Gumansingh Rathore
Gumansingh Rathore Sep 16, 2017

॥मातृदेवो भवः॥

॥मातृदेवो भवः॥

बेहतरीन शब्द.....

"जब मैंने जन्म लिया,वहां "एक नारी" थी जिसने मुझे थाम लिया......

|| मेरी माँ ||

बचपन में जैसे जैसे मैं बड़ा होता गया "एक नारी" वहां मेरा ध्यान रखने और मेरे साथ खेलने के लिए मौजूद थी.....

|| मेरी बहन ||

जब मैं स्कूल गया "एक नारी" ने मुझे पढ़ने और सिखने में मदद की......

|| मेरी शिक्षिका ||

जब भी मै जीवन से निराश और हताश हुआ और जब भी हारा तब "एक नारी" ने मुझे संभाला ...

|| मेरी महिला मित्र ||

जब मुझे सहयोग,साथी और प्रेम की आवश्यकता हुई तब "एक नारी" हमेशा मेरे साथ थी.....

|| मेरी पत्नी ||

जब भी मैं जीवन में कठोर हुआ तब "एक नारी" ने मेरे व्यवहार को नरम कर दिया.....

||मेरी बेटी||

जब मैं मरूँगा तब भी "एक नारी" मुझे अपने गोद में समा लेगी.......

|| धरती माँ ||

यदि आप पुरुष हैं तो हर नारी का सम्मान करें.....और यदि आप महिला हैं, उन में से एक होने पर गर्व करे...

- हमारी संस्कृति हमारी विरासत हैं

Dhoop Flower Pranam +192 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 268 शेयर

कामेंट्स

S.O. Sharma Sep 16, 2017
बहुत सुन्दर बिना नारी के जीवन मे अन्धेरा होता है । राधे राधे

Alpna Vyas Sep 17, 2017
शबदो में बहुत सुंदर अभिव्यक्ति है

anju joshi Dec 15, 2018

Pranam Like Lotus +47 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 166 शेयर
anju joshi Dec 15, 2018

Pranam Like Jyot +61 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 183 शेयर
anju joshi Dec 14, 2018

Belpatra Flower Like +68 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 276 शेयर
Ravi pandey Dec 14, 2018

Pranam Like Jyot +15 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 224 शेयर
anju joshi Dec 14, 2018

Pranam Like Fruits +67 प्रतिक्रिया 17 कॉमेंट्स • 153 शेयर
Swami Lokeshanand Dec 16, 2018

भगवान के अवतार की कथा मोक्ष देने वाली है, पर जैसे दवा के नाम से रोग दूर नहीं होता, रोटी शब्द से भूख नहीं मिटती और बिस्तर शब्द पर सोया नहीं जाता, यह कथा सुनने मात्र से नहीं, समझकर जीवन में उतारने से कल्याण करती है। आज भगवान के वराह अवतार का अर्थ-
क...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Flower Like +4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर

Like Pranam Bell +7 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 9 शेयर
Ravi pandey Dec 14, 2018

Like Pranam +3 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 44 शेयर
Ravi pandey Dec 14, 2018

Like Belpatra Pranam +17 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 24 शेयर
Swami Lokeshanand Dec 14, 2018

तप शब्द कान में पड़ते ही, गिरि कन्दराओं में, पद्मासन जमाकर, भूख प्यास वासनाओं का दमन करते, किन्हीं जटाजूटधारी ॠषियों की कल्पना स्वाभाविक ही ध्यान में आ जाती है। यही कारण है कि सामान्य मनुष्य कहते दिखाई देते हैं कि हम तो गृहस्थ हैं, यह तप वप करना ह...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like Belpatra +7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 34 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB