Jai Mata Di
Jai Mata Di Nov 26, 2020

Jai Mata Di 🙏🙏🙏🙏 Jai Shree Krishna 🌷🌷🌷🌷🌷🌷 Shubh Prabhat 9212899445 🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀

+57 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 10 शेयर

कामेंट्स

Ramesh Soni.33 Nov 26, 2020
Om Namah Shivay Om Namah Shivay Har Har Mahadev 🏳🏳🌼🌼🌼🌼🌹🌹Jay Shri Ram Jay🚩🚩🚩 🌹🌹Bajrangbali ki Jay🌹🌹🌹🌹🙏🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹

GS Rathore Nov 27, 2020
जय श्री कृष्ण🙏🙏

Brajesh Sharma Nov 27, 2020
जय श्री राधे कृष्णा जी... ॐ नमः शिवाय.. हर हर महादेव ईश्वर आपकी समस्त कामनाओं की पूर्ति करें, आपका सदा कल्याण करें..

Manoj manu Jan 21, 2021

🚩🙏ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय नमः 🌹🌿🙏 🌹हानि लाभ जीवन मरण। यश अपयश विधि हाथ।। अर्थात् - इस पद में तुलसीदास जी इन्हीं बातों को स्पष्ट करते हुए कहते हैं कि हानि, लाभ, जीवन मरण, कीर्ति-अपकीर्ति, सुख - दुख आदि विधाता के हाथ में है इसे ईश्वर का लेख समझकर बिसरा दो । करुणा के सागर भगवान् के चरणों की शरण ग्रहण करो, इसी से कल्याण होगा । 🌹🌹भावार्थ :- वशिष्ठ जी भगवान् राम के वनवास प्रकरण पर भरत जी को समझाते हैं, इस अवसर पर बाबा तुलसीदास जी एक चौपाई द्वारा बहुत ही सुन्दर ढंग से लिखते हैं कि -- "सुनहु भरत भावी प्रबल, बिलखि कहेहुँ मुनिनाथ। हानि, लाभ, जीवन, मरण,यश, अपयश विधि हाँथ।" इस प्रकरण पर एक संत बड़ा ही सुन्दर विवेचन प्रस्तुत करते हुए कहते हैं कि "भले ही लाभ हानि जीवन, मरण ईश्वर के हाँथ हो, परन्तु हानि के बाद हम हारें न यह हमारे ही हाँथ है, लाभ को हम शुभ लाभ में परिवर्तित कर लें यह भी जीव के ही अधिकार क्षेत्र में आता है, जीवन जितना भी मिले उसे हम कैसे जियें यह सिर्फ जीव अर्थात हम ही तय करते हैं, मरण अगर प्रभु के हाँथ है, तो उस परमात्मा का स्मरण हमारे अपनें हाँथ है " ॐ ॐ ॐ 🌿🌹🌿🌹विचार गंगा :-प्रतेक अंत एक नयी शुरूआत को जन्म देता है। 🌹प्रभु श्री जी की अनंत सुंदर कृपा के साथ में हरि ऊँ वंदन जी 🌹🌿🌹🌿🌹🙏

+362 प्रतिक्रिया 73 कॉमेंट्स • 204 शेयर
RamniwasSoni Jan 21, 2021

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
RamniwasSoni Jan 21, 2021

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
RamniwasSoni Jan 21, 2021

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
RamniwasSoni Jan 21, 2021

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB