shubham Tiwari
shubham Tiwari Aug 10, 2017

सुप्रभात मित्रों

#मंत्र #गणेशजी #सुप्रभात
🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🙏
प्रात: स्मरामि गणनाथमनाथ बन्धुम सिंदूर पूर परिशोभितगंडयुग्मं I
उद्दंड विघ्न परिखण्डन चंड दण्ड माखंडलादि सुरनायकवृन्दवन्द्यम I
🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🙏
अर्थात- *अनाथों की रक्षा करने वाले, सिंदूर से सुशोभित दोनों कपोलों वाले, प्रबलतम विघ्नों का नाश करने में समर्थ एवं इंद्र आदि देवों से नमस्कृत श्री गणेश भगवान जी का मैं प्रात: काल स्मरण करता हूँ।*

*आपका आज का दिन मंगलमय रहे।*

*🙏🌺⛳सुप्रभातम्⛳🌺🙏*

+61 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 17 शेयर

+401 प्रतिक्रिया 78 कॉमेंट्स • 163 शेयर

अगर आप #भगवान के प्रति थोड़ी- सी भी आस्था रखते हो तो इस पोस्ट को पूरा पढ़ें और विचार करें 👇👇 वेदों में लिखा हुआ है कि परमात्मा हमारी आयु भी बढ़ा सकता है, सभी रोगों से मुक्त कर सकता है तथा दुख कष्ट संकटो को काट सकता है... फिर हमारी अकाल मृत्यु क्यों होती है ?? वह पूर्ण परमात्मा कौन है? क्या नाम है? कहां रहता है? किसने देखा है? किस-किस को मिले हैं? अब वर्तमान में किस-किस ने सतलोक और पूर्ण परमात्मा को आंखों देखकर आए हैं? उसकी पूजा की विधि क्या है? सृष्टि की रचना कैसे हुई है? ब्रह्मा, विष्णु, महेश भी काल जाल में जन्म मृत्यु में 84 लाख योनियों के चक्र में महा कष्ट झेलते हैं | ब्रह्मा, विष्णु, महेश, की स्थिति क्या है? तथा पूर्ण मोक्ष कैसे मिलेगा ? पूर्ण परमात्मा हमें इस काल के लोक से निकाल कर अपने लोक (सतलोक) में ले जाने के लिए चारों युगों में आते हैं और सद् भक्ति प्रदान करके सतलोक में ले जाते हैं, जहां पर जाने के बाद हमारी कभी मृत्यु नहीं होती, वृद्धावस्था (बुढ़ापा) नहीं आता, हमेशा युवा बने रहते हैं , वहां पर भी ऐसी ही सृष्टि है वहां हमारा आलीशान मकान परमात्मा द्वारा उपलब्ध है ऐसे ही परिवार बनेगा , वहां पर बाग-बगीचे, सेब-संतरे, काजू-किशमिश और दूधों की नदियां बहती है, स्वादिष्ट खाद्य पदार्थ उपलब्ध है, वहां पर हमें परमात्मा की भक्ति व सुमिरन के अलावा कोई काम नहीं करना पड़ता, परमात्मा द्वारा सब निशुल्क उपलब्ध होता है। जानिए पूरी जानकारी आध्यात्मिक पुस्तक "ज्ञान गंगा".....बिल्कुल निशुल्क मंगाने के लिए अपना नाम :- ........ पूरा पता :- ........ फोन नम्बर :- …....... Comment box में दे! यह पुस्तक सभी धर्मों के #शास्त्रों 📚 पर आधारित है। पुस्तक #ज्ञान_गंगा 100% निशुल्क है, होम डिलीवरी भी निशुल्क है। 30 दिन के अंदर #पुस्तक आपके घर पहुंच जाएगी। #संत_रामपाल_जी_महाराज की इस पुस्तक को पढ़िए कोई चार्ज नहीं है, बिल्कुल फ्री पुस्तक प्राप्त करें फ्री फ्री फ्री फ्री फ्री फ्री फ्री फ्री

+2 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 2 शेयर

अगर आप #भगवान के प्रति थोड़ी- सी भी आस्था रखते हो तो इस पोस्ट को पूरा पढ़ें और विचार करें 👇👇 वेदों में लिखा हुआ है कि परमात्मा हमारी आयु भी बढ़ा सकता है, सभी रोगों से मुक्त कर सकता है तथा दुख कष्ट संकटो को काट सकता है... फिर हमारी अकाल मृत्यु क्यों होती है ?? वह पूर्ण परमात्मा कौन है? क्या नाम है? कहां रहता है? किसने देखा है? किस-किस को मिले हैं? अब वर्तमान में किस-किस ने सतलोक और पूर्ण परमात्मा को आंखों देखकर आए हैं? उसकी पूजा की विधि क्या है? सृष्टि की रचना कैसे हुई है? ब्रह्मा, विष्णु, महेश भी काल जाल में जन्म मृत्यु में 84 लाख योनियों के चक्र में महा कष्ट झेलते हैं | ब्रह्मा, विष्णु, महेश, की स्थिति क्या है? तथा पूर्ण मोक्ष कैसे मिलेगा ? पूर्ण परमात्मा हमें इस काल के लोक से निकाल कर अपने लोक (सतलोक) में ले जाने के लिए चारों युगों में आते हैं और सद् भक्ति प्रदान करके सतलोक में ले जाते हैं, जहां पर जाने के बाद हमारी कभी मृत्यु नहीं होती, वृद्धावस्था (बुढ़ापा) नहीं आता, हमेशा युवा बने रहते हैं , वहां पर भी ऐसी ही सृष्टि है वहां हमारा आलीशान मकान परमात्मा द्वारा उपलब्ध है ऐसे ही परिवार बनेगा , वहां पर बाग-बगीचे, सेब-संतरे, काजू-किशमिश और दूधों की नदियां बहती है, स्वादिष्ट खाद्य पदार्थ उपलब्ध है, वहां पर हमें परमात्मा की भक्ति व सुमिरन के अलावा कोई काम नहीं करना पड़ता, परमात्मा द्वारा सब निशुल्क उपलब्ध होता है। जानिए पूरी जानकारी आध्यात्मिक पुस्तक "ज्ञान गंगा".....बिल्कुल निशुल्क मंगाने के लिए अपना नाम :- ........ पूरा पता :- ........ फोन नम्बर :- …....... Comment box में दे! यह पुस्तक सभी धर्मों के #शास्त्रों 📚 पर आधारित है। पुस्तक #ज्ञान_गंगा 100% निशुल्क है, होम डिलीवरी भी निशुल्क है। 30 दिन के अंदर #पुस्तक आपके घर पहुंच जाएगी। #संत_रामपाल_जी_महाराज की इस पुस्तक को पढ़िए कोई चार्ज नहीं है, बिल्कुल फ्री पुस्तक प्राप्त करें फ्री फ्री फ्री फ्री फ्री फ्री फ्री फ्री अगर आप अपनी डिटेल्स (पता/फोन नम्बर) गुप्त रखना चाहते हैं तो नीचे लिंक पर क्लिक करके अपनी डिटेल्स दे सकते हैं...... 👇लिंक👇 https://docs.google.com/forms/d/e/1FAIpQLSfIUAT7gk-eAB-4rHqyDu3f38dV4nslx7NupsK1YX2yzlwj_Q/viewform?usp=sf_link

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Ramesh Agrawal Mar 8, 2021

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 21 शेयर
🥀🥀 Mar 7, 2021

भारतीय संस्कृति ************** भारत के मंदिर भारत के प्रसिध्द मंदिर दर्शन हर रोज एक मंदिर के बारे में जानकारी दी जाएगी। लेख १८१ ०३/०३/२१ * श्री बड़े गणेश मंदिर , उज्जैन मध्य प्रदेश ********** भारत के हर कोने में भगवान गणेशजी के मन्दिरों को देखा जा सकता है और उनके प्रसिद्ध मन्दिरों में से एक है बड़े गणेशजी का मन्दिर , जो कि उज्जैन के श्री महाकालेश्वर मन्दिर के निकट , एक तालाब के ऊपर स्थित हरसिध्दि मार्ग पर स्थित है। स्थानीय लोग इस मूर्ति को बहुत शक्तिशाली मानते है क्योंकि ऐसी मान्यता है कि इस देवता के सामने की गई हर इच्छा कुछ ही समय में पूरी हो जाती है। इस मन्दिर के , भगवान गणेशजी को बडे गणेशजी के नाम से जाना जाता है।यह एक बहुत बडी़ मूर्ति है जिस कारण से इन्हें बडे़ गणेशजी के नाम से पुकारा जाता है । गणेशजी की इस भव्य प्रतिमा का निर्माण पं. नारायणजी व्यास के अथक प्रयासों द्वारा हो सका । यह विशाल गणेश प्रतिमा सीमेंट से नहीं बल्कि ईंट , चूने व बालू रेत से बनी हैं । और इससे भी विचित्र बात यह है कि इस प्रतिमा को बनाने में गुड़ व मेथीदाने का मसाला भी उपयोग में लाया गया था । इसके साथ -- साथ ही इसको बनाने में सभी पवित्र तीर्थ स्थलों का जल मिलाया गया था तथा सात मोक्षपुरियों मथुरा , माया , अयोध्या , काँची , उज्जैन , काशी व द्वारका से लाई गई मिट्टी भी मिलाई गई है जो इसकी महत्ता को दर्शाती है। इस प्रतिमा के निर्माण में ढाई वर्ष का समय लगा जिसके बाद यह मूर्ति अपने विशाल रूप में सबके समक्ष प्रत्यक्ष रूप से विराजमान है। मन्दिर में स्‍थापित गणेशजी की प्रतिमा लगभग 18 फीट ऊँची और 12 फीट चौड़ी है। मूर्ति में भगवान गणेशजी की सूंड दक्षिणावर्ती है। प्रतिमा के मस्तक पर त्रिशूल और स्वास्तिक बना हुआ है। दाहिनी ओर घूमी हुई सूंड में एक लड्डू दबा है। भगवान गणेशजी के कान व‍िशाल हैं और गले में पुष्प माला है। दोनों ऊपरी हाथ जप मुद्रा में और नीचे के दाएं हाथ में माला व बाएं में लड्डू की थाल है। इस मूर्ति की सुंदरता देखते ही बनती है क्योंकि वर्तमान समय में उपलब्ध यह एक दुर्लभ मूर्ति है। मंदिर के परिसर में आप संस्कृत तथा ज्योतिष विद्या सीख सकते है जिसकी व्यवस्था मंदिर के अधिकारियों द्वारा की गई है।

+31 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 1 शेयर
chanchal singh Mar 5, 2021

+9 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB