Mahesh Sharma
Mahesh Sharma Dec 7, 2017

मेरे बजरंगी

Audio - मेरे बजरंगी

+93 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 97 शेयर

कामेंट्स

शहीद भगत सिंह की जयंती है। 28 सितंबर, 1907 को अविभाजित भारत में लायलपुर जिले के बंगा में भगत सिंह का जन्म हुआ था।  “शहीद भगत सिंह साहसी होने के साथ-साथ विद्वान भी थे, चिंतक थे। अपनी जिंदगी के बारे में परवाह किये बगैर भगत सिंह और उनके क्रांतिकारी दोस्तों ने ऐसे पराक्रमिक कार्यों को अंजाम दिया, जिनका देश की आजादी में बहुत बड़ा योगदान रहा।” अंग्रेजी हुकूमत से देश को आजाद करने के लिए चले आंदोलनों में भगत सिंह का नाम बहुत ही गर्व से लिया जाता है। 12 साल की उम्र में जलियांवाला बाग कांड का उनके मन पर बहुत ही गहरा प्रभाव पड़ा था। 14 साल के भगत सिंह ने सरकारी स्कूलों में किताबें और कपड़ों में आग लगा दिया था। देश की रक्षा के खातिर अपनी पढ़ाई छोड़कर सन् 1920 में वो महात्मा गांधी के अहिंसा आंदोलन में शामिल हुए। 23 साल की छोटी सी उम्र में ही ब्रिटिश सेना द्वारा उन्हेंं फांसी पर चढ़ा दिया गया था। मात्र 23 साल की उम्र में देश के प्रति जान न्योछावर करने वाले शहीद- ए- आजम भगत सिंह जी को भावभीनी श्रद्धांजलि🙏🌹🌹🌹🌹🌹💐🌹🌹

+16 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 6 शेयर
🥀🥀 Sep 28, 2020

+7 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 3 शेयर

शहीद भगत सिंह की जयंती है। 28 सितंबर, 1907 को अविभाजित भारत में लायलपुर जिले के बंगा में भगत सिंह का जन्म हुआ था।  “शहीद भगत सिंह साहसी होने के साथ-साथ विद्वान भी थे, चिंतक थे। अपनी जिंदगी के बारे में परवाह किये बगैर भगत सिंह और उनके क्रांतिकारी दोस्तों ने ऐसे पराक्रमिक कार्यों को अंजाम दिया, जिनका देश की आजादी में बहुत बड़ा योगदान रहा।” अंग्रेजी हुकूमत से देश को आजाद करने के लिए चले आंदोलनों में भगत सिंह का नाम बहुत ही गर्व से लिया जाता है। 12 साल की उम्र में जलियांवाला बाग कांड का उनके मन पर बहुत ही गहरा प्रभाव पड़ा था। 14 साल के भगत सिंह ने सरकारी स्कूलों में किताबें और कपड़ों में आग लगा दिया था। देश की रक्षा के खातिर अपनी पढ़ाई छोड़कर सन् 1920 में वो महात्मा गांधी के अहिंसा आंदोलन में शामिल हुए। 23 साल की छोटी सी उम्र में ही ब्रिटिश सेना द्वारा उन्हेंं फांसी पर चढ़ा दिया गया था। मात्र 23 साल की उम्र में देश के प्रति जान न्योछावर करने वाले शहीद- ए- आजम भगत सिंह जी को भावभीनी श्रद्धांजलि🙏🌹🌹🌹🌹🌹💐🌹🌹

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Pritam Chhabariy Sep 28, 2020

+1 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर

शहीद भगत सिंह की जयंती है। 28 सितंबर, 1907 को अविभाजित भारत में लायलपुर जिले के बंगा में भगत सिंह का जन्म हुआ था।  “शहीद भगत सिंह साहसी होने के साथ-साथ विद्वान भी थे, चिंतक थे। अपनी जिंदगी के बारे में परवाह किये बगैर भगत सिंह और उनके क्रांतिकारी दोस्तों ने ऐसे पराक्रमिक कार्यों को अंजाम दिया, जिनका देश की आजादी में बहुत बड़ा योगदान रहा।” अंग्रेजी हुकूमत से देश को आजाद करने के लिए चले आंदोलनों में भगत सिंह का नाम बहुत ही गर्व से लिया जाता है। 12 साल की उम्र में जलियांवाला बाग कांड का उनके मन पर बहुत ही गहरा प्रभाव पड़ा था। 14 साल के भगत सिंह ने सरकारी स्कूलों में किताबें और कपड़ों में आग लगा दिया था। देश की रक्षा के खातिर अपनी पढ़ाई छोड़कर सन् 1920 में वो महात्मा गांधी के अहिंसा आंदोलन में शामिल हुए। 23 साल की छोटी सी उम्र में ही ब्रिटिश सेना द्वारा उन्हेंं फांसी पर चढ़ा दिया गया था। मात्र 23 साल की उम्र में देश के प्रति जान न्योछावर करने वाले शहीद- ए- आजम भगत सिंह जी को भावभीनी श्रद्धांजलि🙏🌹🌹🌹🌹🌹💐🌹🌹

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
jatan kurveti Sep 29, 2020

+14 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 18 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB