Krishna Singh
Krishna Singh Nov 13, 2017

जब भगवान कृष्ण ने इस मंदिर से बाहर आकार दिए थे अपने भक्त को दर्शन

जब भगवान कृष्ण ने इस मंदिर से बाहर आकार दिए थे अपने भक्त को दर्शन
जब भगवान कृष्ण ने इस मंदिर से बाहर आकार दिए थे अपने भक्त को दर्शन
जब भगवान कृष्ण ने इस मंदिर से बाहर आकार दिए थे अपने भक्त को दर्शन

दक्षिण भारत में भगवान कृष्ण के कई अनोखे और सुंदर मंदिर है, जिनमें से एक है उडुपी का कृष्ण मंदिर। उडुपी कर्नाटक का एक गांव है। इस मंदिर की सबसे खास बात यह है कि इस मंदिर में अपने भक्त को दर्शन देने के लिए भगवान कृष्ण खुद ही मंदिर की खिड़की तक चले गए थे।

इस मंदिर के निर्माण के पीछे एक कथा प्रसिद्ध है। कथा के अनुसार, एक बार यहां भयंकर समुद्री तूफान आया। उसी दौरान संत माधवाचार्य समुद्र के किनारे खड़े थे। उन्होंने देखा कि एक जहाज समुद्र के बीच में फंस गया है। यह देखकर वे अपनी शक्तियों से जहाज को सुरक्षित किनारे तक ले आए। जहाज पर सवार लोगों ने संत को धन्यवाद कहते हुए, भेंट के रूप में भगवान कृष्ण और बलराम की दो मूर्तियों दी। संत ने भगवान कृष्ण की मूर्ति को उडुपी में और भगवान बलराम की मूर्ति को यहां से 5 कि.मी. दूर मालपी नाम की जगह पर स्थापित कर दिया। मालपी के बलराम मंदिर को वदंबेदेश्वरा मंदिर और उडुपी के कृष्ण मंदिर को कृष्ण मठ कहा जाता है।

कहा जाता है कि एक बार यहां पर भगवान कृष्ण के दर्शन करने के लिए कनकदास नाम का एक भक्त आया। ब्राह्मण न होने की वजह से उसे मंदिर में प्रवेश करने की आज्ञा नहीं दी गई। उदास होकर कमकदास मंदिर की खिड़की के पास जा खड़ा हुआ और वहीं से भगवान के दर्शन करने की कोशिश करने लगा। उसकी भक्ति देखकर भगवान कृष्ण की मूर्ति खुद ही चलकर मंदिर की खिड़की के पास आ गई और कनकदास को दर्शन दिए।

उस दिन से लेकर आज तक भगवान कृष्ण की मूर्ति मंदिर में पीछे की ओर देखते हुई ही स्थापित है। जिस खिड़की के पास यह मूर्ति स्थापित है, उसे कनकाना किंदी के नाम से जाना जाता है। कनकाना किंदी खिड़की को मीनाकारी से सजाया गया है। इस खिड़की में 9 छोटे-छोटे छेद हैं, जिनमें से अंदर झांकने पर भगवान कृष्ण के दर्शन होते हैं।

यहां पर भगवान कृष्ण की युवावस्था की एक सुंदर मूर्ति है, जिसमें वे अपने दाएं हाथ में एक मथानी और बाएं हाथ में रस्सी पकड़े हुए हैं। यहां की कृष्ण मूर्ति का स्वरूप बहुत ही सुदंर और मनमोहक है।

+140 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 58 शेयर

कामेंट्स

Tarun Mishra Nov 13, 2017
भगवान की लीला अपरंपार है

Neha Sharma,Haryana Dec 11, 2019

*ओम् नमः भगवते वासुदेवाय नमः*🌹🌹🙏 *जय श्री राधेकृष्णा*🌹🌹🙏 *शुभ प्रभात् वंदन*🌹🌹🙏 प्रतिवर्ष मार्गशीर्ष/अगहन पूर्णिमा को मां अन्नपूर्णा जयंती मनाई जाती है। वर्ष 2019 में 12 दिसंबर, गुरुवार को अन्नपूर्णा जयंती मनाई जा रही है। मां अन्नपूर्णा को अन्न की देवी माना गया है। इस संबंध में ऐसी मान्यता है कि जो भी भक्त अन्नपूर्णा जयंती के दिल सच्चे दिल से मां को याद करते हुए व्रत-उपवास करते हैं, उनके घर में कभी भी अन्न की कमी नहीं होती, उनके घर खाने-पीने के भंडार हमेशा भरे रहते हैं।* *पौराणिक हिन्दू ग्रंथों के अनुसार प्राचीन समय में किसी कारणवश धरती बंजर हो गई, जिस वजह से धान्य-अन्न उत्पन्न नहीं हो सका, भूमि पर खाने-पीने का सामान खत्म होने लगा जिससे पृथ्वीवासियों की चिंता बढ़ गई। परेशान होकर वे लोग ब्रह्माजी और श्रीहरि विष्णु की शरण में गए और उनके पास पहुंचकर उनसे इस समस्या का हल निकालने की प्रार्थना की।* *इस पर ब्रह्मा और श्री‍हरि विष्णु जी ने पृथ्वीवासियों की चिंता को जाकर भगवान शिव को बताया। पूरी बात सुनने के बाद भगवान शिव ने पृथ्वीलोक पर जाकर गहराई से निरीक्षण किया।* *इसके बाद पृथ्वीवासियों की चिंता दूर करने के लिए भगवान शिव ने एक भिखारी का रूप धारण किया और माता पार्वती ने माता अन्नपूर्णा का रूप धारण किया। माता अन्नपूर्णा से भिक्षा मांगकर भगवान शिव ने धरती पर रहने वाले सभी लोगों में ये अन्न बांट दिया। इससे धरतीवासियों की अन्न की समस्या का अंत हो गया तभी से मार्गशीर्ष पूर्णिमा के दिन अन्नपूर्णा जयंती मनाई जाने लगी।* *अन्नपूर्णा जयंती पर ऐसे करें पूजन*.... * अन्नपूर्णा जयंती के दिन अलसुबह उठकर दैनिक कार्यों से निवृत्त होकर सर्वप्रथम रसोईघर की अच्छे से साफ-सफाई करें।*  * फिर गंगाजल छिड़क कर पूरे घर को पवित्र करें।* * तत्पश्चात जिस गैस, चूल्हे या स्टोव पर आप खाना पकाते हैं, उसकी विधिपूर्वक पूजा-अर्चना करें और माता अन्नपूर्णा की प्रार्थना करें।*  * इसके साथ ही इस दिन भक्तों को भगवान शिव तथा अन्नपूर्णास्वरूप देवी पार्वती की आराधना करनी चाहिए और मां से विनती करें कि उनके घर में कभी भी अन्न की, खाने-पीने की कमी न रहे।* * इसके साथ ही अन्नपूर्णा माता के मंत्र, स्तोत्र, आरती तथा कथा का वाचन करके इस दिन को सफल बनाएं। माता की कृपा से आपके घर के भंडार हमेशा भरे रहेंगे।*

+444 प्रतिक्रिया 48 कॉमेंट्स • 473 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Neha Sharma,Haryana Dec 11, 2019

+887 प्रतिक्रिया 109 कॉमेंट्स • 689 शेयर
simran Dec 11, 2019

+173 प्रतिक्रिया 68 कॉमेंट्स • 136 शेयर

+10 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB