ज्ञान की प्यास

ज्ञान की प्यास

महादेव गोविंद रानडे हाई कोर्ट के जज थे। उन्हें भाषाएँ सीखने का बड़ा शौक था। अपने इस शौक के कारण उन्होंने अनेक भाषाएँ सीख ली थीं; किंतु बँगला भाषा अभी तक नहीं सीख पाए थे। अंत में उन्हें एक उपाय सूझा। उन्होंने एक बंगाली नाई से हजामत बनवानी शुरू कर दी। नाई जितनी देर तक उनकी हजामत बनाता, वे उससे बँगला भाषा सीखते रहते।

रानडे की पत्नी को यह बुरा लगा। उन्होंने अपने पति से कहा, ‘‘आप हाई कोर्ट के जज होकर एक नाई से भाषा सीखते हैं। कोई देखेगा तो क्या इज्जत रह जाएगी ! आपको बँगला सीखनी ही है तो किसी विद्वान से सीखिए।’’

रानडे ने हँसते हुए उत्तर दिया, ‘‘मैं तो ज्ञान का प्यासा हूँ। मुझे जाति-पाँत से क्या लेना-देना ?’’

यह उत्तर सुन पत्नी फिर कुछ न बोलीं।

Jyot Dhoop Agarbatti +151 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 53 शेयर

कामेंट्स

Dhanraj Maurya Oct 23, 2018

Om jai jai Om

Pranam Bell +5 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 77 शेयर

Pranam Like Lotus +65 प्रतिक्रिया 24 कॉमेंट्स • 233 शेयर

Like Pranam Flower +139 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 444 शेयर
Dhanraj Maurya Oct 23, 2018

Om Jai Jai Om

Bell +1 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 40 शेयर
Ramkumar Verma Oct 23, 2018

Good night to all friend

Pranam Flower Like +63 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 489 शेयर

वेदान्ती चेतना --- ५

तत्व की प्राप्ति या आत्मज्ञान की प्राप्ति जीवन की सबसे बड़ी माँग है।
यही यथार्थ में भगवत्प्राप्ति है और ईश्वर-दर्शन का भी यही हेतु है।
इसी के लिए जीवन मिला है, इसी में जीवन की सार्थकता है --
इस बात को चित्त में सुनिश्चित कीजिए...

(पूरा पढ़ें)
Pranam +1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 7 शेयर
Dhanraj Maurya Oct 23, 2018

Om jai jai

0 कॉमेंट्स • 22 शेयर

Like Pranam Dhoop +153 प्रतिक्रिया 57 कॉमेंट्स • 415 शेयर
Harshita Malhotra Oct 23, 2018

Pranam Like Flower +37 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 161 शेयर
Harshita Malhotra Oct 23, 2018

Pranam Like Flower +77 प्रतिक्रिया 40 कॉमेंट्स • 242 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB