चिराग
चिराग Nov 9, 2017

पुष्य नक्षत्र : क्यों माना गया है अतिशुभ, जानिए...

पुष्य नक्षत्र : क्यों माना गया है अतिशुभ, जानिए...

पुष्य नक्षत्र : क्यों माना गया है अतिशुभ, जानिए..

* पुष्य नक्षत्र : ये बातें बनाती है इस नक्षत्र को शुभ... 

पुष्‍य नक्षत्र के दिन किए गए कार्यों का उत्तम फल प्राप्त होता है। यदि आप कोई वस्तु खरीदना चाहते हैं और फलदायी बनाना चाहते हैं तो उसे गुरुवार को खरीद लीजिए। गुरुवार को पुष्य नक्षत्र का योग हो तो गुरु-पुष्य नक्षत्र कहा जाता है। हिन्दू धर्म में व्रत, पर्व और त्योहार हैं और सबका अपना महत्व है। इन सभी पर्वों में मुहूर्त का विशेष महत्व होता है। 

वैसे तो हर किसी शुभ कार्य के लिए अलग-अलग मुहूर्त होते हैं, लेकिन कुछ मुहूर्त हर कार्य के लिए विशेष होते हैं। इन्हीं में एक है, पुष्य नक्षत्र जिसे खरीदारी से लेकर अन्य शुभ कार्यों तक महामुहूर्त का स्थान प्राप्त है। जानिए पुष्य नक्षत्र का महत्व - 

1. पुष्य नक्षत्र के देवता बृहस्पति देव माने गए हैं और शनि को इस नक्षत्र का दिशा प्रतिनिधि‍ माना जाता है। चूंकि बृहस्पति शुभता, बुद्धि‍मत्ता और ज्ञान का प्रतीक हैं, तथा शनि स्थायि‍त्व का, इसलिए इन दोनों का योग मिलकर पुष्य नक्षत्र को शुभ और चिर स्थायी बना देता है। 

2. पुष्य नक्षत्र को सभी नक्षत्रों का राजा भी कहा जाता है। ऋगवेद में पुष्य नक्षत्र को मंगलकर्ता भी कहा गया है। इसके अलावा यह समृद्धिदायक, शुभ फल प्रदान करने वाला नक्षत्र माना गया है। 

3. पुष्य नक्षत्र को खरीदारी के लिए विशेष मुहूर्त माना जाता है, क्योंकि यह नक्षत्र स्थायी माना जाता है और इस मुहूर्त में खरीदी गई कोई भी वस्तु अधिक समय तक उपयोगी और अक्षय होती है। इसके अलावा इस मुहूर्त में खरीदी गई वस्तु हमेशा शुभ फल प्रदान करती है।

4. पुष्य नक्षत्र में खास तौर से स्वर्ण की खरीदी का महत्व होता है। लोग इस दिन स्वर्ण की खरीदी भी इसलिए करते हैं, क्योंकि इसे शुद्ध, पवित्र और अक्षय धातु के रूप में माना जाता है और पुष्य नक्षत्र पर इसकी खरीदी अत्यधिक शुभ होती है।

5. पुष्य नक्षत्र स्वास्थ्य और सेहत की दृष्ट‍ि से भी विशेष महत्व रखता है। पुष्य नक्षत्र पर शुभ ग्रहों का प्रभाव होने पर यह सेहत संबंधी कई समस्याओं को समाप्त करने में सक्षम होता है। शारीरिक कष्ट निवारण के लिए यह मुहूर्त शुभ होता है।

6. इतना ही नहीं दीपावली के पूर्व आने वाला पुष्य नक्षत्र विशेष होता है, क्योंकि यह मुहूर्त खास तौर से खरीदारी के लिए शुभ माना जाता है। दीपावली के समय लोग घर सजाने की चीजें, सोना, चांदी एवं अन्य सामान की सबसे ज्यादा खरीदी करते हैं, जो पुष्य नक्षत्र आने से और भी शुभ हो जाती है। 

7. इस दिन खास तौर पर इलेक्ट्रानिक्स गुड्स, टीवी, फ्रिज, वाशिंग मशीन, कम्प्यूटर, लैपटाप, स्कूटर, बाइक, कार, भूमि, भवन, बर्तन, सोना, चांदी आदि की खरीरदारी का विशेष महत्व है। 

अत: पुष्य नक्षत्र किसी भी महीने में आए, त्योहार हो ना हो पर हमें इस दिन कोई न कोई शुभ कार्य अवश्‍य करना चाहिए जि‍ससे वह वस्तु/ कार्य हमें चिर स्थायी फल देते हैं।

Like Jyot Pranam +129 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 114 शेयर

कामेंट्स

Mohini Nov 9, 2017
मेंने पुष्य नक्षत्र में जन्म लिया है

Like Pranam Flower +11 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 37 शेयर

. *💞 _Զเधे_Զเधे _💞*
*¸.•*""*•.¸**¸.•*""*•.¸**¸.•*""*•.¸*
*श्री वृंदावन बिहारी लाल की जय*
*जय जय श्री राधे*
*¸.•*""*•.¸**¸.•*""*•.¸**¸.•*""*•.¸*
*आज वृंदावन ने अनेकानेक मंदिर निर्माण हो रहे है,एक से बढ़कर एक सुन्दर मंदिर और उन मं...

(पूरा पढ़ें)
Dhoop Lotus Like +29 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 359 शेयर
Ashish shukla Nov 20, 2018

Water Like Pranam +209 प्रतिक्रिया 41 कॉमेंट्स • 760 शेयर
Ashish shukla Nov 20, 2018

Like Pranam Flower +174 प्रतिक्रिया 39 कॉमेंट्स • 863 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB