जय श्री राम

जय श्री राम

जय बाबा गुमानदेव हनुमान
उज्जैन स्थित सिद्ध बालाजी धाम बाबा गुमानदेव हनुमान जी महाराज का आज पूर्णिमा का दर्शन

+201 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 40 शेयर

कामेंट्स

prakash patel Nov 28, 2020

+49 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 121 शेयर

+102 प्रतिक्रिया 21 कॉमेंट्स • 86 शेयर
seema bhardwaj Nov 28, 2020

#🙏🙏 जय शनिदेव 🙏🙏 #🌷शुभ शनिवार #🌞 Good Morning🌞 2️⃣8️⃣❗1️⃣1️⃣❗2️⃣0️⃣2️⃣0️⃣ *👇👇 आज का प्रेरक प्रसंग 👇👇* *!! सबसे बड़ा गुण !!* ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ एक राजा को अपने लिए सेवक की आवश्यकता थी। उसके मंत्री ने दो दिनों के बाद एक योग्य व्यक्ति को राजा के सामने पेश किया। राजा ने उसे अपना सेवक बना तो लिया पर बाद में मंत्री से कहा, ‘‘वैसे तो यह आदमी ठीक है पर इसका रंग-रूप अच्छा नहीं है।’’ मंत्री को यह बात अजीब लगी पर वह चुप रहा। एक बार गर्मी के मौसम में राजा ने उस सेवक को पानी लाने के लिए कहा। सेवक सोने के पात्र में पानी लेकर आया। राजा ने जब पानी पिया तो पानी पीने में थोड़ा गर्म लगा। राजा ने कुल्ला करके फेंक दिया। वह बोला, ‘‘इतना गर्म पानी, वह भी गर्मी के इस मौसम में, तुम्हें इतनी भी समझ नहीं।’’ मंत्री यह सब देख रहा था। मंत्री ने उस सेवक को मिट्टी के पात्र में पानी लाने को कहा। राजा ने यह पानी पीकर तृप्ति का अनुभव किया। इस पर मंत्री ने कहा, ‘‘महाराज, बाहर को नहीं, भीतर को देखें। सोने का पात्र सुंदर, मूल्यवान और अच्छा है, लेकिन शीतलता प्रदान करने का गुण इसमें नही.

+615 प्रतिक्रिया 139 कॉमेंट्स • 633 शेयर
Ramesh Agrawal Nov 28, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

🙏🌷राम राम जी 🌷🙏 💎💎💎💎💎💎💎 #तीन_पहर_तो_बीत_गए💢 तीन पहर तो बीत गये, बस एक पहर ही बाकी है जीवन हाथों से फिसल गया, बस खाली मुट्ठी बाकी है। सब कुछ पाया इस जीवन में, फिर भी इच्छाएं बाकी हैं दुनिया से हमने क्या पाया, यह लेखा - जोखा बहुत हुआ, इस जग ने हमसे क्या पाया, बस ये गणनाएं बाकी हैं। इस भाग-दौड़ की दुनिया में हमको इक पल का होश नहीं, वैसे तो जीवन सुखमय है, पर फिर भी क्यों संतोष नहीं ! क्या यूं ही जीवन बीतेगा, क्या यूं ही सांसें बंद होंगी ? औरों की पीड़ा देख समझ कब अपनी आंखें नम होंगी ? मन के अंतर में कहीं छिपे इस प्रश्न का उत्तर बाकी है। मेरी खुशियां, मेरे सपने मेरे बच्चे, मेरे अपने यह करते - करते शाम हुई इससे पहले तम छा जाए इससे पहले कि शाम ढ़ले कुछ दूर परायी बस्ती में इक दीप जलाना बाकी है। तीन पहर तो बीत गये, बस एक पहर ही बाकी है। जीवन हाथों से फिसल गया, बस खाली मुट्ठी बाकी है ! ⚖️💎⚖️💎⚖️💎⚖️💎⚖️💎⚖️💎 💎💎💎💎💎💎💎💎💎💎💎💎

+629 प्रतिक्रिया 172 कॉमेंट्स • 298 शेयर
Anmol Mishra Nov 28, 2020

+174 प्रतिक्रिया 79 कॉमेंट्स • 324 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB