🌹🌹🌹 जय श्री कृष्णा राधे राधे 🌹🌹🌹 ।।।।। शुभ संध्या सादर प्रणाम।।।।।

🌹🌹🌹 जय श्री कृष्णा राधे राधे 🌹🌹🌹
।।।।। शुभ संध्या  सादर प्रणाम।।।।।

+193 प्रतिक्रिया 46 कॉमेंट्स • 78 शेयर

कामेंट्स

Brajesh Sharma Feb 23, 2021
जय जय श्री राधे कृष्णा जी

Jai Mata Di Feb 23, 2021
🙏🌷🥀🌻 Radhey Radhey Ji 🌻🥀🌷🙏

RAJ RATHOD Feb 23, 2021
🍁🌷🌻💐🙏जय श्री हरि 🙏जय श्री हनुमान जी 🙏🌷🍁🌻💐🌿

dhruv wadhwani Feb 23, 2021
जय श्री राम शुभ रात्रि जी

ललन कुमार-8696612797 Feb 23, 2021
जिसका मिलना तय होता है किस्मत किसी न किसी बहाने उन्हें मिला ही देता है।शुभ रात्रि वंदन जी।जय श्री राधे राधे जी।

शान्ति पाठक Feb 23, 2021
🌷🙏 जय श्री राधे कृष्णा जी🙏शुभ रात्रि वंदन भाई जी 🌷कान्हा जी की कृपा एवं आशीर्वाद से आपका हर पल शुभ एवं मंगलमय हो🌷 आपका आनेवाला हर पल खुशियों से परिपूर्ण रहे 🌷🙏🌷

madan pal 🌷🙏🏼 Feb 23, 2021
जय श्री राधे राधे कृष्णा ज़ी शूभ रात्रि वंदन ज़ी आपका हर पल शूभ मंगल हों ज़ी 🌷 🕉️🌷🙏🏼🌷🙏🏼🌷

🙏🌹Vanita Kale Feb 23, 2021
🙏🍁!!राम राम मेरे आदरणीय भाईजी.. आप सभी को जया एकादशी की हार्दिक शुभकामनाएं भगवान श्री हरि विष्णुजी और पवनपुञ हनुमान जी की असीम कृपा आप और आपके पुरे परिवार पर सदा ही बनी रहे.. शुभ रात्रि भाईजी.. 🙏

saumya sharma Feb 23, 2021
Good night bhai g🌙🌹🙏God bless you with your family 🌹get all the things whatever you need in the new day🌹 always be happy😊 🌹

GOVIND CHOUHAN Feb 23, 2021
JAI SHREE RADHEY RADHEY JIII 🌺 JAI SHREE RADHEY KRISHNA JII 🌺 SUBH RATRI VANDAN JII 🌹🌹🙏🙏

dinesh patidar Feb 24, 2021
Jay shree ganesh ji 🌷 suprabhat vandan Ji 🙏 bhagwan ganesh ji ki kripa sada aap aur aapke Parivar per Bani rahe

💐💐कर्म का फल💐💐 एक गांव था ! वह ऐसी जगह बसा था... जहाँ आने जाने के लिए एक मात्र साधन नाव थी ,क्योंकि बीच में नदी पड़ती थी और कोई रास्ता भी नहीं था.। एक बार उस गाँव में महामारी फैल गई और बहुत सी मौते हो गयी,लगभग सभी लोग वहाँ से जा चुके थे। अब कुछ ही गिने चुने लोग बचें थे और वो नाविक गाँव में बोल कर आ गया था कि मैं इसके बाद नहीं आऊँगा जिसको चलना है वो आ जाये। सबसे पहले एक भिखारी आ गया और बोला मेरे पास देने के लिए कुछ भी नहीं है,मुझे अपने साथ ले चलो, ईश्वर आपका भला करेगा ! नाविक सज्जन पुरुष था। उसने कहा कि यही रुको यदि जगह बचेगी तो तुम्हें मैं ले जाऊँगा। धीरे -धीरे करके पूरी नाव भर गई सिर्फ एक ही जगह बची ! नाविक भिखारी को बोलने ही वाला था कि एक आवाज आयी रुको मैं भी आ रहा हूँ ....।। यह आवाज जमीदार की थी,जिसका धन-दौलत से लोभ और मोह देख कर उसका परिवार भी उसे छोड़कर जा चुका था। अब सवाल यह था कि किसे लिया जाए, जमीदार ने नाविक से कहा - मेरे पास सोना चांदी है ,मैं तुम्हें दे दूँगा और भिखारी ने हाथ जोड़कर कहा कि भगवान के लिए मुझे ले चलो।। नाविक समझ नहीं पा रहा था कि क्या करूँ तो उसने फैसला नाव में बैठे सभी लोगों पर छोड़ दिया और वो सब आपस में चर्चा करने लगे। इधर जमीदार सबको अपने धन का प्रलोभन देता रहा और उसने उस भिखारी को बोला ये सबकुछ तू ले ले, मैं तेरे हाथ पैर जोड़ता हूँ ,मुझे जाने दे ! तो भिखारी ने कहा:- मुझे भी अपनी जान बहुत प्यारी है अगर मेरी जिंदगी ही नहीं रहेगी तो मैं इस धन दौलत का क्या करूँगा? जीवन है तो जहान है ! तो सभी ने मिलकर ये फैसला किया कि ये जमीदार ने आज तक हमसे लुटा ही है ब्याज पर ब्याज लगाकर हमारी जमीन अपने नाम कर ली और माना की ये भिखारी हमसे हमेशा माँगता रहा पर उसके बदले में इसने हमें खूब दुआएं दी और इस तरह भिखारी को साथ में ले लिया गया ! बस यही फैसला है ईश्वर भी वही हमारे साथ न्याय करता है,जब अंत समय आता हैं , वो सारे कर्मों का लेखा- जोखा हमारे सामने रख देता हैं और फैसले उसी हिसाब से होते हैं , फिर रोना गिड़गिगिड़ाना काम नहीं आता ! शुभ कर्म ही साथ होते है। इसलिए अभी भी वक्त है- हमारे पास सम्भलने का और शुभ कर्म करने का , बाद में कुछ नहीं होगा। शायद इसलिए कहा गया है.. अब पछताय होत क्या जब चिड़ियाँ चुग गयी खेत.।। ...........

+28 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 67 शेयर

+14 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 56 शेयर
Ramesh Agrawal Feb 24, 2021

+10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 43 शेयर
anju Feb 24, 2021

+9 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 24 शेयर

+24 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 15 शेयर
ritu saini Feb 24, 2021

+23 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 10 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB