Krishna Singh
Krishna Singh Nov 13, 2017

जब भगवान कृष्ण ने इस मंदिर से बाहर आकार दिए थे अपने भक्त को दर्शन

जब भगवान कृष्ण ने इस मंदिर से बाहर आकार दिए थे अपने भक्त को दर्शन
जब भगवान कृष्ण ने इस मंदिर से बाहर आकार दिए थे अपने भक्त को दर्शन
जब भगवान कृष्ण ने इस मंदिर से बाहर आकार दिए थे अपने भक्त को दर्शन

दक्षिण भारत में भगवान कृष्ण के कई अनोखे और सुंदर मंदिर है, जिनमें से एक है उडुपी का कृष्ण मंदिर। उडुपी कर्नाटक का एक गांव है। इस मंदिर की सबसे खास बात यह है कि इस मंदिर में अपने भक्त को दर्शन देने के लिए भगवान कृष्ण खुद ही मंदिर की खिड़की तक चले गए थे।

इस मंदिर के निर्माण के पीछे एक कथा प्रसिद्ध है। कथा के अनुसार, एक बार यहां भयंकर समुद्री तूफान आया। उसी दौरान संत माधवाचार्य समुद्र के किनारे खड़े थे। उन्होंने देखा कि एक जहाज समुद्र के बीच में फंस गया है। यह देखकर वे अपनी शक्तियों से जहाज को सुरक्षित किनारे तक ले आए। जहाज पर सवार लोगों ने संत को धन्यवाद कहते हुए, भेंट के रूप में भगवान कृष्ण और बलराम की दो मूर्तियों दी। संत ने भगवान कृष्ण की मूर्ति को उडुपी में और भगवान बलराम की मूर्ति को यहां से 5 कि.मी. दूर मालपी नाम की जगह पर स्थापित कर दिया। मालपी के बलराम मंदिर को वदंबेदेश्वरा मंदिर और उडुपी के कृष्ण मंदिर को कृष्ण मठ कहा जाता है।

कहा जाता है कि एक बार यहां पर भगवान कृष्ण के दर्शन करने के लिए कनकदास नाम का एक भक्त आया। ब्राह्मण न होने की वजह से उसे मंदिर में प्रवेश करने की आज्ञा नहीं दी गई। उदास होकर कमकदास मंदिर की खिड़की के पास जा खड़ा हुआ और वहीं से भगवान के दर्शन करने की कोशिश करने लगा। उसकी भक्ति देखकर भगवान कृष्ण की मूर्ति खुद ही चलकर मंदिर की खिड़की के पास आ गई और कनकदास को दर्शन दिए।

उस दिन से लेकर आज तक भगवान कृष्ण की मूर्ति मंदिर में पीछे की ओर देखते हुई ही स्थापित है। जिस खिड़की के पास यह मूर्ति स्थापित है, उसे कनकाना किंदी के नाम से जाना जाता है। कनकाना किंदी खिड़की को मीनाकारी से सजाया गया है। इस खिड़की में 9 छोटे-छोटे छेद हैं, जिनमें से अंदर झांकने पर भगवान कृष्ण के दर्शन होते हैं।

यहां पर भगवान कृष्ण की युवावस्था की एक सुंदर मूर्ति है, जिसमें वे अपने दाएं हाथ में एक मथानी और बाएं हाथ में रस्सी पकड़े हुए हैं। यहां की कृष्ण मूर्ति का स्वरूप बहुत ही सुदंर और मनमोहक है।

Flower Dhoop Fruits +140 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 57 शेयर

कामेंट्स

Tarun Mishra Nov 13, 2017
भगवान की लीला अपरंपार है

Dhanraj Maurya Oct 23, 2018

Om jai jai Om

Pranam Bell +5 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 83 शेयर

Lotus Tulsi Fruits +75 प्रतिक्रिया 25 कॉमेंट्स • 234 शेयर

Like Pranam Flower +139 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 444 शेयर
Dhanraj Maurya Oct 23, 2018

Om Jai Jai Om

Bell +1 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 50 शेयर
Ramkumar Verma Oct 23, 2018

Good night to all friend

Pranam Flower Like +63 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 489 शेयर

वेदान्ती चेतना --- ५

तत्व की प्राप्ति या आत्मज्ञान की प्राप्ति जीवन की सबसे बड़ी माँग है।
यही यथार्थ में भगवत्प्राप्ति है और ईश्वर-दर्शन का भी यही हेतु है।
इसी के लिए जीवन मिला है, इसी में जीवन की सार्थकता है --
इस बात को चित्त में सुनिश्चित कीजिए...

(पूरा पढ़ें)
Pranam +1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 7 शेयर
Dhanraj Maurya Oct 23, 2018

Om jai jai

0 कॉमेंट्स • 25 शेयर

Like Pranam Dhoop +153 प्रतिक्रिया 57 कॉमेंट्स • 416 शेयर
Harshita Malhotra Oct 23, 2018

Pranam Like Flower +37 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 161 शेयर
Harshita Malhotra Oct 23, 2018

Pranam Like Flower +77 प्रतिक्रिया 40 कॉमेंट्स • 243 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB