Shyam Sharma
Shyam Sharma Aug 16, 2017

भलेई माता का मंदिर, चम्बा, हिमाचल

भलेई माता का मंदिर, चम्बा, हिमाचल

#देवीदर्शन
देवों की भूमि हिमाचल में बसा है भलेई ये #मंदिर भी अपने चमत्कारों के लिए दुनिया भर में मशहूर हैये मंदिर चमत्कारों से भरा पड़ा है। हिमाचल के चम्बा जिले में ये मंदिर बसा हुआ है। स्थित प्रसिद्ध देवीपीठ भलेई माता के मंदिर की बात जरा हटके है। स्थानीय लोगों की इस मंदिर के प्रति बेहद आस्था भी है। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यहां देवी माता की जो मूर्ति है, उसे पसीना आता है। लोग ये भी मानते है कि जिस समय देवी की मूर्ति को को पसीना आता है, उस वक्त ही श्रद्धालुओं की हर मनोकामना पूरी होती है।
इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि भलेई में ही देवी माता प्रकट हुई थीं। उसके बाद इस जगह पर मंदिर का निर्माण करवाया गया था। तब से लेकर अब तक यहां श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। श्रद्धालु इस इंतजार में रहते हैं कि आखिर कब देवी माता की मूर्ति को पसीना आएगा। इस तरह से श्रद्धालुओं की हर मनोकामना पूरी हो जाती है। कहा जाता है कि दिन में एक बार जरूर माता की मूर्ति को पसीना आता है। देवभूमि हिमाचल प्रदेश में चंबा जिले से करीब 40 किलोमीटर की दूरी पर शक्तिपीठ भलेई माता का मंदिर स्थित है। यह मंदिर सैकड़ों साल पुराना है। माता रानी को यहां पर भलेई को जागती ज्योत के नाम से भी पुकारते हैं। इस मंदिर के स्थापना के बारे में कहा जाता है कि भ्राण नामक स्थान पर एक बावड़ी में यह माता प्रकट हुई थीं।
उस समय उन्होंने चंबा के राजा प्रताप सिंह को सपने में दर्शन देकर उन्हें चंबा में स्थापित करने का आदेश दिया था। राजा जब मां की प्रतिमा को लेकर जा रहे थे तो उन्हें भलेई का स्थान पसंद आ गया। इस पर माता ने पुन: राजा को स्वप्न में वहीं भलेई में स्थापित करने को कहा। स्वप्न में मां द्वारा दी गई आज्ञा के अनुसार राजा ने मां की वहीं पर एक मंदिर बनवाकर देवी प्रतिमा को स्थापित करवा दिया। शुरु में कुछ समय महिलाओं का प्रवेश वर्जित रखा गया लेकिन समय के साथ यह परंपरा खत्म हो गई और वर्तमान में सभी लोग बिना किसी तरह के भेदभाव के मंदिर में दर्शन करते हैं। अपने दर्शनों के लिए आने भक्तों की मां इच्छा अवश्य पूरी करती है। स्थानीय मान्यता है कि अगर मन्नत मांगते समय मां की मूर्ति पर पसीना आ जाए तो भक्तों की मुराद अवश्य पूरी होती है। ऐसे में भक्त यहीं पर बैठकर मां की मूर्ति पर पसीना आने का घंटों इंतजार किया करते हैं क्योंकि पसीने के समय जितने भक्त मौजूद होते हैं उन सबकी मुराद पूरी हो जाती है।

Pranam Like Water +215 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 51 शेयर

कामेंट्स

S.B. Yadav Aug 20, 2017
SHYAM SHARMAJI MANDIR KE PAAS RUKNE KI VYWASTHA HAI YA NHI

H.A. Patel Oct 18, 2018

Jay mata di

Pranam Bell Tulsi +39 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Jagdish bijarnia Oct 17, 2018

Pranam Flower Like +51 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 68 शेयर
Mandira Oct 17, 2018

#मंदिर

Jyot Bell Fruits +76 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 24 शेयर
Jagdish bijarnia Oct 18, 2018

Pranam Flower Lotus +10 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 2 शेयर
naval Sharma Oct 18, 2018

श्री कामाख्या माँ के श्रीमुख के दर्शन 15 वर्षों में एक बार ही होता है।
माँ का चेहरा सदा फूलों से ढका हुआ रहता है।
Zoom करके देखिए, माँ के नयन कितने जीवंत हैं, आम इंसान जैसे ही है।
सम्भव हो तो ओरो को भी माँ के दर्शन कराए ।...

(पूरा पढ़ें)
Lotus Pranam Flower +5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 12 शेयर

भेजा है बुलावा तूने शेरावालिये
🌞⭐☀🌤🌝
🌞⭐☀⛅
🌞⭐☀
🌞⭐
🌞

Pranam Lotus Dhoop +69 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 485 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB