Poonam Aggarwal
Poonam Aggarwal Nov 25, 2020

🙏🌷*ॐ नमो नारायण जय तुलसी मैया *🌷🙏 🌷🌿🌷🌿🌷🌿🌷🌿🌷🌿🌷🌿🌷 कार्तिक महीने में एक बुढिया माई तुलसीजी को सींचती और कहती कि, हे तुलसी माता! सत् की दाता मैं तेरा बिडला सीचती हूँ, मुझे बहु दे, पीताम्बर की धोती दे, मीठा मीठा गास दे, बैकुंठा में वास दे, चटक की चाल दे, पटक की मौत दे, चंदन का काठ दे, रानी सा राज दे, दाल भात का भोजन दे, ग्यारस की मौत दे, कृष्ण जी का कन्धा दे। तुलसी माता यह सुनकर सूखने लगी तो भगवान ने पूछा कि, हे तुलसी! तुम क्यों सूख़ रही हो? तुलसी माता ने कहा कि एक बुढिया रोज आती है और यही बात कह जाती है। मैं सब बात तो पूरा कर दूँगी लेकिन कृष्ण का कन्धा कहां से लाऊंगी? भगवान बोले - जब वो मरेगी तो मैं अपने आप कंधा दे आऊंगा। तू बुढिया माई से कह देना। बाद में बुढिया माई मर गई। सब लोग आ गये। जब माई को ले जाने लगे तो वह किसी से न उठी। तब भगवान एक बारह बरस के बालक का रूप धारण करके आये। बालक ने कहा, मैं कान में एक बात कहूँगा तो बुढिया माई उठ जाएगी। बालक ने कान में कहा, बुढिया माई मन की निकाल ले, पीताम्बर की धोती ले, मीठा मीठा गास ले, बैंकुंठा का वास ले, चटक की चल ले, पटक की मौत ले, कृष्ण जी का कन्धा ले! यह सुनकर बुढिया माई हल्की हो गई। भगवान ने कन्धा दिया और बुढिया माई को मुक्ति मिल गयी। हे तुलसी माता! जैसे बुढिया माई को मुक्ति दी वैसे सबको देना🙌🏻🙌🏻🙏🙏 🌹जय मां तुलसी।🌹🙏 कॉपी पेस्ट by बाँके बिहारी वृन्दावन श्रीजी दास🙏🙇‍♂️🙇‍♀️🙏

🙏🌷*ॐ नमो नारायण जय तुलसी मैया *🌷🙏
    🌷🌿🌷🌿🌷🌿🌷🌿🌷🌿🌷🌿🌷
    कार्तिक महीने में एक बुढिया माई तुलसीजी को सींचती और कहती कि, हे तुलसी माता! सत् की दाता मैं तेरा बिडला सीचती हूँ, मुझे बहु दे, पीताम्बर की धोती दे, मीठा मीठा गास दे, बैकुंठा में वास दे, चटक की चाल दे, पटक की मौत दे, चंदन का काठ दे, रानी सा राज दे, दाल भात का भोजन दे, ग्यारस की मौत दे, कृष्ण जी का कन्धा दे।

तुलसी माता यह सुनकर सूखने लगी तो भगवान ने पूछा कि, हे तुलसी! तुम क्यों सूख़ रही हो?

तुलसी माता ने कहा कि एक बुढिया रोज आती है और यही बात कह जाती है। मैं सब बात तो पूरा कर दूँगी लेकिन कृष्ण का कन्धा कहां से लाऊंगी?

भगवान बोले - जब वो मरेगी तो मैं अपने आप कंधा दे आऊंगा। तू बुढिया माई से कह देना। 

बाद में बुढिया माई मर गई। सब लोग आ गये। जब माई को ले जाने लगे तो वह किसी से न उठी। तब भगवान एक बारह बरस के बालक का रूप धारण करके आये। 

बालक ने कहा, मैं कान में एक बात कहूँगा तो बुढिया माई उठ जाएगी। 

बालक ने कान में कहा, बुढिया माई मन की निकाल ले, पीताम्बर की धोती ले, मीठा मीठा गास ले, बैंकुंठा का वास ले, चटक की चल ले, पटक की मौत ले, कृष्ण जी का कन्धा ले! 

यह सुनकर बुढिया माई हल्की हो गई। भगवान ने कन्धा दिया और बुढिया माई को मुक्ति मिल गयी।

हे तुलसी माता! जैसे बुढिया माई को मुक्ति दी वैसे सबको देना🙌🏻🙌🏻🙏🙏
                                                   🌹जय मां तुलसी।🌹🙏

कॉपी पेस्ट by बाँके बिहारी वृन्दावन 
श्रीजी दास🙏🙇‍♂️🙇‍♀️🙏

+216 प्रतिक्रिया 37 कॉमेंट्स • 204 शेयर

कामेंट्स

PRAHLAD JHAWAR Nov 25, 2020
सुपभात जय श्री राधे कृष्णा जय श्री राम

Sunil Kumar Saini Nov 25, 2020
ॐ गं गंणपतये नमो 🌹 नमः 🙏 तुलसी विवाह और देव उठनी एकादशी की आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं दीदी 👏 ईश्वर सदा आप और आपके परिवार का मंगल करे। 🌺 🌺 राधे राधे जी 🙏 🌺 🌺

Mita Vadiwala Nov 25, 2020
卐 🙏🐚 🌿🌷आप सभी को देव उठनी एकादशी एवं तुलसी विवाह (देव प्रबोधनी ग्यारस ) की ढेर सारी हार्दिक शुभकामनाये बहना जी 🌷जय श्री गणेश देवा जय श्री लक्ष्मी नारायण देव🌷जय श्री राधे कृष्ण जी🌷 श्री हरि विष्णु व माता लक्ष्मी जी और माँ तुलसी आपके जीवन में सुख समृधि यश लाये 🌷 ॐ श्री गणेशाय नमः ॐ गं गणपतये नमः गणपति बाप्पा मोर्या भगवान श्री गणेश सभी के जीवन में सुख, शांति और समृद्धि लाएं।🌷 ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः जय श्री हरि विष्णु जी जय श्री शालिग्राम भगवान श्री नारायण जय तुलसी माता🌿 शुभ प्रभात वंदन जी आप सभी का दिन शुभ मंगलमय एवं खुशियों भरा हो | 🌹🌿🙏 🚩

Babita Sharma Nov 25, 2020
राधे राधे बहना 🙏 हरि ॐ नमो भगवते वासुदेवाय 🌹🌹 देवोत्थान एकादशी पर कामना है कि भगवान विष्णु आपकी हर मनोकामना पूरी करें| तुलसी विवाह की हार्दिक शुभकामनाएं!

🌷Radha Sharma🌷 Nov 25, 2020
सुप्रभात वंदन प्यारी बहना जी 🙏

Dhananjay Khanna Nov 25, 2020
Hare Krishna ji 🙏🙏🙏🙏🙏 Devuthni ekadashi ki Hardik shubhkaamnaye ,🌹🌹🌹🌹🌹🌹✨✨✨✨

Manoj manu Nov 25, 2020
🚩🙏हरि ऊँ आप सभी की सुख,शाँति एवं समृद्धि की मंगल कामनाओं के साथ में देव उठनी एकादशी(तुलसी विवाह)की हार्दिक शुभकामनाएँ राधे राधे जी सादर वंदन जी 🌺🙏

Gajendrasingh kaviya Nov 25, 2020
Radhe Radhe good morning have a nice day my sweet sis 🌹🌷🌹🌹🌹🌹🌹 aap ki har manokamna puri ho 🌹🌹🌹🌹🌹 aap sada khush raho 🌹🌹🌹🌹🌹 tulsi vivah ki hardik shubhkamnaye my pyari bena 🙏🙏🌹🌺

Brajesh Sharma Nov 25, 2020
जय श्री गणेशाय नमः जया गणपति बप्पा मोरीया जय श्री राधे कृष्णा जी... ॐ नमः शिवाय.. हर हर महादेव ईश्वर आपकी समस्त कामनाओं की पूर्ति करें, आपका सदा कल्याण करें.. देवउठि (प्रबोधिनी) एकादशी ओर शुभ तुलसी विवाह कि हर्दिक बधाई...

Sagar ji🙏 Nov 25, 2020
🌹जय श्री गणेशाय नमः🌹 🐚ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः🐚 सुप्रभात वंदन राम राम आदरणीय दीदी जी🙏🌹आप और आपके पूरे परिवार को तुलसी विवाह एवं देव उठनी एकादशी की हार्दिक शुभकामनाए एवं बधाईयां जी🙏🌹आपके के दिन शुभ एवं मंगलमय हो🌷

🔴 Suresh Kumar 🔴 Nov 25, 2020
ओम् गण गणपतए नमः 🙏 ओम् नमो भगवते वासुदेवाय नम शुभ प्रभात वंदन मेरी बहन 🙏 तुलसी विवाह की व देव उठनी एकादशी की हार्दिक शुभकामनाएं भगवान् विष्णु जी की कृपा से आपका हर पल मंगलमय हो 🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈

Hemant Kasta Nov 25, 2020
Shree Ganeshay Namah, Shree Laxmi Narayan Namah, Shree Tulsi Matay Namah, Beautiful Post, Anmol Massage, Gyanvarsha, Dhanywad Vandaniy Gyani Bahena Ji Pranam, Subahka Ram Ram, Aap Aur Aapka Parivar Har Din Har Pal Khushiyo Se Bhara Rahe, Happy Prabodhini Ekadasi & Tulsi Vivah Ki Hardik Shubh Kamna..., Vandan Sister Ji, Radhe Krishna Ji, Suprabhat

satish Chaturvedi Nov 25, 2020
🌹🙏 JAI MATA DI 🙏🌹 Shubh Prabhat Vandan Bahin Ji 🌹🌹

Ranveer Soni Nov 25, 2020
🌹🌹जय श्री गणेश🌹🌹

Ansouya Nov 26, 2020
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः प्रबोधिनी एकादशी की हार्दिक शुभकामनाएं और तुलसी विवाह की बधाई स्विकार कीजिए प्यारी बहना जी 🌷🙏🌷🙏

ramkumarverma Jan 21, 2021

+46 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 184 शेयर
Poonam Aggarwal Jan 22, 2021

🌷🌷*जय मां लक्ष्मी जय माता दी* 🌷🌷🙏 🌷🌷🌷🐚🐚🐚🐚🐚🌷🌷🌷 लक्ष्मी की बहिन दरिद्रा की कथा 〰〰🌼〰🌼〰🌼〰〰 मां लक्ष्मी के परिवार में उनकी एक बड़ी बहन भी है जिसका नाम है- दरिद्रा। इस संबंध में एक पौराणिक कथा है कि इन दोनों बहनों के पास रहने का कोई निश्चित स्थान नहीं था इसलिये एक बार माँ लक्ष्मी और उनकी बड़ी बहन दरिद्रा श्री विष्णु के पास गई और उनसे बोली, जगत के पालनहार कृपया हमें रहने का स्थान दो? पीपल को विष्णु भगवान से वरदान प्राप्त था कि जो व्यक्ति शनिवार को पीपल की पूजा करेगा, उसके घर का ऐश्वर्य कभी नष्ट नहीं होगा अतः श्री विष्णु ने कहा, आप दोनों पीपल के वृक्ष पर वास करो। इस तरह वे दोनों बहनें पीपल के वृक्ष में रहने लगी। जब विष्णु भगवान ने माँ लक्ष्मी से विवाह करना चाहा तो लक्ष्मी माता ने इंकार कर दिया क्योंकि उनकी बड़ी बहन दरिद्रा का विवाह नहीं हुआ था। उनके विवाह के उपरांत ही वह श्री विष्णु से विवाह कर सकती थी। अत: उन्होंने दरिद्रा से पूछा, वो कैसा वर पाना चाहती हैं। तो वह बोली कि, वह ऐसा पति चाहती हैं जो कभी पूजा-पाठ न करे व उसे ऐसे स्थान पर रखे जहां कोई भी पूजा-पाठ न करता हो। श्री विष्णु ने उनके लिए ऋषि नामक वर चुना और दोनों विवाह सूत्र में बंध गए। अब दरिद्रा की शर्तानुसार उन दोनों को ऐसे स्थान पर वास करना था जहां कोई भी धर्म कार्य न होता हो। ऋषि उसके लिए उसका मन भावन स्थान ढूंढने निकल पड़े लेकिन उन्हें कहीं पर भी ऐसा स्थान न मिला। दरिद्रा उनके इंतजार में विलाप करने लगी। श्री विष्णु ने पुन: लक्ष्मी के सामने विवाह का प्रस्ताव रखा तो लक्ष्मी जी बोली, जब तक मेरी बहन की गृहस्थी नहीं बसती मैं विवाह नहीं करूंगी। धरती पर ऐसा कोई स्थान नहीं है। जहां कोई धर्म कार्य न होता हो। उन्होंने अपने निवास स्थान पीपल को रविवार के लिए दरिद्रा व उसके पति को दे दिया। अत: हर रविवार पीपल के नीचे देवताओं का वास न होकर दरिद्रा का वास होता है। अत: इस दिन पीपल की पूजा वर्जित मानी जाती है। पीपल को विष्णु भगवान से वरदान प्राप्त है कि जो व्यक्ति शनिवार को पीपल की पूजा करेगा, उस पर लक्ष्मी की अपार कृपा रहेगी और उसके घर का ऐश्वर्य कभी नष्ट नहीं होगा। इसी लोक विश्वास के आधार पर लोग पीपल के वृक्ष को काटने से आज भी डरते हैं, लेकिन यह भी बताया गया है कि यदि पीपल के वृक्ष को काटना बहुत जरूरी हो तो उसे रविवार को ही काटा जा सकता है। *विशेष ,,,,,,, मेरे मतानुसार "कालाधन " जो अनैतिक अथवा भ्रष्ट " तरीकों से कमाया जाता है वह लक्ष्मी जी की बहन दरिद्रा ही है ! जो क्रय शक्ति लक्ष्मी जी की है वही दरिद्रा की है ! अंतर केवल है की नेक कमाई उसी तरह फलती फूलती है जिस प्रकार कमल की अनेक पंखुड़िआ खिलने लगाती है ! मेरे अनुभव में ये कमल की पंखुड़िआ अनेक आय के स्रोतों का उत्पन्न होना है जो नेक कमाई से ही संभव है ! दूसरी तरफ काला धन अनेक आपदाओं व् विपदाओं को उत्पन्न करने वाला होता है ! यह प्रकृति से तामसिक होने के कारण अज्ञान एवं मनोविकारों ( विषय एवं वासनाओं ) को उत्पन्न करने वाला है ! अंत में दुर्लभ मनुष्य योनि के सत्व गुणों को नष्ट कर देता है ! ज्ञान का प्रकाश शनैः शनैः समाप्त होने लगता है ! आपदा एवं विपदाए सही मोके की इंतज़ार में रहती है ! मनुष्य मूढ़ बुद्धि होने लगता है और अंत में सबकुछ यहीं छोड़ कर चला जाता है ! जबकि लक्ष्मी वान "पुण्य " की कमाई करता है और साथ ले जाता है ! अतः " देवी दारिद्रा को लक्ष्मी समझने की भूल ना करे !" लक्ष्मी का वास परोपकारी के घर में स्थाई है ! अनैतिक एवं भ्रष्ट तरीकों से धन कमाने वाले मूढ़ प्राणी अपने घर में लक्ष्मी जी को आमंत्रित करने के स्थान पर दरिद्रा को आमंत्रित करते है जिससे कोई भी धार्मिक अनुष्ठान एवं परोपकार के कार्य संभव नहीं है या वे निष्फल और औपचारिकता मात्र होते है ! 〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰 ‼️‼️ जय माता दी राधे राधे जी ‼️‼️🙏 ‼️‼️ जय श्री राधे गोविंद ‼️‼️🙏 ‼️‼️‼️👏👏‼️‼️‼️

+68 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 44 शेयर
Neeta Trivedi Jan 22, 2021

+95 प्रतिक्रिया 31 कॉमेंट्स • 91 शेयर
Poonam Aggarwal Jan 21, 2021

🌷🌷*ओम् नमो नारायण*🌷🌷🙏 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 2️⃣1️⃣❗0️⃣1️⃣❗2️⃣0️⃣2️⃣1️⃣ *🌻ज्योतिष कहता है कि मनुष्य अपने ही कर्मो का फल पाता है| कर्म कैसे फल देता है यह इस प्रसंग से समझे🌻* *एक दिन एक राजा ने अपने तीन मन्त्रियो को दरबार में बुलाया, और तीनो को आदेश दिया के एक एक थैला ले कर बगीचे में जाएं और वहां से अच्छे अच्छे फल जमा करें*. *तीनो अलग अलग बाग़ में प्रविष्ट हो गए* , *पहले मन्त्री ने कोशिश की के राजा के लिए उसकी पसंद के अच्छे अच्छे और मज़ेदार फल जमा किए जाएँ* , *उस ने काफी मेहनत के बाद बढ़िया और ताज़ा फलों से थैला भर लिया* ,💐🙏 *दूसरे मन्त्री ने सोचा राजा हर फल का परीक्षण तो करेगा नहीं , इस लिए उसने जल्दी जल्दी थैला भरने में* *ताज़ा , कच्चे , गले सड़े फल भी थैले में भर लिए* ,🍏 *तीसरे मन्त्री ने सोचा राजा की नज़र तो सिर्फ भरे हुवे थैले की तरफ होगी वो खोल कर देखेगा भी नहीं कि इसमें क्या है ,उसने समय बचाने के लिए जल्दी जल्दी इसमें घास , और पत्ते भर लिए और वक़्त बचाया* . *दूसरे दिन राजा ने तीनों मन्त्रियो को उनके थैलों समेत दरबार में बुलाया और उनके थैले खोल कर भी नही देखे और आदेश दिया कि तीनों को उनके थैलों समेत दूर स्थान के एक जेल में 15 दिन के लिए क़ैद कर दिया जाए*. *अब जेल में उनके पास खाने पीने को कुछ भी नहीं था सिवाए उन फल से भरे थैलों के* , *तो जिस मन्त्री ने अच्छे अच्छे फल जमा किये वो तो मज़े से खाता रहा और 15 दिन गुज़र भी गए ,* *फिर दूसरा मन्त्री जिसने ताज़ा , कच्चे गले सड़े फल जमा किये थे, वह कुछ दिन तो ताज़ा फल खाता रहा फिर उसे ख़राब फल खाने पड़े , जिस से वो बीमार होगया और बहुत तकलीफ उठानी पड़ी .* *और तीसरा मन्त्री जिसने थैले में सिर्फ घास और पत्ते जमा किये थे वो कुछ ही दिनों में भूख से मर गया .* *अब आप अपने आप से पूछिये* *कि* *आप क्या जमा कर रहे हो*❓ *आप इस समय जीवन के बाग़ में हैं* , *जहाँ* *चाहें तो अच्छे कर्म जमा करें* .. *चाहें तो बुरे कर्म*, *मगर याद रहे जो आप जमा करेंगे वही आपको जन्मों-जन्मों तक काम आयेगा..!!* *🙏🏽🙏🏿🙏🏾जय जय श्री राधे*🙏🏻🙏🏼🙏 ‼️ हरि ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ‼️🙏 ‼️‼️ राधे राधे जी राधे गोविंद जी ‼️‼️🙏

+688 प्रतिक्रिया 110 कॉमेंट्स • 919 शेयर
Neeta Trivedi Jan 21, 2021

+288 प्रतिक्रिया 67 कॉमेंट्स • 381 शेयर

+330 प्रतिक्रिया 57 कॉमेंट्स • 228 शेयर
Mohan Jan 20, 2021

+121 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 368 शेयर
🌿Sona 🌿 Jan 21, 2021

+136 प्रतिक्रिया 27 कॉमेंट्स • 97 शेयर
dinesh hotwani Jan 21, 2021

+51 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 1 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB