Anita Sharma
Anita Sharma Mar 1, 2021

. "गीता का सच्चा अर्थ" चैतन्य महाप्रभु जगन्नाथपुरी से दक्षिण भारत की यात्रा पर निकले थे। उन्होंने एक स्थान पर देखा कि सरोवर के किनारे एक ब्राह्मण स्नान करके बैठा है और गीता का पाठ कर रहा है। वह पाठ करने में इतना तल्लीन है कि उसे अपने शरीर का भी पता नहीं है। उसके नेत्रों से आँसू की धारा बह रही है। महाप्रभु चुपचाप जाकर उस ब्राह्मण के पीछे खड़े हो गए। पाठ समाप्त करके जब ब्राह्मण पुस्तक बन्द की तो महाप्रभु सम्मुख आकर पूछा, 'ब्राह्मण देवता ! लगता है कि आप संस्कृत नहीं जानते, क्योंकि श्लोकों का उच्चारण शुद्ध नहीं हो रहा था। परन्तु गीता का ऐसा कौन-सा अर्थ आप समझते हैं जिसके आनन्द में आप इतने विभोर हो रहे थे ?' अपने सम्मुख एक तेजोमय भव्य महापुरुष को देखकर ब्राह्मण ने भूमि में लेटकर दण्डवत किया। वह दोनों हाथ जोड़कर नम्रतापूर्वक बोला, 'भगवन ! में संस्कृत क्या जानूँ और गीता के अर्थ का मुझे क्या पता ? मुझे पाठ करना आता ही नहीं मैं तो जब इस ग्रंथ को पढ़ने बैठता हूँ, तब मुझे लगता है कि कुरुक्षेत्र के मैदान में दोनों और बड़ी भारी सेना सजी खड़ी है। दोनों सेनाओं के बीच में एक रथ खड़ा है। रथ पर अर्जुन दोनों हाथ जोड़े बैठा है, और रथ के आगे घोड़ों की रास पकड़े भगवान श्रीकृष्ण बैठे हैं। भगवान मुख पीछे घुमाकर अर्जुन से कुछ कह रहे हैं, मुझे यह स्पष्ट दिखता है। भगवान और अर्जुन की ओर देख-देखकर मुझे प्रेम से रुलाई आ रही है। गीता और उसके श्लोक तो माध्यम हैं। असल सत्य भाषा नहीं, भक्ति है और इस भक्ति में मैं जितना गहरा उतरता जाता हूँ मेरा आनन्द बढ़ता जाता है।' 'भैया ! तुम्हीं ने गीता का सच्चा अर्थ जाना है और गीता का ठीक पाठ करना तुम्हें ही आता है।' यह कहकर महाप्रभु ने उस ब्राह्मण को अपने हाथों से उठाकर हृदय से लगा लिया।

.                        "गीता का सच्चा अर्थ"

          चैतन्य महाप्रभु जगन्नाथपुरी से दक्षिण भारत की यात्रा पर निकले थे। उन्होंने एक स्थान पर देखा कि सरोवर के किनारे एक ब्राह्मण स्नान करके बैठा है और गीता का पाठ कर रहा है। वह पाठ करने में इतना तल्लीन है कि उसे अपने शरीर का भी पता नहीं है। उसके नेत्रों से आँसू की धारा बह रही है। महाप्रभु चुपचाप जाकर उस ब्राह्मण के पीछे खड़े हो गए।
          पाठ समाप्त करके जब ब्राह्मण पुस्तक बन्द की तो महाप्रभु सम्मुख आकर पूछा, 'ब्राह्मण देवता ! लगता है कि आप संस्कृत नहीं जानते, क्योंकि श्लोकों का उच्चारण शुद्ध नहीं हो रहा था। परन्तु गीता का ऐसा कौन-सा अर्थ आप समझते हैं जिसके आनन्द में आप इतने विभोर हो रहे थे ?'
          अपने सम्मुख एक तेजोमय भव्य महापुरुष को देखकर ब्राह्मण ने भूमि में लेटकर दण्डवत किया। वह दोनों हाथ जोड़कर नम्रतापूर्वक बोला, 'भगवन ! में संस्कृत क्या जानूँ और गीता के अर्थ का मुझे क्या पता ? मुझे पाठ करना आता ही नहीं मैं तो जब इस ग्रंथ को पढ़ने बैठता हूँ, तब मुझे लगता है कि कुरुक्षेत्र के मैदान में दोनों और बड़ी भारी सेना सजी खड़ी है। दोनों सेनाओं के बीच में एक रथ खड़ा है। रथ पर अर्जुन दोनों हाथ जोड़े बैठा है, और रथ के आगे घोड़ों की रास पकड़े भगवान श्रीकृष्ण बैठे हैं। भगवान मुख पीछे घुमाकर अर्जुन से कुछ कह रहे हैं, मुझे यह स्पष्ट दिखता है। भगवान और अर्जुन की ओर देख-देखकर मुझे प्रेम से रुलाई आ रही है। गीता और उसके श्लोक तो माध्यम हैं। असल सत्य भाषा नहीं, भक्ति है और इस भक्ति में मैं जितना गहरा उतरता जाता हूँ मेरा आनन्द बढ़ता जाता है।'
          'भैया ! तुम्हीं ने गीता का सच्चा अर्थ जाना है और गीता का ठीक पाठ करना तुम्हें ही आता है।' यह कहकर महाप्रभु ने उस ब्राह्मण को अपने हाथों से उठाकर हृदय से लगा लिया।
.                        "गीता का सच्चा अर्थ"

          चैतन्य महाप्रभु जगन्नाथपुरी से दक्षिण भारत की यात्रा पर निकले थे। उन्होंने एक स्थान पर देखा कि सरोवर के किनारे एक ब्राह्मण स्नान करके बैठा है और गीता का पाठ कर रहा है। वह पाठ करने में इतना तल्लीन है कि उसे अपने शरीर का भी पता नहीं है। उसके नेत्रों से आँसू की धारा बह रही है। महाप्रभु चुपचाप जाकर उस ब्राह्मण के पीछे खड़े हो गए।
          पाठ समाप्त करके जब ब्राह्मण पुस्तक बन्द की तो महाप्रभु सम्मुख आकर पूछा, 'ब्राह्मण देवता ! लगता है कि आप संस्कृत नहीं जानते, क्योंकि श्लोकों का उच्चारण शुद्ध नहीं हो रहा था। परन्तु गीता का ऐसा कौन-सा अर्थ आप समझते हैं जिसके आनन्द में आप इतने विभोर हो रहे थे ?'
          अपने सम्मुख एक तेजोमय भव्य महापुरुष को देखकर ब्राह्मण ने भूमि में लेटकर दण्डवत किया। वह दोनों हाथ जोड़कर नम्रतापूर्वक बोला, 'भगवन ! में संस्कृत क्या जानूँ और गीता के अर्थ का मुझे क्या पता ? मुझे पाठ करना आता ही नहीं मैं तो जब इस ग्रंथ को पढ़ने बैठता हूँ, तब मुझे लगता है कि कुरुक्षेत्र के मैदान में दोनों और बड़ी भारी सेना सजी खड़ी है। दोनों सेनाओं के बीच में एक रथ खड़ा है। रथ पर अर्जुन दोनों हाथ जोड़े बैठा है, और रथ के आगे घोड़ों की रास पकड़े भगवान श्रीकृष्ण बैठे हैं। भगवान मुख पीछे घुमाकर अर्जुन से कुछ कह रहे हैं, मुझे यह स्पष्ट दिखता है। भगवान और अर्जुन की ओर देख-देखकर मुझे प्रेम से रुलाई आ रही है। गीता और उसके श्लोक तो माध्यम हैं। असल सत्य भाषा नहीं, भक्ति है और इस भक्ति में मैं जितना गहरा उतरता जाता हूँ मेरा आनन्द बढ़ता जाता है।'
          'भैया ! तुम्हीं ने गीता का सच्चा अर्थ जाना है और गीता का ठीक पाठ करना तुम्हें ही आता है।' यह कहकर महाप्रभु ने उस ब्राह्मण को अपने हाथों से उठाकर हृदय से लगा लिया।

+74 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 23 शेयर

कामेंट्स

Ranveer soni Mar 1, 2021
🌹🌹जय श्री राधेकृष्णा🌹🌹

Bhagat ram Mar 1, 2021
🌹🌹 जय श्री कृष्णा राधे राधे जी 🙏🙏🌺💐🌿🌹 शुभ रात्रि वंदन 🙏🙏🌺💐🌿🌹

Kamlesh Mar 1, 2021
जय श्री राधे राधे

kamlesh sharma Mar 1, 2021
RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RAYDHE RAFHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE Radhe RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RAYDHE RAFHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHRADHE RADHE JI RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE JI RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE RADHE BARSANE WALI RADHE BOL VRINDAVAN BIHARI LAL JI 🙏🏿 KI JSI HO

Archana Singh Mar 1, 2021
🙏🏵️शुभ रात्रि वंदन मेरी प्यारी बहना जी🏵️🙏 मोर मुकुट बंसी वाले की जय हो🙏🌹🌹 राधे गोविंद जी आपकी हर मनोकामना पूर्ण करें बहना जी🙏🌹

Rajpal singh Mar 1, 2021
jai shree krishna Radhey Radhey ji good night ji 🙏🙏

MEENAKSHI ASHOK KUKREJA Mar 1, 2021
जय श्री राधे राधे जय श्री कृष्णा जी की

GOVIND CHOUHAN Mar 1, 2021
JAI SHREE RADHEY RADHEY JIII 🌺 JAI SHREE RADHEY KRISHNA JII 🌺 SUBH RATRI JII 🌷🌷🙏🙏

Pavitra Mar 2, 2021
Radhey radhey radhey radhey radhey radhey radhey radhey radhey radhey radhey radhey

Raj Apr 14, 2021

+11 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 35 शेयर
RamniwasSoni Apr 14, 2021

+10 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 23 शेयर
Shweta Sharma Apr 14, 2021

+12 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 24 शेयर
Jai Mata Di Apr 14, 2021

+29 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Ravinder Singh Apr 14, 2021

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Sarita Choudhary Apr 14, 2021

+171 प्रतिक्रिया 25 कॉमेंट्स • 96 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB