Ramesh purohit ने बद्रीनाथ मंदिर में यह पोस्ट की।

#प्रवचन

+38 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर
🌹RT. SINGH🌹 Feb 25, 2021

+9 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 12 शेयर
Jai Mata Di Feb 23, 2021

+35 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 22 शेयर
Jai Mata Di Feb 23, 2021

+30 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 16 शेयर

*।।ॐ श्री सद्गुरवे नमः।।* *महर्षि मेँहीँ अमृत-कलश, 1.67 : जीवनकाल में विदेहमुक्ति* *(साभार – सत्संग-सुधा सागर, 67)* बन्दौं गुरुपद कंज, कृपासिन्धु नररूप हरि। महामोह तमपुंज, जासु वचन रविकर निकर।। धर्मानुरागिनी प्यारी जनता! हमलोग जितने हैं, सब-के-सब बन्धन में पड़े हैं। *हमारे ऊपर शरीर और संसार का बंधन है* जैसे कोई कारागार में हो, उसका आहाता बहुत बड़ा होता है। उसमें बहुत कोठरियाँ होती हैं। उसमें कारावास भोगनेवाले होते हैं। ब्रह्माण्डरूप कारागार का यह एक-एक पिण्ड एक-एक कोठरी के समान है। इसमें जीव कारावास भोगता है। इस शरीर में हमारा रहना कैदी की तरह है। यही कारण है कि संसार की परिस्थिति के कारण बड़े हों या छोटे, सब-के-सब दुःख का अनुभव करते हैं। *संतों ने इन दुःखों से छुटने के लिए कहा; और कहा कि इनसे छूटना ही कल्याणकारी है। इसके लिए संतलोग जो रास्ता बतलाते हैं, उसपर चलिए।* गोस्वामी तुलसीदासजी ने कहा - *संत पंथ अपवर्ग कर, कामी भव कर पंथ। कहहिं संत कवि कोविद, श्रुति पुरान सद्ग्रंथ।।* मोक्ष के लिए चेष्टा करो, प्रयास करो। सारे बंधनों से छूट जाओ। यही उनकी पुकार है। बंधन में रहने के वास्ते उसका बीज या अंकुर तुम्हारे अंदर है। ऐसा संतों ने कहा है। *अपना अंदर शुद्ध करो, बीज को नष्ट करो, तो तुम बंधन से छूट जाओगे। यह बीज क्या है? चित्त का धर्म है।* मैं सुखी हूँ, मैं दु:खी हूँ, मैं कर्ता हूँ, मैं भोक्ता हूँ - ये चारों बातें उठती रहती हैं। जिस प्रकार शरीर को कितनाहू धोओ, उसमें मैल आती ही रहती है, उसी प्रकार चित्त में इसका धर्म होता ही रहता है। इसको क्षय करने के लिए भगवान श्रीराम ने उपदेश दिया और कहा कि *शरीर रहते मुक्ति प्राप्त करो।* इसी को जीवनमुक्त कहते हैं। जीवनकाल में भी विदेहमुक्त कहलाता है, इसलिए कि शरीर में जो सुख-दुःख होते हैं, उनको वह कुछ नहीं जानता। कर्ममण्डल से जबतक कोई ऊपर नहीं उठता, तबतक चित्तधर्म होता ही रहता है। इसके लिए *भगवान श्रीराम ने श्रवण, मनन, निदिध्यासन और अनुभव-ज्ञान प्राप्त करने के लिए कहा।* सुनो, समझो, और सुन समझकर जो निर्णय हो, उस कर्म को करो। कर्म करते-करते कर्म का अंत होगा, तब अनुभव होता है, तभी चित्त का धर्म छूटता है। यह उसी तरह साधा जाता है, जिस तरह कोई किसी विद्या का सीखने का अभ्यास करता है। थोड़ा थोड़ा सीखते-सीखते उस विद्या में वह निपुण होता है। तुम संसार में जबतक रहते हो, विषयभोग में लगे रहते हो। किंतु संतुष्टि होती नहीं। संतुष्टि नहीं तो सुख कहाँ? विषयानंद में तुम कभी सुखी नहीं हो सकते। चित्त-धर्म से ऊपर उठो। *विषयानंद में खींचो मत। विषयों से ऊपर आत्म अनुभवानंद है।* उसको प्राप्त करो तब नित्यानंद मिलता है, जिस आनंद को पाकर किसी प्रकार की कल्पना नहीं होती। आगे बढ़कर वे कहते हैं - जबतक तुम्हारे अंदर इच्छा रहेगी और प्राणस्पंदन रहेगा, तुम्हारा चित्त-धर्म नाश नहीं हो सकता। इसके लिए तुम दोनों में से किसी एक का दमन करो, तो वासना और प्राणस्पंदन - दोनों दमित हो जाएँगे। ‘प्राण' का अर्थ प्राणवायु नहीं जानना चाहिए। *फेफड़े में जो वायु खींचने और फेंकने का काम जिस जीवनीशक्ति से होता है, वह प्राण है। जो वायु उससे संबंधित होती है, वह प्राणवायु है।* उसके स्पन्दन को रोको या इच्छा को दबाओ। दोनों में से किसी को रोको, तो दोनों रुक जाएँगे। प्राण में स्पन्दन होने से मन में कुछ-न-कुछ भाव उत्पन्न होता है। *इच्छा को रोको, यह सरल तरीका है। इच्छाओं को रोकने के लिए ध्यान सरल उपाय है।* एक ओर मन को लगाने से, जहाँ मन लगाते हैं, वहाँ से मन भागता है। फिर लौटा-लौटाकर उसी स्थान पर लाते हैं, यह प्रत्याहार है। बारंबार प्रत्याहार होते-होते धारणा होती है और फिर ध्यान होता है। पूर्ण सिमटाव होने से ऊर्ध्वगति होती है। ऊर्ध्वगति होने से आवरणों का छेदन होता है, तब चेतन आत्मा सब आवरणों को पार कर ऊपर उठ जाती है। यही मोक्ष है। इससे क्या होता है? परमात्मा को पाता है। आवरणहीन हो जाने से जैसे मठाकाश, घटाकाश और महदाकाश एक ही होता है, उसी तरह उपाधिहीन या आवरणहीन होने पर चेतन आत्मा अपने को पाती है और परमात्मा को भी पाती है। इस अवस्था को जिसने प्राप्त किया, वह फिर मरता नहीं। *इस अवस्था का मरना जो नहीं मरता, वह संसार में फिर फिर जनमता-मरता है।* कबीर साहब ने कहा है – *मरिये तो मरि जाइये, छूटि पड़े जंजार। ऐसी मरनी को मरै, दिन में सौ सौ बार।।* जैसे-जैसे इच्छाओं से छूटता जाता है, वैसे-वैसे प्राणस्पंदन रुकता है। भीतर-भीतर चलने से इच्छाओं की निवृत्ति होती है, प्राणस्पंदन रुद्ध हो जाता है और एकविन्दुता प्राप्त हो जाने पर प्राणस्पंदन बिल्कुल बन्द हो जाता है। इसी के लिए *कबीर साहब ने मृतक होने के लिए कहा।* ध्यानाभ्यासी स्थूल शरीर से सूक्ष्म शरीर में प्रवेश करता है। फिर सूक्ष्म से कारण में और कारण से महाकारण में प्रवेश करता है। इस प्रकार जड़ के चारों शरीरों को त्यागकर अपने स्वरूप में आता है। फिर चेतन शरीर को भी छोड़कर परमात्मा में विलीन होता है। *यही पूरा-पूरा मरना है। इस प्रकार जो मरता है, वह फिर कभी मरता नहीं।* अपने अन्दर जो मानस जप और मानस ध्यान करता है और पूर्ण सिमटाव के लिए यत्न करता है, यह यत्न एकविन्दुता प्राप्त करने के लिए है। *स्वामी विवेकानन्द ने कहा - 'तुम अपनी दृष्टि को अंतर्मुखी बनाओ।* साधु का संग करो, अध्यात्मविद्या की शिक्षा ग्रहण करो। *अध्यात्म-विद्या की शिक्षा बिना साधु-संग के नहीं होगा। इसलिए साधुसंग करो।* उनसे अध्यात्म-विद्या सीखो। प्राणस्पंदन निरोध और वासना परित्याग करो। गुरु महाराज ने जो क्रिया बतायी है, उससे प्राणस्पंदन का निरोध और वासना का परित्याग होता है। *जिसको यह युक्ति मालूम है, उसे नित्य करना चाहिए। कभी गाफिल नहीं होना चाहिए।* साधुसंग, वासना-परित्याग, प्राणस्पन्दन-निरोध और अध्यात्म-विद्या की शिक्षा - ये ही चारो आत्मज्ञान को प्राप्त करा सकते हैं। *भगवान श्रीराम ने हनुमानजी को उपदेश दिया कि तुम मेरे अशब्द, अरूप, अस्पर्श, अगंध और गोत्रहीन दुःखहरण करनेवाले रूप का नित्य भजन करो।* लोग स्थूल सौन्दर्य में आसक्ति रखते हैं; किंतु यदि सूक्ष्म के विन्दु रूप सौन्दर्य को प्राप्त करें तो स्थूल सौन्दर्य स्वतः छूट जाएगा। और वह जब कारण के दिव्य सौन्दर्य को प्राप्त करेगा, तो सूक्ष्म का सौन्दर्य भी छूट जाएगा। इस प्रकार क्रमक्रम से वह रूप से अरूप में चला जाएगा, फिर परमात्मा को प्राप्त करेगा। यम ने नचिकेता को समझाया कि मनुष्य को बहुत शुद्ध होना चाहिए। ब्रह्मवत् परिशुद्ध नहीं होकर कोई परमात्मा को प्राप्त नहीं कर सकता। इसलिए *झूठ, चोरी, नशा, हिंसा और व्यभिचार मत करो। खानपान सात्त्विक होना चाहिए।* जो सात्त्विकता के लिए यत्न नहीं करता, रजोगुण और तमोगुण में फँसा रहता है और परमार्थ की ओर चलना चाहता है, तो वह वैसा ही होगा, जैसे ‘भूमि पड़ा चह छुअन आकाशा' कहा गया है। इसलिए खानपान को पवित्र रखो। खान-पान का असर मन पर पड़ता है। यदि खान-पान का असर मन पर नहीं पड़ता, तो भाँग खाने और शराब पीने से मस्तिष्क क्यों गड़बड़ा जाता है। *खान-पान को पवित्र रखो। संतों के कहे अनुकूल चलो। कल्याण होगा।* यह प्रवचन कटिहार जिलान्तर्गत श्रीसंतमत सत्संग मंदिर मनिहारी में दिनांक 16.3.1954 ईo को अपराह्नकालीन सत्संग में हुआ था। *श्री सद्गुरु महाराज की जय*

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
amarjit Feb 24, 2021

+10 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

*।।ॐ श्री सद्गुरवे नमः।।* *महर्षि मेँहीँ अमृत-कलश, 1.65 : भगवान का दर्शन और यह दुर्दशा* *(साभार – सत्संग-सुधा सागर, 65)* लोगों में इस बात का विश्वास है कि ईश्वर की भक्ति करो, ईश्वर आकर दर्शन देंगे। इसके लिए कहते हैं कि गोलोक, साकेत, वैकुण्ठ, क्षीरसमुद्र आदि में जो बसते हैं, वे आकर दर्शन देंगे अथवा तुम चतुर्भुजी, विराट आदि जिस रूप में देखना चाहोगे, आकर दर्शन देंगे। किन्तु *संतलोग कहते हैं - ईश्वर का भजन करो और अपने से जाकर दर्शन करो।* दोनों उलटी-उलटी बातें मालूम होती हैं। एक कहता है - ईश्वर आकर दर्शन देंगे और दूसरे कहते हैं - तुम अपने से जाकर दर्शन करो। जो कहते हैं कि आकर दर्शन देंगे, वे कहते हैं कि देवरूप में, चतुर्भुजी रूप में, विराटरूप में तुमको दर्शन देंगे। किन्तु दूसरे कहते हैं कि तुम इन्द्रियों से। परमात्म-स्वरूप के दर्शन नहीं कर सकते। तुम सुरत से दर्शन कर सकते हो। इसके लिए तुमको चलना होगा। चलने में तुम्हारा शरीर नहीं चलेगा, तुम्हारा मन चलेगा। चलते-चलते मन भी छूट जाएगा, तब तुम अकेले चलोगे। मन तुम्हारा साथी नहीं है, मन तो एक खोल है। जबतक तुम मन में रहते हो, मन काम करता है, इससे तुम निकल गए, तो मन मिट्टी हो जाएगा। जैसे कि तुम शरीर में हो तो शरीर काम करता है। शरीर से तुम निकल जाते हो तो शरीर मिट्टी हो जाता है। *अब विचारो कि बाहर में दोभुजी, चतुर्भुजी, विराटरूप आदि रूपों के दर्शन से क्या होता है? इन दर्शनों से धन, जन, प्रतिष्ठा का लाभ होता है और उन लोक लोकान्तरों में बासा होगा - यह लाभ होगा। अब विचार करो कि इसमें लाभ-ही-लाभ है कि हानि भी।* श्रीकृष्ण का दर्शन अर्जुन को बराबर होता था। अर्जुन कोई साधारण नहीं थे। वे तो नर थे। नर-नारायण विष्णु के रूप हैं। वे ही नर के अवतार अर्जुन और नारायण के अवतार श्रीकृष्ण हुए थे। विराटरूप, दोभुजी, चतुर्भुजी का दर्शन अर्जुन को हुआ था। श्रीकृष्ण के बिना अर्जुन रह नहीं सकते थे। जैसे श्रीकृष्ण नहीं तो अर्जुन भी नहीं। कथा है कि - श्रीकृष्ण के शरीर छूट जाने पर अर्जुन का बल-पौरुष बिल्कुल चला गया। *पंजाब के निकट लुटेरों ने लाठी-डण्डे से सब कुछ अर्जुन से छिन लिया। उनसे कुछ न बन पड़ा।* जिस अर्जुन से बड़े-बड़े वीर, यहाँ तक कि देवता भी पार नहीं पाते थे, ऐसे वीर अर्जुन भी समय-समय पर रोए। अभिमन्यु मारा गया, तब रोए, बहुत रोए। उनका चित्त ही कहीं नहीं लगता था। श्रीकृष्ण ने उन्हें चंद्रलोक में ले जाकर उसको दिखलाया। *पुत्र! पुत्र!! कहकर पकड़ने लगे, तो उसने फटकारा और कहा कि यह नरलोक नहीं है। तुम ‘पुत्र!' किसको कहते हो! भगवान के दर्शन होने पर भी बाईस या तेईस वर्ष तक भीख माँग-माँगकर खाया, द्रौपदी से विवाह होने से पहले ही। फिर कुछ दिनों तक राज्य किया। उसके बाद सभा में ही द्रौपदी का वस्त्र हरण किया गया। राजराजेश्वर होते हुए भी उनके मुँह से कुछ वचन न निकल सका। एक गरीब से गरीब की स्त्री का सभा में कपड़ा खींचो, तब देखो कि वह कुछ बोलता है या नहीं। पाण्डव राजराजेश्वर से गुलाम बने। राजसी कपड़े उन पाँचों भाइयों के शरीर से उतार लिए गए। आसन से नीचे गुलाम - जैसे नीचे में बैठाया। कृष्ण की दया से द्रौपदी की साड़ी बढ़ी; पाँचों भाइयों को राज्य मिला; किंतु फिर दुहराकर जुआ खेला और सब कुछ हारकर बारह वर्ष तक वनवास और एक वर्ष अज्ञात वास किया। राजा विराट की नौकरी की। भीम हुआ रसोइया, अर्जुन हुआ नाचनेवाली, नकुल घोड़े का जमादार, सहदेव गौ का रखवार। विराट का साला था कीचक। उसने द्रौपदी को एक लात भी मारी। विराट ने जुए का पासा युधिष्ठिर के सिर में मारा कि सिर से खून बहने लगा। *देखो! दर्शन से लाभ ही लाभ है या हानि भी। देखो, कितनी दुर्दशा है।* द्रौपदी लौंडी का काम करती थी। केवल जूठा नहीं उठाती थी और किसी का पैर नहीं दबाती थी, और सब लौंडी का काम करती थी। कहाँ राजा की लड़की और कहाँ यहाँ दासी का काम। *देखो, भगवान का दर्शन और यह दुर्दशा! ऐसा नहीं कि सुख ही सुख मिलेगा। सुख के साथ दु:ख लगा ही रहेगा।* अब प्रह्लाद पर आइए। इसको नरसिंह का दर्शन हुआ था। जैसा दर्शन होने से लोगों की अँतड़ी गिर जाय। प्रह्लाद को दर्शन हुआ। उसका पिता मरा और वह राजा हुआ। *किसी भी लोक लोकांतर में रहिए, देह का कुछ-न-कुछ गुण अवश्य रहता है। किसी लोक लोकांतर में रहने से मुक्ति नहीं हो सकती।* ध्रुव को दर्शन हुआ। राज्य मिला। फिर उसके भाई को किसी ने मार दिया। फिर उससे लड़ने गए। इस प्रकार झंझट-बखेड़ा रह ही जाता है। संतो ने कहा - *जिससे सांसारिक बखेड़ा नहीं रहे, ऐसा उपाय करो।* इन दर्शनों से तुम बखेड़ों से नहीं छूट सकते। *भगवान के आत्मस्वरूप का दर्शन करो तो इस संसार में नहीं आओगे और सब झंझट बखेड़ा मिट जाएगा।* इसके लिए तुम अपने अन्दर-अन्दर चलो, शरीर इन्द्रियों से छूट जाओ, तब तुमको दर्शन होगा। *चेतन आत्मा से परमात्मा का दर्शन होगा। तब ‘जानत तुम्हहिं तुम्हइ होइ जाई’ हो जाओगे।* *श्री सद्गुरु महाराज की जय*

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB