मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें
R.K.Soni
R.K.Soni Jul 11, 2019

जय लक्ष्मी मां 🙏🙏🙏💓💓💓💓💓💓सुप्रभात जी❤❤❤❤❤❤ आप व आपके परिवार पर माता लक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी २हे जी🙏💓🙏💓🙏💓🙏💓🙏💓🙏💓🙏💓🙏💓🙏

जय लक्ष्मी मां 🙏🙏🙏💓💓💓💓💓💓सुप्रभात जी❤❤❤❤❤❤
आप व आपके परिवार पर माता लक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी २हे जी🙏💓🙏💓🙏💓🙏💓🙏💓🙏💓🙏💓🙏💓🙏

+115 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 96 शेयर

कामेंट्स

Kashmir Singh Thakur Jul 12, 2019
🙏🌹जय जय श्रीहरि । जय मातारानी की🌹🙏🙏शुभ शुक्रवार, सुप्रभात🙏🌹मातारानी आप सबकी मनोकामना पूर्ण करे । जय माँ । जय श्री विष्णुदेव🌹🙏

🌲राजकुमार राठोड🌲 Jul 12, 2019
माँ दुर्गे, माँ अंबे, माँ जगदांबे, माँ भवानी, माँ शीतला, माँ वैष्णो, माँ चंडी, माता रानी मेरी और आपकी मनोकामना पूरी करे.

manjeet Singh Jul 12, 2019
jai mata rani ki ji very good post ji good bless you and your family ji aap ka har pal sukhmay ho ji

🔴🌲🔴MAMTA KAPOOR🔴🌲🔴 Jul 12, 2019
RAM RAM BHAI JI JAI MATA DI mata rani khushiya deve sukh shanti deve🙏🙏🌷🌷🥰🥰App or apka parivarr sada khush rahe Mata rani ki kirpa drishti sada bni rahe mere bhai🥰🙏🥰🙏🌷🌷🌷🌷🧝‍♂🌲🤲🤲

Rajesh Lakhani Jul 12, 2019
JAI MATADI SHUBH PRABHAT AAP KA DIN SHUBH OR MANGALMAYE HO MATA RANI KI KRUPA AAP PER OR AAP KE PARIVAR PER SADA BANI RAHE EKADSHI KI HARDIK SUBKAMNAYE BHAI NAMASKAR

Mysuvichar Jul 19, 2019

+45 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 5 शेयर
sushil dhiman Jul 19, 2019

*🏵॥ ॐ श्रीमहादेव्यै नमः ॥🏵* *💥श्री महामाई वंदना 💥* *🚩प्रातः स्मरामि शरदिन्दुकरोज्ज्वलाभां सद्रत्नवन्मकरकुण्डलहार-भूषाम् दिव्यायुधैर्जितसुनील-सहस्रहस्तां रक्तोत्पलाभचरणां भवतीं परेशाम् 🚩* *🚩भावार्थः शरद् कालीन चन्द्रमा के समान उज्ज्वल आभावाली, उत्तम रत्नों से जड़ित मकरकुण्डलों तथा हारों से सुशोभित, दिव्यायुधों से दीप्त सुन्दर नीले हजारों हाथों वाली, लाल कमल की आभायुक्त चरणों वाली परम ईशरूपिणी भगवती दुर्गा देवी का मैं प्रातः काल स्मरण करता हूँ🚩* 🎊🎊🎊🎊🎊🎊🎊🎊 🚩🏵🚩🏵🚩🏵🚩🏵 *सुप्रभात मित्रों----* *आपका आज का दिवस शुभ एवं मंगलमय हो, श्री भगवती देवी माँ , आपकी समस्त कामनाओं की पूर्ति करें, आपका सदा कल्याण करें----* 🚩🏵🚩🏵🚩🏵🚩🏵 *💥जय माता दी 💥*

+26 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 2 शेयर

"शरणागतदीनार्तपरित्राणपरायणे। सर्वस्यार्तिहरे देवि नारायणि नमोऽस्तु ते।।" - मां दुर्गा के ये चमत्कारी मंत्र आपके बुरे वक्त को अच्छे में बदल सकते "ॐ गिरिजायै विद्महे शिव धीमहि तन्नो दुर्गा प्रचोदयात्।" - "ॐ सरस्वत्यै विद्महे ब्रह्मपुत्र्यै धीमहि तन्नो देवी प्रचोदयात्।" "ॐ महालक्ष्म्यै विद्महे विष्णुप्रियायै धीमहि तन्नो लक्ष्मी प्रचोदयात्।" "ॐ श्री तुलस्यै विद्महे विष्णु प्रियायै धीमहि तन्नो वृन्दा प्रचोदयात्।" "ॐ पृथ्वी देव्यै विद्महे सहस्त्र मूर्त्यै धीमहि तन्नो पृथ्वी प्रचोदयात्।" - गणेश की ज्योति से नूर मिलता है दो दिलों को सुरूर मिलता है, जो भी जाता है गणेशा के द्वार, कुछ ना कुछ जरूर मिलता है "जय श्री गणेश". "लक्ष्‍मी का हाथ हो, सरस्‍वती का साथ हो, गणेश का निवास हो, और मां दुर्गा के आशीर्वाद से, आपके जीवन मे प्रकाश ही प्रकाश हो। शुभ प्रभात 🌅वंदन👣🌹🍃🎪 🚩👏 👣👏🚩🐚🌷🌷🌹🌹🍃🍃🎪🌺🌻🌼नमस्कार जय श्री गुरुदेव जय श्री गणेश जी 🙏 जय श्री माता की 🙏 नमस्कार 🙏 मित्रों जय माता की जय श्री गुरुदेव शुभ प्रभात 🌅 शुभ गुरुवार नमस्कार 🙏

+151 प्रतिक्रिया 37 कॉमेंट्स • 21 शेयर
Raj Rani Bansal Jul 19, 2019

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 17 शेयर

+841 प्रतिक्रिया 83 कॉमेंट्स • 905 शेयर

+745 प्रतिक्रिया 73 कॉमेंट्स • 939 शेयर

🎎🌲🌹सावन माह🌹🌲🎎 🚩🌿🌹 जय श्री महाकाल 🌿🌹🚩 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 🍑🎋🌸शुभ शुक्रवार🌸🎋🍑 🎨 दिनांक :-19-7-2019 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 🎎क्या आप जानते है क्यों बनी रहती है शिवलिंग पर तीन सफेद रेखाएं.🎎 🚩जब भी आप शिव जी के मंदिर जाते है तो आपने शिवलिंग पर बनी तीन सफेद रेखाएं देखी होंगी। पर क्या आप जानते है ये रेखाएं क्यों बनी हुई है । आज जानते है इनका कारण,ये कोई साधारण रेखा नहीं होती बल्कि यह 27 देवों का आशीर्वाद है। 27 देवों का आशीर्वाद दिलाती है शिवलिंग पर बनी सफेद धार।इसलिए अक्सर साधु-संत पंडितों के माथे पर इस रेखा को देखा जाता है। भस्म से बनी ये रेखाएं त्रिपुंड कहलाती हैं।यदि पंडित या बड़े-बड़े साधु संत माथे पर भस्म लगाते हैं या सफेद रंग की तीन रेखाएं धारण करते हैं तो वह त्रिपुंड कहलाती हैं। भस्म की तरह बनी इन रेखाओं का संबंध शिव और 27 अन्य देवों के साथ जुड़ा हुआ है। यह त्रिपुंड हाथ की तीन रेखाओं से बनाया जाता है। 🌹तीन रेखाओं में से हर एक रेखा में 9 देवों का वास होता है।त्रिपुंड को माथे के अलावा शरीर के 32 अंगों पर लगाया जाता है । क्योंकि अलग-अलग अंग पर लगाए जाने वाले त्रिपुण्ड का अलग-अलग प्रभाव प्रभाव पड़ता है। इसे मस्तक, ललाट, कान, आंखें, कोहनी, कलाई, ह्रदय, आदि पर लगाया जाता है। 🎎किस अंग में किस देवता का वास🎎 🎭माना जाता है कि मस्तक में शिव, केश में चंद्रमा, कानों में रुद्र और मुख में ब्रह्मा-गणेश और दोनों भुजाओं में विष्णु-लक्ष्मी, ह्रदय में शंभू, नाभि में प्रजापति, दोनों उरुओं मेंनाग,नागकन्याएं, घुटनों में ऋषि कन्याएं, पैरों में समुद्र और विशाल पुष्ठभाग में सभी देवता तीर्थ देवता के रूप में मनुष्य के शरीर में वास करते हैं। 🚩🌿🌹 जय श्री महाकाल 🌹🌿🚩 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲

+504 प्रतिक्रिया 98 कॉमेंट्स • 34 शेयर
Anjana Gupta Jul 19, 2019

+1440 प्रतिक्रिया 258 कॉमेंट्स • 462 शेयर
Ritu Sen Jul 19, 2019

+474 प्रतिक्रिया 57 कॉमेंट्स • 475 शेयर

जय माँ महालक्ष्मी नमो नमः सभी भक्तों और भाई-बहनों को सुप्रभात का सादर प्रणाम माता रानी आपकी मनोकामना को पूर्ण करे आप सभी को सुख समृद्धि धन वैभव मान सम्मान से परिपूर्ण करे आपका जीवन खुशियों से परिपूर्ण करे। 🔯🗼🔯🗼🔯🗼🔯🗼🔯🗼🙏🌷   माता लक्ष्मी का ये रहस्य जानकर आप रह जाएंगे हैरान... अंजू जोशी पुराणों में माता लक्ष्मी की उत्पत्ति के बारे में विरोधाभास पाया जाता है। एक कथा के अनुसार माता लक्ष्मी की उत्पत्ति समुद्र मंथन के दौरान निकले रत्नों के साथ हुई थी, लेकिन दूसरी कथा के अनुसार वे भृगु ऋषि की बेटी हैं। दरअसल, पुराणों की कथा में छुपे रहस्य को जानना थोड़ा मुश्किल होता है, इसे समझना जरूरी है। आपको शायद पता ही होगा कि शिवपुराण के अनुसार ब्रह्मा, विष्णु और महेश के माता-पिता का नाम सदाशिव और दुर्गा बताया गया है। उसी तरह तीनों देवियों के भी माता-पिता रहे हैं। समुद्र मंथन से जिस लक्ष्मी की उत्पत्ति हुई थी, दरअसल वह स्वर्ण के पाए जाने के ही संकेत रहा हो।   *जन्म समय : शास्त्रों के अनुसार देवी लक्ष्मी का जन्म शरद पूर्णिमा के दिन हुआ था। कार्तिकेय का जन्म भी शरद पूर्णिमा के दिन हुआ था। कार्तिक कृष्ण अमावस्या को उनकी पूजा की जाती है।   *नाम : देवी लक्ष्मी। *नाम का अर्थ : 'लक्ष्मी' शब्द दो शब्दों के मेल से बना है- एक 'लक्ष्य' तथा दूसरा 'मी' अर्थात लक्ष्य तक ले जाने वाली देवी लक्ष्मी। अन्य नाम : श्रीदेवी, कमला, धन्या, हरिवल्लभी, विष्णुप्रिया, दीपा, दीप्ता, पद्मप्रिया, पद्मसुन्दरी, पद्मावती, पद्मनाभप्रिया, पद्मिनी, चन्द्र सहोदरी, पुष्टि, वसुंधरा आदि नाम प्रमुख हैं।   *माता-पिता : ख्याति और भृगु। *भाई : धाता और विधाता *बहन : अलक्ष्मी *पति : भगवान विष्णु। *पुत्र : 18 पुत्रों में से प्रमुख 4 पुत्रों के नाम हैं- आनंद, कर्दम, श्रीद, चिक्लीत।   *निवास : क्षीरसागर में भगवान विष्णु के साथ कमल पर वास करती हैं। *पर्व : दिवाली। *दिन : ज्योतिषशास्त्र एवं धर्मग्रंथों में शुक्रवार की देवी मां लक्ष्मी को माना गया है।   *वाहन : उल्लू और हाथी। एक मान्यता के अनुसार भगवान विष्णु की पत्नी देवी लक्ष्मी का वाहन उल्लू है और धन की देवी महालक्ष्मी का वाहन हाथी है। कुछ के अनुसार उल्लू उनकी बहन अलक्ष्मी का प्रतीक है, जो सदा उनके साथ रहती है।

+1357 प्रतिक्रिया 151 कॉमेंट्स • 573 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB