Ramji Mishra
Ramji Mishra Dec 20, 2016

Ramji Mishra ने यह पोस्ट की।

Ramji Mishra ने यह पोस्ट की।
Ramji Mishra ने यह पोस्ट की।

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
shiva dubey Sep 29, 2020

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
om vyas Sep 29, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
VjGP Sep 29, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Mohan prakash Sharma Sep 29, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

🌹मन में कृष्ण की पूजा की जा सकती है.🌹 🙏🌹🌹🙏 भक्ति-रसामृत-सिंधु में, एक कहानी है ... कहानी नहीं । तथ्य । वहाँ वर्णित है कि एक ब्राह्मण- वह एक महान भक्त था वह मंदिर की पूजा में बहुत शानदार सेवा पेश करना चाहता था, अर्चना । लेकिन उसके पास धन नहीं था । लेकिन एक दिन की बात है वह एक भागवत पाठ में बैठा हुआ था और उसने सुना कि कृष्ण मन के भीतर भी पूजे जा सकते हैं । तो उसने इस अवसर का लाभ उठाया क्योंकि वह एक लंबे समय से सोच रहा था कि कैसे बहुत शान से कृष्ण की पूजा करूं, लेकिन उसके धन पैसे नहीं था । तो वह, जब वह यह समझ गया, कि मन के भीतर कृष्ण की पूजा कर सकते हैं, तो गोदावरी नदी में स्नान करने के बाद, वह एक पेड़ के नीचे बैठा हुआ था और अपने मन के भीतर वह बहुत खूबसूरत सिंहासन का निर्माण कर रहा था, गहनों के साथ लदी और सिंहासन पर भगवान के अर्च विग्रह को रखते हुए, वह अर्च विग्रह का अभिषेक कर रहा था गंगा, यमुना, गोदावरी, नर्मदा, कावेरी के जल के साथ । फिर बहुत अच्छी तरह से अर्च विग्रह का श्रृंगार कर रहा था, अौर फूल, माला के साथ पूजा कर रहा था । फिर वह बहुत अच्छी तरह से भोजन पका रहा था, और वह परमान्ना, मीठे चावल पका रहा था । तो वह परखना चाहता था, क्या वह बहुत गर्म था । क्योंकि परमान्ना ठंडा लिया जाता है । परमान्ना बहुत गर्म नहीं लिया जाता है । तो उसने परमान्ना में अपनी उंगली डाली और उसकी उंगली जल गई । तब उसका ध्यान टूटा क्योंकि वहाँ कुछ भी नहीं था । केवल अपने मन के भीतर वह सब कुछ कर रहा था । तो ... लेकिन उसने अपनी उंगली जली हुइ देखी । तो वह चकित रह गया । इस तरह, वैकुन्ठ से नारायण, मुस्कुरा रहे थे । देवी लक्ष्मीजी ने पूछा, "अाप क्यों मुस्कुरा रहे हैं ?" "मेरा एक भक्त इस तरह पूजा करता है । तो मेरे दूतों को तुरंत भेजो उसे वैकुन्ठ लाने के लिए ।" तो भक्ति-योग इतना अच्छा है कि भले ही आपके पास भगवान की भव्य पूजा के लिए साधन न हो, आप मन के भीतर यह कर सकते हो । यह भी संभव है । 🌹हरे कृष्ण🌹 🙏

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB