jai shri krishna
jai shri krishna Jun 8, 2018

"गुरु तत्व क्या है.......? "

अपनी महत्ता के कारण गुरु को ईश्वर से भी ऊँचा पद दिया गया है। शास्त्र वाक्य में ही गुरु को ही ईश्वर के विभिन्न रूपों- ब्रह्मा, विष्णु एवं महेश्वर के रूप में स्वीकार किया गया है। गुरु को ब्रह्मा कहा गया।क्योंकि वह शिष्य को बनाता है नव जन्म देता है। गुरु, विष्णु भी है क्योंकि वह शिष्य की रक्षा करता है गुरु, साक्षात महेश्वर भी है क्योंकि वह शिष्य के सभी दोषों का संहार भी करता है।
संत कबीर कहते हैं-'हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रूठे नहिं ठौर॥'
अर्थात भगवान के रूठने पर तो गुरू की शरण रक्षा कर सकती है किंतु गुरू के रूठने पर कहीं भी शरण मिलना सम्भव नहीं है। जिसे ब्राह्मणों ने आचार्य, बौद्धों ने कल्याणमित्र, जैनों ने तीर्थंकर और मुनि, नाथों तथा वैष्णव संतों और बौद्ध सिद्धों ने उपास्य सद्गुरु कहा है उस श्री गुरू से उपनिषद् की तीनों अग्नियाँ भी थर-थर काँपती हैं। त्रैलोक्यपति भी गुरू का गुणनान करते है। ऐसे गुरू के रूठने पर कहीं भी ठौर नहीं।
कबीरदास जी कहते है।
सतगुरु की महिमा अनंत, अनंत किया उपकार ,
लोचन अनंत, अनंत दिखावण हार
अर्थात सद्गुरु की महिमा अपरंपार है। उन्होंने शिष्य पर अनंत उपकार किए है। उसने विषय-वासनाओं से बंद शिष्य की बंद ऑखों को ज्ञानचक्षु द्वारा खोलकर उसे शांत ही नहीं अनंत तत्व ब्रह्म का दर्शन भी कराया है।
आगे इसी प्रसंग में वे लिखते है।
भली भई जुगुर मिल्या, नहीं तर होती हाँणि।
दीपक दिष्टि पतंग ज्यूँ, पड़ता पूरी जाँणि।
अर्थात अच्छा हुआ कि सद्गुरु मिल गए, वरना बड़ा अहित होता। जैसे सामान्यजन पतंगे के समान माया की चमक-दमक में पड़कर नष्ट हो जाते है। वैसे ही मेरा भी नाश हो जाता। जैसे पतंगा दीपक को पूर्ण समझ लेता है,
सामान्यजन माया को पूर्ण समझकर उस पर अपने आपको निछावर कर देते हैं। वैसी ही दशा मेरी भी होती। अतः सद्गुरु की महिमा तो ब्रह्मा, विष्णु और महेश भी गाते है, मुझ मानुष की बिसात क्या।
परमगुरु सदाशिव को नमन।

+22 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 14 शेयर

कामेंट्स

SHANTI PATHAK Jan 27, 2020

+108 प्रतिक्रिया 24 कॉमेंट्स • 166 शेयर
Rajeet Sharma Jan 26, 2020

+11 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 28 शेयर

+24 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 140 शेयर
siddhidatri jaya Jan 27, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Rakesh Jan 26, 2020

+27 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 79 शेयर
Raj rani Jan 26, 2020

+10 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 4 शेयर

+31 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 4 शेयर

+16 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB