Jay ban mata cittorgard

Jay ban mata cittorgard

Jay ban mata cittorgard

+41 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 6 शेयर

कामेंट्स

Sk Porwal1 Feb 29, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
nikunj Feb 29, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Vandana Singh Feb 29, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Shuchi Singhal Feb 29, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
RAVI SHANKAR Feb 29, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+59 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 7 शेयर

आज का श्लोक: श्रीमद्भगवद्गीता यथारूप अध्याय 15 : पुरुषोत्तम योग श्लोक--02 ❁ *श्रीमद्भगवद्गीता यथारूप* ❁ *सभी के लिए सनातन शिक्षाएं* *आज* *का* *श्लोक* -- 15.02 *अध्याय 15 : पुरुषोत्तम योग* अधश्र्चोर्ध्वं प्रसृतास्तस्य शाखा गुणप्रवृद्धा विषयप्रवालाः | अधश्र्च मूलान्यनुसन्ततानि कर्मानुबन्धीनि मनुष्यलोके || २ || अधः - नीचे; च - तथा; उर्ध्वम् - ऊपर की ओर; प्रसृताः - फैली हुई; तस्य - उसकी; शाखाः - शाखाएँ; गुण - प्रकृति के गुणों द्वारा; प्रवृद्धा: - विकसित; विषय - इन्द्रियविषय; प्रवालाः - टहनियाँ; अधः - नीचे की ओर; च - तथा; मूलानि - जड़ों को; अनुसन्ततानि - विस्तृत; कर्म - कर्म करने के लिए; अनुबन्धीनि - बँधा; मनुष्य-लोके - मानव समाज के जगत् में । इस वृक्ष की शाखाएँ ऊपर तथा नीचे फैली हुई हैं और प्रकृति के तीन गुणों द्वारा पोषित हैं । इसकी टहनियाँ इन्द्रियविषय हैं । इस वृक्ष की जड़ें नीचे की ओर भी जाती हैं, जो मानवसमाज के सकाम कर्मों से बँधी हुई हैं । तात्पर्य : अश्र्वत्थ वृक्ष की यहाँ और भी व्याख्या की गई है । इसकी शाखाएँ चतुर्दिक फैली हुई हैं । निचले भाग में जीवों की विभिन्न योनियाँ हैं, यथा मनुष्य, पशु, घोड़े, गाय, कुत्ते, बिल्लियाँ आदि । ये सभी वृक्ष की शाखाओं के निचले भाग में स्थित हैं । लेकिन ऊपरी भाग में जीवों की उच्चयोनियाँ हैं-यथा देव, गन्धर्व तथा अन्य बहुत सी उच्चतर योनियाँ । जिस प्रकार सामान्य वृक्ष का पोषण जल से होता है, उसी प्रकार यह वृक्ष प्रकृति के तीन गुणों द्वारा पोषित है । कभी-कभी हम देखतें हैं कि जलाभाव से कोई-कोई भूखण्ड वीरान हो जाता है, तो कोई खण्ड लहलहाता है, इसी प्रकार जहाँ प्रकृति के किन्ही विशेष गुणों का आनुपातिक आधिक्य होता है, वहाँ उसी के अनुरूप जीवों की योनियाँ प्रकट होती हैं । वृक्ष की टहनियाँ इन्द्रियविषय हैं । विभिन्न गुणों के विकास से हम विभिन्न इन्द्रिय विषयों का भोग करते हैं । शाखाओं के सिरे इन्द्रियाँ हैं - यथा कान, नाक , आँख, आदि, जो विभिन्न इन्द्रिय विषयों के भोग से आसक्त हैं । टहनियाँ शब्द, रूप, स्पर्श आदि इन्द्रिय विषय हैं । सहायक जड़ें राग तथा द्वेष हैं , जो विभिन्न प्रकार के कष्ट तथा इन्द्रियभोग के विभिन्न रूप हैं । धर्म-अधर्म की प्रवृत्तियाँ इन्हीं गौण जड़ों से उत्पन्न हुई मानी जाती हैं, जो चारों दिशाओं में फैली हैं । वास्तविक जड़ तो ब्रह्मलोक में है, किन्तु अन्य जड़ें मर्त्यलोक में हैं । जब मनुष्य उच्च लोकों के पूण्य कर्मों का फल भोग चुकता है, तो वह इस धरा पर उतरता है और उन्नति के लिए सकाम कर्मों का नवीनीकरण करता है । यह मनुष्यलोक कर्मक्षेत्र माना जाता है । ************************************ *प्रतिदिन भगवद्गीता का एक श्लोक* प्राप्त करने हेतु, इस समूह से जुड़े । कृपया एक समूह से ही जुड़े, सभी समूहों में वही श्लोक भेजा जाएगा।🙏🏼 https://chat.whatsapp.com/JTvA9Kuwv2q9HMZRqurrfh

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB