Udit Sagar
Udit Sagar Sep 4, 2017

अनंत चतुर्दशी: व्रत कथा, विधि और महत्व।

अनंत चतुर्दशी: व्रत कथा, विधि और महत्व।

भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को हर साल अनंत चतुर्दशी (Anant Chaturdashi) के रूप में मनाया जाता है। गणेशोत्सव के तहत घर में विराजे गणपति इसी दिन विदा होते हैं यानी गणपति विसर्जन (Ganpati Visarjan) किया जाता है। इस बार 5 सितंबर को अनंत चतुर्दशी पर्व है। गणपति के पूजन के साथ-साथ इस दिन भगवान विष्णु का पूजन भी किया जाता है, साथ ही पूजन के बाद 14 गांठों वाला अनंत सूत्र बांह में बांधा जाता है।

अनंत चतुर्दशी (Anant Chaturdashi) पर्व की मान्यता और महत्व :

अनंत चतुर्दशी के दिन शयन कर रहे भगवान विष्णु का भी पूजन किया जाता है। माना जाता है कि इस दिन व्रत रखने से मिलने वाला पुण्य कभी समाप्त नहीं होता। इस व्रत से सभी संकटों से मुक्ति मिल जाती है। मान्यता है कि जब पांडव जुए में अपना सब कुछ हार कर वन में भटक रहे थे तब तब भगवान श्रीकृष्ण ने उन्हें अनंत चतुर्दशी का व्रत रखने की सलाह दी थी। उन्होंने पूरे विधि-विधान से ये व्रत किया और अनंत सूत्र बांधा था। इसके बाद उनके संकट समाप्त हुए थे।

अनंत सूत्र का महत्व:

पूजन के बाद इस दिन अनंत सूत्र बांधने का भी रिवाज है। कहा जाता है कि अनंत सूत्र धारण करने से हर तरह की मुसीबतों से रक्षा होती है। साथ ही साधकों का कल्याण होता है। पुरुष इसे दाहिनी बांह में व महिलाएं बायीं बांह में बांधती हैं।

ऐसे करें अनंत चतुर्दशी व्रत :

सुबह स्नान करके व्रत का संकल्प करें। फिर पूजा के स्थान पर कलश स्थापित करें। कलश पर शेषनाग की शैय्यापर लेटे भगवान विष्णु की मूर्ति या तस्वीर को रखें। उनके समक्ष चौदह गांठों से युक्त अनंत सूत्र रखें। इसके बाद ॐ अनन्ताय नम: मंत्र से भगवान विष्णु और अनंत सूत्र की षोडशोपचार-विधि से पूजा करें। पूजन के बाद अनंत सूत्र को मंत्र पढ़ कर पुरुष अपने दाहिने हाथ और स्त्री बाएं हाथ में बांध लें।

ये है अनंत की कथा :

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार एक दिन कौण्डिन्य मुनि ने अपनी पत्नी के बाएं हाथ में बंधे अनंत सूत्र को जादू-मंतर वाला वशीकरण करने का डोरा समझकर तोड़ दिया और उसे आग में डालकर जला दिया। इससे भगवान विष्णु नाराज हो गए और उनकी सारी संपत्ति नष्ट हो गई। दीन-हीन स्थिति में जीवन-यापन करने में विवश हो जाने पर कौण्डिन्य ऋषि ने अपने अपराध का प्रायश्चित करने का निर्णय लिया। वे अनंत भगवान से क्षमा मांगने के लिए वन में चले गए। उन्हें रास्ते में जो मिलता वे उससे अनंत देव का पता पूछते जाते थे। बहुत खोजने पर भी कौण्डिन्य मुनि को जब अनंत भगवान का साक्षात्कार नहीं हुआ, तब वे निराश होकर प्राण त्यागने को उद्यत हुए। तभी एक वृद्ध ब्राह्मण ने आकर उन्हें आत्महत्या करने से रोक दिया और एक गुफा में ले जाकर चतुर्भुज अनन्त देव का दर्शन कराया।

भगवान ने मुनि से कहा-तुमने जो अनन्त सूत्र का तिरस्कार किया है, यह सब उसी का फल है। इसके प्रायश्चित के लिए तुम चौदह वर्ष तक निरंतर अनंत व्रत का पालन करो। कौण्डिन्य मुनि ने भगवान के कहे अनुसार चौदह वर्ष तक अनंत व्रत का नियमपूर्वक पालन किया और खोई हुई समृद्धि को पुन:प्राप्त कर लिया।

+916 प्रतिक्रिया 48 कॉमेंट्स • 672 शेयर

कामेंट्स

Gokul Sahani Sep 5, 2017
ganpati bapa morya Mangal murti morya agale baras tu jaldi aa

AMIT Sep 5, 2017
🕉 अनंताय नमः

Manju Sikarwar Sep 5, 2017
bahut achi jankari di bahut bahut dhanyabad jai shri ganesh

uncle Dec 13, 2017
जय श्री कृष्णा शुभ प्रभात मित्रो

gajrajraj Jan 14, 2018
✨✨✨✨✨✨✨✨✨ हर पतंग जानती है, अंत में कचरे मे जाना है लेकिन उसके पहले हमे, आसमान छूकर दिखाना है । ​" बस ज़िंदगी भी यही चाहती है "​ ✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨ 🌸 ​इस मकर सक्रान्ति🏵✨🌟🌟 के पावन पर्व पर आपको व् आपके परिवारजनो को हार्दिक मंगल शुभकामनाऍ ... ✨✨💐🙏🏻मकर सक्रांन्ति✨🙏🏻💐✨

Gajrajg Jan 26, 2018
देश भक्तों के बलिदान से , स्वतंत्र हुए है हम .. कोई पूछे कौन हो, तो गर्व से कहेंगे . भारतीय है हम … गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं।

Gajrajg Mar 17, 2018
✍🏻... *अगर किसी परिस्थिति के लिए आपके पास सही शब्द नहीं है तो सिर्फ मुस्कुरा दीजिये।* *क्योंकि शब्द उलझा सकते है पर मुस्कुराहट हमेशा काम करती है।* 😊😊 *मुस्कुराते रहिये* 😊😊 *😄स्वस्थ रहें मस्त रहें?* 🌷 *GOOD DAY*🌷

Gajrajg Mar 23, 2018
*बेटी से कहते है कि कभी घर की इज्ज़त खराब मत करना,,,,,* *बेटे से ये क्यों नही कहते कि कभी किसी के घर की इज्ज़त से खिलवाड नही करना।* सत्य विचार सुप्रभात

Gajrajg Mar 24, 2018
*जीवन में किसी को रुलाकर* *हवन भी करवाओगे तो* *कोई फायदा नहीं* *और अगर रोज किसी एक* *आदमी को भी हँसा दिया तो* *मेरे दोस्त* *आपको अगरबत्ती भी* *जलाने की जरुरत नहीं* *कर्म ही असली भाग्य है* •●‼ *आपका दिन शुभ हो* ‼●• 🌿🌺💐🌺🌿 🙏 *सुप्रभात* 🙏

Gajrajg Apr 12, 2018
🙏जय श्री कृष्ण🙏 शरीर जल से; बुद्धि ज्ञान से; और आत्मा धर्म से; पवित्र होती है। 🌹आपका दिन शुभ हो!🌹 🌷मुस्कुराते रहो🌷

Gajrajg Apr 13, 2018
🙏जय श्री कृष्ण🙏 जीवन में दो ही लोग असफल होते हैं एक वो जो सोचते हैं लेकिन करते नहीं दूसरे वो जो करते हैं पर सोचते नहीं 🌷शुभ दिन🌷 🌹मुस्कुराते रहो🌹

Gajrajg May 4, 2018
*अंतरमन में संघर्ष* *और फिर भी* *मुस्कुराता हुआ चेहरा ,* *यही जीवन का श्रेष्ठ अभिनय है....* 🙏 जय श्री कृष्ण🙏 🌹मुसकुराते रहो🌹 🌷सुप्रभात 🌷

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *🚩🅿Jai Shree Ganesh🅿🚩* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक -: 26/01/2020,रविवार* द्वितीया, शुक्ल पक्ष माघ """"""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि --------द्वितीया 30:14:58 तक पक्ष ---------------------------शुक्ल नक्षत्र ---------धनिष्ठा 30:47:42 योग --------व्यतापता 26:23:19 करण ----------बालव 17:19:50 करण ---------कौलव 30:14:58 वार -------------------------रविवार माह ---------------------------- माघ चन्द्र राशि -----मकर 17:38:17 चन्द्र राशि --------------------कुम्भ सूर्य राशि --------------------- मकर रितु --------------------------शिशिर आयन --------------------उत्तरायण संवत्सर -------------------- विकारी संवत्सर (उत्तर) ----------परिधावी विक्रम संवत ----------------2076 विक्रम संवत (कर्तक) ----2076 शाका संवत -----------------1941 वृन्दावन सूर्योदय -----------------07:10:00 सूर्यास्त -----------------17:53:31 दिन काल ---------------10:43:30 रात्री काल -------------13:16:07 चंद्रास्त -----------------19:15:55 चंद्रोदय -----------------31:29:12 लग्न ----मकर 11°25' , 281°25' सूर्य नक्षत्र -------------------श्रवण चन्द्र नक्षत्र ------------------धनिष्ठा नक्षत्र पाया ---------------------ताम्र *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* गा ----धनिष्ठा 11:05:41 गी ----धनिष्ठा 17:38:17 गु ----धनिष्ठा 24:12:18 गे ----धनिष्ठा 30:47:42 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ======================= सूर्य=मकर 11°22 ' श्रवण, 1 खी चन्द्र =मकर 24°23 ' धनिष्ठा' 1 गा बुध = मकर 21°10 ' श्रवण' 4 खो शुक्र= कुम्भ 20°55, पू o भा o ' 1 से मंगल=वृश्चिक 21°30' ज्येष्ठा ' 2 या गुरु=धनु 18°50 ' पू oषाo , 2 धा शनि=धनु 26°43' उ oषा o ' 1 भे राहू=मिथुन 12 °52 ' आर्द्रा , 2 घ केतु=धनु 12 ° 52 ' मूल , 4 भी *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 16:33 - 17:54 अशुभ यम घंटा 12:32 - 13:52 अशुभ गुली काल 15:13 - 16:33 अशुभ अभिजित 12:10 -12:53 शुभ दूर मुहूर्त 16:28 - 17:11 अशुभ 🚩पंचक 17:38 - अहोरात्र अशुभ 💮चोघडिया, दिन उद्वेग 07:10 - 08:30 अशुभ चर 08:30 - 09:51 शुभ लाभ 09:51 - 11:11 शुभ अमृत 11:11 - 12:32 शुभ काल 12:32 - 13:52 अशुभ शुभ 13:52 - 15:13 शुभ रोग 15:13 - 16:33 अशुभ उद्वेग 16:33 - 17:54 अशुभ 🚩चोघडिया, रात शुभ 17:54 - 19:33 शुभ अमृत 19:33 - 21:13 शुभ चर 21:13 - 22:52 शुभ रोग 22:52 - 24:32* अशुभ काल 24:32* - 26:11* अशुभ लाभ 26:11* - 27:51* शुभ उद्वेग 27:51* - 29:30* अशुभ शुभ 29:30* - 31:10* शुभ 💮होरा, दिन सूर्य 07:10 - 08:04 शुक्र 08:04 - 08:57 बुध 08:57 - 09:51 चन्द्र 09:51 - 10:45 शनि 10:45 - 11:38 बृहस्पति 11:38 - 12:32 मंगल 12:32 - 13:25 सूर्य 13:25 - 14:19 शुक्र 14:19 - 15:13 बुध 15:13 - 16:06 चन्द्र 16:06 - 16:59 शनि 16:59 - 17:54 🚩होरा, रात बृहस्पति 17:54 - 18:59 मंगल 18:59 - 20:06 सूर्य 20:06 - 21:13 शुक्र 21:13 - 22:19 बुध 22:19 - 23:25 चन्द्र 23:25 - 24:32 शनि 24:32* - 25:38 बृहस्पति 25:38* - 26:44 मंगल 26:44* - 27:51 सूर्य 27:51* - 28:57 शुक्र 28:57* - 30:03 बुध 30:03* - 31:10 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान-------------पश्चिम* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा चिरौजी खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 2 + 1 + 1 = 4 ÷ 4 = 0 शेष मृत्यु लोक पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 2 + 2 + 5 = 9 ÷ 7 = 2 शेष गौरि सन्निधौ = शुभ कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* * मोहन का भोग ,टोपा,दुशाला धारण राधाबल्लभ जी वृन्दावन * 71 वॉ गणतंत्र दिवस *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* अहो वत ! विचित्राणि चरितानि महात्मनाम् । लक्ष्मी तृणाय मन्यन्ते तद्भारेण नमन्ति च ।। ।चा o नी o।। देखिये क्या आश्चर्य है? बड़े लोग अनोखी बाते करते है. वे पैसे को तो तिनके की तरह मामूली समझते है लेकिन जब वे उसे प्राप्त करते है तो उसके भार से और विनम्र होकर झुक जाते है. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: श्रद्धात्रयविभागयोग अo-17 तस्मादोमित्युदाहृत्य यज्ञदानतपः क्रियाः।, प्रवर्तन्ते विधानोक्तः सततं ब्रह्मवादिनाम्‌॥, इसलिए वेद-मन्त्रों का उच्चारण करने वाले श्रेष्ठ पुरुषों की शास्त्र विधि से नियत यज्ञ, दान और तपरूप क्रियाएँ सदा 'ॐ' इस परमात्मा के नाम को उच्चारण करके ही आरम्भ होती हैं॥,24॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। यात्रा लाभदायक रहेगी। भेंट व उपहार की प्राप्ति हो सकती है। कारोबार फायदेमंद रहेगा। घर-परिवार के किसी सदस्य के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। किसी के व्यवहार से हृदय को ठेस पहुंच सकती है। ऐश्वर्य के साधन प्राप्त होंगे। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। 🐂वृष बनते कामों में अवरोध उत्पन्न होगा। अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। क्रोध पर नियंत्रण रखें। दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं। घर-परिवार की चिंता रहेगी। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। व्यवसाय मनोनुकूल चलेगा। आय बनी रहेगी। दूसरों पर भरोसा न करें। जोखिम न उठाएं। 👫मिथुन व्यावसायिक यात्रा लाभदायक रहेगी। बेरोजगारी दूर करने की योजना बनेगी। प्रतिष्ठित व्यक्तियों का सहयोग मिलेगा। लेनदारी वसूल करने के प्रयास सफल रहेंगे। घर-परिवार की चिंता रहेगी। भाग्य का भरपूर साथ प्राप्त होगा। आय बनी रहेगी। विवाद से बचें। 🦀कर्क किसी प्रतिभाशाली व्यक्ति का मार्गदर्शन प्राप्त होगा। व्यवसाय में वृद्धि होगी। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। कोई बड़ा काम करने का मन बन सकता है। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। थकान महसूस होगी। प्रतिद्वंद्वी सक्रिय रहेंगे। 🐅सिंह चोट व रोग से बाधा संभव है। नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। समाज में मान-सम्मान मिलेगा। व्यवसाय लाभदायक रहेगा। सुख के साधन प्राप्त होंगे। लभा के अवसर हाथ आएंगे। लेन-देन में सावधानी रखें। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। 🙎कन्या तीर्थयात्रा की योजना बनेगी। अध्यात्म में रुचि बढ़ेगी। कानूनी अड़चन दूर होकर लाभ की स्थिति बनेगी। रोजगार में वृद्धि होगी। विरोध होगा। स्वास्थ्य पर खर्च हो सकता है। पारिवारिक सहयोग प्राप्त होगा। वस्तुएं संभालकर रखें। ⚖तुला रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। परिवार तथा नजदीकी लोगों के साथ मनोरंजन का समय मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी। भाइयों का सहयोग प्राप्त होगा। यात्रा मनोरंजक रहेगी। मनपसंद भोजन का आनंद मिलेगा। जल्दबाजी से बचें। लाभ के अवसर प्राप्त होंगे। आलस्य हावी रहेगा। 🦂वृश्चिक विवाद से क्लेश संभव है। बुरी खबर मिल सकती है। स्वास्थ्य कमजोर रहेगा। आय में कमी रहेगी। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। अपेक्षित कार्य समय पर न होने से तनाव रहेगा। खर्च की अधिकता रहेगी। आर्थिक नुकसान हो सकता है। 🏹धनु मेहनत का फल पूरा-पूरा मिलेगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। मित्र व संबंधियों का सहयोग मिलेगा। यात्रा मनोरंजक रहेगी। किसी बड़ी बाधा का निवारण होगा। काम समय पर पूर्ण होंगे। व्यवसाय ठीक चलेगा। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। निवेश शुभ रहेगा। 🐊मकर शोक समाचार मिल सकता है, धैर्य रखें। पारिवारिक उलझनें बढ़ सकती हैं। किसी अपने का व्यवहार दिल को ठेस पहुंचा सकता है। दौड़धूप अधिक रहेगी। किसी बड़े निर्णय को लेने में जल्दबाजी न करें। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। लेन-देन में सावधानी रखें। धैर्य रखें। लाभ होगा। 🍯कुंभ सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। मेहनत का फल मिलेगा। पार्टनरों से सहयोग प्राप्त होगा। कार्यसिद्धि होगी। आय में वृद्धि होगी। भाग्य का साथ मिलेगा। कोई बड़ा काम करने की हिम्मत जुटा पाएंगे। बाहर जाने की योजना बनेगी। व्यवसाय में लाभ होगा। जल्दबाजी से बचें। 🐟मीन व्यवसाय लाभदायक रहेगा। घर में मेहमानों का आगमन होगा। उन पर स्वागत-सत्कार में व्यय होगा। आत्मसम्मान बना रहेगा। विवाद को बढ़ावा न दें। कार्यवृद्धि की योजना बनेगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। पार्टनरों में मतभेद हो सकता है। संयम बनाए रखें। *🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏* 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺

+10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 54 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB