मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें

🙏राम राम प्यारे भाई और बहनों 🙏 प्रस्तुत है एक वास्तविकता को दर्शाता हुआ.. हास्य 😄🤓😜

🙏राम राम प्यारे भाई और बहनों 🙏
प्रस्तुत है एक वास्तविकता को दर्शाता हुआ.. 
हास्य 😄🤓😜

+375 प्रतिक्रिया 117 कॉमेंट्स • 396 शेयर

कामेंट्स

Sangeeta Lal Jun 9, 2019
Jay shree Radhe Krishna ji shubh ratri ji nice post ji 🙏🙏👍

Malkhan Singh Jun 9, 2019
*💥🌿🌞🙏🕉️🙏🌞🌿💥* *॥हरि ॐ॥*ऊँ सूर्यदेवाय नमःII* *श्री कृष्ण गोविँद हरे मुरारे* *हे नाथ नारायण वासुदेव* *॥जय श्री राम॥*राधे राधे जीII* *सपरिवार आपकी रात्रि शुभ हो* *🙏राम राम जी🙏* *💥🌿🌞🙏🕉️🙏🌞🌿💥*

Neha Kaushik Jun 9, 2019
Shri Radhe Krishna bhai ji Shubh Ratri Vandan ji God bless you and your family ji Always be happy bhai ji 🙏🙏

Sanjna Jun 9, 2019
Jai Shri Krishna ji shubh ratri ji

लॉग आउट Jun 9, 2019
जय श्री कृष्ण राधे-राधे ओम नमो भगवते वासुदेवाय नमः हां भाई पोस्ट एकदम आपकी सही है बहुत अच्छी पोस्ट शुभ रात्रि स्नेह वंदन

प्रवीण चौहान Jun 9, 2019
🌺🌺 जय श्री कृष्णा 🌺🌺🌺🌺🌺🌺 🌺 बहुत सही फरमाया आपने। हम सब मिलकर कुछ नहीं कर सकते। बस यही कर सकते है जो हो रहा है होने दो 🧡🧡 सदा खुश रहिए मस्त रहिए

Anjana Jain Jun 9, 2019
radhay radhay jjjii 🌷 Bhai 👌 good night jjjii 🌷🌷🌷 nice post jii 👌👌

Shivsanker Shukala Jun 9, 2019
@rrathod जय श्री राधे कृष्णा भाई जी शुभ रात्रि राधे राधे

R.K.Soni(गणेश मंदिर) Jun 9, 2019
शुभ रात्री वंदनजी 🌹🌹🌹 🙏जय गणेश देवा ति🙏 ,🙏जय हनुमान,जय शनिदेव🙏 आप व आपके परिवार की हनुमान व शनिदेव हर संकट मे रक्षा करे।🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏

Anshu Jun 9, 2019
good night Radhe Radhe ji

❤RaM DeeWaNa❤ Jun 9, 2019
Ram Ram Ji 🙏 Swami Narayan Apka mangal he Mangal kare 🙏 subhratri ji 🙏 RaDhE kRiShNa ji 🍫

Anita Choudhary Jun 9, 2019
ख्वाबों में बना ली, आँखो में सज़ा ली, तस्वीर तेरी हमने, इस दिल में बसा ली !! *🙏🏻जय माता दी 🙏🏻*

Aruna..sharma..(अनु) Jun 9, 2019
🙏🌹जय श्री राधे कृष्णा जी🌹🙏 🙏🌹जय श्री राम राम जी🌹🙏 🙏🌹🌙🌟शुभरात्री जी🌹🙏 🌹भरोसा खुद पर रखो, तो ताकत बन जाती है, और दूसरों पर रखो तो कमजोरी बन जाती है,🌹 🌹आप कब सही थे इसे कोई याद नहीं रखता, लेकिन आप कब गलत थे, इसे सब याद रखते है,🌹 🌹🌹जीवन का सार ही खुश रहना है🌹🌹 🌹🌹जय श्री कृष्णा जी🙏🌹🌹

Neeru Jun 16, 2019

18 दिन के युद्ध ने, द्रोपदी की उम्र को 80 वर्ष जैसा कर दिया था... शारीरिक रूप से भी और मानसिक रूप से भी शहर में चारों तरफ़ विधवाओं का बाहुल्य था.. पुरुष इक्का-दुक्का ही दिखाई पड़ता था अनाथ बच्चे घूमते दिखाई पड़ते थे और, उन सबकी वह महारानी द्रौपदी हस्तिनापुर के महल में निश्चेष्ट बैठी हुई शून्य को ताक रही थी । तभी, *श्रीकृष्ण* कक्ष में दाखिल होते हैं द्रौपदी कृष्ण को देखते ही दौड़कर उनसे लिपट जाती है ... कृष्ण उसके सिर को सहलाते रहते हैं और रोने देते हैं थोड़ी देर में, उसे खुद से अलग करके समीप के पलंग पर बिठा देते हैं । *द्रोपदी* : यह क्या हो गया सखा ?? ऐसा तो मैंने नहीं सोचा था । *कृष्ण* : नियति बहुत क्रूर होती है पांचाली.. वह हमारे सोचने के अनुरूप नहीं चलती ! हमारे कर्मों को परिणामों में बदल देती है.. तुम प्रतिशोध लेना चाहती थी और, तुम सफल हुई, द्रौपदी ! तुम्हारा प्रतिशोध पूरा हुआ... सिर्फ दुर्योधन और दुशासन ही नहीं, सारे कौरव समाप्त हो गए तुम्हें तो प्रसन्न होना चाहिए ! *द्रोपदी*: सखा, तुम मेरे घावों को सहलाने आए हो या, उन पर नमक छिड़कने के लिए ? *कृष्ण* : नहीं द्रौपदी, मैं तो तुम्हें वास्तविकता से अवगत कराने के लिए आया हूँ हमारे कर्मों के परिणाम को हम, दूर तक नहीं देख पाते हैं और जब वे समक्ष होते हैं.. तो, हमारे हाथ मे कुछ नहीं रहता । *द्रोपदी* : तो क्या, इस युद्ध के लिए पूर्ण रूप से मैं ही उत्तरदाई हूँ कृष्ण ? *कृष्ण* : नहीं द्रौपदी तुम स्वयं को इतना महत्वपूर्ण मत समझो... लेकिन, तुम अपने कर्मों में थोड़ी सी भी दूरदर्शिता रखती तो, स्वयं इतना कष्ट कभी नहीं पाती। *द्रोपदी* : मैं क्या कर सकती थी कृष्ण ? *कृष्ण*:- जब तुम्हारा स्वयंवर हुआ... तब तुम कर्ण को अपमानित नहीं करती और उसे प्रतियोगिता में भाग लेने का एक अवसर देती तो, शायद परिणाम कुछ और होते ! 👉इसके बाद जब कुंती ने तुम्हें पाँच पतियों की पत्नी बनने का आदेश दिया... तब तुम उसे स्वीकार नहीं करती तो भी, परिणाम कुछ और होते । और 👉उसके बाद तुमने अपने महल में दुर्योधन को अपमानित किया... वह नहीं करती तो, तुम्हारा चीर हरण नहीं होता... तब भी शायद, परिस्थितियाँ कुछ और होती । हमारे *शब्द* भी हमारे *कर्म* होते हैं द्रोपदी... और, हमें अपने हर शब्द को बोलने से पहले तोलना बहुत ज़रूरी होता है... अन्यथा, उसके *दुष्परिणाम* सिर्फ़ स्वयं को ही नहीं... अपने पूरे परिवेश को दुखी करते रहते हैं । संसार में केवल मनुष्य ही एकमात्र ऐसा प्राणी है... जिसका "ज़हर" उसके "दाँतों" में नहीं, "शब्दों " में है... इसलिए शब्दों का प्रयोग सोच समझकर करिये। ऐसे शब्द का प्रयोग करिये... जिससे, किसी की भावना को ठेस ना पहुँचे।🙏🏻

+180 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 223 शेयर

+211 प्रतिक्रिया 33 कॉमेंट्स • 70 शेयर

+75 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 89 शेयर

+89 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 164 शेयर

+52 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 48 शेयर

+24 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 38 शेयर

+42 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 116 शेयर

+53 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 89 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB