premnarayan
premnarayan Aug 4, 2017

🌻ॐ के उच्चारण का रहस्य🌻

🌻ॐ के उच्चारण का रहस्य🌻
🌻ॐ के उच्चारण का रहस्य🌻
🌻ॐ के उच्चारण का रहस्य🌻

ॐ के उच्चारण का रहस्य

ॐ को ओम कहा जाता है। उसमें भी बोलते वक्त 'ओ' पर ज्यादा जोर होता है। इसे प्रणव मंत्र भी कहते हैं। 
इस मंत्र का प्रारंभ है अंत नहीं। यह ब्रह्मांड की अनाहत ध्वनि है। अनाहत अर्थात किसी भी प्रकार की टकराहट या दो चीजों या हाथों के संयोग के उत्पन्न ध्वनि नहीं। इसे अनहद भी कहते हैं। संपूर्ण ब्रह्मांड में यह अनवरत जारी है। तपस्वी और ध्यानियों ने जब ध्यान की गहरी अवस्था में सुना की कोई एक ऐसी ध्वनि है जो लगातार सुनाई देती रहती है शरीर के भीतर भी और बाहर भी। हर कहीं, वही ध्वनि निरंतर जारी है और उसे सुनते रहने से मन और आत्मा शांती महसूस करती है तो उन्होंने उस ध्वनि को नाम दिया ओम।
साधारण मनुष्य उस ध्वनि को सुन नहीं सकता, लेकिन जो भी ओम का उच्चारण करता रहता है उसके आसपास सकारात्मक ऊर्जा का विकास होने लगता है। 
जो भी उस ध्वनि को सुनने लगता है वह परमात्मा से सीधा जुड़ने लगता है। परमात्मा से जुड़ने का साधारण तरीका है ॐ का उच्चारण करते रहना।
त्रिदेव और त्रेलोक्य का प्रतीक  
*ॐ* शब्द तीन ध्वनियों से बना हुआ है- अ, उ, म इन तीनों ध्वनियों का अर्थ उपनिषद में भी आता है। यह ब्रह्मा, विष्णु और महेश का प्रतीक भी है और यह भू: लोक, भूव: लोक और स्वर्ग लोग का प्रतीक है। 

*बीमारी दूर भगाएँ*तंत्र योग में एकाक्षर मंत्रों का भी विशेष महत्व है। देवनागरी लिपि के प्रत्येक शब्द में अनुस्वार लगाकर उन्हें मंत्र का स्वरूप दिया गया है। उदाहरण के तौर पर कं, खं, गं, घं आदि। इसी तरह श्रीं, क्लीं, ह्रीं, हूं, फट् आदि भी एकाक्षरी मंत्रों में गिने जाते हैं।सभी मंत्रों का उच्चारण जीभ, होंठ, तालू, दाँत, कंठ और फेफड़ों से निकलने वाली वायु के सम्मिलित प्रभाव से संभव होता है। इससे निकलने वाली ध्वनि शरीर के सभी चक्रों और हारमोन स्राव करने वाली ग्रंथियों से टकराती है। इन ग्रंथिंयों के स्राव को नियंत्रित करके बीमारियों को दूर भगाया जा सकता है।
*उच्चारण की विधि* प्रातः उठकर पवित्र होकर ओंकार ध्वनि का उच्चारण करें। ॐ का उच्चारण पद्मासन, अर्धपद्मासन, सुखासन, वज्रासन में बैठकर कर सकते हैं। इसका उच्चारण 5, 7, 10, 21 बार अपने समयानुसार कर सकते हैं। ॐ जोर से बोल सकते हैं, धीरे-धीरे बोल सकते हैं। ॐ जप माला से भी कर सकते हैं। 

Pranam Water Like +265 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 94 शेयर

कामेंट्स

Sumitra soni Oct 15, 2018

Pranam Bell Like +195 प्रतिक्रिया 49 कॉमेंट्स • 214 शेयर

Pranam Like Tulsi +50 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 8 शेयर
Seema Sharma Oct 15, 2018

Like Pranam Jyot +36 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 76 शेयर
radha rani Oct 15, 2018

Jyot Pranam Bell +76 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 81 शेयर
Ruhi Jis Oct 15, 2018

Jai Mata di

Pranam Jyot Flower +69 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 107 शेयर
priyanka Oct 15, 2018

जय माँ जगदंबे।

Pranam Tulsi Jyot +68 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 33 शेयर

हे प्रभु..🙏🙏
मेरे इतने अच्छे कर्म तो नही
की मै जन्नत मांग सकु
बस मेरी इतनी ही ख्वाइश है कि
मेरी माँ हमेशा खुश रहे...
मेरे लिए तो मेरी #माँ ही जन्नत है......

जय माता दी...🙏🙏
राधे राधे....🙏🙏

Like Bell Jyot +113 प्रतिक्रिया 39 कॉमेंट्स • 279 शेयर
Jagdish bijarnia Oct 15, 2018

Pranam Belpatra Tulsi +49 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 7 शेयर
RAJNI diwedi Oct 15, 2018

Like Tulsi Pranam +85 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 121 शेयर
akhilesh shukla Oct 15, 2018

नवरात्रि में माँ आपकी शरण में आकर हम मानव धन्य हो जाते हैं।

Bell Pranam Tulsi +36 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 10 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB