मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें

*🙏🌹जय श्री महाकाल 🌹🙏* *श्री महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का आज का भस्मआरती श्रृंगार* *🔱04 मई 2019 ( शनिवार ) 🔱*

*🙏🌹जय श्री महाकाल 🌹🙏*
*श्री महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का आज का भस्मआरती श्रृंगार*
*🔱04 मई 2019 ( शनिवार ) 🔱*

+480 प्रतिक्रिया 47 कॉमेंट्स • 235 शेयर

कामेंट्स

Mohan.mira.nigam May 4, 2019
Jay shri Ram Jay om Sai.Ram Hanuman.ji I Jay shri Radhe.Krishna ji

Mohan.mira.nigam May 4, 2019
Jay shri Ram Jay om Sai.Ram Hanuman.ji I Jay shri Radhe.Krishna ji

Malkhan Singh UP May 4, 2019
ऊँ नमः शिवाय🙏हर हर महादेव जी ऊँ शनिदेवाय नमः🙏ऊँ हनुमतये नमः *शनिवार प्रातःकाल की आप को सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं। श्री हनुमान जी एवं शनिदेव जी आपकी सभी मनोकामनाएं पुरी करें।आपको सदैव खुशहाल रखें। *🌹🙏जय श्री राम जी🙏🌹*

🌲राजकुमार राठोड🌲 May 4, 2019
,..🌷🙏शुभ प्रभात वंदन जी 🙏 🌷🌷जय शनिदेव 🚩🚩 🌷🌷जय बजरंग 🚩🚩 🙏जय श्री हरि🌹🌹 ,,#Զเधे_Զเधे ..जी.🌹 ❇️ 🚩जय_श्री_कृष्णा🚩❇️ आपका हर पल शुभ एवं मंगलमय रहे

Puspa Sahu May 4, 2019
🙏 har har mahadev 🙏🙏 jai Shri mahakal 🙏🙏

Narayan Prajapati May 4, 2019
जय श्री कृष्णा 🌼 राधे राधे श्याम सुप्रभात आपका दिन शुभ और मंगलमय हो 🙏 प्रणाम 🙏 वन्दन

अंजू जोशी May 4, 2019
जय श्री राम जय हनुमान जय श्री राधे कृष्णा जी 🌷🙏 शुभ शनिवार की प्रातःकाल की हार्दिक शुभकामनाएं मेरे भाई जी 🙏🙏 हनुमान बाबा आपकी मंगल कामनाएं पूरी करे आपका हर पल शुभ और मंगलमय हो जी 🙏

Vinod Agrawal May 4, 2019
🌷Om Namah Shivaya Har Har Mahadev Om Gaurishnkaray Namah Om Mahakaleshwaray Namah🌷

Babita Sharma May 4, 2019
शुभ दोपहर वंदन भाई🌞जय श्री महाकाल जय बजरंग बली🙏🌹🌹 आप और आपके परिवार पर शनिदेव जी की कृपा सदा बनी रहे।

r h Bhatt May 4, 2019
har har mahadav om namah shivaya Shubh dophar ji Vandana ji

Dr. Ratan Singh May 4, 2019
🌹🙏जय श्री राम वन्दन जी🙏🌹 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 🎎आप सभी पर सुर्यपुत्र भगवान शनिदेव श्री राम भक्त हनुमान जी की कृपा दृष्टि सदा बनी रहे और आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो 🙏 ******************************* 🎭 आपका शनिवार का दिन 🎡 🏵अतिसुन्दर शुभ शांतिमय और 🌸 🌷मंगलमय हो🙏 ^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^ 🎡🚩जय श्री शनिदेव🚩🎡 🚩🌋जय श्री हनुमान🌋🚩

Queen May 4, 2019
Jai shree radhe radhe krishna bhai Ji Good Evening Ji Jai mahadav Ji

Malkhan Singh UP May 4, 2019
* *श्री राम जय राम, जय जय राम* *हरे राम हरे राम, हरे हरे राम* *श्री हनुमान जी की तरह जपते जाओ* *अपनी सारी बाधाएं दूर करते जाओ* *🌹🙏🏼जय श्री राम🙏🏼🌹*

Sandhya Nagar May 4, 2019
Radhe Radhe .........🙏☘☘💓 🌸 राधा का अदभुत कृष्ण ज्ञान... 🌸 एक बार कृष्ण के सखा उद्धव जी जो ज्ञान और योग सीख कर उसकी महत्ता बताने में लगे थे तब ,कृष्ण ने उन्हें एक चिट्ठी लिख कर दी जिस पर कृष्ण ने लिखा था कि " मैं अब वापस नहीं आऊंगा तुम सभी मुझे भूल जाओ और योग में ध्यान लगाओ " और कहा कि इसे ले जाकर ब्रज के लोगों को दिखाना और योग के महत्व से उन्हें परिचित करवाना | उद्धव जी के लिए परमब्रह्म का लिखा लेख वेद समान था वे उसे संभाले संभाले ब्रज में गए और कृष्ण विरह में व्याकुल राधा जी को वह पाती दिखाई , राधा रानी ने उसे पढ़े बिना गोपियों को दे दी और गोपियों ने उसे पढ़े बिना उसके कई टुकड़े कर आपस में बाँट लिया | उद्धव जी बबौखला गए , चिल्लाने लगे अरे मूर्खो इस पर जगदगुरु ने योग का ज्ञान लिखा है , क्या तुम कृष्ण विरह में नहीं हो जो उनका लिखा पढ़ा तक नहीं | तब राधा जी ने उद्धव को समझाया " उधौ तुम हुए बौरे, पाती लेके आये दौड़े...हम योग कहाँ राखें ? यहां रोम रोम श्याम है " अर्थात हे उधौ कृष्ण तो यहां से गए ही नहीं ? कृष्ण होंगे दुनिया के लिए योगेश्वर यहां पर तो अब भी वो धूल में सने हर घाट वृक्ष पर बंसी बजा रहे हैं | बताओ कहाँ है विरह ? यह ज्ञान आज के युग के लिए एक मार्ग दर्शन है , जब कि हम कृष्ण को आडम्बरों में खोजते हैं | क्यों नहीं हो पाया राधा कृष्ण का भौतिक मिलन :- मथुरा जाते समय राधा रानी ने कृष्ण का रास्ता रोका था , मगर कृष्ण ने उन्हें समझाया था कि यदि मैं तुमसे बंध गया तो मेरे जन्म का प्रायोजन व्यर्थ चला जाएगा, जगत में पाप और अधर्म का साम्राज्य फैलता ही जाएगा | मैं प्रेमी बनकर संहार नहीं साध सकता , मैं ब्रज में रहकर युद्ध नहीं रचा सकता , मैं बांसुरी बजाते हुए चक्र धारण नहीं कर सकता | और यह सत्य भी है कि राधा से विरह के बाद कृष्ण ने कभी बांसुरी को हाथ नहीं लगाया | कृष्ण ने मथुरा जाते समय राधा से साथ चलने को कहा था , किन्तु राधा भी कृष्ण की गुरु थीं , वे समझ सकती थीं कि जिसे संसार को मोह से मुक्ति का पथ सिखाना है , उसे मोह में बाँध कर मैं समय चक्र को नहीं रोकूंगी | और उन्होंने कृष्ण से वचन लिया कि वे जब अपने जन्म -अवतार के सभी उद्देश्यों को पूर्ण कर लें तब लौट आएं , और ऐसा हुआ भी कृष्ण अपने जन्म के सभी प्रायोजनों को पूर्ण कर , और अपने अवतार के कर्तव्य से मुक्त हो सदैव राधा के हो गए | वे अब ना द्वारिका में मिलते हैं, और ना ही कुरुक्षेत्र में , वे तो आज भी ब्रज की भूमि पर राधा रानी के साथ धूल उड़ाते दौड़ते जाते हैं...दूर तक राधे राधे🙏🏻🙏🏻

Parmar Dilipsinh Jun 19, 2019

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
🌷RAMA🌷 Jun 19, 2019

+470 प्रतिक्रिया 136 कॉमेंट्स • 49 शेयर
Parmar Dilipsinh Jun 19, 2019

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB