RenuSuresh
RenuSuresh Mar 20, 2019

🌹🌹JaishreeRadhe krishna 🌹🌹🌹🌹🌹🌹Happy Holi 🌹🌹🌹

+127 प्रतिक्रिया 27 कॉमेंट्स • 104 शेयर

कामेंट्स

bhagwan gupta Mar 20, 2019
radhakanha ki adbhut Holi Ka sakardarsan adbhut premdarsan hapyholi

🌲💜राजकुमार राठोड💜🌲 Mar 20, 2019
.. 🌹राधे राधे 🌹 🙏शुभ दोपहर जी 🙏 🙏जय श्री गणेश 🙏 🌹शुभ होली 🌹 💠आपका हर पल शुभ एवं 💠 💚मंगलमय रहे💚

Dilip sharma Mar 20, 2019
सुनाई दे रही गूंज ढोलक और करताल की चिठ्ठी आ गई मथुरा के सरकार की चढ़ गई मस्ती अबीर और गुलाल की फागुन भी कह रहा जय हो वृंदावन बिहारी लाल की ......हमारी लाड़ली दीदी को रंगों के त्योंहार होली की हार्दिक हार्दिक शुभकामनाएं..

Brajesh Sharma Mar 20, 2019
जय श्री गणेश जी जय श्री राधे कृष्णा जी ॐ नमो भगवते वासुदेवाय ॐ नमो नारायणाय नमः ॐ नमःशिवाय राम राम सा होली की हार्दिक शुभकामनाएं.. भगवान आपको व परिवार को सुख सम्रद्धि प्रदान करे यही कामना करता हूँ 🙏🏻🙏🏻💐💐

Queen Mar 20, 2019
🌺 Jai shree radhe radhe krishna dear sister Ji Good Evening Ji 🌺

Deepak khatri Mar 20, 2019
💝 होली की हार्दिक शुभकामनाएं 🌹🌹 होली की हर्षित बेला पर, खुशियां मिले अपार | यश,कीर्ति, सम्मान मिले, और बढे सत्कार || शुभ-शुभ रहे हर दिन हर पल, शुभ-शुभ रहे विचार | उत्साह. बढे चित चेतन में, निर्मल रहे आचार || सफलतायें नित नयी मिले, बधाई बारम्बार | मंगलमय हो काज आपके, सुखी रहे परिवार || "💝 आपको परिवार सहित होली की हार्दिक शुभकामनाएं ! 🙏

Vanita Kale Mar 20, 2019
🙏🌷Holi ki hardik Shubhhkamnaye Shubh ratri sister ji 🌷🙏

pappu. jha Mar 20, 2019
पूर्णिमा का चाँद रंगों की डोली, चाँद से उसकी चाँदनी बोली, खुशियों से भरे आपकी झोली, मुबारक हो आपको रंग बिरंगी होली..

K N Padshala Mar 21, 2019
ॐ नमो भगवते वासुदेव नमः जय श्री राधे कृष्ण शुभ प्रभात वंदन बहन जी प्रणाम फाल्गुन हैप्पी रंगबीरंगी धूलेटी हार्दिक बधाई 🌹🙏🙏👍

Deepak khatri Mar 21, 2019
🙏🌷जय श्री राधेकृष्णा🌷🙏 🌺🌹Good morning ji🌹🌺 💙🍫HAPPY HOLI🍫💙

anita sharma May 20, 2019

+34 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 3 शेयर

+410 प्रतिक्रिया 59 कॉमेंट्स • 225 शेयर

+20 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 35 शेयर

एक बुजुर्ग औरत मर गई, यमराज लेने आये। औरत ने यमराज से पूछा, आप मुझे स्वर्ग ले जायेगें या नरक। यमराज बोले दोनों में से कहीं नहीं। तुमनें इस जन्म में बहुत ही अच्छे कर्म किये हैं, इसलिये मैं तुम्हें सिधे प्रभु के धाम ले जा रहा हूं। बुजुर्ग औरत खुश हो गई, बोली धन्यवाद, पर मेरी आपसे एक विनती है। मैनें यहां धरती पर सबसे बहुत स्वर्ग - नरक के बारे में सुना है मैं एक बार इन दोनों जगाहो को देखना चाहती हूं। यमराज बोले तुम्हारे कर्म अच्छे हैं, इसलिये मैं तुम्हारी ये इच्छा पूरी करता हूं। चलो हम स्वर्ग और नरक के रसते से होते हुए प्रभु के धाम चलेगें। दोनों चल पडें, सबसे पहले नरक आया। नरक में बुजुर्ग औरत ने जो़र जो़र से लोगो के रोने कि आवाज़ सुनी। वहां नरक में सभी लोग दुबले पतले और बीमार दिखाई दे रहे थे। औरत ने एक आदमी से पूछा यहां आप सब लोगों कि ऐसी हालत क्यों है। आदमी बोला तो और कैसी हालत होगी, मरने के बाद जबसे यहां आये हैं, हमने एक दिन भी खाना नहीं खाया। भूख से हमारी आतमायें तड़प रही हैं बुजुर्ग औरत कि नज़र एक वीशाल पतिले पर पडी़, जो कि लोगों के कद से करीब 300 फूट ऊंचा होगा, उस पतिले के ऊपर एक वीशाल चम्मच लटका हुआ था। उस पतिले में से बहुत ही शानदार खुशबु आ रही थी। बुजुर्ग औरत ने उस आदमी से पूछा इस पतिले में कया है। आदमी मायूस होकर बोला ये पतिला बहुत ही स्वादीशट खीर से हर समय भरा रहता है। बुजुर्ग औरत ने हैरानी से पूछा, इसमें खीर है तो आप लोग पेट भरके ये खीर खाते क्यों नहीं, भूख से क्यों तड़प रहें हैं। आदमी रो रो कर बोलने लगा, कैसे खायें ये पतिला 300 फीट ऊंचा है हममें से कोई भी उस पतिले तक नहीं पहुँच पाता। बुजुर्ग औरत को उन पर तरस आ गया सोचने लगी बेचारे, खीर का पतिला होते हुए भी भूख से बेहाल हैं। शायद ईश्वर नें इन्हें ये ही दंड दिया होगा यमराज बुजुर्ग औरत से बोले चलो हमें देर हो रही है। दोनों चल पडे़, कुछ दूर चलने पर स्वरग आया। वहां पर बुजुर्ग औरत को सबकी हंसने,खिलखिलाने कि आवाज़ सुनाई दी। सब लोग बहुत खुश दिखाई दे रहे थे। उनको खुश देखकर बुजुर्ग औरत भी बहुत खुश हो गई। पर वहां स्वरग में भी बुजुर्ग औरत कि नज़र वैसे ही 300 फूट उचें पतिले पर पडी़ जैसा नरक में था, उसके ऊपर भी वैसा ही चम्मच लटका हुआ था। बुजुर्ग औरत ने वहां लोगो से पूछा इस पतिले में कया है। स्वर्ग के लोग बोले के इसमें बहुत टेस्टी खीर है। बुजुर्ग औरत हैरान हो गई उनसे बोली पर ये पतीला तो 300 फीट ऊंचा है आप लोग तो इस तक पहुँच ही नहीं पाते होगें उस हिसाब से तो आप लोगों को खाना मिलता ही नहीं होगा, आप लोग भूख से बेहाल होगें पर मुझे तो आप सभी इतने खुश लग रहे हो, ऐसे कैसे लोग बोले हम तो सभी लोग इस पतिले में से पेट भर के खीर खाते हैं औरत बोली पर कैसे,पतिला तो बहुत ऊंचा है। लोग बोले तो क्या हो गया पतिला ऊंचा है तो यहां पर कितने सारे पेड़ हैं, ईश्वर ने ये पेड़ पौधे, नदी, झरने हम मनुष्यों के उपयोग के लिये तो बनाईं हैं हमनें इन पेडो़ कि लकडी़ ली, उसको काटा, फिर लकड़ीयों के तुकडो़ को जोड़ के विशाल सिढी़ का निर्माण किया उस लकडी़ की सिढी़ के सहारे हम पतिले तक पहुंचते हैं और सब मिलकर खीर का आंनद लेते हैं बुजुर्ग औरत यमराज कि तरफ देखने लगी यमराज मुसकाये बोले *ईशवर ने स्वर्ग और नरक मनुष्यों के हाथों में ही सौंप रखा है,चाहें तो अपने लिये नरक बना लें, चाहे तो अपने लिये स्वरग, ईशवर ने सबको एक समान हालातो में डाला हैं* *उसके लिए उसके सभी बच्चें एक समान हैं, वो किसी से भेदभाव नहीं करता* *वहां नरक में भी पेेड़ पौधे सब थे, पर वो लोग खुद ही आलसी हैं, उन्हें खीर हाथ में चाहीये,वो कोई कर्म नहीं करना चाहते, कोई मेहनत नहीं करना चाहते, इसलिये भूख से बेहाल हैं* *कयोकिं ये ही तो ईश्वर कि बनाई इस दुनिया का नियम है,जो कर्म करेगा, मेहनत करेगा, उसी को मीठा फल खाने को मिलेगा* दोस्तों ये ही आज का सुविचार है, स्वर्ग और नरक आपके हाथ में है मेहनत करें, अच्छे कर्म करें और अपने जीवन को स्वर्ग बनाएं। और हां, ये पोस्ट अगर आपको ज़रा सी भी पसंद आई हो तो आगे शेयर करना मत भुलियेगा। जय श्री राधे राधे जी

+482 प्रतिक्रिया 67 कॉमेंट्स • 211 शेयर

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 5 शेयर

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
anita sharma May 19, 2019

💐💐सर्मपण और अहंकार💐💐 पेड़ की सबसे ऊँची डाली पर लटक रहा नारियल रोज नीचे नदी मेँ पड़े पत्थर पर हंसता और कहता . . . . . " तुम्हारी तकदीर मेँ भी बस एक जगह पड़े रह कर नदी की धाराओँ के प्रवाह को सहन करना ही लिखा है . देखना एक दिन यूं ही पड़े पड़े घिस जाओगे मुझे देखो कैसी शान से उपर बैठा हूं । पत्थर रोज उसकी अहंकार भरी बातोँ को अनसुना कर देता . . . समय बीता एक दिन वही पत्थर घिस घिस कर गोल हो गया और विष्णु प्रतीक शालिग्राम के रूप मेँ जाकर एक मन्दिर मेँ प्रतिष्ठित हो गया । एक दिन वही नारियल उन शालिग्राम जी की पूजन सामग्री के रूप मेँ मन्दिर मेँ लाया गया . शालिग्राम ने नारियल को पहचानते हुए कहा " भाई . देखो घिस घिस कर परिष्कृत होने वाले ही प्रभु के प्रताप से इस स्थिति को पहुँचते हैँ . सबके आदर का पात्र भी बनते है जबकि अहंकार के मतवाले अपने ही दभं के डसने से नीचे आ गिरते हैँ . तुम जो कल आसमान मे थे आज से मेरे आगे टूट कर कल से सड़ने भी लगोगे पर मेरा अस्तित्व अब कायम रहेगा . . . . . . भगवान की द्रष्टि मेँ मूल्य.. समर्पण का है . अहंकार का नहीं। 🙏🙏

+34 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 22 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB