ACHARYA ANIL PARASHAR
ACHARYA ANIL PARASHAR Apr 13, 2021

🌹•°🔥°•💐•°🍂°•🥀°•☘️°•🌹 🔔°•🔔•°🔔°•🔔•°🔔°•🔔•°🔔 ॐ श्री गणेशाय नमः वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ ॐ ऐं श्रीं श्रीं बुधायः नमः। ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः । एकदंष्ट्रोत्कटो देवो गजवक्त्रो महाबल:। नागयज्ञोपवीतेन नानाभरण भूषित:॥ सवार्थसम्पद् उध्दारो गणाध्यक्षो वरप्रद:। भीमस्य तनयो देवो नायकोsथ विनायक:॥ करोतु मे महाशांति भास्करार्चनतत्पर:॥ सुप्रभातम् अथ् पंचांगम् दिनाँक 14-04-2021 बुधवार अक्षांश- 30°:36", रेखांश 76°:80" अम्बाला शहर, हरियाणा, पिन कोड- 134007 💐🥀🌹🌾🌷🍁🌹🍁🌾 🙏°•🙏•°🙏•°🙏 -------------समाप्तिकाल------------------ 🛑🛑 📒 तिथि द्वितीया 12:49:33 🛑☄️ नक्षत्र भरणी 17:23:00 🛑 करण : 🛑 कौलव 12:49:33 🛑 तैतिल 26:08:44 🛑 🔓 पक्ष शुक्ल 🛑 योग प्रीति 16:13:58 🗝️ वार बुधवार 🌄 सूर्योदय 05:57:35 🌃 चन्द्रोदय 07:14:00 🌙 चन्द्र 🦌 मेष - 24:10:11 तक 🌌 सूर्यास्त 18:49:29 🌑 चन्द्रास्त 20:52:59 🔓 ऋतु वसंत 🌈 🏵️ शक सम्वत 1943 प्लव 🏵️ कलि सम्वत 5123 🏵️ दिन काल 12:51:53 🏵️ विक्रम सम्वत 2078 🏵️ मास अमांत चैत्र 🏵️ मास पूर्णिमांत चैत्र 🕳️ दुष्टमुहूर्त 11:57:49 - 12:49:16 🕳️ कंटक 17:06:34 - 17:58:02 🕳️ यमघण्ट 08:31:58 - 09:23:26 😈 राहु काल 12:23:32 - 14:00:02 🕳️ कुलिक 11:57:49 - 12:49:16 🕳️ कालवेला 06:49:03 - 07:40:31 🕳️ यमगण्ड 07:34:05 - 09:10:34 🕳️ गुलिक 10:47:03 - 12:23:32 🏵️ दिशा शूल 🚩🚩 होरा 🛑बुध 05:57:35 - 07:01:55 🏵️चन्द्रमा 07:01:55 - 08:06:14 🏵️शनि 08:06:14 - 09:10:34 🛑बृहस्पति 09:10:34 - 10:14:53 🏵️मंगल 10:14:53 - 11:19:13 🛑सूर्य 11:19:13 - 12:23:33 🏵️शुक्र 12:23:33 - 13:27:52 🛑बुध 13:27:52 - 14:32:12 🏵️चन्द्रमा 14:32:12 - 15:36:31 🛑शनि 15:36:31 - 16:40:50 🏵️बृहस्पति 16:40:50 - 17:45:10 🏵️मंगल 17:45:10 - 18:49:29 🏵️सूर्य 18:49:29 - 19:45:04 🛑शुक्र 19:45:04 - 20:40:39 🏵️बुध 20:40:39 - 21:36:14 🚩🚩चोघडिया ⛩️लाभ 05:57:35 - 07:34:05 ⛩️अमृत 07:34:05 - 09:10:34 🕳️काल 09:10:34 - 10:47:03 ⛩️शुभ 10:47:03 - 12:23:32 😈रोग 12:23:32 - 14:00:02 🕳️उद्वेग 14:00:02 - 15:36:31 🛑चल 15:36:31 - 17:13:00 ⛩️लाभ 17:13:00 - 18:49:29 🕳️उद्वेग 18:49:29 - 20:12:52 ⛩️शुभ 20:12:52 - 21:36:14 🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴 🍁 ग्रह गोचर 🍁 🌞 सूर्य - मेष 🦌 🌙 चन्द्र - मेष 🦌 🥏 मंगल - मिथुन 👬🏼 🥏 बुध - मीन 🐬 🥏 बृहस्पति - कुम्भ ⚱️ 🥏 शुक्र - मेष 🦌 🥏 शनि - मकर 🐊 🥏 राहु - वृष 🐂 🥏 केतु - वृश्चिक 🦞 --------------------------------------------- 🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴 व्रत त्यौहार मास 09-15 अप्रैल तक ☘️🌾🌸💐🥀☘️💐🌸 🛑शुक्र -9 अप्रैल भद्रा 2828 से, प्रदोष व्रत। 🛑शनि - 10 अप्रैल भद्रा तारा 16:17 तक, शुक्र अश्विन 1 मेष 🦌 में 6:28, मेला पृथूद्क (पिहोवा तीर्थ )हरियाणा, मासिक शिवरात्रि व्रत। 🛑 रवि- 11 अप्रैल पितृ कार्येषु अमावस, गंड मूल 8:58 से। 🛑 चंद्र- 12 अप्रैल चैत्र (सोमवती) अमावस-- चैत्र सोमवती अमावस को हरिद्वार आदि तीर्थ स्थान पर कुंभ स्नान, दान जप भगवान शिव व विष्णु पूजन तथा पीपल (अश्वत्थ) वृक्ष की पुष्पाक्षत चावल फल धूप दीप आदि सहित पूजन परिक्रमा करने से अनेक पापों से मुक्ति मिलती है । पंचक समाप्त 11:29, द्वितीय शाही स्नान - कुंभ महापर्व हरिद्वार, प्रयागराज आदि तीर्थ स्थान महात्म्य, विक्रमी संवत 2077 पूर्ण । 🛑 13 अप्रैल, मंगलवार, चैत्र शुक्ल प्रतिपदा, भरणी ☄️नक्षत्र कालीन अर्धरात्रि के बाद 2:33,( 26/33) पर 🐊मकर लग्न में प्रवेश करेगी। 15 मुहूर्ति इस सक्रांति के स्नान दान आदि का पुण्य काल आगामी दिन 14 अप्रैल, बुधवार को प्रातः 8:57 तक होगा। वार अनुसार महोदरी तथा नक्षत्र अनुसार घोरा नाम की यह सक्रांति नेताओं/ बुरों के लिए लाभप्रद होगी। कुंभ महापर्व हरिद्वार का मुख्य शाही स्नान इसी दिन होगा । राशिफल- यह सक्रांति मेष कर्क कन्या तुला मकर कुंभ मीन राशि वालों के लिए शुभ फलदायक होगी । लोग भविष्य -- मासारम्भ 🌞सूर्य पर शनि की 👁️दृष्टि तथा मंगल राहु योग के कारण प्रतिकूल ⛈️वर्षा से खड़ी फसलों को हानि पहुंचेगी। सक्रांति कुंडली में मंगल शनि के मध्य षडाष्टक योग बना हुआ है। राजनैतिक वातावरण अशांत तथा असमंजस पूर्ण रहेगा । सत्तारूढ़ और विपक्षी दलों के नेताओं में परस्पर टकराव हुआ खींचातानी बढ़ेगी। परस्पर तालमेल की कमी रहेगी। सोना-चांदी और धातुओं सरसों क्रूड आयल में विशेष📈 तेजी बनेगी। 🛑 मंगल - 13 अप्रैल '"राक्षस"'नाम विक्रमी संवत 2078 प्रारंभ - 13 अप्रैल मंगलवार चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से शिवविंशति का राक्षस नामक विक्रमी संवत 2078 आरंभ होगा। आगामी संवत् में व्रत अनुष्ठान संकल्प दान आदि शुभ कार्यों में राक्षसों संवत्सर का ही प्रयोग होगा। नए संवत् का राजा मंगल तथा मंत्री भी मंगल है। जब राजा और मंत्री के पद एक ही ग्रह के पास हों (वह भी क्रूर ग्रह के पास ) तो समाज में आवेश एवं क्रोध के कारण हिंसक एवं उपद्रव की घटनाएं अधिक होंगी। रोग अग्निकांड वाहन दुर्घटनाएं अधिक हों- *स्वयं राजा स्वयं मंत्री जनेषु रोगपीड़ा चोराग्नि, शंका विग्रह भयं च नृपाणाम् ।* इस दिन नए संवत् आदि के फल किसी श्रेष्ठ ब्राह्मण या गुरु मुख से श्रद्धा पूर्वक संवत्सर के पूजन उपरांत श्रवण करना चाहिए। तारीख 13 को ही चैत्र *(वसंत )* नवरात्र प्रारंभ होंगे। इसी दिन प्रातः काल श्री दुर्गाजी की मूर्ति एवं घट स्थापन करके श्रीमूर्ति के सम्मुख प्रतिपदा से नवमी तक नित्य प्रति घी की ज्योति जला कर श्रीदुर्गा पूजा एवं श्रीदुर्गा सप्तशती का पाठ करना चाहिए। अंतिम नवरात्र ( या दशमी ) के दिन हरी दूर्वा को पूजा अर्चन के पश्चात नदी /नहर में विसर्जन करने की परंपरा है। चैत्र (वासंत) नवरात्र प्रारंभ । चैत्र शुक्ल पक्ष प्रारंभ, चंद्र दर्शन मु 15, घट स्थापन,🌞 सूर्य ☄️अश्विन 1 मेष🦌 में, 26:33, वैशाख सक्रांति, मु.15, पुण्य काल सक्रांति अगले दिन प्रातः 8:57 तक, वैशाखी पर्व (पंजाब), मंगल मिथुन👬🏼 में 25:13, संवत्सर फल श्रवण, ध्वजारोहण, तेलाभ्यंग, श्रीदुर्गा- पूजा, गुड़ी पड़वा। 🛑 बुध - 14 अप्रैल - कुंभ महापर्व (हरिद्वार) प्रमुख (तृतीय) शाही स्नान, रमजान मुस्लिम मास प्रारंभ। 🛑 गुरु - 15 अप्रैल भद्रा 28:47 से, गणगौरी तृतीया, श्रीमत्स्य - जयंती । 🥀🌾💐🌸🥀🌾💐 बाजार मंदा📉 तेजी📈 16 अप्रैल तक 🛑🛑 🌸2 अप्रैल को मंगल मृगशिर तथा बुध उत्तराभाद्रपद ☄️नक्षत्र में आने से तेल चांदी शहद गुड़ में तेजी शेयर बाजार तथा अन्य व्यापारिक वस्तुओं में कुछ मंदी रहेगी। 🌸 5 अप्रैल को गुरु कुंभ ⚱️राशि में आने से रुई चांदी में तेजी 📈दिखकर शीघ्र ही मंदी 📉का रुख बन जायगा। सोना तांबा पीतल कांसा लोहा शीशा वस्त्रों क्रूड आयल में 1- 2 मास तक मंदी📉 का रुझान रहकर फिर तेजी📈 का रुख बनेगा है। 🌸 6 अप्रैल को बुध पूर्व में अस्त 🌌होने से अनाज घी मूंग आदि में मंदी📉 रूई सोने में घटा बढ़ी के बाद तेजी📈 बनेगी। 🌸 10 अप्रैल को बुध रेवती नक्षत्र☄️ में आकर सूर्य 🌞के साथ मेल🔗 करेगा तथा शुक्र इसी समय मेष 🦌राशि में आएगा। गेहूं चना अनादि भी सोना चांदी में विशेष तेजी📈 का रुख रहेगा। गुड़ शक्कर बारदाना केसर मजीठ चंदन लाल मिर्च आदि में भी घटा बढ़ी के बाद तेजी📈 बनेगी। 🌸13 अप्रैल को सूर्य 🌞अश्विनी नक्षत्र☄️ तथा मेष 🦌राशि में आकर शुक्र के साथ मेल 🔗करेगा। इसी दिन मंगल मिथुन👬🏼 राशि में आकर शनि के साथ षडाष्टक संबंध बनाएगा। दोनों योग तेजी कारक हैं ।रुई कपास सूत घीे तेल सरसों नारियल सुपारी बादाम गुड़ खांड शक्कर सोना चांदी उड़द क्रूड ऑयल लोहा सोयाबीन ऑयल में तेजी 📈बनेगी। चावल अरहर चना मूंग आदि कुछ वस्तुओं में भी मंदी📉 रहेगी। 🌸 16 अप्रैल को बुध भी मेष🦌 राशि में आकर सूर्य 🌞एवं शुक्र के साथ मेल🔗 करेगा। अकेला बुध यद्यपि यहां मंदी कारक होता है। परंतु ग्रह योग से यहां मंदी📉 की जगह तेजी📈 बनेगी। सोना चांदी आदि धातुओं गेहूं चना जौं आदि अन्न तेल सरसों रुई कपास घी गुड़ खांड में घटा बढ़ी के बाद तेजी📈 बनेगी। 🏵️ आज का राशिफल 🏵️ मेष 🦌 आज का दिन आपके लिए व्यस्तता भरा रहेगा। आज आप किसी विशेष कार्यक्रम की व्यवस्था करने में समय गुजारेंगे। आज आपको अपने ऑफिस में सावधानी पूर्वक कार्य करना होगा, नहीं तो आपके शत्रु आप को नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर सकते हैं और किसी भी प्रकार के जोखिम से बचना होगा। व्यापार कर रहे लोगों को आज किसी परिचित के माध्यम से लाभ की स्थिति बनती दिख रही है। भाई के स्वास्थ्य की चिंता आज आपको थोड़ी परेशान कर सकती है। सायंकाल का समय आज आप अपने परिवार की छोटे बच्चों के साथ मौज मस्ती में व्यतीत करेंगे। वृष 🐂 आज का दिन आपके लिए उन्नति भरा रहेगा। संतान की उन्नति देखकर भी मन आनंदित होगा और परिवार का वातावरण भी शांतिमय रहेगा। व्यापारियों को आज समय का लाभ उठाना होगा और नए ज्ञान की प्राप्ति करनी होगी। किसी संपत्ति को खरीदने का मन बना रहे हैं, तो उसके कागजी दस्तावेजों को सावधानीपूर्वक पढ़ें, तभी आगे बढ़ें। व्यवस्था के क्षेत्र में नए सहयोगी मिलेंगे, जिनके साथ भविष्य को मजबूत बनाने के लिए भी आप कार्य करेंगे। आज आपको अपने कार्य क्षेत्र में काम करने वाले सहयोगियों के प्रति अच्छा व्यवहार रखना होगा, नहीं तो आपको काम में परेशानी आ सकती है। मिथुन 👬🏼 आज का दिन आपके लिए मिलाजुला रहेगा। परिवार के किसी सदस्य के कारण व्यस्तता और व्यर्थ की चिंता बनी रहेगी। आज आप अपने जीवनसाथी को कहीं घुमाने लेकर जा सकते हैं। व्यापार में नई तकनीकों को अपनाकर आप अपने व्यापार को चरम तक पहुंचाएंगे। आर्थिक स्थिति मध्यम रहेगी, लेकिन दिनभर छोटे-मोटे लाभ के योग बनते रहेंगे। आज आप किसी की सहायता लेना पसंद नहीं करेंगे, लेकिन फिर भी आप किसी को धन देने संबंधी निर्णयों को बदल भी सकते हैं। संतान की नौकरी से संबंधित आज आपको कुछ यात्रा भी करनी पड़ सकते हैं। कर्क 🦀 आज का दिन आपके लिए मिलाजुला रहेगा। कानून संबंधी मामलों में आपको सफलता का इंतजार करना पड़ सकता है। सगे संबंधी की मदद से आज बहुत लंबे समय से रुके हुए कार्यों को करने की चेष्टा करेंगे। संतान की तरक्की से उत्तम संपत्ति की प्राप्ति हो सकती है और उसमें आपका भी सहयोग होगा। आज आप अपनी दैनिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए कुछ धन खर्च कर सकते हैं। आज परिवार के वरिष्ठ सदस्यों से कुछ वैचारिक मतभेद पनप सकता हैं, लेकिन आपको अपनी वाणी पर नियंत्रण रख कर इसे आगे नहीं बढ़ने देना है। सिंह 🦁 आज का दिन आपके अनुभव से आपकी समस्याओं को खत्म करने का होगा। आज आपके परिवार का वातावरण डामाडोल हो सकता है क्योंकि परिवार के सदस्यों की एक राय ना होने से संघर्ष की स्थिति बन सकती है, लेकिन परिवार के बुजुर्ग सदस्य इस स्थिति को संभाल लेंगे। छात्रों की व्यवहारिक सोच में उन्नति आएगी। सेहत में उतार-चढ़ाव लगा रहेगा। धन का निवेश आज ना ही करें, तो बेहतर रहेगा, नहीं तो भविष्य में आपको इसका नुकसान उठाना पड़ेगा। आप आज अपने निकटवर्ती सहयोगी के प्रति सच्ची निष्ठा और मधुर वाणी रखने से लोगों का दिल जीत सकते हैं। कन्या👩🏻‍🦱 आज का दिन आपके रोजगार में बदलाव के लिए अच्छा नहीं है। यदि आप किसी नौकरी में कार्यरत हैं, तो उसी में बने रहे। विदेश में शिक्षा प्राप्त कर रहे विद्यार्थियों के लिए यह समय कुछ अवरोध लेकर आ सकता है। पैतृक संपत्ति के कार्य को भी फिलहाल विराम देना ही बेहतर रहेगा अन्यथा कोई नई समस्या खड़ी हो सकती है। घर के सुख साधनों का पूर्ण उपयोग करेंगे। यदि आप किसी से कर्ज लेना चाहते हैं, तो परिवार के सदस्यों के साथ विचार विमर्श कर ले, हो सकता है कि इसकी नौबत ही ना आए। नौकरी या व्यवसाय क्षेत्र में चुप रहना ही आज आपको लाभकारी रहेगा। तुला ⚖️ आज राजनीति से संबंधित जातकों के प्रभावों के क्षेत्र का विकास होगा और एक नई रूपरेखा तैयार करेंगे। रिश्तेदारों से आज आनंददायक भेंट होगी और सायंकाल के समय शुभ समाचार मिलने से मन हर्षित होगा। किसी निकटतम मित्र के सहयोग से अपने बिगड़े काम ठीक कर सकते हैं। विद्यार्थियों को मेहनत का सुखद परिणाम प्राप्त होगा। परिवार का कार्य क्षेत्र में चल रही समस्याएं आज खत्म होगी, जिससे आपको मानसिक शांति प्राप्त होगी। आज आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहना होगा। वृश्चिक 🦂 आज का दिन आपके लिए मिला-जुला रहेगा। कामकाज को सुधारने में विशेष योगदान रहेगा। किसी विशेषज्ञ की सलाह से आपके लिए उपयोगी सिद्ध होगी। आज आपको अपनी माता जी के सेहत के प्रति सचेत रहना होगा। दैनिक खर्चे आराम से निकलेंगे। पारिवारिक आवश्यकता की पूर्ति आज आर्थिक कारणों से अधूरी रह जाएगी। विदेश में रहने वाले रिश्तेदारों से अच्छे समाचार सुनने को मिल सकता है। कार्यक्षेत्र में आपके कार्य से सभी लोग प्रभावित होंगे और आपकी ख्याति भी बढ़ेगी, जिससे आपके शत्रु भी नष्ट हो जाएंगे। धनु 🏹 आज का दिन आपके लिए मिश्रित फलदायक रहेगा। आज अकस्मात धन मिलने के भरपूर योग बन रहे हैं और पैतृक संपत्ति से भी आप को लाभ मिल सकता है। ससुराल पक्ष के कुछ रिश्ते में आज कड़वाहट आ सकती हैं, लेकिन आपके जीवन साथी आपके साथ स्थाई रूप से खड़े नजर आएंगे। अनैतिक कार्यों से दूरी बनाकर रखें अन्यथा मान हानि का सामना करना पड़ सकता है। लव लाइफ के लिए नए संबंध स्थापित होंगे। आज आप अपने बलबूते पर ही परिवार की समस्याओं को समाप्त करने की प्रयास करेंगे। इसमें आपको स्थाई सफलता मिल सकती है। संतान के विवाह का प्रस्ताव आज आप अपने पिताजी के समक्ष रख सकते हैं। मकर 🐊 आज का दिन आपके लिए उत्तम उन्नति का रहेगा। व्यापार में उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। परिवार के छोटे सदस्यों के साथ अच्छा समय व्यतीत होगा और मानसिक शांति मिलेगी। सामाजिक कार्य में योगदान न्यूनतम रहेगा, लेकिन फिर भी मान सम्मान मिलेगा। पारिवारिक संपत्ति मिलने के बाद भरपूर योग बनते दिख रहे हैं। यदि लंबे समय से आपका कहीं धन फंसा हुआ था, तो वह आज आपको प्राप्त हो सकता है, लेकिन आपको अधिक मेहनत करनी पड़ेगी। प्रेम जीवन बिता रहे लोगों को अपने क्रोध पर नियंत्रण रखना होगा, नहीं तो रिश्तों में खटास आ सकती है। कुंभ ⚱️ आज का दिन आपके लिए मिलाजुला रहेगा। छात्रों को उच्च शिक्षा से संबंधित आर्थिक परेशानियां आज खत्म होंगी। विवाह योग्य जातकों के लिए विवाह के अच्छे प्रस्ताव आएंगे। व्यापारियों के लिए सामान्य लाभ की स्थिति बनी हुई है। दांपत्य जीवन सुखमय रहेगा। जीवन साथी का भरपूर सहयोग मिलेगा। माता-पिता से स्नेह और आशीर्वाद प्राप्त होगा और उनके सहयोग से कार्य क्षेत्र में आ रही समस्याएं हल होंगी। भाई बहनों के साथ अच्छा समय व्यतीत होगा। मामा पक्ष से भी धन लाभ मिलता दिख रहा है। किसी से व्यर्थ के वाद विवाद में पड़ने से बचना होगा। मीन 🐬 आज का दिन आपके लिए उन्नति भरा रहेगा। व्यावसायिक मामलों में आ रही रुकावटें दूर होंगी और सामाजिक क्षेत्र में भी आपको मान सम्मान मिलेगा और आपकी ख्याति चारों ओर फैलेगी। घरेलू स्तर पर आज कुछ मांगलिक कार्यक्रम हो सकता है। आज आप सायंकाल का समय परिवार के साथ बताएंगे, तो अच्छा रहेगा। मनोरंजन की ओर ज्यादा ध्यान रहने से जरूरी कार्य बिगड़ सकते हैं, इसलिए संतुलन बना कर चलना ही लाभदायक रहेगा। अपने कार्य क्षेत्र में आज जोश मे आकर कोई निर्णय ना लें, नहीं तो भविष्य में आपको इसका नुकसान उठाना पड़ सकता है। धार्मिक कार्यों के लिए आज आप कुछ निकटतम यात्रा भी कर सकते हैं। ACHARYA ANIL PARASHAR , VADIC,KP ASTROLOGER. आप का जीवन मंगलमय हो 🙏🙏🙏🙏🙏

🌹•°🔥°•💐•°🍂°•🥀°•☘️°•🌹
🔔°•🔔•°🔔°•🔔•°🔔°•🔔•°🔔
           ॐ श्री गणेशाय नमः
  वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।
  निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥
        ॐ ऐं श्रीं श्रीं बुधायः नमः। 
        ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः ।
   एकदंष्ट्रोत्कटो देवो गजवक्त्रो महाबल:।
     नागयज्ञोपवीतेन नानाभरण भूषित:॥
   सवार्थसम्पद् उध्दारो गणाध्यक्षो वरप्रद:।
भीमस्य तनयो देवो नायकोsथ विनायक:॥
करोतु मे महाशांति भास्करार्चनतत्पर:॥
                    सुप्रभातम्    
                  अथ् पंचांगम्
            दिनाँक 14-04-2021
                       बुधवार           
    अक्षांश- 30°:36", रेखांश 76°:80"
           अम्बाला शहर, हरियाणा,
               पिन कोड- 134007
     💐🥀🌹🌾🌷🍁🌹🍁🌾
             🙏°•🙏•°🙏•°🙏  -------------समाप्तिकाल------------------
🛑🛑 📒 तिथि  द्वितीया  12:49:33
🛑☄️ नक्षत्र  भरणी  17:23:00
🛑 करण :
          🛑 कौलव  12:49:33
     🛑      तैतिल  26:08:44
🛑  🔓 पक्ष  शुक्ल  
🛑 योग  प्रीति  16:13:58
🗝️ वार  बुधवार      
🌄 सूर्योदय  05:57:35  
🌃 चन्द्रोदय  07:14:00  
🌙 चन्द्र 🦌 मेष - 24:10:11 तक  
🌌 सूर्यास्त  18:49:29  
🌑 चन्द्रास्त  20:52:59  
🔓 ऋतु  वसंत  🌈
🏵️ शक सम्वत  1943  प्लव
🏵️ कलि सम्वत  5123  
🏵️ दिन काल  12:51:53  
🏵️ विक्रम सम्वत  2078  
🏵️ मास अमांत  चैत्र  
🏵️ मास पूर्णिमांत  चैत्र  
🕳️ दुष्टमुहूर्त  11:57:49 - 12:49:16
🕳️ कंटक  17:06:34 - 17:58:02
🕳️ यमघण्ट  08:31:58 - 09:23:26
😈 राहु काल  12:23:32 - 14:00:02
🕳️ कुलिक  11:57:49 - 12:49:16
🕳️ कालवेला   06:49:03 - 07:40:31
🕳️ यमगण्ड  07:34:05 - 09:10:34
🕳️ गुलिक   10:47:03 - 12:23:32
🏵️ दिशा शूल

                                      🚩🚩 होरा 
🛑बुध  05:57:35 -   07:01:55
🏵️चन्द्रमा  07:01:55 -   08:06:14
🏵️शनि  08:06:14 -   09:10:34
🛑बृहस्पति  09:10:34 -   10:14:53
🏵️मंगल  10:14:53 -   11:19:13
🛑सूर्य  11:19:13 -   12:23:33
🏵️शुक्र  12:23:33 -   13:27:52
🛑बुध  13:27:52 -   14:32:12
🏵️चन्द्रमा  14:32:12 -   15:36:31
🛑शनि  15:36:31 -   16:40:50
🏵️बृहस्पति  16:40:50 -   17:45:10
🏵️मंगल  17:45:10 -   18:49:29
🏵️सूर्य  18:49:29 -   19:45:04
🛑शुक्र  19:45:04 -   20:40:39
🏵️बुध  20:40:39 -   21:36:14

                                🚩🚩चोघडिया 
⛩️लाभ  05:57:35 -   07:34:05
⛩️अमृत  07:34:05 -   09:10:34
🕳️काल  09:10:34 -   10:47:03
⛩️शुभ  10:47:03 -   12:23:32
😈रोग  12:23:32 -   14:00:02
🕳️उद्वेग  14:00:02 -   15:36:31
🛑चल  15:36:31 -   17:13:00
⛩️लाभ  17:13:00 -   18:49:29
🕳️उद्वेग  18:49:29 -   20:12:52
⛩️शुभ  20:12:52 -   21:36:14
🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴
                 🍁 ग्रह गोचर 🍁

🌞    सूर्य         -        मेष     🦌            
🌙   चन्द्र         -        मेष     🦌 
🥏    मंगल       -       मिथुन        👬🏼
🥏    बुध          -       मीन      🐬 
🥏    बृहस्पति   -      कुम्भ     ⚱️
🥏    शुक्र         -      मेष      🦌  
🥏    शनि         -     मकर     🐊
🥏    राहु           -    वृष        🐂
🥏    केतु         -      वृश्चिक   🦞
---------------------------------------------
   🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴

व्रत त्यौहार मास 09-15 अप्रैल  तक
☘️🌾🌸💐🥀☘️💐🌸
🛑शुक्र -9 अप्रैल  भद्रा 2828 से, प्रदोष व्रत।
🛑शनि - 10 अप्रैल भद्रा तारा 16:17 तक,  शुक्र अश्विन 1 मेष 🦌 में 6:28, मेला पृथूद्क (पिहोवा तीर्थ )हरियाणा, मासिक शिवरात्रि व्रत।

🛑 रवि- 11 अप्रैल पितृ कार्येषु अमावस, गंड मूल 8:58 से।

🛑 चंद्र- 12 अप्रैल चैत्र (सोमवती) अमावस-- चैत्र सोमवती अमावस को हरिद्वार आदि  तीर्थ स्थान पर कुंभ स्नान,  दान जप भगवान शिव व विष्णु पूजन तथा पीपल (अश्वत्थ) वृक्ष की पुष्पाक्षत चावल फल धूप दीप आदि सहित पूजन परिक्रमा करने से अनेक पापों से मुक्ति मिलती है । 
पंचक समाप्त 11:29, 
द्वितीय शाही स्नान - कुंभ महापर्व हरिद्वार, प्रयागराज आदि तीर्थ स्थान महात्म्य, विक्रमी संवत 2077 पूर्ण ।

🛑 13 अप्रैल, मंगलवार, चैत्र शुक्ल प्रतिपदा, भरणी ☄️नक्षत्र कालीन अर्धरात्रि के बाद 2:33,( 26/33) पर 🐊मकर लग्न में प्रवेश करेगी। 15 मुहूर्ति इस सक्रांति के स्नान दान आदि का पुण्य काल आगामी दिन 14 अप्रैल, बुधवार को प्रातः 8:57 तक होगा। वार अनुसार महोदरी  तथा नक्षत्र अनुसार घोरा नाम की यह सक्रांति नेताओं/ बुरों के लिए लाभप्रद होगी। कुंभ महापर्व हरिद्वार का मुख्य शाही स्नान इसी  दिन होगा ।
राशिफल-  यह सक्रांति मेष कर्क कन्या तुला मकर कुंभ मीन राशि  वालों के लिए शुभ फलदायक होगी ।
लोग भविष्य -- मासारम्भ 🌞सूर्य पर शनि की 👁️दृष्टि तथा मंगल राहु योग के कारण प्रतिकूल ⛈️वर्षा से खड़ी फसलों को हानि पहुंचेगी। सक्रांति कुंडली में मंगल शनि के मध्य षडाष्टक योग बना हुआ है। राजनैतिक वातावरण अशांत तथा असमंजस पूर्ण  रहेगा । सत्तारूढ़ और विपक्षी दलों के नेताओं में परस्पर टकराव हुआ खींचातानी बढ़ेगी। परस्पर तालमेल की कमी रहेगी। सोना-चांदी और धातुओं सरसों क्रूड आयल में विशेष📈 तेजी बनेगी।
🛑 मंगल - 13 अप्रैल '"राक्षस"'नाम विक्रमी संवत 2078 प्रारंभ - 13 अप्रैल मंगलवार चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से शिवविंशति   का राक्षस नामक  विक्रमी संवत 2078 आरंभ होगा। आगामी संवत् में व्रत अनुष्ठान संकल्प दान आदि शुभ कार्यों में राक्षसों संवत्सर का ही प्रयोग होगा। नए संवत् का राजा मंगल तथा मंत्री भी मंगल है। जब राजा और मंत्री के पद एक ही ग्रह के पास हों (वह भी क्रूर ग्रह के पास ) तो समाज में आवेश एवं क्रोध के कारण हिंसक एवं उपद्रव की घटनाएं अधिक होंगी। रोग अग्निकांड वाहन दुर्घटनाएं अधिक हों- *स्वयं राजा स्वयं मंत्री जनेषु रोगपीड़ा चोराग्नि,  शंका विग्रह भयं च  नृपाणाम् ।* इस दिन नए संवत् आदि के फल किसी श्रेष्ठ ब्राह्मण या गुरु मुख से श्रद्धा पूर्वक संवत्सर के पूजन उपरांत श्रवण करना चाहिए। तारीख 13 को ही चैत्र *(वसंत )* नवरात्र प्रारंभ होंगे। इसी दिन प्रातः काल श्री दुर्गाजी की मूर्ति एवं घट स्थापन करके श्रीमूर्ति के सम्मुख प्रतिपदा से नवमी तक नित्य प्रति घी की ज्योति जला कर श्रीदुर्गा पूजा एवं श्रीदुर्गा सप्तशती का पाठ करना चाहिए।  अंतिम नवरात्र ( या दशमी ) के दिन हरी दूर्वा को पूजा अर्चन के पश्चात नदी /नहर में विसर्जन करने की परंपरा है।
चैत्र (वासंत) नवरात्र प्रारंभ ।
चैत्र शुक्ल पक्ष प्रारंभ, चंद्र दर्शन मु 15, घट स्थापन,🌞 सूर्य ☄️अश्विन 1 मेष🦌 में,  26:33, वैशाख सक्रांति,  मु.15, पुण्य काल सक्रांति अगले दिन प्रातः 8:57 तक, वैशाखी पर्व (पंजाब),
मंगल मिथुन👬🏼 में 25:13, संवत्सर फल श्रवण, ध्वजारोहण, तेलाभ्यंग, श्रीदुर्गा- पूजा, गुड़ी पड़वा।

🛑 बुध - 14 अप्रैल - कुंभ महापर्व (हरिद्वार) प्रमुख (तृतीय) शाही स्नान, रमजान मुस्लिम मास प्रारंभ।

🛑 गुरु - 15 अप्रैल भद्रा 28:47 से, गणगौरी तृतीया, श्रीमत्स्य - जयंती ।

      🥀🌾💐🌸🥀🌾💐
बाजार मंदा📉 तेजी📈 16 अप्रैल तक
                  🛑🛑

🌸2 अप्रैल को मंगल मृगशिर तथा बुध उत्तराभाद्रपद ☄️नक्षत्र में आने से तेल चांदी शहद गुड़  में तेजी शेयर बाजार तथा अन्य व्यापारिक वस्तुओं में कुछ मंदी रहेगी।
🌸 5 अप्रैल को गुरु कुंभ ⚱️राशि में आने से रुई चांदी में तेजी 📈दिखकर शीघ्र ही मंदी 📉का रुख बन जायगा। सोना तांबा पीतल कांसा लोहा शीशा वस्त्रों क्रूड आयल में 1- 2 मास तक  मंदी📉 का रुझान रहकर फिर तेजी📈 का रुख बनेगा  है।
🌸 6 अप्रैल को बुध पूर्व में अस्त 🌌होने से अनाज घी  मूंग आदि में मंदी📉 रूई
सोने में घटा बढ़ी के बाद तेजी📈 बनेगी।
🌸 10 अप्रैल को बुध रेवती नक्षत्र☄️ में आकर सूर्य 🌞के साथ मेल🔗 करेगा तथा शुक्र इसी समय मेष 🦌राशि में आएगा। गेहूं चना अनादि भी सोना चांदी में विशेष तेजी📈 का रुख रहेगा। गुड़ शक्कर बारदाना केसर मजीठ  चंदन लाल मिर्च आदि में भी घटा बढ़ी के बाद तेजी📈 बनेगी।

🌸13 अप्रैल को सूर्य 🌞अश्विनी नक्षत्र☄️ तथा मेष 🦌राशि में आकर शुक्र के साथ मेल 🔗करेगा। इसी दिन मंगल मिथुन👬🏼 राशि में आकर शनि के साथ षडाष्टक संबंध बनाएगा। दोनों योग तेजी कारक हैं ।रुई कपास सूत घीे  तेल  सरसों नारियल सुपारी बादाम गुड़ खांड शक्कर सोना चांदी उड़द क्रूड ऑयल लोहा सोयाबीन ऑयल में तेजी 📈बनेगी। चावल अरहर चना मूंग आदि कुछ वस्तुओं में भी मंदी📉 रहेगी।

🌸 16 अप्रैल को बुध भी मेष🦌 राशि  में आकर सूर्य 🌞एवं शुक्र के साथ मेल🔗 करेगा। अकेला बुध यद्यपि यहां मंदी कारक होता है। परंतु ग्रह योग से यहां मंदी📉 की जगह तेजी📈 बनेगी। सोना चांदी आदि धातुओं गेहूं चना जौं आदि अन्न  तेल  सरसों रुई कपास घी  गुड़ खांड में घटा बढ़ी के बाद तेजी📈 बनेगी।

            🏵️ आज का राशिफल 🏵️
मेष 🦌
आज का दिन आपके लिए व्यस्तता भरा रहेगा। आज आप किसी विशेष कार्यक्रम की व्यवस्था करने में समय गुजारेंगे। आज आपको अपने ऑफिस में सावधानी पूर्वक कार्य करना होगा, नहीं तो आपके शत्रु आप को नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर सकते हैं और किसी भी प्रकार के जोखिम से बचना होगा। व्यापार कर रहे लोगों को आज किसी परिचित के माध्यम से लाभ की स्थिति बनती दिख रही है। भाई के स्वास्थ्य की चिंता आज आपको थोड़ी परेशान कर सकती है। सायंकाल का समय आज आप अपने परिवार की छोटे बच्चों के साथ मौज मस्ती में व्यतीत करेंगे।
वृष 🐂
आज का दिन आपके लिए उन्नति भरा रहेगा। संतान की उन्नति देखकर भी मन आनंदित होगा और परिवार का वातावरण भी शांतिमय रहेगा। व्यापारियों को आज समय का लाभ उठाना होगा और नए ज्ञान की प्राप्ति करनी होगी। किसी संपत्ति को खरीदने का मन बना रहे हैं, तो उसके कागजी दस्तावेजों को सावधानीपूर्वक पढ़ें, तभी आगे बढ़ें। व्यवस्था के क्षेत्र में नए सहयोगी मिलेंगे, जिनके साथ भविष्य को मजबूत बनाने के लिए भी आप कार्य करेंगे। आज आपको अपने कार्य क्षेत्र में काम करने वाले सहयोगियों के प्रति अच्छा व्यवहार रखना होगा, नहीं तो आपको काम में परेशानी आ सकती है।
मिथुन 👬🏼
आज का दिन आपके लिए मिलाजुला रहेगा। परिवार के किसी सदस्य के कारण व्यस्तता और व्यर्थ की चिंता बनी रहेगी। आज आप अपने जीवनसाथी को कहीं घुमाने लेकर जा सकते हैं। व्यापार में नई तकनीकों को अपनाकर आप अपने व्यापार को चरम तक पहुंचाएंगे। आर्थिक स्थिति मध्यम रहेगी, लेकिन दिनभर छोटे-मोटे लाभ के योग बनते रहेंगे। आज आप किसी की सहायता लेना पसंद नहीं करेंगे, लेकिन फिर भी आप किसी को धन देने संबंधी निर्णयों को बदल भी सकते हैं। संतान की नौकरी से संबंधित आज आपको कुछ यात्रा भी करनी पड़ सकते हैं।
कर्क 🦀
आज का दिन आपके लिए मिलाजुला रहेगा। कानून संबंधी मामलों में आपको सफलता का इंतजार करना पड़ सकता है। सगे संबंधी की मदद से आज बहुत लंबे समय से रुके हुए कार्यों को करने की चेष्टा करेंगे। संतान की तरक्की से उत्तम संपत्ति की प्राप्ति हो सकती है और उसमें आपका भी सहयोग होगा। आज आप अपनी दैनिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए कुछ धन खर्च कर सकते हैं। आज परिवार के वरिष्ठ सदस्यों से कुछ वैचारिक मतभेद पनप सकता हैं, लेकिन आपको अपनी वाणी पर नियंत्रण रख कर इसे आगे नहीं बढ़ने देना है।
सिंह 🦁
आज का दिन आपके अनुभव से आपकी समस्याओं को खत्म करने का होगा। आज आपके परिवार का वातावरण डामाडोल हो सकता है क्योंकि परिवार के सदस्यों की एक राय ना होने से संघर्ष की स्थिति बन सकती है, लेकिन परिवार के बुजुर्ग सदस्य इस स्थिति को संभाल लेंगे। छात्रों की व्यवहारिक सोच में उन्नति आएगी। सेहत में उतार-चढ़ाव लगा रहेगा। धन का निवेश आज ना ही करें, तो बेहतर रहेगा, नहीं तो भविष्य में आपको इसका नुकसान उठाना पड़ेगा। आप आज अपने निकटवर्ती सहयोगी के प्रति सच्ची निष्ठा और मधुर वाणी रखने से लोगों का दिल जीत सकते हैं।
कन्या👩🏻‍🦱
आज का दिन आपके रोजगार में बदलाव के लिए अच्छा नहीं है। यदि आप किसी नौकरी में कार्यरत हैं, तो उसी में बने रहे। विदेश में शिक्षा प्राप्त कर रहे विद्यार्थियों के लिए यह समय कुछ अवरोध लेकर आ सकता है। पैतृक संपत्ति के कार्य को भी फिलहाल विराम देना ही बेहतर रहेगा अन्यथा कोई नई समस्या खड़ी हो सकती है। घर के सुख साधनों का पूर्ण उपयोग करेंगे। यदि आप किसी से कर्ज लेना चाहते हैं, तो परिवार के सदस्यों के साथ विचार विमर्श कर ले, हो सकता है कि इसकी नौबत ही ना आए। नौकरी या व्यवसाय क्षेत्र में चुप रहना ही आज आपको लाभकारी रहेगा।
तुला ⚖️
आज राजनीति से संबंधित जातकों के प्रभावों के क्षेत्र का विकास होगा और एक नई रूपरेखा तैयार करेंगे। रिश्तेदारों से आज आनंददायक भेंट होगी और सायंकाल के समय शुभ समाचार मिलने से मन हर्षित होगा। किसी निकटतम मित्र के सहयोग से अपने बिगड़े काम ठीक कर सकते हैं। विद्यार्थियों को मेहनत का सुखद परिणाम प्राप्त होगा। परिवार का कार्य क्षेत्र में चल रही समस्याएं आज खत्म होगी, जिससे आपको मानसिक शांति प्राप्त होगी। आज आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहना होगा।
वृश्चिक 🦂
आज का दिन आपके लिए मिला-जुला रहेगा। कामकाज को सुधारने में विशेष योगदान रहेगा। किसी विशेषज्ञ की सलाह से आपके लिए उपयोगी सिद्ध होगी। आज आपको अपनी माता जी के सेहत के प्रति सचेत रहना होगा। दैनिक खर्चे आराम से निकलेंगे। पारिवारिक आवश्यकता की पूर्ति आज आर्थिक कारणों से अधूरी रह जाएगी। विदेश में रहने वाले रिश्तेदारों से अच्छे समाचार सुनने को मिल सकता है। कार्यक्षेत्र में आपके कार्य से सभी लोग प्रभावित होंगे और आपकी ख्याति भी बढ़ेगी, जिससे आपके शत्रु भी नष्ट हो जाएंगे।
धनु 🏹
आज का दिन आपके लिए मिश्रित फलदायक रहेगा। आज अकस्मात धन मिलने के भरपूर योग बन रहे हैं और पैतृक संपत्ति से भी आप को लाभ मिल सकता है। ससुराल पक्ष के कुछ रिश्ते में आज कड़वाहट आ सकती हैं, लेकिन आपके जीवन साथी आपके साथ स्थाई रूप से खड़े नजर आएंगे। अनैतिक कार्यों से दूरी बनाकर रखें अन्यथा मान हानि का सामना करना पड़ सकता है। लव लाइफ के लिए नए संबंध स्थापित होंगे। आज आप अपने बलबूते पर ही परिवार की समस्याओं को समाप्त करने की प्रयास करेंगे। इसमें आपको स्थाई सफलता मिल सकती है। संतान के विवाह का प्रस्ताव आज आप अपने पिताजी के समक्ष रख सकते हैं।
मकर 🐊
आज का दिन आपके लिए उत्तम उन्नति का रहेगा। व्यापार में उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। परिवार के छोटे सदस्यों के साथ अच्छा समय व्यतीत होगा और मानसिक शांति मिलेगी। सामाजिक कार्य में योगदान न्यूनतम रहेगा, लेकिन फिर भी मान सम्मान मिलेगा। पारिवारिक संपत्ति मिलने के बाद भरपूर योग बनते दिख रहे हैं। यदि लंबे समय से आपका कहीं धन फंसा हुआ था, तो वह आज आपको प्राप्त हो सकता है, लेकिन आपको अधिक मेहनत करनी पड़ेगी। प्रेम जीवन बिता रहे लोगों को अपने क्रोध पर नियंत्रण रखना होगा, नहीं तो रिश्तों में खटास आ सकती है।
कुंभ ⚱️
आज का दिन आपके लिए मिलाजुला रहेगा। छात्रों को उच्च शिक्षा से संबंधित आर्थिक परेशानियां आज खत्म होंगी। विवाह योग्य जातकों के लिए विवाह के अच्छे प्रस्ताव आएंगे। व्यापारियों के लिए सामान्य लाभ की स्थिति बनी हुई है। दांपत्य जीवन सुखमय रहेगा। जीवन साथी का भरपूर सहयोग मिलेगा। माता-पिता से स्नेह और आशीर्वाद प्राप्त होगा और उनके सहयोग से कार्य क्षेत्र में आ रही समस्याएं हल होंगी। भाई बहनों के साथ अच्छा समय व्यतीत होगा। मामा पक्ष से भी धन लाभ मिलता दिख रहा है। किसी से व्यर्थ के वाद विवाद में पड़ने से बचना होगा।
मीन 🐬
आज का दिन आपके लिए उन्नति भरा रहेगा। व्यावसायिक मामलों में आ रही रुकावटें दूर होंगी और सामाजिक क्षेत्र में भी आपको मान सम्मान मिलेगा और आपकी ख्याति चारों ओर फैलेगी। घरेलू स्तर पर आज कुछ मांगलिक कार्यक्रम हो सकता है। आज आप सायंकाल का समय परिवार के साथ बताएंगे, तो अच्छा रहेगा। मनोरंजन की ओर ज्यादा ध्यान रहने से जरूरी कार्य बिगड़ सकते हैं, इसलिए संतुलन बना कर चलना ही लाभदायक रहेगा। अपने कार्य क्षेत्र में आज जोश मे आकर कोई निर्णय ना लें, नहीं तो भविष्य में आपको इसका नुकसान उठाना पड़ सकता है। धार्मिक कार्यों के लिए आज आप कुछ निकटतम यात्रा भी कर सकते हैं।
ACHARYA ANIL PARASHAR ,
VADIC,KP ASTROLOGER. 
    आप का जीवन मंगलमय हो 
          🙏🙏🙏🙏🙏

+17 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 96 शेयर

कामेंट्स

Inder Parkash Apr 13, 2021
Om Gang Ganpaty Namah Jai Shree Radhy Krishna Good Morning

🌹•°🔥°•💐•°🍂°•🥀°•☘️°•🌹 🔔°•🔔•°🔔°•🔔•°🔔°•🔔•°🔔 ॐ ह्रीं श्रीं शुक्राय नमः सुप्रभातम् ॐ श्री गणेशाय नमः अथ् पंचांगम् दिनाँक 07-05-2021 शुक्रवार, अक्षांश- 30°:36", रेखांश 76°:80" अम्बाला शहर, हरियाणा, पिन कोड 134 007 ॐ मनिभ्द्राय रत्नशोभिताय ऐरावत वाहनाय मम गृहे व्यापारे रिद्धि वृद्धि सिद्धि कुरु कुरु स्वाहा महालक्ष्मी वंदना महालक्ष्मी नमस्तुभ्यं, नमस्तुभ्यं सुरेश्र्वरी । हरिप्रिये नमस्तुभ्यं, नमस्तुभ्यं दयानिधे ।। शुभम करोति कल्याणम, अरोग्यम धन संपदा, शत्रु-बुद्धि विनाशायः, दीपःज्योति नमोस्तुते ! ॐ हिमकुंद मृणालाभं दैत्यानां परम् गुरुम्र। सर्वशास्र प्रवक्तारं भार्गवं प्रणमाम्यहम्। 🥀🌹🌾🌷🍁🌹🍂🥀 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 ------समाप्तिकाल----- °••°°••°°••°°••°°••°°••°°••°°••°°••°°•° 📒 तिथि एकादशी 15:34:28 ☄️ नक्षत्र पूर्वाभाद्रपद 12:26:37 🏵️ करण : 🏵️ बालव 15:34:28 🏵️ कौलव 28:25:49 🔒 पक्ष कृष्ण 🏵️ योग वैधृति 19:28:45 🗝️ वार शुक्रवार 🌄 सूर्योदय 05:34:56 🌃 चन्द्रोदय 27:51:00 🌙 चन्द्र ⚱️ कुम्भ - 05:55:22 तक 🌌 सूर्यास्त 19:04:22 🌑 चन्द्रास्त 15:11:59 💥 ऋतु ग्रीष्म 🏵️ शक सम्वत 1943 प्लव 🏵️ कलि सम्वत 5123 🏵️ दिन काल 13:29:26 🏵️ विक्रम सम्वत 2078 🏵️ मास अमांत चैत्र 🏵️ मास पूर्णिमांत वैशाख 📯 शुभ समय 🥁 अभिजित 11:52:40 - 12:46:37 🕳️दुष्टमुहूर्त : 🕳️08:16:49 - 09:10:46 🕳️12:46:37 - 13:40:35 🕳️ कंटक 13:40:35 - 14:34:33 🕳️ यमघण्ट 17:16:26 - 18:10:24 😈 राहु काल 10:38:28 - 12:19:39 🕳️ कुलिक 08:16:49 - 09:10:46 🕳️ कालवेला 15:28:31 - 16:22:28 🕳️ यमगण्ड 15:42:00 - 17:23:11 🕳️ गुलिक 07:16:06 - 08:57:17 🏵️दिशा शूल पश्चिम ☘️☘️होरा 🏵️शुक्र 05:34:56 - 06:42:23 🏵️बुध 06:42:23 - 07:49:50 🏵️चन्द्रमा 07:49:50 - 08:57:17 🏵️शनि 08:57:17 - 10:04:44 🏵️बृहस्पति 10:04:44 - 11:12:11 🏵️मंगल 11:12:11 - 12:19:38 🏵️सूर्य 12:19:38 - 13:27:06 🏵️शुक्र 13:27:06 - 14:34:33 🏵️बुध 14:34:33 - 15:42:00 🏵️चन्द्रमा 15:42:00 - 16:49:27 🏵️शनि 16:49:27 - 17:56:54 🏵️बृहस्पति 17:56:54 - 19:04:22 🏵️मंगल 19:04:22 - 19:56:50 🏵️सूर्य 19:56:50 - 20:49:19 🏵️शुक्र 20:49:19 - 21:41:48 🚩🚩 चोघडिया 🛑चल 05:34:56 - 07:16:06 ⛩️लाभ 07:16:06 - 08:57:17 ⛩️अमृत 08:57:17 - 10:38:28 😈काल 10:38:28 - 12:19:39 ⛩️शुभ 12:19:39 - 14:00:49 ☘️रोग 14:00:49 - 15:42:00 🕳️उद्वेग 15:42:00 - 17:23:11 🛑चल 17:23:11 - 19:04:22 ☘️रोग 19:04:22 - 20:23:05 🕳️काल 20:23:05 - 21:41:48 🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴 🍁 ग्रह गोचर 🍁 🌞 सूर्य - मेष 🦌 🌙 चन्द्र कुम्भ ⚱️05:55:23 तक 🌑 मंगल - मिथुन 👬🏼 🌑 बुध - वृष 🐂 🌑 बृहस्पति - कुम्भ ⚱️ 🌑 शुक्र - वृष 🐂 🌑 शनि - मकर 🐊 🌑 राहु - वृष 🐂 🌑 केतु - वृश्चिक 🦞 --------------------------------------------- व्रत -त्योहार मई 9 मई तक 🎊🎊🎊🎊🎊🎊🎊🎊🎊 🛑 गुरु -6 मई - भद्रा 14:11 तक, बुध 🥀रोहिणी में 17:40 🛑 शुक्र -7 मई - वरुथिनी एकादशी व्रत, श्री वल्लभाचार्य जयंती। 🛑 शनि - 8 मई - शनि प्रदोष व्रत, गंडमूल 14:47 बाद 🛑 रवि- 9 मई - भद्रा 19:31 से, पंचक समाप्त 17:29, 🥀 मास शिवरात्रि व्रत बाजार 📉मंदा तेजी 📈 14मई तक 🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️ 🛑6 मई को बुध रोहिणी में 🥀आकर राहु के साथ एक नक्षत्र संबंध बनाएगा। रूई कपास सूत सोना चांदी तिल तेल सरसों चावल गुड़ खांड में तेजी बनेगी। रुई ऊनी वस्त्रों धागों में पहले तेजी बनकर बाद में मंदी 📉बन जाएगी। 🛑 11 मई को सूर्य 🌞कृतिका नक्षत्र ☄️में आएगा । घी रूई सोना चांदी अलसी एरण्ड गेहूं चना मूंग मोठ चावल राई सरसों खांड में तेजी बनेगी। 🛑 12 मई को शुक्र रोहिणी नक्षत्र ☄️में आकर बुध एवं राहु के साथ एक नक्षत्र संबंध बनाएगा। अकेला शुक्र यद्यपि यहां मंदी📉 करता है परंतु बुध राहु के योग से यहां तेजी📈 मालूम होती है। सोना चांदी आदि धातुओं अल्सी सरसों तेल गुड़ खाण्ड दाग छुहारा सुपारी नारियल ऊन में पहले मंदी 📉बन फिर तेजी 📈का रुख बन जाएगा। 🛑13 मई को गुरुवार के दिन चंद्र🌃 दर्शन होने से रुई तथा सूती रेशमी ऊनी वस्त्र सरसों तेल घी में तेजी 📈बनेगी। सोना चांदी खाण्ड में कुछ मंदीे 📉रहे। 🛑 14 मई को सूर्य 🌞वृष राशि 🐂में आकर बुध शुक्र और राहु के साथ मेल करेगा। सोना चांदी गुड़ खांड शक्कर कपास रूई सूत बादाम सुपारी नारियल तिल तेल सरसों आदि में विशेष तेजी बनेगी। जौं चना गेहूं मटर अरहर मूंग चावल आदि कुछ वस्तुओं में मंदी 📉बनेगी। आज का राशिफल 🏵️🏵️🏵️ मेष🦌 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज का दिन विपरीत फल देने वाला रहेगा। पूर्व निर्धारित योजनाएं अधूरी या असफल हो सकती है। कार्य क्षेत्र पर मनमानी के कारण आर्थिक हानि होगी। आज आप बिना विचारे कोई भी कार्य ना करें जल्दबाजी अधिक रहेगी। सरकारी कार्यो में भी विलम्ब होगा। सामाजिक क्षेत्र पर अधिक बोलने से बचें। विरोधी आज आपकी गलती खोजने के लिए तैयार रहेंगे। स्त्री-संतान से भी संबंधो में कड़वाहट आ सकती है। सेहत संध्या के आसपास नरम होने की संभावना है। यात्रा टालना बेहतर रहेगा। वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आज का दिन आपकी आशाओं की पूर्ति कराने वाला रहेगा। दिन भर मानसिक एवं शारीरिक रूप से स्वस्थ्य रहेंगे। कार्य क्षेत्र अथवा घरेलू झगड़ो को टालने के लिए छोटी-मोटी बातों को अनदेखा करें। कार्य क्षेत्र पर परिश्रम के अनुसार लाभ मिलेने से संतोष रहेगा आज किसी पैतृक संपत्ति के मामलो में उलझने रहेंगी पुश्तैनी कार्य मे खर्च भी हो सकता है। दिन शुभ है नए कार्यो में निवेश कर सकते है भविष्य के लिये लाभदायक रहेगा। पारिवारिक सदस्यों में आपसी सामंजस्य बना रहेगा फिर भी किसी से बहस ना करें। मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आज का दिन सभी प्रकार से लाभ देने वाला रहेगा परन्तु आज आपको किसी अच्छे मार्गदर्शक की आवश्यकता पड़ेगी। आपके व्यवहार में गर्मी रहने से बीच-बीच में बना बनाया वातावरण अशान्त भी हो सकता है। कार्य क्षेत्र पर सहकर्मियों की लापरवाही भी विवाद का कारण बनेगी परन्तु धन लाभ आज किसी न किसी रूप में अवश्य होगा। मध्यान बाद परिजनो की इच्छा पूर्ती करने से घर में सुख शांति रहेगी। लंबी यात्रा यथासंभव टालें स्वास्थ्य बिगड़ने की संभावना है। विरोधी आपसे बच कर रहेंगे। आज अनैतिक संसाधनों से भी धन लाभ की संभावना है। कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आज के दिन का पूर्वार्ध परेशानी वाला रहेगा। कहीं से कोई भी आशा नहीं दिखने से बेचैन रहेंगे। घर का वातावरण अशान्त रहने से मानसिक स्थिति बिगड़ेगी क्रोध में आकर कोई निर्णय ना ले बाद में पश्चाताप होगा। दोपहर के बाद स्थिति में सुधार आने लगेगा लेकिन फिर भी किसी भी प्रकार का जोखिम वाला कार्य ना करें धन के साथ शारीरिक हानि हो सकती है।आज परिजनों की ही सहायता अथवा मार्गदर्शन से बिगड़े काम बनेंगे। मध्यान बाद किसी वरिष्ठ व्यक्ति का सहयोग मिलने से आर्थिक एवं अन्य समस्या सुलझेंगी। खान-पान में संयम बरतें। सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज के दिन आपमें उतावलापन अधिक रहेगा जिसके कारण समस्याएं सुधरने की जगह और गहरी हो सकती है। नए कार्य का आरम्भ आज ना करें। किसी के जमानती भी ना बने। दोपहर के बाद सेहत में उतार चढ़ाव आने से कार्य क्षेत्र पर उदासीनता रहेगी फिर भी खर्च लायक धन लाभ होने से स्थिति बराबर रहेगी। आज कोई बीबी कार्य करने से पहले परिवार के बुजुर्गो की राय अवश्य लें। पारिवारिक सदस्य के कारण सामाजिक प्रतिष्ठा में कमी आ सकती है। सन्तानो पर विशेष नजर रखे। कन्या👩🏻‍🦱 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज के दिन आपका स्वास्थ्य उत्तम रहने से मानसिक रूप से किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार रहेंगे। अपनी पुरानी योजनाओं को सिरे चढ़ायेंगे परिस्थितियां भी आपके साथ रहने से कार्यो में सफलता सुनिश्चित रहेगी लेकिन स्वभाव का आलस्य हर काम मे विलम्ब करा सकता है इससे बचें। व्यवहार में थोड़ा रूखापन रहने से बीच-बीच में व्यवधान भी आएंगे परन्तु इनसे पार पा लेंगे। आज कम् साधन होने पर भी कार्यो को आत्मविश्वास से करेंगे। घरेलु दिनचर्या सामान्य रहेगी। संतान के भविष्य को लेकर चिंतित हो सकते है। तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज का दिन राहत का अनुभव करेंगे। कार्यो को लेकर पहले थोड़ा आशंकित रहेंगे परन्तु एक बार सफलता मिलने पर यही क्रम दिन भर बना रहेगा। आर्थिक दृष्टिकोण से दिन बेहद खास रहेगा धन की आमद रुक रुक कर होने से मन प्रसन्न रहेगा परन्तु उधार के व्यवहार आज ना ही करें तो बेहतर रहेगा। नौकरी पेशा जातक आज भी व्यस्तता के चलते घर में आलोचना का शिकार बनेंगे लेकिन सामाजिक स्तर पर आपकी छवि निखरेगी। स्वास्थ्य थोड़ा नरम रहेगा। वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आपका आज का दिन छोटी मोटी उलझनों को छोड़ सामान्य ही रहेगा। व्यवस्तता अधिक रहने से पारिवारिक आवश्यकताओ पर ध्यान नहीं दे पाएंगे। सेहत की अनदेखी करना आगे भारी पड़ सकता है। बौद्धिक क्षमता बढ़ने से उलझे हुए कार्य को भी सहजता से सुलझा लेंगे। धन सम्बंधित कार्य निर्विघ्न पूर्ण होंगे परंतु इसके लिए अतिरिक्त दिमागी कसरत करनी पड़ेगी। विपरीत लिंगीयो से किसी ग़लतफ़हमी के कारण मतभेद होंगे प्रेम प्रसंगों में भावुकता अधिक रहेगी आज सतर्क रहें। धन से अधिक संबंधो को प्राथमिकता दें। सेहत और पारिवारिक जीवन छूट पुट बातों को छोड़ सामान्य रहेगा। धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज का दिन अशुभ फलदायी रहेगा। घर एवं बाहर आज विवेक से कार्य करें। आर्थिक समस्याओं को लेकर भविष्य की चिंता सताएगीक्रोध में आकर किसी का अपमान भी कर सकते है परिजन भी आज आपके रूखे व्यवहार के कारण दूरी बना कर रखेंगे। कार्य क्षेत्र पर भी व्यवहारिकता की कमी के चलते लाभ होते होते हाथ से निकलने की संभावना है।घर के सदस्य अथवा स्वयं की दवाओं पर खर्च करना पड़ेगा। छाती में संक्रमण अथवा गले सम्बंधित परेशानी रहेगी। सन्तानो से स्वार्थयुक्त सम्बन्ध रहेंगे। लंबी यात्रा टाले हानि हो सकती है। मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आज भी परिस्थितियां आपकी आशाओं के अनुकूल रहेंगी परन्तु आज किसी विशेष व्यक्ति द्वारा भ्रम की स्थिति बनाने से असमंजस में पड़ सकते है। स्वभाव से आज संतुष्ट रहेंगे लेकिन प्रलोभन में आकर बिना विचारे कोई भी कार्य ना करें छोटी सी भूल लाभ को हानि में बदल सकती है। आज धन लाभ के लिये विभिन्न युक्तियां लगाएंगे संध्या के समय स्वजनों के सहयोग से भ्रम से बाहर निकलेंगे। आर्थिक आयोजन लाटरी सट्टे में निवेश करने के लिए भी यह समय उपयुक्त रहेगा आकस्मिक लाभ हो सकता है। महिला मित्रो के साथ नजदीकियां बढ़ेंगी। कुंभ⚱️ (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज दिन का पहला भाग आलस्य के कारण बेकार हो सकता है। लेट-लतीफी के कारण महत्त्वपूर्ण कार्य बिगड़ने की भी संभावना है। कार्य क्षेत्र पर अधूरे कार्यो को लेकर परेशानी में पड़ सकते है फिर भी धन लाभ के योग तो है साथ में आपके राजसी खर्च बने रहने से बचत नही कर पाएंगे। मध्यान के बाद अधिकांश कार्य आपके परिश्रम से सुधरने लगेंगे। रिश्तेदारी के व्यवहार से लाभ होने की सम्भवना है परन्तु पहले खर्च भी करना पड़ेगा। कार्य क्षेत्र पर सहकर्मियों से पहले नाराजगी रहेगी बाद में स्थिति सामान्य हो जायेगी। मीन🐬 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज के दिन मौज-शौक के प्रति अधिक आकर्षण रहेगा जिसके चलते आप कार्यो के प्रति लापरवाही दिखाएंगे फलस्वरूप महत्त्वपूर्ण कार्य अधूरे रहेंगे एवं लाभ के अवसर हाथ से निकल सकते है। फिजूल खर्च बढ़ेंगे। सरकार की तरफ से कोई परेशान करने वाला समाचार मिल सकता है। यात्रा-पर्यटन की योजना बनेगी। कार्य क्षेत्र पर अनुकूल वातावरण मिलने के बाद भी आर्थिक दृष्टिकोण से किसी अन्य के ऊपर निर्भर रहेंगे। आज अपनी ही किसी गलती के कारण हानि हो सकती है। यात्रा में चोरी एवं दुर्घटना के योग है सावधानी बरतें। ACHARYA ANIL PARASHAR, VADIC,KP ASTROLOGER. आप का जीवन मंगलमय हो । 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

+112 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 235 शेयर
Mona Bhardwaj May 7, 2021

+12 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Mona Bhardwaj May 7, 2021

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
sukhadev awari May 7, 2021

+82 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 4 शेयर
sukhadev awari May 6, 2021

+76 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 3 शेयर

. श्यामांगी कवियित्री एकबार श्यामसुन्दर श्यामांगी कवियित्री का वेश धरकर श्री राधारानी से मिलने पहुँचे। कवियित्री वेश में श्यामसुन्दर बोले– 'हे गुणनिधे! आप सकल कला पारङ्गत हो आपकी प्रशंसा सुनकर मैं दूर मथुरा से आई हूँ। उज्जयिनी के परम विद्वान से मैंने काव्यशास्त्र का अध्ययन किया है। मेरे श्री गुरुदेव भी मुझसे सदा प्रसन्न रहते हैं, परन्तु मेरे मनमे एक ग्लानि है।' श्री राधारानी ने कहा– 'कहो क्या ग्लानि है।' श्यामांगी कवियित्री बोली– 'रानी! मुझे केवल एक ही ग्लानि है, मेरे काव्यशात्र को यथार्थ में समझे ऐसा कोई मुझे आजतक मिला नही। मैंने आपकी कीर्ति सुनी है, रस शास्त्र में, भाषा शास्त्र में, आप बेजोड़ हैं। बस अपनी कुछ रचनाएं सुनाना चाहती हूँ।' राधारानी ने मुस्कुराकर अनुमति दे दी। तब कवियित्री वेश धारी श्यामसुन्दर ने अद्भुत रस सिक्त कविता सरिता से सभी को आप्लुत कर दिया। एक तो कविता की अपूर्व रचना, तिस पर विषय माधुर्य सिंधु श्री राधा श्यामसुन्दर का अपूर्व केली विलास। कविताओं को सुनकर सखियों में सात्विक भाव उदय हो गए। हिरणियाँ अपने पतियों के संग स्तम्भित हो श्यामसुन्दर की वाणी सुधा का पान करने लगीं। यमुना जी की गति स्तम्भित हो गई। कोकिलायें, भ्रमर ऐसे शांत हो गए मानो वे भी श्यामसुन्दर के मुख से केली विलास वर्णन सुन रहे हों। राधारानी भी विलासानन्द के स्मरण से अतिशय आनन्द में डूब गयीं। जब राधारानी को थोड़ा चेत होते ही उन्हें शंका हुई कि ये कवियित्री निकुञ्ज विलास का वर्णन कैसे कर रही है ? ये रहस्य तो केवल श्यामसुन्दर जानते हैं। ललिता भी ये रहस्य नही जानती। रूप रति जानती हैं, पर वो किसी अनजानी स्त्री से कहेंगी नही। फिर इसे कैसे पता ? ध्यान से राधारानी ने उनके श्यामल अंगों को देखा, और देखते ही पहचान गयीं कि ये स्वयं श्यामसुन्दर ही हैं। राधारानी बोली– 'हे कवियित्री! तुम्हारी कला से हम सब अत्यन्त प्रसन्न हैं। हम तुम्हें एक प्रशस्ति पत्र देना चाहती हैं।' यह कहकर उन्होंने एक कमल पत्र में अपनी उंगली को कलम बनाकर, अपने मस्तक कुमकुम की स्याही बनाकर लिखा– 'प्रियतम श्याम! राधा आज आपको कवि अलंकार* की उपाधि देती है। परन्तु साथ में एक नाम भी देती है, 'छल कला पण्डित'।' ऐसा लिखकर श्रीराधा ने उस पर अपने लीला कमल की छाप लगा दी, फिर चुपचाप अपनी ही वेणी माला से उस पत्र को बांध दिया। श्रीराधा बोली– 'हे प्रिय कवियित्री! यह प्रशस्ति पत्र मैंने तुम्हेंं दिया। परन्तु यहाँ नही अपने गृह जाकर खोलना।' श्यामसुन्दर प्रसन्न हो गए कि प्रिया जी ने कम-से-कम आज तो उन्हें नही ही पहचाना। आनन्द तो तब आएगा जब कल उनसे कहूँगा– 'वाहः री तुम सबकी चतुराई तुम सब कल मुझे पहचान न पायीं।' हाय! ललिता का मुँह तो देखते बनेगा। यही सब सोचते हुए श्रीराधा के चरण वन्दन कर श्यामसुन्दर दौड़ते हुए निज गृह लौटे। वचन जो दिया था प्यारी को,घर लौटकर ही पढूंगा। घर आकर प्रशस्ति पत्र खोलकर पढ़ते ही श्यामसुन्दर हँस दिए– 'वाहः प्यारी सबको छल सकता हूँ परन्तु तुम्हें नही।' ० ० ० *(जो सभी कवियों की कविताओं के अलंकार हैं, सभी कवियों की कविताएं आपके गुणगान से ही सार्थक हैं, सुंदर है। अन्यथा केवल शब्द विलास है) ----------:::×:::---------- "जय जय श्री राधे" "कुमार रौनक कश्यप " ******************************************

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

. "मीरा चरित" (पोस्ट-012) मीरा के दूदाजी, परम वैष्णव भक्त आज अपने जीवन के अंतिम पड़ाव पर हैं। लगभग समस्त परिवार उनके कक्ष में जुटा हुआ है, पर उन्हें लालसा है कि मैं संसार छोड़ते समय संत दर्शन कर पाऊँ। उसी समय द्वार से मधुर स्वर सुनाई दिया....... राधेश्याम ! दूदाजी में जैसे चेतना लौट आई। सब की दृष्टि उस ओर उठ गई। मस्तक पर घनकृष्ण केश, भाल पर तिलक , कंठ और हाथ तुलसी माला से विभूषित, श्वेत वस्त्र, भव्य मुख वैष्णव संत के दर्शन हुए। संत के मुख से राधेश्याम, यह प्रियतम का नाम सुनकर उल्लासित हो मीरा ने उन्हें प्रणाम किया। फिर दूदाजी से बोली, "आपको संत-दर्शन की इच्छा थी न बाबोसा ? देखिये, प्रभु ने कैसी कृपा की।" संत ने मीरा को आशीर्वाद दिया और परिस्थिति समझते हुये स्वयं दूदाजी के समीप चले गये। बेटों ने संकेत पा पिता को सहारे से बिठाया। प्रणाम कर बोले, "कहाँ से पधारना हुआ महाराज ?" "मैं दक्षिण से आ रहा हूँ राजन। नाम चैतन्यदास है। कुछ समय पहले गौड़ देश के प्रेमी सन्यासी श्री कृष्ण चैतन्य तीर्थाटन करते हुये मेरे गाँव पधारे और मुझ पर कृपा कर श्री वृंदावन जाने की आज्ञा की।" "श्री कृष्ण चैतन्य सन्यासी हो कर भी प्रेमी हैं महाराज" ? मीरा ने उत्सुकता से पूछा। संत बोले, "यों तो उन्होंने बड़े-बड़े दिग्विजयी वेदान्तियों को भी पराजित कर दिया है, परन्तु उनका सिद्धांत है कि सब शास्त्रों का सार भगवत्प्रेम है और सब साधनों का सार भगवान का नाम है। त्याग ही सुख का मूल है। तप्तकांचन गौरवर्ण सुन्दर सुकुमार देह, बृजरस में छके श्रीकृष्ण चैतन्य का दर्शन करके लगता है मानो स्वयं गौरांग कृष्ण ही हो। वे जाति-पाति, ऊँच-नीच नहीं देखते। 'हरि को भजे सो हरि का होय' मानते हुए सबको हरि-नामामृत का पान कराते हैं। अपने ह्रदय के अनुराग का द्वार खोलकर सबको मुक्त रूप से प्रेमदान करते है।" इतना कहते-कहते उनका कंठ भाव से भर आया। मीरा और दूदाजी दोनों की आँखें इतना रसमय सत्संग पाकर आँसुओं से भर आई। फिर संत कहने लगे, "मैं दक्षिण से पण्डरपुर आया तो वहाँ मुझे एक वृद्ध सन्यासी केशवानन्द जी मिले। जब उन्हें ज्ञात हुआ कि मैं वृंदावन जा रहा हूँ तो उन्होंने मुझे एक प्रसादी माला देते हुये कहा कि तुम पुष्कर होते हुये मेड़ते जाना और वहाँ के राजा दूदाजी राठौड़ को यह माला देते हुये कहना कि वे इसे अपनी पौत्री को दे दें। पण्डरपुर से चल कर मैं पुष्कर आया और देखिए प्रभु ने मुझे सही समय पर यहाँ पहुँचा दिया।" ऐसा कह संत ने अपने झोले से माला निकाल दूदाजी की ओर बढ़ाई। दूदाजी ने संकेत से मीरा को उसे लेने को कहा। उसने बड़ी श्रद्धा और प्रसन्नता से उसे अंजलि में लेकर उसे सिर से लगाया। दूदाजी लेट गये और कहने लगे, "केशवानन्द जी मीरा के जन्म से पूर्व पधारे थे। उन्हीं के आशीर्वाद का फल है यह मीरा। महाराज आज तो आपके रूप में स्वयं भगवान पधारे हैं। यों तो सदा ही संतों को भगवत्स्वरूप समझ कर जैसी बन पड़ी, सेवा की है, किन्तु आज महाप्रयाण के समय आपने पधार कर मेरा मरण भी सुधार दिया।" उनके बन्द नेत्रों की कोरों से आँसू झरने लगे। "पर ऐसे कर्तव्य परायण और वीर पुत्र, फुलवारी सा यह मेरा परिवार, भक्तिमति पौत्री मीरा, अभिमन्यु सा पौत्र जयमल, ऐसे भरे-पूरे परिवार को छोड़कर जाना मेरा सौभाग्य है।" फिर बोले, "मीरा !" "हकम बाबोसा !" "जाते समय एक भजन तो सुना दे बेटा !" मीरा ने आज्ञा पा तानपुरा उठाया और गाने लगी ..... मैं तो तेरी शरण पड़ी रे रामा, ज्यूँ जाणे सो तार। अड़सठ तीरथ भ्रमि भ्रमि आयो, मन नहीं मानी हार। या जग में कोई नहीं अपणा, सुणियो श्रवण कुमार। मीरा दासी राम भरोसे, जम का फेरा निवार। मधुर संगीत और भावमय पद श्रवण करके चैतन्य दास स्वयं को रोक नहीं पाये-"धन्य, धन्य हो मीरा। तुम्हारा आलौकिक प्रेम, संतों पर श्रद्धा, भक्ति की लगन, मोहित करने वाला कण्ठ, प्रेम रस में पगे यह नेत्र - इन सबको तो देख लगता है - मानो तुम कोई ब्रजगोपिका हो। वे जन भाग्यशाली होंगे जो तुम्हारी इस भक्ति-प्रेम की वर्षा में भीगकर आनन्द लूटेंगें। धन्य है आपका यह वंश, जिसमें यह नारी रत्न प्रकट हुआ।" मीरा ने सिर नीचा कर प्रणाम किया और अतिशय विनम्रता से बोली, "कोई अपने से कुछ नहीं होता महाराज ......।" संत कुछ आहार ले चलने को प्रस्तुत हुए। रात्रि बीती। दूदाजी का अंतर्मन चैतन्य था पर शरीर शिथिल हो रहा था। ब्रह्म-मुहूर्त में मीरा ने दासियों के साथ धीमे-धीमे संकीर्तन आरम्भ किया। जय चतुर्भुजनाथ दयाल। जय सुन्दर गिरधर गोपाल॥ उनके मुख से अस्फुट स्वर निकले - "प्र......भु .....प......धार.......रहे...... हैं.....। ज.....य .....हो"। पुरोहित जी ने तुलसी मिश्रित चरणामृत दिया। मीरा की भक्ति संस्कारों को पोषण देने वाले, मेड़ता राज्य के संस्थापक, परम वैष्णव भक्त, वीर शिरोमणि राव दूदाजी पचहत्तर वर्ष की आयु में यह भव छोड़कर गोलोक सिधारे। दूदाजी के जाने के बाद मीरा बहुत गम्भीर हो गई। उसके सबसे बड़े सहायक और अवलम्ब उसके बाबोसा के न रहने से उसे अकेलापन खलने लगा। यह तो प्रभु की कृपा और दूदाजी की भक्ति का प्रताप था कि पुष्कर आने वाले संत मेड़ता आकर दर्शन देते। इस प्रकार मीरा को अनायास सत्संग प्राप्त होता। पर धीरे-धीरे रनिवास में इसका भी विरोध होने लगा - "लड़की बड़ी हो गई है, अतः इस प्रकार देर तक साधुओं के बीच में बैठे रहना और भजन गाना अच्छा नहीं है।" "सभी साधु तो अच्छे नहीं होते। पहले की बात ओर थी। तब अन्नदाता हुकम साथ रहते थे और मीरा भी छोटी ही थी। अब वह चौदह वर्ष की हो गई है। आख़िर कब तक कुंवारी रखेंगे ?" एक दिन माँ ने फिर श्याम कुन्ज आकर मीरा को समझाया -"बेटी अब तू बड़ी हो गई है इस प्रकार साधुओं के पास देर तक मत बैठा कर। उन बाबाओं के पास ऐसा क्या है जो किसी संत के आने की बात सुनते ही तू दौड़ जाती है। यह रात-रात भर रोना और भजन गाना, क्या इसलिए भगवान ने तुम्हें ऐसे रूप गुण दिये हैं ?" "ऐसी बात मत फरमाओ भाबू ! भगवान को भूलना और सत्संग छोड़ना दोनों ही अब मेरे बस की बात नहीं रही। जिस बात के लिए आपको गर्व होना चाहिए, उसी के लिए आप मन छोटा कर रही है।" मीरा ने तानपुरा उठाया .. म्हाँने मत बरजे ऐ माय साधाँ दरसण जाती। राम नाम हिरदै बसे माहिले मन माती॥ मीरा व्याकुल बिरहणि, अपनी कर लीजे॥ माता उठकर चली गई। मीरा को समझाना उनके बस का न रहा। सोचती - अब इसके लिए जोगी राजकुवंर कहाँ से ढूँढें ? मीरा भी उदास हो गयी। बार-बार उसे दूदाजी याद आते। इन्हीं दिनों अपनी बुआ गिरिजा जी को लेने चितौड़ से कुँवर भोजराज अपने परिकर के साथ मेड़ता पधारे ; रूप और बल की सीमा, धीर-वीर, समझदार बीसेक वर्ष का नवयुवक। जिसने भी देखा, प्रशंसा किए बिना नहीं रह पाया। जहाँ देखो, महल में यही चर्चा करते -"ऐसी सुन्दर जोड़ी दीपक लेकर ढूँढने पर भी नहीं मिलेगी। भगवान ने मीरा को जैसे रूप - गुणों से संवारा है, वैसा भाग्य भी दोनों हाथों से दिया है।" भीतर ही भीतर यह तय हुआ कि गिरिजा जी के साथ यहाँ से पुरोहित जी जायँ बात करने। और अगर वहाँ साँगा जी अनुकूल लगे तो गिरिजा जी को वापिस लिवाने के समय वीरमदेव जी बात पक्की कर लगन की तिथि निश्चित कर लें। हवा के पंखों पर उड़ती हुईं ये बातें मीरा के कानों तक भी पहुँची। वह व्याकुल हो उठी। मन की व्यथा किससे कहे ? जन्मदात्री माँ ही जब दूसरों के साथ जुट गई है तो अब रहा ही कौन ? मन के मीत को छोड़कर मन की बात समझे भी और कौन ? पर वो भी क्या समझ रहे हैं ? भारी ह्रदय और रूधाँ कण्ठ ले उसने मन्दिर में प्रवेश किया -"मेरे स्वामी ! मेरे गोपाल ! मेरे सर्वस्व ! मैं कहाँ जाऊँ ? किससे कहूँ ? मुझे बताओ, यह तुम्हें अर्पित तन-मन क्या अब दूसरों की सम्पत्ति बनेंगे ? मैं तो तुम्हारी हूँ....... या तो मुझे संभाल लो अथवा आज्ञा दो मैं स्वयं को बिखेर दूँ....... पर अनहोनी न होने दो मेरे प्रियतम !" झरते नेत्रों से मीरा अपने प्राणाधार को उनकी करूणा का स्मरण दिला मनाने लगी ......... म्हाँरी सुध लीजो दीनानाथ। जल डूबत गजराज उबारायो जल में पकड़यो हाथ। जिन प्रह्लाद पिता दुख दीनो नरसिंघ भया यदुनाथ॥ नरसी मेहता रे मायरे राखी वाँरी बात। मीरा के प्रभु गिरधर नागर भव में पकड़ो हाथ॥ म्हाँरी सुध लीजो दीनानाथ॥ ~~~०~~~ "जय जय श्री राधे" "कुमार रौनक कश्यप " *************************************************

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Vinod Kumar Rana May 6, 2021

+46 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 11 शेयर

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Aastha 🌹 May 7, 2021

+24 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 45 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB