Dr. Richa💞💞
Dr. Richa💞💞 Mar 23, 2019

Beautifull post 👌👌👌🍫🌹🍫😊

+200 प्रतिक्रिया 25 कॉमेंट्स • 302 शेयर

कामेंट्स

Sharad tamboli Mar 23, 2019
nice very good afternoon ji 🌹🌹 jai Shree radhey radhey 🌹🌹

vagaram malviya Patel Mar 23, 2019
जय श्री कृष्णा राधे राधे जी शुभ वंदनजी 🙏

Vijay bahadur Pandey Mar 23, 2019
🚩🙏🌸जै श्री राधे कृष्ण 🌸🙏🚩शुभ दोपहर की शुभ मंगलमयी शुभ कामनायें बहना 🌸🙏😎 👌👌🌸🙏

,OP JAIN (RAJ) Mar 23, 2019
Jai Shree Krishna didi Radhey Radhey didi... Shubh Dophr didi

Brajesh Sharma Mar 23, 2019
राधे राधे जी जय श्री राधेकृष्णा जय श्री राम जय जय राम जी जय शिव शम्भू हर हर महादेव

KAMLESH Mar 24, 2019
very very nice line but aaj Kal samjna bahut tuf hai Kyo k kalyug ka samay hai

aks Mar 24, 2019
nice👌👌👌

श्याम।वाल्मिकी।87183 Mar 26, 2019
जेय।श्री।वीर।वर।हनुमान।जी।की।ऋचा।जी।आप्नेवाके।मे।बेडिया।पोस्ट।की।हे।जी।नमसकार।जी।स।वा।

Swami Lokeshanand Apr 24, 2019

कौशल्याजी ने भरतजी को अपनी गोद में बैठा लिया और अपने आँचल से उनके आँसू पोंछने लगीं। कौशल्याजी को भरतजी की चिंता हो आई। दशरथ महाराज भी कहते थे, कौशल्या! मुझे भरत की बहुत चिंता है, कहीं राम वनवास की आँधी भरत के जीवन दीप को बुझा न डाले। राम और भरत मेरी दो आँखें हैं, भरत मेरा बड़ा अच्छा बेटा है, उन दोनों में कोई अंतर नहीं है। और सत्य भी है, संत और भगवान में मात्र निराकार और साकार का ही अंतर है। अज्ञान के वशीभूत होकर, अभिमान के आवेश में आकर, कोई कुछ भी कहता फिरे, उनके मिथ्या प्रलाप से सत्य बदल नहीं जाता कि भगवान ही सुपात्र मुमुक्षु को अपने में मिला लेने के लिए, साकार होकर, संत बनकर आते हैं। वह परमात्मा तो सर्वव्यापक है, सबमें है, सब उसी से हैं, पर सबमें वह परिलक्षित नहीं होता, संत में भगवान की भगवत्ता स्पष्ट झलकने लगती है। तभी तो जिसने संत को पहचान लिया, उसे भगवान को पहचानने में देरी नहीं लगी, जो सही संत की दौड़ में पड़ गया, वह परमात्मा रूपी मंजिल को पा ही गया। भरतजी आए तो कौशल्याजी को लगता है जैसे रामजी ही आ गए हों। भरतजी कहते हैं, माँ! कैकेयी जगत में क्यों जन्मी, और जन्मी तो बाँझ क्यों न हो गई ? कौशल्याजी ने भरतजी के मुख पर हाथ रख दिया। कैकेयी को क्यों दोष देते हो भरत! दोष तो मेरे माथे के लेख का है। ये माता तुम पर बलिहारी जाती है बेटा, तुम धैर्य धारण करो। यों समझते समझाते सुबह हो गई और वशिष्ठजी का आगमन हुआ। यद्यपि गुरुजी भी बिलखने लगे, पर उन्होंने भरतजी के माध्यम से, हम सब के लिए बहुत सुंदर सत्य सामने रखा। कहते हैं, छ: बातें विधि के हाथ हैं, इनमें किसी का कुछ बस नहीं है और नियम यह है कि अपरिहार्य का दुख नहीं मनाना चाहिए। "हानि लाभ जीवन मरण यश अपयश विधि हाथ"

+21 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 26 शेयर
Harcharan pahwa Apr 22, 2019

+22 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 24 शेयर

+95 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 227 शेयर
sompal Prajapati Apr 24, 2019

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 37 शेयर

+365 प्रतिक्रिया 41 कॉमेंट्स • 585 शेयर

🌹🌹🌹😊😀मुस्कान 😀😊🌹🌹🌹 होंठों की मुस्कान ही मनुष्य का वास्तविक परिधान है,,, रहिमन अपनी विपत्ति को जाय ना कहिये रोय, सुनते ही सब हँसेगे बाट ना लेईहै कोय,, हम जो नहीं कर पाए उसके लिए उदास क्यों होना, हम आज जो कर सकते हैं उस पर बीते दिनों का असर आखिर क्यों आने देना चाहिए। बीती बातों को भुलाकर अगर आज में ही अपनी उर्जा लगाई जाए तो बेहतर नतीजे हमें आगे बढ़ने को ही प्रेरित करेंगे। कल में अटके रहकर हम अपने आज को भी प्रभावित करते हैं और आने वाले कल को भी। थोड़ा संयम थोड़ा हौसले की जरूरत है हंसते रहे मन को किसी भी परिस्थिति में 😔 उदास ना होने दे,, कितना जानता है वह शख्स मेरे बारे में मेरे मुस्कराने पर भी पूंछ लिया तुम्हे तकलीफ क्या है हर हर महादेव जय शिव शंकर

+11 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 97 शेयर

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 47 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB