Plz share.....

Plz share.....

स्वर्णिम अवसर:
बगरू (जयपुर) में जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज की प्रचारिका सुश्री श्रीधरी दीदी के विलक्षण दार्शनिक प्रवचन एवं रसमय संकीर्तन का आयोजन।

सत्संग प्रेमी महानुभाव !
इस विकराल कलिकाल में अनेक अज्ञानी असंतो द्वारा ईश्वरप्राप्ति के अनेक मनगढ़ंत मार्गों, अनेकानेक साधनाओं का निरूपण सुनकर भोले भाले मनुष्य कोरे कर्मकाण्डादि में प्रवृत्त होकर भ्रान्त हो रहे हैं एवं अपने परम चरम लक्ष्य से और दूर होते जा रहे हैं।
ऐसे में विविध दर्शनों के विमर्श से अनिश्चय के कारण, व्याकुल एवं भटके हुये भवरोगियों के लिए पंचम मूल जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज के प्रवचन अमृत औषधि के समान हैं।
अपने सद्गुरुदेव के कृपा प्रसाद से ही उनकी विदुषी प्रचारिका सुश्री श्रीधरी जी उनके समस्त शास्त्रों, वेदों एवं अन्यान्य धर्मग्रन्थों के सार स्वरूप विलक्षण दार्शनिक सिद्धान्त "कृपालु भक्तियोग तत्वदर्शन" को अपने ओजस्वी धारावाहिक प्रवचनों के माध्यम से जन-जन में प्रचारित करते हुए जीवों को श्री राधाकृष्ण की निष्काम भक्ति की ओर प्रेरित कर रही हैं।
इसी श्रंखला में उनके 11 दिवसीय दिव्य प्रवचन का आयोजन "बागड़ा समाज धर्मशाला",गवर्नमेंट स्कूल के सामने,लिंक रोड, बगरू,जयपुर में किया गया है। इस प्रवचन श्रंखला का आयोजन दिनाँक 17 दिसंबर से 27 दिसंबर तक प्रतिदिन दोपहर 2:30 से 4:00 बजे तक किया जायेगा।
इस युग के परमाचार्य जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज द्वारा विरचित अद्वितीय संकीर्तन भक्त हृदय के लिए संजीवनी बूटी के समान हैं। उन्हीं अनुपमेय संकीर्तनों के माध्यम से वे प्रवचन के साथ ही कर्मयोग की क्रियात्मक साधना का अभ्यास भी करायेंगी।
अतएव यह एक ऐसा दुर्लभ अवसर है जो आपकी आत्मा को तृप्ति प्रदान करेगा। वेद-शास्त्र सम्मत सार्वभौमिक सिद्धान्त ज्ञान के साथ ही कलि के सर्वश्रेष्ठ धर्म संकीर्तन द्वारा भक्तजन ब्रजरस का भी आस्वादन कर सकेंगे।
सुश्री श्रीधरी जी के संस्कृत उच्चारण की बड़े से बड़े विद्वान भी प्रशंसा किए बिना नहीं रह सकते। गुरु कृपा से समस्त वेद-शास्त्रों के गूढ़तम सिद्धांतों को भी सरल सरस रूप में प्रस्तुत करना इनके प्रवचन की विशेषता है। इनके दिव्य ज्ञान से युक्त प्रवचन सभी आध्यात्मिक शंकाओं एवं समस्त धर्मग्रन्थों व आचार्यों के सिद्धांतों में परस्पर पाये जाने वाले विरोधाभासों का समन्वय करते हुये भगवत्प्राप्ति का अत्यंत सीधा सरल मार्ग प्रशस्त करते हैं।
वे इस धारावाहिक प्रवचन श्रंखला में समस्त शास्त्रीय प्रमाणों, तर्कों एवं दैनिक उदाहरणों द्वारा जीव का स्वरूप एवं लक्ष्य, भगवान से जीव का संबंध, मानव देह का महत्व एवं क्षणभंगुरता, भगवत्कृपा, शरणागति, वैराग्य एवं संसार का स्वरूप, गुरुतत्व, रूपध्यान, कर्मयोग, ज्ञानयोग इत्यादि विषयों पर प्रकाश डालते हुये भक्तियोग की उपादेयता सिद्ध करके शीघ्रातिशीघ्र लक्ष्य दिलाने वाली साधना का निरूपण करेंगी।
वे कठिन से कठिन विषयों की व्याख्या भी इतनी सरलता से करती हैं कि एक भोले भाले अंगूठा छाप को भी समझने में कठिनाई नहीं होती। इनका प्रवचन वेद, गीता, रामायण, भागवत, बाइबिल, कुरान आदि समस्त धर्मग्रन्थों के प्रमाणों से युक्त होता है।
"कृपालु भक्तियोग तत्वदर्शन" पर आधारित इनके रसमयी प्रवचन एवं मधुर संकीर्तन जिज्ञासुओं के जीवन को, उनकी विचारधारा को पूर्ण सात्विक एवं भगवदमयी बना देते हैं।
यह देव दुर्लभ मानव देह सद्गुरु की शरणागति में भगवत्प्राप्ति के लिए ही भगवान ने अपनी अकारण करुणा से हमें प्रदान किया है लेकिन परलोक में सद्गति प्राप्त करने के लिए हमने अब तक कोई तैयारी नहीं की। हमारे हठी एवं अहंकारी मन ने जीवन की इस गोधूलि बेला में भी भीषण तम परिपूर्ण पथ पर चलते हुए कभी उस और दृष्टिपात नहीं किया जहां दिव्य ज्ञान ,दिव्य प्रेम एवं दिव्य आनंद की वर्षा हो रही है। वेदों के अनुसार केवल वास्तविक गुरु के पावन सानिध्य एवं शरणागति से ही जीव का अज्ञान अंधकार समाप्त हो सकेगा एवं जीव भगवतप्राप्ति की और अग्रसर हो सकेगा। इसी तथ्य को मस्तिक्ष में रखते हुए ही इस प्रवचन का आयोजन किया गया है। ये दिव्य प्रवचन श्रवण एक ऐसा दुर्लभ अवसर है जो आपकी आत्मा को तृप्ति प्रदान करेगा। इस प्रवचन का प्रारूप किसी भी प्रकार के आडंबर से रहित है।
वेद कहता है :- "उत्तिष्ठत जाग्रत प्राप्य वरान्निबोधत"
अरे मनुष्यों ! उठो, जागो और शीघ्र ही महापुरुषों की शरण में जाकर परतत्व का ज्ञान प्राप्त कर अपने परम चरम लक्ष्य आनंद को प्राप्त करो। पता नहीं इस क्षणभंगुर जीवन का अगला क्षण तुमको मिले न मिले, इसलिए देर न करो।

अतएव आप सभी से करबद्ध निवेदन है कि अपने इष्ट मित्रों एवं परिवार सहित समय से पधारकर इस धारावाहिक प्रवचन श्रंखला को आदि से अंत तक श्रवण कर अपने देव दुर्लभ मानव जीवन को सफल बनायें। इस स्वर्णिम अवसर को हाथ से न जाने दें।

नोट: इस प्रवचन कार्यक्रम का सीधा प्रसारण 'Facebook Live Broadcast' के माध्यम से निम्न फेसबुक लिंक्स http://www.facebook.com/sharadgupta1008 एवं http://www.facebook.com/ShreedhariDidi पर किया जाएगा। एवं साथ ही जो भी हमारे द्वारा संचालित अन्य FbGroups/Fb Pages/Twitter/GooglePlus Accounts उनपर भी सभी जग़ह Share किया जायेगा। आप सभी से पुनः करबद्ध निवेदन है कि अधिक से अधिक हरि-गुरु प्रेमी जीवों को इन Groups/Pages से जोडें। इस सेवा में सभी का लाभ निहित है। श्रीमहाराजजी की कितनी बड़ी कृपा है कि आप सभी भक्तजन पूरे विश्व में कहीं भी हों, घर बैठे इस विलक्षण दार्शनिक प्रवचन को श्रवण कर लाभ ले सकेंगे।

जय श्री राधे।

+23 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Swami Lokeshanand Apr 22, 2019

भरतजी अयोध्या पहुँचे, आज अयोध्या शमशान लग रही है। कोई नगरवासी भरत जी की ओर सीधे नहीं देखता। आज तो सब उन्हें संत मानते हैं, पर उस समय सब के मन में भरतजी को लेकर संशय था। यही संसार की रीत है, जीवित संत को पहचान लेना हर किसी के बस की बात नहीं, क्योंकि संत चमड़े की आँख से नहीं, हृदय की आँख से पहचाना जाता है। पर वह है कितनों के पास? हाँ! उनके जाने के बाद तो सब छाती पीटते हैं। भरतजी सीधे कैकेयी के महल में गए, क्योंकि रामजी वहीं मिलते थे। कैकेयीजी आरती का थाल लाई है, भरतजी पूछते हैं, भैया राम कहाँ हैं? पिताजी कहाँ हैं? काँपती वाणी से उत्तर मिला। वही हुआ जिसका कैकेयीजी को भय था। भरतजी की आँखों से दो वस्तु गिर गई, एक वो जो फिर गिरते ही रहे, आँसू। और दूसरी जो फिर नजरों में कभी उठ नहीं पाईं, कैकेयीजी। संत की नजरों से गिर जाना और जीवन नष्ट हो जाना, एक जैसी बात है। भगवान के राज्याभिषेक के बाद की घटना है, कैकेयीजी रामजी के पास आईं, बोलीं- राम! मैं कुछ माँगूगी तो मिलेगा? रामजी की आँखें भीग आईं, कहने लगे, माँ! मेरा सौभाग्य है, कि आपके काम आ सकूं, आदेश दें। कैकेयीजी ने कहा, हो सके तो एकबार भरत के मुंह से मुझे "माँ" कहलवा दो। रामजी ने तुरंत भरतजी को बुलवा भेजा। भरतजी दौड़े आए, दरबार में कदम धरते ही कनखियों से समझ लिया कि वहाँ और कौन बैठा है। तो कैकेयीजी को पीठ देकर खड़े हो गए। रामजी ने पूछा, भरत! मेरी एक बात मानोगे भाई? भरतजी के प्राण सूख गए, गला रुंध गया, परीक्षा की घड़ी आ गई। बोले, मानूँगा भगवान, जो आदेश देंगे मानूँगा, पर एक बात को छोड़ कर। रामजी ने पूछा, वह क्या भरत? भरतजी कहते हैं, इन्हें माँ नहीं कहूँगा॥ अब विडियो देखें- भरत जी अयोध्या आए- https://youtu.be/9TWpf3t8gIs

+14 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 12 शेयर

+178 प्रतिक्रिया 25 कॉमेंट्स • 815 शेयर

विचार देते हैं हौसला, समझदारी और शक्ति दो तिनके एक नदी में गिर गए। दोनों एक ही हवा के झोंके से उड़कर एक ही साथ नदी तक आ पहुंचे थे। दोनों की परिस्थितियां समान थीं। परंतु दोनों की मानसिक स्थिति एक न थी। एक पानी में बह  रहा था सुख-पूर्वक। तैरने का आनंद लेते हुए, तो दूसरे को किनारे पर पहुंचने की जल्दी थी। वह बड़े प्रयास करता। पूरी ताकत लगाता, परंतु नदी के शक्तिशाली बहाव के आगे बेचारे तिनके की ताकत ही क्या थी। उसके सारे प्रयास व्यर्थ होते रहे। बहता तो वह उसी दिशा में रहा, जिस दिशा में  नदी बह रही थी, परंतु पहले तिनके की तरह सुखपूर्वक नहीं, बल्कि दुखी मन से। कुछ आगे जाने पर नदी की धारा धीमी हुई। पहला तिनका दूसरे से बोला- आओ मित्र, अब प्रयास करने के लिए समय अनुकूल है। चलो, मिलकर कोशिश करें। किनारे पर घास उगी है, जो नदी के बहाव को रोक भी रही है। थोड़ा प्रयास करने से  हम अपनी दुनिया में पहुंच जाएंगे। परंतु दूसरा तिनका इतनी मेहनत कर चुका था कि वह थक गया था। वह आगे प्रयास न कर सका। परंतु पहला तिनका अपने मित्र को मुसीबत में छोड़कर किनारे नहीं गया।  खुद को उससे उलझा दिया, जिससे तिनके की कुछ शक्ति बढ़ी। फिर जोर लगाया और एक लंबी घास को किसी तरह पकड़ लिया। कुछ देर सुस्ताने के बाद आखिरकार दोनों धीरे-धारे सूखे किनारे पर पहुंच ही गए।  पहला तिनका पुराने साथियों की मीठी यादों से खुश था। किनारे नए मित्रों के बीच प्रसन्न था। दूसरा तिनका अब भी अपने पुराने स्थान के साथी तिनकों से बिछड़ने के कारण उदास, डूबने की याद से परेशान और भीग जाने से दुखी था।  संक्षेप में  सकारात्मक विचारधारा हमें हौसला, समझदारी और शक्ति देती है, जिससे हम जीवन में किसी भी परिस्थिति का सामना कर लेते हैं। हर हर महादेव जय शिव शंकर

+49 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 114 शेयर
Naval Sharma Apr 21, 2019

+27 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 82 शेयर

+416 प्रतिक्रिया 72 कॉमेंट्स • 277 शेयर

+137 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 74 शेयर

+171 प्रतिक्रिया 22 कॉमेंट्स • 204 शेयर
Neeru Miglani Apr 19, 2019

*ना जाने क्यों यदा-कदा खयाल आता है...?* ● घर में सबसे पहले गाय की, कूकर की, पक्षियों की, खूब सारे मेहमानों की रोटी रोज़ बनती थी। फिर भी घर का बज़ट संतुलित रहता था। आज सिर्फ अपने परिवार की रोटी महंगी हो गई...जाने क्यों...? ● परिवार बहुत बड़ा होता था, उसमें खेलते बहुत सारे परिवार और पड़ोसियों के भी बच्चे। फिर भी घर में शांति होती थी...जाने क्यों...? ● महिलाओं के लिए कोई जिम या कसरत के विशेष साधन नही थे, लेकिन फिर भी महिलाएं पूर्णतः स्वस्थ रहती थी...जाने क्यों...? ● खाने को सादा दाल रोटी होती थी। लेकिन फिर भी किसी को खून की कमी नही होती थी...जाने क्यों...? ● भाई बहनों में खूब मार पिटाई होती थी, लेकिन मनमुटाव नही होते थे...जाने क्यों ? ● स्कूल में अध्यापक खूब कान खींचते थे। डंडों से पिटाई होती थी। लेकिन कोई बच्चा स्कूल में डिप्रेशन के कारण आत्महत्या नही करता था...जाने क्यों...? ● महंगे खिलौने नही मिलते थे, लेकिन हर खेल बहुत आनंदित करता था...जाने क्यों...? ● माता पिता ज़रा सी बात पे थप्पड़ जड़ दिया करते थे, फिर भी उनका सम्मान कम नही होता था...जाने क्यों...? ● घर कच्चे होते थे, कमरे कम होते थे, लेकिन माँ-बाप कभी वृद्धाश्रम नही जाते थे...जाने क्यों...? *अगर आप इस क्यों के जवाब ढूँढ़ पाएं, तो कृपया अपने मित्रों और संबंधियों से साझा ज़रूर करें। यूँ ही एक से दो मिलने से कड़ी बनेगी, जो पहले जैसा सौहार्दपूर्ण वातावरण बनाने में अमुल्य योगदान देगी...!*🆎💐🙏💐

+289 प्रतिक्रिया 40 कॉमेंट्स • 304 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB