Anita Sharma
Anita Sharma Jun 11, 2018

कान्हा की परमप्रिय छोटी सी बांसुरी के बड़े बड़े गुण।

+77 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 234 शेयर

कामेंट्स

Shanti Pathak Aug 6, 2020

+116 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 37 शेयर
Anju Sharma Aug 6, 2020

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 14 शेयर
b singh Aug 6, 2020

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 25 शेयर
Gopal Jalan Aug 6, 2020

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 15 शेयर
anju joshi Aug 4, 2020

+709 प्रतिक्रिया 93 कॉमेंट्स • 362 शेयर
Anita sharma Aug 5, 2020

+22 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Shanti Pathak Aug 6, 2020

(((( कन्हैया की बाल लीला )))) . कबहुं बोलत तात खीझत जात माखन खात। अरुन लोचन भौंह टेढ़ी बार बार जंभात॥ . कबहुं रुनझुन चलत घुटुरुनि धूरि धूसर गात। कबहुं झुकि कै अलक खैंच नैन जल भरि जात॥ . कबहुं तोतर बोल बोलत कबहुं बोलत तात। सूर हरि की निरखि सोभा निमिष तजत न मात॥ . यह पद राग रामकली में बद्ध है। . एक बार श्रीकृष्ण माखन खाते-खाते रूठ गए और रूठे भी ऐसे कि रोते-रोते नेत्र लाल हो गए। . भौंहें वक्र हो गई और बार-बार जंभाई लेने लगे। . कभी वह घुटनों के बल चलते थे जिससे उनके पैरों में पड़ी पैंजनिया में से रुनझुन स्वर निकलते थे। . घुटनों के बल चलकर ही उन्होंने सारे शरीर को धूल-धूसरित कर लिया। . कभी श्रीकृष्ण अपने ही बालों को खींचते और नैनों में आंसू भर लाते। . कभी तोतली बोली बोलते तो कभी तात ही बोलते। . सूरदास कहते हैं कि श्रीकृष्ण की ऐसी शोभा को देखकर यशोदा उन्हें एक पल भी छोड़ने को न हुई अर्थात् श्रीकृष्ण की इन छोटी-छोटी लीलाओं में उन्हें अद्भुत रस आने लगा। ~~~~~~~~~~~~~~~~~ ((((((( जय जय श्री राधे ))))))) ~~~~~~~~~~~~~~~~~

+84 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 20 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB