neetu soni
neetu soni Mar 27, 2020

+38 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 2 शेयर

कामेंट्स

Mavjibhai Patel Mar 27, 2020
जय माता दी जय माता दी जय महाकाल शुभ दोपहर

Pinu Dhiman Jai Shiva 🙏 Mar 27, 2020
Jai mata di jai Maa laxmi ji good evening my dear sister ji 🙏🌹🙏mata rani ki kirpa aap or aap ki family pr sda bni rhe aap hamesha khush rho sawest rho sukhi rho god bless u sister ji 🙏🙌🌼🍄🌼🍄🌼🍄🌼🍄🌼🍄

Mavjibhai Patel Mar 27, 2020
@makibeti जय माता दी जय माता दी जय श्री राधे कृष्णा राधे कृष्णा राधे कृष्णा राधे जय श्रीराम श्रीराम श्रीराम श्रीराम श्रीराम श्रीराम श्रीराम जय महाकाल शुभ संध्या समय समय बलवान है

Pinu Dhiman Jai Shiva 🙏 Mar 27, 2020
Good night and sweet dreams my dear sweet sister ji jai mata di 🙏⭐🙏⭐🙏⭐🙏⭐🙏⭐🙏

+19 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 7 शेयर
Shanti Pathak May 30, 2020

🌺🙏🌺जय श्री राम जय श्री हनुमानजी 🌺🙏🌺 राम नाम जप की महिमा एक गुरु युवा बालकों के एक समूह को विष्णु सहस्त्रनाम सिखा रहे थे। गुरु ने श्लोक दोहराया: श्री राम राम रामेति रमे रामे मनोरमे । सहस्रनाम तत्तुल्यं रामनाम वरानने ॥ फिर उन्होंने लड़कों से कहा, अगर तुम तीन बार राम नाम का जाप करते हो तो यह सम्पूर्ण विष्णु सहस्त्रनाम या १००० बार ईश्वर के नाम का जाप करने के बराबर है। उनमें से एक लड़का अध्यापक से सहमत नहीं था। उसने शिक्षक से प्रशन किया, गुरूजी! ३ बार = १००० बार कैसे हो सकता है? मुझे इसका तर्क समझ में नहीं आया। ३ नाम = १००० नाम कैसे? ज्ञानी तथा निपुण गुरु, जो भगवान राम के एक महान भक्त थे, ने अति सरलता से समझाया, भगवान शिव कहतें हैं कि भगवान राम का नाम सभी शब्दों से अधिक मधुर है और इस नाम का जाप, सम्पूर्ण विष्णु सहस्त्रनाम या विष्णु के १००० नामों के जाप के समतुल्य है। इस बात की पुष्टि करने के लिए कि ३ बार राम नाम का जाप = १००० बार या सम्पूर्ण विष्णु सहस्त्रनाम के जाप के बराबर है, यहाँ एक दिलचस्प संख्यात्मक गणना है- राम के नाम में संस्कृत के दो अक्षर हैं- र एवं म र (संस्कृत का द्वितीय व्यंजन : य, र, ल, व, स, श) म (संस्कृत का पाँचवा व्यंजन : प, फ, ब, भ, म) र और म के स्थान पर २ तथा ५ रखने से राम = २* ५= १० अतः तीन बार राम राम राम बोलना = २ * ५* २* ५* २* ५ = १० * १० * १० = १००० इस प्रकार ३ बार राम नाम का जाप १००० बार के बराबर है। बालक इस उत्तर से प्रसन्न हुआ और उसने पूरी एकाग्रता और निष्ठा से विष्णुसहस्त्रनाम सिखना शुरू कर दिया। आइए इस जिज्ञासु बालक का धन्यवाद करते हुए इस जानकारी को अधिकतम बंधुओं में फैलाएँ और प्रतिदिन सुबह- शाम राम नाम का जाप कम-से-कम १००० बार करें। जब किसी रीति-रिवाज़ या पूजा को करने का अर्थ या उद्देश्य दूसरों, खासकर बच्चों, को समझाते हैं तो वे इन्हें सराहते हैं। और इनका अभिप्राय समझकर, जबरदस्ती में नहीं अपितु श्रद्धा से, इनका पालन करते हैं। ज्ञान व अनुभव द्वारा बुद्धिमत्ता आती है।

+24 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Abhishek Mishra May 30, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Vinay Mishra May 30, 2020

+21 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Mahesh Malhotra May 30, 2020

+27 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+122 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 12 शेयर
Sandeep Kumar May 30, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB