मौसम के अनुसार खानपान टिप्स

मौसम के अनुसार खानपान टिप्स

🌹 *ॐॐ* 🌹



🌷 *सर्दियों के लिए बल व पुष्टि का खजाना*🌷




🔶 रात को भिगोयी हुई १ चम्मच उड़द की डाल सुबह महीन पीसकर उसमें २ चम्मच शुद्ध शहद मिला के चाटें | १ - १.३० घंटे बाद मिश्रीयुक्त दूध पियें | पूरी सर्दी यह प्रयोग करने से शरीर बलिष्ठ और सुडौल बनता है तथा वीर्य की वृद्धि होती है |


🔶 दूध के साथ शतावरी का २ – ३ ग्राम चूर्ण लेने से दुबले-पतले व्यक्ति, विशेषत: महिलाएँ कुछ ही दिनों में पुष्ट जो जाती हैं | यह चूर्ण स्नायु संस्थान को भी शक्ति देता हैं |



🔶 रात को भिगोयी हुई ५ – ७ खजूर सुबह खाकर दूध पीना या सिंघाड़े का देशी घी में बना हलवा खाना शरीर के लिए पुष्टिकारक है |


🔶 रोज रात को सोते समय भुनी हुई सौंफ खाकर पानी पीने से दिमाग तथा आँखों की कमजोरी में लाभ होता है |


🔶 आँवला चूर्ण, घी तथा शहद समान मात्रा में मिलाकर रख लें | रोज सुबह एक चम्मच खाने से शरीर के बल, नेत्रज्योति, वीर्य तथा कांति में वृद्धि होती है | हड्डियाँ मजबूत बनती हैं |



🔶 १०० ग्राम अश्वगंधा चूर्ण को २० ग्राम घी में मिलाकर मिट्टी के पात्र में रख दें | सुबह ३ ग्राम चूर्ण दूध के साथ नियमित लेने से कुछ ही दिनों में बल-वीर्य की वृद्धि होकर शरीर हृष्ट-पुष्ट बनता है |


🔶 शक्तिवर्धक खीर : ३ चम्मच गेहूँ का दलिया व २ चम्मच खसखस रात को पानी में भिगो दें | प्रात: इसमें दूध और मिश्री डालकर पकायें | आवश्यकता अनुसार मात्रा घटा-बढ़ा सकते हैं | यह खीर शक्तिवर्धक है |


🔶 हड्डी जोडनेवाला हलवा : गेहूँ के आटे में गुड व ५ ग्राम बला चूर्ण डाल के बनाया गया हलवा (शीरा) खाने से टूटी हुई हड्डी शीघ्र जुड़ जाति है | दर्द में भी आराम होता है |



🔶 सर्दियों में हरी अथवा सुखी मेथी का सेवन करने से शरीर के ८० प्रकार के वायु-रोगों में लाभ होता है |


🔶 सब प्रकार के उदर-रोगों में मठ्ठे और देशी गाय के मूत्र का सेवन अति लाभदायक है | (गोमूत्र न मिल पाये तो गोझरण अर्क का उपयोग कर सकते हैं |



🙏🏻 -

Like Flower Fruits +95 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 136 शेयर

कामेंट्स

ॐ "कंग अ सिंह Jan 7, 2018
आप जी ने बहुत सुन्दर अनुभव से लिखा है भगवान आपको लम्बी करे

Brijmohan pachapandey Jan 7, 2018
bahut.hi.upyogi.jankari.ke.liye.aapko.naman.ye.bala.?konsi.osdhi.he.y.koi.dusra.naam.batay. Jayshree Mahakal ji good evening ji.

🙏🙏योग संजीवनी☀ Jan 7, 2018
संस्कृत- बला। हिन्दी- खिरैटी, वरियारा, वरियारा, खरैटी। मराठी- चिकणा। गुजराती- खरेटी, बलदाना। बंगला- बेडेला। तेलुगू- चिरिबेण्डा, मुत्तबु, अन्तिस। कन्नड़- किसंगी, हेटुतिगिडा। तमिल- पनियार तुट्टी। मलयालम- वेल्लुरुम। इंग्लिश- कण्ट्री मेलो। लैटिन- सिडा कार्डिफोलिया।

Devendra. angira Oct 15, 2018

Like Pranam Flower +10 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 58 शेयर
Aruna..sharma.. Oct 15, 2018

Like Pranam Bell +8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 23 शेयर
Devendra. angira Oct 15, 2018

Pranam +1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 17 शेयर

Jyot Flower Sindoor +41 प्रतिक्रिया 19 कॉमेंट्स • 169 शेयर

Pranam Jyot Bell +10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 50 शेयर

Flower Pranam Tulsi +6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 18 शेयर
Anuradha Tiwari Oct 14, 2018

आमतौर पर भारतीय रसोई में इस्तेमाल में लाए जाने वाले काले नमक की बात करें तो काला नमक खाने के स्वाद को बढ़ाने के काम आता है। खाने के स्वाद को बढ़ाने के साथ ही काले नमक के अंदर प्रोटीन और कई औषधीय गुण पाए जाते हैं। जिसकी वजह से यह कई सारी बीमारियों ...

(पूरा पढ़ें)
Like Pranam Fruits +17 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 92 शेयर
Devendra. angira Oct 15, 2018

Like Pranam +3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 16 शेयर
Devendra. angira Oct 15, 2018

Jyot Pranam Dhoop +3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 9 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB