मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें

जय श्री कृष्ण

जय श्री कृष्ण

+52 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 1 शेयर

कामेंट्स

K N Padshala May 20, 2019
🙏🌹🌹जय श्री राधे कृष्णा 🌹🌹🙏हर हर महादेव हर ॐनमःशिवाय शुभ प्रभात स्नेह वंदन भाई जी प्रणाम आपका परिवार हरपल आनंद मय हो एसी महादेव को प्रार्थना 🌹🌹🙏🙏👌👌👌

अंजू जोशी May 20, 2019
ॐ नमः शिवाय शुभ सोमवार की प्रातःकाल की हार्दिक शुभकामनाएं भाई जी 🌷🙏

R S Tiwari May 20, 2019
Radhe Radhe ji Gd morning my dear brother aap sada Khush raho Aapka parivar hmesha khush rahe Jay Shiri radhey Krishna ji 🌿 🌿👀🌿👀🌿👀🌿

Anjana Gupta May 20, 2019
Radhe Radhe Bhai ji thakurji aapki har mnokamna puri Kare sda khush aur hanste muskrate rahe aap Shubh dophar ji 🌹🙏

Sandhya Nagar May 20, 2019
*🌸 "कान्हा का नामकरण" 🌸💐👏🏻* एक दिन वासुदेव प्रेरणा से कुल पुरोहित गर्गाचार्य गोकुल पधारे। नन्द यशोदा ने आदर सत्कार किया और वासुदेव देवकी का हाल लिया। जब आने का कारण पूछा तो गर्गाचार्य ने बतलाया कि पास के गाँव में बालक ने जन्म लिया है नामकरण के लिए जा रहा हूँ। रास्ते में तुम्हारा घर पड़ता था सो मिलने को आया। यह सुन कर नन्द यशोदा ने अनुरोध किया बाबा हमारे यहाँ भी दो बालकों ने जन्म लिया उनका भी नामकरण कर दीजिए। पुरोहित गर्गाचार्य ने कहा कि यह कार्य तो काफी जोर-शोर से होनी चाहिए। नन्द बाबा कहने लगे भगवन गौशाला में चुपचाप नामकरण कर दीजिए। क्योंकि कंस से हमारे बालकों खतरा है। गर्गाचार्य तैयार हो गए। रोहिणी गर्गाचार्य की परीक्षा लेने के इरादे से बोलीं कि ऐसा करो हम अपने बच्चे बदल लेते हैं, तुम मेरे लाला को और मैं तुम्हारे पुत्र को लेकर जाऊँगी, देखती हूँ कैसे तुम्हारे कुल पुरोहित सच्चाई जानते हैं। माताएँ परीक्षा पर उतर आईं। बच्चे बदल गौशाले में पहुँच गईं। यशोदा के हाथ में बच्चे को देख गर्गाचार्य कहने लगे- ये रोहिणी का पुत्र है इसलिए एक नाम रौहणेय होगा। अपने गुणों से सबको आनंदित करेगा तो एक नाम राम होगा और बल में इसके समान कोई ना होगा तो एक नाम बल भी होगा मगर सबसे ज्यादा लिया जाने वाला नाम बलराम होगा। यह किसी में कोई भेद ना करेगा सबको अपनी तरफ आकर्षित करेगा तो एक नाम संकर्षण होगा। अब जैसे ही रोहिणी की गोद के बालक को देखा तो गर्गाचार्य मोहिनी मुरतिया में खो गए। अपनी सारी सुधि भूल गए, खुली आँखों से प्रेम समाधि लग गयी। गर्गाचार्य न बोलते थे, न हिलते थे, न जाने इसी तरह कितने पल निकल गए। यह देख बाबा यशोदा घबरा गए हिलाकर पूछने लगे बाबा क्या हुआ ? पुरोहित गर्गाचार्य एकदम बोल पड़े नन्द तुम्हारा बालक कोई साधारण इंसान नहीं है। यह तो, यह कहते हुए जैसे ही उन्होंने अंगुली उठाई तभी कान्हा ने आँख दिखाई। कहने वाले थे गर्गाचार्य कि यह तो साक्षात् भगवान हैं। तभी कान्हा ने आँखों ही आँखों में गर्गाचार्य को धमकाया "हे बाबा ! मेरे भेद नहीं खोलना। मैं जानता हूँ बाबा यहाँ दुनिया भगवान का क्या करती है। उसे पूज कर अलमारी में बंद कर देती है, और मैं अलमारी में बंद होने नहीं आया हूँ, मैं तो माखन मिश्री खाने आया हूँ, माँ की ममता में खुद को भिगोने आया हूँ। अगर आपने भेद बतला दिया तो मेरा हाल क्या होगा, यह मैंने तुम्हें समझा दिया।" अब गर्गाचार्य बोल उठे- आपके इस बेटे के नाम अनेक होंगे जैसे कर्म करता जाएगा, वैसे नए नाम होते जाएँगे, क्योंकि इसने इस बार काला रंग पाया है इसलिए इसका एक नाम कृष्ण होगा। इससे पहले यह कई रंगों में आया है। मैया बोली बाबा यह कैसा नाम बताया है। इसे बोलने में तो मेरी जीभ ने चक्कर खाया है। कोई आसान नाम बतला दीजिए। तब गर्गाचार्य कहने लगे मैया तुम इसे कन्हैया, कान्हा, किशन या किसना कह लेना। यह सुन मैया मुस्कुरा उठी और सारी उम्र कान्हा कहकर बुलाती रही। "जय जय श्री राधे"🙏🏻💫 *****************************

seema bhardwaj May 20, 2019
Jai shri Radhe Krishna subh dophar vandan bhai ji 🌹🙏🌹

कुसुम Jun 20, 2019

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Vijay Yadav Jun 20, 2019

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Dolly Yadav Jun 20, 2019

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
SAIKamlesh Jun 20, 2019

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
vijaymotwani Jun 20, 2019

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Vijay Yadav Jun 20, 2019

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
sat mohan(Bandana( Jun 20, 2019

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB