😌😌अति विशिष्ट कल्याणकारी चौसठयोगिनी माँ के पावन दर्शन😌😌 ⛳सुईगांव आगर मालवा मध्यप्रदेश⛳ पूर्ण दर्शन अवश्य करें⛳ 🐯🦁प्रेम से बोलिए जय माता दी🦁🐯

+94 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 11 शेयर

कामेंट्स

Ansouya Ansouya Mar 26, 2020
🌷🌷🌷🌷🌷जय माता दी 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🙏 चरणों में कोटि कोटि प्रणाम 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

Kashmir Thakur Mar 26, 2020
🙏🌹🕉जय जय श्रीगणेश, जय भोलेनाथ, जय ब्रह्मचारिणी माँ, जय जय श्रीराधेकृष्ण, जय जय श्री राम, जय श्री स्वामिनारायण भगवान । इस कोरोना नामक महामारी से अपने भक्तजनों की रक्षा करना भगवान🌹🙏 राम राम जी । सरकार द्वारा घोषित देशव्यापी Lockdown का पालन करते हुए अपने घर के अंदर ही रहें और अपना और अपनों का विशेष ख्याल रखें । जय माता दी🌹🙏

नमन Mar 26, 2020
जय बगलामुखी देवी

kishor modi Mar 26, 2020
जय बगलामुखी के हैप्पी नवरात्रि जय माता जी की

Raj Rani Bansal Mar 27, 2020

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 30 शेयर
Lakshmi Singh Mar 27, 2020

+54 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 28 शेयर
Ashwini Srinivas Mar 27, 2020

+117 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 9 शेयर
Gauri Pai Mar 27, 2020

+155 प्रतिक्रिया 17 कॉमेंट्स • 5 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर
PRABHAT KUMAR Mar 27, 2020

🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔 🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️ *#माता_जय_दी* 🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️ 🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔 *।। #सभी_आदरणीय_साथियों_को_जय_माता_दी ।।* 🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔 नवरात्र के तीसरे दिन माँ चंद्रघंटा की पूजा की जाती है। माँ चंद्रघंटा का रूप बहुत ही सौम्य है। माँ को सुगंध बहुत प्रिय है। उनका वाहन सिंह है। उनके दस हाथ हैं। हर हाथ में अलग-अलग शस्त्र हैं। वे आसुरी शक्तियों से रक्षा करती हैं। माँ चंद्रघंटा की आराधना करने वालों का अहंकार नष्ट होता है और उनको सौभाग्य, शांति और वैभव की प्राप्ति होती है। 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 माँ दुर्गा की तीसरी शक्ति का नाम चंद्रघंटा है। नवरात्र उपासना में तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह का पूजन-आराधन किया जाता है। इस दिन साधक का मन मणिपूर चक्र में प्रविष्ट होता है। देवी चंद्रघंटा के घंटे की ध्वनि से अत्याचारी दानव, दैत्य और राक्षस कांपते रहते हैं। चंद्रघंटा की कृपा से साधक को अलौकिक वस्तुओं के दर्शन होते हैं। दिव्य सुगंधियों का अनुभव होता है और कई तरह की ध्वनियां सुनाई देने लगती हैं। देवी का यह स्वरूप परम शांतिदायक और कल्याणकारी माना गया है। देवी चंद्रघंटा की आराधना से साधक में वीरता और निर्भयता के साथ ही सौम्यता और विनम्रता का विकास होता है। इन क्षणों में साधक को बहुत सावधान रहना चाहिए। हमें चाहिए कि मन, वचन और कर्म के साथ ही काया को विधि-विधान के अनुसार परिशुद्ध-पवित्र करके चंद्रघंटा के शरणागत होकर उनकी उपासना-आराधना करना चाहिए। इससे वे सारे कष्टों से मुक्त होकर सहज ही परम पद के अधिकारी बन सकते हैं। यह देवी कल्याणकारी हैं। कहा जाता है कि हमें निरंतर उनके पवित्र विग्रह को ध्यान में रखकर साधना करना चाहिए। उनका ध्यान हमारे इहलोक और परलोक दोनों के लिए कल्याणकारी और सदगति देने वाला है। 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🕉️ ।। *#मनोहारी_है_माँ_चंद्रघंटा_का_स्वरूप* ।। 🕉️ 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 देवी चंद्रघंटा के मस्तक पर घंटे के आकार का आधा चंद्र है इसलिये इन्हें देवी चंद्रघंटा कहा गया है। इनके शरीर का रंग सोने के समान बहुत चमकीला है। इनके दस हाथ हैं। वे खड्ग और अन्य अस्त्र-शस्त्र से विभूषित हैं। सिंह पर सवार इस देवी की मुद्रा युद्ध के लिए उद्धत रहने की है। माँ चंद्रघंटा के गले में सफेद फूलों की माला रहती है। 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🕉️🕉️🕉️🕉️ ।। *#पूजन_का_मंत्र* ।। 🕉️🕉️🕉️🕉️ *🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 *#पिण्डजप्रवरारूढ़ा_चण्डकोपास्त्रकेर्युता।* *#प्रसादं_तनुते_मह्यं_चंद्रघण्टेति_विश्रुता॥* 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🕉️ *#भूरे_एवं_पीले_रंग_के_वस्त्र_धारण_करें* 🕉️ देवी चंद्रघंटा को प्रसन्न करने के लिए श्रद्धालुओं को भूरे रंग के कपड़े पहनने चाहिए। माँ चंद्रघंटा को अपना वाहन सिंह बहुत प्रिय है और इसलिए सुनहरे रंग के कपड़े पहनना भी शुभ है। इसके अलावा माँ सफेद चीज का भोग जैसै दूध या खीर का भोग लगाना चाहिए। इसके अलावा माता चंद्रघंटा को शहद का भोग भी लगाया जाता है। 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🕉️🕉️🕉️ *#ऐसे_करें_माँ_की_पूजा...* 🕉️🕉️🕉️ 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 माँ को केसर और केवड़ा जल से स्नान करायें। माँ को सुनहरे या भूरे रंग के वस्त्र पहनाएं और खुद भी इसी रंग के वस्त्र पहनें। केसर-दूध से बनी मिठाइयों का भोग लगाएं। माँ को सफेद कमल और पीले गुलाब की माला अर्पण करें। पंचामृत, चीनी व मिसरी का भोग लगाएं। मां का आशीर्वाद पाने के लिए इस मंत्र का 108 बार जाप करने से फायदा मिलेगा। *#या_देवी_सर्वभूतेषु_माँ_चंद्रघंटा_रूपेण_संस्थिता।* *#नमस्तस्यै_नमस्तस्यै_नमस्तस्यै_नमो_नम:।।* 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🕉️🕉️ *#माँ_चंद्रघण्टा_की_पूजा_का_महत्व* 🕉️🕉️ 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 इनके आशीर्वाद से ऐश्वर्य और समृद्धि के साथ सुखी दाम्पत्य जीवन प्राप्त होता है। इनकी पूजा से विवाह में आ रही अड़चनें दूर होती हैं। माँ चंद्रघंण्टा परिवार की रक्षक हैं। इनका संबंध शुक्र से है। यदि आपकी कुंडली में शुक्र दोष हो तो आप मां चंद्रघण्टा की पूजा करें, इससे सभी दोष दूर हो जाएंगे। 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🕉️🕉️🕉️ ।। *#माँ_चंद्रघंटा_की_कथा* ।। 🕉️🕉️🕉️ 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 माँ चन्द्रघण्टा असुरों के विनाश हेतु माँ दुर्गा के तृतीय रूप में अवतरित होती है। जो भयंकर दैत्य सेनाओं का संहार करके देवताओं को उनका भाग दिलाती है। भक्तों को वांछित फल दिलाने वाली हैं। आप सम्पूर्ण जगत की पीड़ा का नाश करने वाली है। जिससे समस्त शात्रों का ज्ञान होता है, वह मेधा शक्ति आप ही हैं। दुर्गा भव सागर से उतारने वाली भी आप ही है। आपका मुख मंद मुस्कान से सुशोभित, निर्मल, पूर्ण चन्द्रमा के बिम्ब का अनुकरण करने वाला और उत्तम सुवर्ण की मनोहर कान्ति से कमनीय है, तो भी उसे देखकर महिषासुर को क्रोध हुआ और सहसा उसने उस पर प्रहार कर दिया। यह बड़े आश्चर्य की बात है कि जब देवी का वही मुख क्रोध से युक्त होने पर उदयकाल के चन्द्रमा की भांति लाल और तनी हुई भौहों के कारण विकराल हो उठा, तब उसे देखकर जो महिषासुर के प्राण तुरंत निकल गये, यह उससे भी बढ़कर आश्चर्य की बात है, क्योंकि क्रोध में भरे हुए यमराज को देखकर भला कौन जीवित रह सकता है। देवी आप प्रसन्न हों। परमात्मस्वरूपा आपके प्रसन्न होने पर जगत् का अभ्युदय होता है और क्रोध में भर जाने पर आप तत्काल ही कितने कुलों का सर्वनाश कर डालती हैं, यह बात अभी अनुभव में आयी है, क्योंकि महिषासुर की यह विशाल सेना क्षण भर में आपके कोप से नष्ट हो गयी है। कहते है कि देवी चन्द्रघण्टा ने राक्षस समूहों का संहार करने के लिए जैसे ही धनुष की टंकार को धरा व गगन में गुजा दिया वैसे ही मां के वाहन सिंह ने भी दहाड़ना आरम्भ कर दिया और माता फिर घण्टे के शब्द से उस ध्वनि को और बढ़ा दिया, जिससे धनुष की टंकार, सिंह की दहाड़ और घण्टे की ध्वनि से सम्पूर्ण दिशाएं गूंज उठी। उस भयंकर शब्द व अपने प्रताप से वह दैत्य समूहों का संहार कर विजय हुई। 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🕉️🕉️🕉️ *#माँ_चंद्रघण्टा_की_प्रार्थना* 🕉️🕉️🕉️ 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 *#पिण्डज_प्रवरारूढा_चण्डकोपास्त्रकैर्युता।* *#प्रसादं_तनुते_मह्यम्_चन्द्रघण्टेति_विश्रुता॥* 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🕉️🕉️🕉️ *#माँ_चंद्रघण्टा_का_मंत्र* 🕉️🕉️🕉️ 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 *1. #ओम_देवी_चन्द्रघण्टायै_नमः॥* *2. #आह्लादकरिनी_चन्द्रभूषणा_हस्ते_पद्मधारिणी।* *#घण्टा_शूल_हलानी_देवी_दुष्ट_भाव_विनाशिनी।।* 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🕉️🕉️🕉️ *#माँ_चंद्रघण्टा_का_स्तुति_मंत्र* 🕉️🕉️🕉️ 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 *#या_देवी_सर्वभूतेषु_माँ_चन्द्रघण्टा_रूपेण_संस्थिता।* *#नमस्तस्यै_नमस्तस्यै_नमस्तस्यै_नमो_नमः॥* 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🕉️🕉️🕉️। *#माँ_चन्द्रघण्टा_बीज_मंत्र*। 🕉️🕉️🕉️ 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 *#ऐं_श्रीं_शक्तयै_नम:।* 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🕉️🕉️🕉️ *#माँ_चंद्रघण्टा_की_आरती* 🕉️🕉️🕉️ 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 जय मां चंद्रघंटा सुख धाम। पूर्ण कीजो मेरे सभी काम। चंद्र समान तुम शीतल दाती।चंद्र तेज किरणों में समाती। क्रोध को शांत करने वाली। मीठे बोल सिखाने वाली। मन की मालक मन भाती हो। चंद्र घंटा तुम वरदाती हो। सुंदर भाव को लाने वाली। हर संकट मे बचाने वाली। हर बुधवार जो तुझे ध्याये। श्रद्धा सहित जो विनय सुनाएं। मूर्ति चंद्र आकार बनाएं। सन्मुख घी की ज्योति जलाएं। शीश झुका कहे मन की बाता। पूर्ण आस करो जगदाता। कांचीपुर स्थान तुम्हारा। करनाटिका में मान तुम्हारा। नाम तेरा रटूं महारानी। भक्त की रक्षा करो भवानी। 💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢💢 *#नोट : उक्त जानकारी Google के माध्यम से प्राप्त किया गया है।* 📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 9 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB