Anita Mittal
Anita Mittal Jun 10, 2018

हनुमान चालीसा 3 डी ऐनिमेशन। जय श्री राम

+284 प्रतिक्रिया 85 कॉमेंट्स • 166 शेयर

कामेंट्स

Anita Mittal Jun 10, 2018
@ajayrajkotiya शुभ संध्या जी जय श्री राम जी रामजी का आशीर्वाद और कृपा आप पर बनी रहे भाईजी आपका हर पल मंगलमय और शुभ हो राहे जिंदगी में हर किसी की है कोई गैर तो कोई अपना हुये रूक्मिणी के कान्हा भी राधा के लिए बने वो सपना

Anita Mittal Jun 10, 2018
@snsharma5 शुभ संध्या जी जय श्री राम जी आपका हर पल मंगलमय और शुभ हो

Anita Mittal Jun 10, 2018
@akhlieshsingh शुभ संध्या जी जय श्री राम जी आपका हर पल शुभ और सुखद हो

jagdish Prasad Jun 10, 2018
subh sandhya ji radhe radhe ji god bless you ji 🙏🙏

Awinash Jun 10, 2018
Jai Shree Ram ji gud evening ji

Babita Sharma Jun 10, 2018
शुभ संध्या बहना जय श्री राम

Anita Mittal Jun 10, 2018
@vijandernagar शुभ संध्या जी जय श्री राम जी आपका हर पल मंगलमय और सुखद हो

Anita Mittal Jun 10, 2018
@jagdishprasad48 शुभ संध्या जी जय श्री राम जी आपका हर पल सुखद और मंगलमय हो

Anita Mittal Jun 10, 2018
@awinashgupta. शुभ संध्या जी जय श्री राम जी रामजी का आशीर्वाद आपके साथ बना रहे भाईजी

Anita Mittal Jun 10, 2018
@babitasharma2 शुभ संध्या जी जय श्री राम जी दीदी सुबह हम थे नहीं इसलिए अब बात कर रहे हैं वह सब तो दीदी हमें भी पता है जब आखिरी बार उनका जवाब आया था बस उस दिन चूक गए और उसके बाद से ही नहीं कुछ पता हमें चिंता हो रही थी दीदी आप पर रामजी का आशीर्वाद और कृपा बनी रहे आपका हर पल शुभ और खुशियों भरा हो

Anilkumar marathe Jun 11, 2018
Jai Bajrangbali Very good morning madam superb Hanuman chalisha clip

+13 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+13 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
ashok singh sikarwar Feb 28, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
anita grover Feb 28, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
ashok singh sikarwar Feb 28, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

शनिवार विशेष :- शनि बीज मन्त्र – ॐ प्राँ प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः ॥ इसका नित्य १०८ पाठ करने से शनि सम्बन्धी सभी पीडायें समाप्त हो जाती हैं। तथा पाठ कर्ता धन धान्य समृद्धि वैभव से पूर्ण हो जाता है। और उसके सभी बिगडे कार्य बनने लगते है। यह सौ प्रतिशत अनुभूत है। शनि अष्टोत्तरशतनामावली - ॐ शनैश्चराय नमः ॥ ॐ शान्ताय नमः ॥ ॐ सर्वाभीष्टप्रदायिने नमः ॥ ॐ शरण्याय नमः ॥ ॐ वरेण्याय नमः ॥ ॐ सर्वेशाय नमः ॥ ॐ सौम्याय नमः ॥ ॐ सुरवन्द्याय नमः ॥ ॐ सुरलोकविहारिणे नमः ॥ ॐ सुखासनोपविष्टाय नमः ॥ ॐ सुन्दराय नमः ॥ ॐ घनाय नमः ॥ ॐ घनरूपाय नमः ॥ ॐ घनाभरणधारिणे नमः ॥ ॐ घनसारविलेपाय नमः ॥ ॐ खद्योताय नमः ॥ ॐ मन्दाय नमः ॥ ॐ मन्दचेष्टाय नमः ॥ ॐ महनीयगुणात्मने नमः ॥ ॐ मर्त्यपावनपदाय नमः ॥ ॐ महेशाय नमः ॥ ॐ छायापुत्राय नमः ॥ ॐ शर्वाय नमः ॥ ॐ शततूणीरधारिणे नमः ॥ ॐ चरस्थिरस्वभा वाय नमः ॥ ॐ अचंचलाय नमः ॥ ॐ नीलवर्णाय नमः ॥ ॐ नित्याय नमः ॥ ॐ नीलांजननिभाय नमः ॥ ॐ नीलाम्बरविभूशणाय नमः ॥ ॐ निश्चलाय नमः ॥ ॐ वेद्याय नमः ॥ ॐ विधिरूपाय नमः ॥ ॐ विरोधाधारभूमये नमः ॥ ॐ भेदास्पदस्वभावाय नमः ॥ ॐ वज्रदेहाय नमः ॥ ॐ वैराग्यदाय नमः ॥ ॐ वीराय नमः ॥ ॐ वीतरोगभयाय नमः ॥ ॐ विपत्परम्परेशाय नमः ॥ ॐ विश्ववन्द्याय नमः ॥ ॐ गृध्नवाहाय नमः ॥ ॐ गूढाय नमः ॥ ॐ कूर्मांगाय नमः ॥ ॐ कुरूपिणे नमः ॥ ॐ कुत्सिताय नमः ॥ ॐ गुणाढ्याय नमः ॥ ॐ गोचराय नमः ॥ ॐ अविद्यामूलनाशाय नमः ॥ ॐ विद्याविद्यास्वरूपिणे नमः ॥ ॐ आयुष्यकारणाय नमः ॥ ॐ आपदुद्धर्त्रे नमः ॥ ॐ विष्णुभक्ताय नमः ॥ ॐ वशिने नमः ॥ ॐ विविधागमवेदिने नमः ॥ ॐ विधिस्तुत्याय नमः ॥ ॐ वन्द्याय नमः ॥ ॐ विरूपाक्षाय नमः ॥ ॐ वरिष्ठाय नमः ॥ ॐ गरिष्ठाय नमः ॥ ॐ वज्रांकुशधराय नमः ॥ ॐ वरदाभयहस्ताय नमः ॥ ॐ वामनाय नमः ॥ ॐ ज्येष्ठापत्नीसमेताय नमः ॥ ॐ श्रेष्ठाय नमः ॥ ॐ मितभाषिणे नमः ॥ ॐ कष्टौघनाशकर्त्रे नमः ॥ ॐ पुष्टिदाय नमः ॥ ॐ स्तुत्याय नमः ॥ ॐ स्तोत्रगम्याय नमः ॥ ॐ भक्तिवश्याय नमः ॥ ॐ भानवे नमः ॥ ॐ भानुपुत्राय नमः ॥ ॐ भव्याय नमः ॥ ॐ पावनाय नमः ॥ ॐ धनुर्मण्डलसंस्थाय नमः ॥ ॐ धनदाय नमः ॥ ॐ धनुष्मते नमः ॥ ॐ तनुप्रकाशदेहाय नमः ॥ ॐ तामसाय नमः ॥ ॐ अशेषजनवन्द्याय नमः ॥ ॐ विशेशफलदायिने नमः ॥ ॐ वशीकृतजनेशाय नमः ॥ ॐ पशूनां पतये नमः ॥ ॐ खेचराय नमः ॥ ॐ खगेशाय नमः ॥ ॐ घननीलाम्बराय नमः ॥ ॐ काठिन्यमानसाय नमः ॥ ॐ आर्यगणस्तुत्याय नमः ॥ ॐ नीलच्छत्राय नमः ॥ ॐ नित्याय नमः ॥ ॐ निर्गुणाय नमः ॥ ॐ गुणात्मने नमः ॥ ॐ निरामयाय नमः ॥ ॐ निन्द्याय नमः ॥ ॐ वन्दनीयाय नमः ॥ ॐ धीराय नमः ॥ ॐ दिव्यदेहाय नमः ॥ ॐ दीनार्तिहरणाय नमः ॥ ॐ दैन्यनाशकराय नमः ॥ ॐ आर्यजनगण्याय नमः ॥ ॐ क्रूराय नमः ॥ ॐ क्रूरचेष्टाय नमः ॥ ॐ कामक्रोधकराय नमः ॥ ॐ कलत्रपुत्रशत्रुत्वकारणाय नमः ॥ ॐ परिपोषितभक्ताय नमः ॥ ॐ परभीतिहराय नमः ॥ ॐ भक्तसंघमनोऽभीष्टफलदाय नमः ॥ इसका नित्य १०८ पाठ करने से शनि सम्बन्धी सभी पीडायें समाप्त हो जाती हैं। तथा पाठ कर्ता धन धान्य समृद्धि वैभव से पूर्ण हो जाता है। और उसके सभी बिगडे कार्य बनने लगते है। यह सौ प्रतिशत अनुभूत है।

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
ashok singh sikarwar Feb 28, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+13 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB