चिराग
चिराग Nov 8, 2017

ॐ आप भी जान लें राधा कृष्ण की जोड़ी आखरी बार कब और कैसे अलग हुई?ॐ

ॐ आप भी जान लें राधा कृष्ण की जोड़ी आखरी बार कब और कैसे अलग हुई?ॐ

आप भी जान लें राधा कृष्ण की जोड़ी आखरी बार कब और कैसे अलग हुई?

हिन्दू धर्म में ऐसे कई रहस्य है जो बहुत कम ही व्यक्तियों को ज्ञात है. ऐसा ही एक रहस्य भगवान् कृष्ण और राधा के विषय में है. राधा कृष्ण अभिन्न है इसलिए इनका नाम एक साथ लिया जाता है राधे कृष्ण...इस नाम को जपने से व्यक्ति के सभी कष्ट दूर होते है. भगवान् श्री कृष्ण और राधा की प्रेम लीला के विषय में तो सब जानते है किन्तु क्या आप जानते है की भगवान् श्री कृष्ण के जाने के बाद राधा की मृत्यु कैसे हुई और उनकी अंतिम इच्छा क्या थी? आज हम आपको बताने जा रहे है की भगवान् श्री कृष्ण की प्रीय राधा की मृत्यु कैसे हुई?

राधा की मृत्यु का कारण - जब भगवान् कृष्ण और बलराम अपने मामा कंश के आमंत्रण पर मथुरा गए उस समय प्रथम बार राधा और कृष्ण अलग हुए. इसके पश्चात राधा और कृष्ण भगवान् की भेंट एक बार पुनः हुई जब राधा स्वयं भगवान् कृष्ण की नगरी द्वारका पहुंची. अपने सम्मुख राधा को देखकर भगवान् कृष्ण बहुत प्रसन्न हुए और दोनों ही सांकेतिक भाषा में एक दूसरे से बातें करने लगे. उस समय द्वारका नगरी में राधा को कोई भी नहीं पहचानता था. राधा के निवेदन पर भगवान् श्री कृष्ण ने उन्हें अपने महल में एक देविका के पद पर नियुक्त कर दिया जिससे वह भगवान् कृष्ण के निकट रहें.

राधा का द्वारका से प्रस्थान- समय के साथ-साथ अपनी बढ़ती उम्र के कारण उन्हें भगवान् कृष्ण से दूर जाने के लिए विवश होना पड़ा. एक दिन रात्री के समय वह बिना बताये महल से दूर किसी अज्ञात स्थान पर चली गयीं. किन्तु इसकी जानकारी भगवान् कृष्ण को थी.समय बीतने के साथ राधा एकदम अकेली हो गयीं और उनके मन में भगवान् कृष्ण के दर्शन की इच्छा प्रगट हुई. उनकी इच्छा से अवगत होकर भगवान् उनके सम्मुख आ गए.

राधा की अंतिम इच्छा - भगवान् कृष्ण को अपने सम्मुख देखकर राधा बहुत प्रसन्न हुई वह समय राधा का अंतिम समय था और वह भगवान् कृष्ण के अंतिम दर्शन करना चाहती थी.भगवान् कृष्ण ने राधा की अंतिम इच्छा जानने का आग्रह किया किन्तु राधा ने मना कर दिया. भगवान् कृष्ण के आग्रह करने के बाद उन्होंने भगवान् कृष्ण से बांसुरी बजाने का निवेदन किया और भगवान् कृष्ण की बांसुरी सुनते सुनते राधा ने अपना शरीर त्याग दिया.

Bell Milk Flower +179 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 170 शेयर

कामेंट्स

Ravi pandey Nov 8, 2017
jai shree Radhe Krishna radhe Radhe radhe Radhe radhe Radhe radhe Radhe radhe Radhe radhe Radhe radhe Radhe radhe Radhe radhe Radhe radhe Radhe radhe Radhe radhe Radhe radhe Radhe radhe Radhe radhe Radhe radhe Radhe radhe

SeemaGupta Nov 8, 2017
Jay Shree Radhey किर्श्ना

Geeta rathi Nov 8, 2017
radhe radhe koi dharmik prashnottari shuruat kare

Aechana Mishra Nov 15, 2018

Pranam Lotus Fruits +102 प्रतिक्रिया 29 कॉमेंट्स • 524 शेयर
Manju Pathak Nov 15, 2018

Bell Pranam Tulsi +87 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 716 शेयर

भगवान विष्णु के साथ क्यों हुआ था तुलसी का विवाह?☘️🌱

कार्तिक महीने की देवउठनी एकादशी को पूरे चार महीने तक सोने के बाद जब भगवान विष्णु जागते हैं तो सबसे पहले तुलसी से विवाह करते हैं. भगवान विष्णु को तुलसी बहुत प्रिय हैं और केवल तुलसी दल अर्पित करक...

(पूरा पढ़ें)
Flower Pranam Jyot +38 प्रतिक्रिया 37 कॉमेंट्स • 75 शेयर
Har Har Mahadev Nov 15, 2018

Om jai jai Om jai jai

Pranam Like +7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 116 शेयर
Aechana Mishra Nov 15, 2018

Pranam Like Fruits +58 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 185 शेयर

भगवान से कुछ मांगना है तो यही मांगो,,

Flower Pranam Fruits +216 प्रतिक्रिया 123 कॉमेंट्स • 204 शेयर
Naresh Yadav Nov 15, 2018

Pranam Like Flower +24 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 148 शेयर
Radha Krishna Nov 15, 2018

Flower Like Pranam +90 प्रतिक्रिया 50 कॉमेंट्स • 73 शेयर
Narayan Tiwari Nov 15, 2018

🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻
🌷गौ-पूजन से सौभाग्यवृद्धि* 🌷
16 नवम्बर 2018 शुक्रवार को गोपाष्टमी पर्व है ।
🐄 *कार्तिक शुक्ल अष्टमी को ‘गोपाष्टमी’ कहते हैं | यह गौ-पूजन का विशेष पर्व हैं | इस दिन प्रात:काल गायों को स्नान कराके गंध-पुष्पादि से ...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Dhoop Bell +227 प्रतिक्रिया 60 कॉमेंट्स • 38 शेयर
Dr. Ratan Singh Nov 15, 2018

🎎कार्तिक माह 🎎
🌹माहात्म्य 🌹–16-17
🌷ॐ विष्णुदेवाय नमः🌷
🌸शुभ गुरुवार🌸

सुनो लगाकर मन सभी, संकट सब मिट जायें ।
कार्तिक माहात्म का “कमल” पढो़ सोलहवां अध्याय ।।

🎎राजा पृथु ने कहा – हे नारद जी! ये तो आपने भगवान शिव की बडी़ विचित्र कथा सुनाई ह...

(पूरा पढ़ें)
Tulsi Lotus Dhoop +233 प्रतिक्रिया 89 कॉमेंट्स • 60 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB