जयकार। हो मैया, ऊँचे भवन में होती है, तेरी जय जयकार॥ दुनिया तेरा नाम जपे, हो दुनिया तेरा नाम जपे, तुझको पूजे संसार॥ सरस्वती, महालक्ष्मी, काली, तीनो की तू प्यारी, गुफा के अंदर तेरा मंदिर, तेरी महिमा न्यारी॥ शिव की जटा से निकली गंगा, आई शरण तिहारी। आदि शक्ति आदि भवानी, तेरी शेर सवारी॥ हे अम्बे, हे माँ जगदम्बे, करना तू इतना उपकार। आये है तेरे चरणों में, देना हमको प्यार॥ धरती गगन में होती है, तेरी जय जयकार। हो मैया, ऊँचे भवन में होती है, तेरी जय जयकार। ब्रह्मा, विष्णु, महेश भी, तेरे आगे शीश झुकाएं। सूरज, चाँद, सितारे, तुझसे उजियारा ले जाएँ। देव लोक के देव, हे मैया, तेरे ही गुण गायें। मानव करे जो तेरी भक्ति, भाव सागर तर जाएं॥ हे अम्बे, हे माँ जगदम्बे, करना तू इतना उपकार, आये हैं तेरे चरणों में, देना हमको प्यार॥ धरती गगन में होती है, तेरी जय जयकार। हो मैया, ऊँचे भवन में होती है, तेरी जय जयकार॥ धरती गगन में होती है, तेरी जय जयकार। हो मैया, ऊँचे भवन में होती है, तेरी जय जयकार॥ 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 🔱🙏🌺👏🌺🙏🔱

+9 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 9 शेयर
MAHESH MISHRA May 11, 2020

+6 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Deepak Chaudhari May 10, 2020

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 25 शेयर
LALAN KUMAR May 10, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB