मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें
A. T. Thakrar
A. T. Thakrar May 23, 2019

आज का दर्शन 23 मई 2019 आज का चौघड़िया शुभ - 05:31 to 07:13 चर - 10:36 to 12:18 लाभ - 12:18 to 14:00 अमृत - 14:00 to 15:42 शुभ - 17:23 to 19:05

आज का दर्शन
23 मई 2019

आज का चौघड़िया 
शुभ - 05:31 to 07:13
चर - 10:36 to 12:18
लाभ - 12:18 to 14:00
अमृत - 14:00 to 15:42
शुभ - 17:23 to 19:05
आज का दर्शन
23 मई 2019

आज का चौघड़िया 
शुभ - 05:31 to 07:13
चर - 10:36 to 12:18
लाभ - 12:18 to 14:00
अमृत - 14:00 to 15:42
शुभ - 17:23 to 19:05

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर

कामेंट्स

Shikha Singh Jun 19, 2019

+37 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 165 शेयर

+27 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 173 शेयर
mamta kapoor Jun 19, 2019

+41 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 57 शेयर

+108 प्रतिक्रिया 82 कॉमेंट्स • 192 शेयर
Sunil upadhyaya Jun 19, 2019

+22 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 169 शेयर
mamta kapoor Jun 19, 2019

+12 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 30 शेयर
Vibhor Mittal Jun 19, 2019

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 24 शेयर
Arti Pandey Jun 19, 2019

+48 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 145 शेयर
Swami Lokeshanand Jun 19, 2019

आज एक बड़ी गंभीर बात पर विचार करेंगे। हम सबने हनुमानजी को कपि रूप में ही जाना है। कल की कथा में अंजनि के स्वरूप पर आध्यात्मिक पक्ष रखा गया, यह पोस्ट हनुमानजी के कपि स्वरूप पर। देखें, रामकथा और कृष्णकथा की कथा शैली और कथानक भिन्न है, पर दोनों ही शास्त्र परमात्मा प्राप्ति की एक ही सनातन विधि का प्रतिपादन करते हैं। रामकथा में जो कौशल्या हैं, वहाँ कृष्णलीला में यशोदा हैं। कैकेयी देवकी बनी हैं, सुमित्रा रोहिणी हैं। यहाँ रामजी कौशल्यासुत हुए कैकेयी का दूध पीया, वहाँ श्रीकृष्ण देवकीनन्दन हैं, यशोदा का दूध पीया। यहाँ लक्षमणजी का जन्म कौशल्याजी और कैकेयीजी के फल के भाग से हुआ, तो वहाँ बलरामजी को देवकी के गर्भ से निकाल कर रोहिणी के गर्भ में स्थापित दिखाया गया। प्रमुख चर्चा यह है कि वहाँ जिस अवस्था विशेष को "गोपी" नाम से बताया गया, उसे ही यहाँ "कपि" नाम से कहा जा रहा है। ध्यान दें,"गो" माने इन्द्रियाँ,"पी" माने सुखा डालना, जिसने अपनी इन्द्रियों में बह रहे वासना रस को सुखा डाला वो गोपी। यहाँ कपि में, "क" माने मन (जैसे कपट, क+पट, "क" पर "पट" डाल देना, मन पर पर्दा डाल देना, यही तो कपट है) और "पि" माने वही, सुखा डालना। अर्थ दोनों का एक ही है, जिसने इन्द्रिय समूह सहित मन को सुखा डाला। लाख विषय आँखों के सामने से गुजरते हों, अंत:करण में वासना की रेखा तक नहीं खिंचती, ऐसा महापुरुष कपि है। सनातन धर्म में शास्त्र की रचना ऐतिहासिक घटनाओं के संकलन मात्र के उद्देश्य से नहीं की जाती, उन घटनाओं में आध्यात्मिक संदेश छिपा कर रखे जाते हैं। जिससे प्रारंभ में सामान्य जन को संस्कार पड़ जाए, और कालांतर में उसी कथा का वास्तविक रहस्य जानकर उनका साधन मार्ग प्रशस्त हो जाए। यही हमारा मूल उद्देश्य है। अब विडियो- कपि और गोपी- https://youtu.be/C_omPazCZD4

+18 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 26 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB