मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें

जय श्री महालक्ष्मी,महाकाली भागल सूरत गुजरात जय श्री आशापुरी माँ रूस्तमपुरा गुजरात जय श्री मोढ़ैश्वरी मांतगी माँ मोढ़ेरा गुजरात 11-07-2019

जय श्री महालक्ष्मी,महाकाली भागल सूरत गुजरात 
जय श्री आशापुरी माँ रूस्तमपुरा गुजरात 
जय श्री मोढ़ैश्वरी मांतगी माँ मोढ़ेरा गुजरात 
11-07-2019
जय श्री महालक्ष्मी,महाकाली भागल सूरत गुजरात 
जय श्री आशापुरी माँ रूस्तमपुरा गुजरात 
जय श्री मोढ़ैश्वरी मांतगी माँ मोढ़ेरा गुजरात 
11-07-2019
जय श्री महालक्ष्मी,महाकाली भागल सूरत गुजरात 
जय श्री आशापुरी माँ रूस्तमपुरा गुजरात 
जय श्री मोढ़ैश्वरी मांतगी माँ मोढ़ेरा गुजरात 
11-07-2019
जय श्री महालक्ष्मी,महाकाली भागल सूरत गुजरात 
जय श्री आशापुरी माँ रूस्तमपुरा गुजरात 
जय श्री मोढ़ैश्वरी मांतगी माँ मोढ़ेरा गुजरात 
11-07-2019

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर

कामेंट्स

sumitra Jul 19, 2019

+1733 प्रतिक्रिया 249 कॉमेंट्स • 759 शेयर
Raj bahadur Jul 20, 2019

+11 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

जय माँ महालक्ष्मी नमो नमः सभी भक्तों और भाई-बहनों को सुप्रभात का सादर प्रणाम माता रानी आपकी मनोकामना को पूर्ण करे आप सभी को सुख समृद्धि धन वैभव मान सम्मान से परिपूर्ण करे आपका जीवन खुशियों से परिपूर्ण करे। 🔯🗼🔯🗼🔯🗼🔯🗼🔯🗼🙏🌷   माता लक्ष्मी का ये रहस्य जानकर आप रह जाएंगे हैरान... अंजू जोशी पुराणों में माता लक्ष्मी की उत्पत्ति के बारे में विरोधाभास पाया जाता है। एक कथा के अनुसार माता लक्ष्मी की उत्पत्ति समुद्र मंथन के दौरान निकले रत्नों के साथ हुई थी, लेकिन दूसरी कथा के अनुसार वे भृगु ऋषि की बेटी हैं। दरअसल, पुराणों की कथा में छुपे रहस्य को जानना थोड़ा मुश्किल होता है, इसे समझना जरूरी है। आपको शायद पता ही होगा कि शिवपुराण के अनुसार ब्रह्मा, विष्णु और महेश के माता-पिता का नाम सदाशिव और दुर्गा बताया गया है। उसी तरह तीनों देवियों के भी माता-पिता रहे हैं। समुद्र मंथन से जिस लक्ष्मी की उत्पत्ति हुई थी, दरअसल वह स्वर्ण के पाए जाने के ही संकेत रहा हो।   *जन्म समय : शास्त्रों के अनुसार देवी लक्ष्मी का जन्म शरद पूर्णिमा के दिन हुआ था। कार्तिकेय का जन्म भी शरद पूर्णिमा के दिन हुआ था। कार्तिक कृष्ण अमावस्या को उनकी पूजा की जाती है।   *नाम : देवी लक्ष्मी। *नाम का अर्थ : 'लक्ष्मी' शब्द दो शब्दों के मेल से बना है- एक 'लक्ष्य' तथा दूसरा 'मी' अर्थात लक्ष्य तक ले जाने वाली देवी लक्ष्मी। अन्य नाम : श्रीदेवी, कमला, धन्या, हरिवल्लभी, विष्णुप्रिया, दीपा, दीप्ता, पद्मप्रिया, पद्मसुन्दरी, पद्मावती, पद्मनाभप्रिया, पद्मिनी, चन्द्र सहोदरी, पुष्टि, वसुंधरा आदि नाम प्रमुख हैं।   *माता-पिता : ख्याति और भृगु। *भाई : धाता और विधाता *बहन : अलक्ष्मी *पति : भगवान विष्णु। *पुत्र : 18 पुत्रों में से प्रमुख 4 पुत्रों के नाम हैं- आनंद, कर्दम, श्रीद, चिक्लीत।   *निवास : क्षीरसागर में भगवान विष्णु के साथ कमल पर वास करती हैं। *पर्व : दिवाली। *दिन : ज्योतिषशास्त्र एवं धर्मग्रंथों में शुक्रवार की देवी मां लक्ष्मी को माना गया है।   *वाहन : उल्लू और हाथी। एक मान्यता के अनुसार भगवान विष्णु की पत्नी देवी लक्ष्मी का वाहन उल्लू है और धन की देवी महालक्ष्मी का वाहन हाथी है। कुछ के अनुसार उल्लू उनकी बहन अलक्ष्मी का प्रतीक है, जो सदा उनके साथ रहती है।

+1391 प्रतिक्रिया 151 कॉमेंट्स • 574 शेयर

+665 प्रतिक्रिया 161 कॉमेंट्स • 61 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB