Shyam Sharma
Shyam Sharma Aug 13, 2017

धारी माता की मूर्ति एक दिन में तीन बार अपना रूप बदलती हैं.

धारी माता की मूर्ति एक दिन में तीन बार अपना रूप बदलती हैं.

#देवीदर्शन
मां के चमत्कार से आए दिन लोग परिचित होते रहते हैं वह शक्तिशाली है और लोगों को अपने होने का अहसास कराती रहती है। जहाँ देवी की मूर्ति एक दिन में तीन बार अपना रूप बदलती है.

इस देवी को पहाड़ों और तीर्थयात्रियों की रक्षक देवी माना जाता है। महा विकराल इस काली देवी की मूर्ति स्थापना और मंदिर निर्माण की भी रोचक कहानी है। मूर्ति जाग्रत और साक्षात है।

यह चमत्कारिक मंदिर धारी माता का है, जो भारत में बद्रीनाथ व केदारनाथ मार्ग में अलकनंदा नदी के तट पर स्थित है.
यहाँ धारी माता की मूर्ति एक दिन में तीन बार अपना रूप बदलती हैं.
ये मान्यता है कि धारी माता को उत्तराखंड क्षेत्र की रक्षक मानी जाती है और इस सिद्धपीठ में हर रोज अनेक चमत्कार और अद्भूत घटनाएं होने की बात कही जाती है.
इसी जगह पर महाकवि कालिदास को माता काली की कृपा और ज्ञान प्राप्त हुआ था.

इस शक्ति पीठ का वर्णन पुराणों में भी किया गया है.
मान्यताओं के अनुसार कालीमठ के मंदिर में स्थापित मूर्ति का सिर वाला उपरी हिस्सा बाढ़ के कारण अलकनंदा नदी में बहते हुए धारी नामक गांव में चला आया था.
इस गांव में रहने वाले निवासी और धुनार जाति को यह सिर वाला हिस्सा मिला, जिसको इन लोगो ने पास स्थित एक ऊंची चट्टान पर रखकर स्थापित कर दिया.
धारी गाँव में देवी की स्थापना होने से इस देवी को धारी माता के नाम से पुकारा जाता है.
यहां के पुजारी बताते हैं कि द्वापर युग से ही काली की प्रतिमा यहां स्थित है । ऊपर के काली मठ एवं कालिस्य मठों में देवी काली की प्रतिमा क्रोध की मुद्रा में है पर धारी देवी मंदिर में वह कल्याणी परोपकारी शांत मुद्रा में है । उन्हें भगवान शिव द्वारा शांत किया गया जिन्होंने देवी-देवताओं से उनके हथियार का इस्तेमाल करने को कहा । यहां उनके धार की पूजा होती है जबकि उनके शरीर की पूजा काली मठ में होती है ।
अलकनंदा नदी में जल-विद्ययुत परियोजना निर्माण के कारण धारी माता की मूर्ति को इस मंदिर के पुजारी द्वारा नदी के ऊपर दूसरा मंदिर बनवाकर स्थापित करा दिया गया .
माता की मूर्ति का रूप बदलना और मंदिर में चमत्कारों का होना सत्य है.

+301 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 58 शेयर

कामेंट्स

B.S.CHAUHAN. Aug 13, 2017
यह मुर्ती किस शहर में स्थापित है कृपया पूरी जान कारी देवे

Shyam Sharma Aug 14, 2017
यह मंदिर उत्तराखंड के श्रीनगर से 15km पर है

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB