Barun Nag
Barun Nag May 22, 2017

BaRuN SHaRMa ने यह पोस्ट की।

#बद्रीनाथ #वीडियो #धार्मिक_गीत

Pranam Bell Dhoop +367 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 361 शेयर

कामेंट्स

Jay Kumar May 22, 2017
अध्याय 3 का श्लोक 11 (भगवान उवाच) देवान्, भावयत, अनेन, ते, देवाः, भावयन्तु, वः, परस्परम् भावयन्तः, श्रेयः, परम्, अवाप्स्यथ विशेष:- गीता अध्याय 15 श्लोक 1 से 4 में वर्णित उल्टा लटका हुआ संसार रूपी वृक्ष है, उस की जड़ (मूल) तो पूर्ण परमात्मा है तथा तना परब्रह्म अर्थात् अक्षर पुरुष है तथा डार क्षर पुरुष (ब्रह्म) है व तीनों गुण अर्थात् रजगुण ब्रह्मा जी, सतगुण विष्णु जी, तमगुण शिव जी रूपी शाखायें हैं। वृृक्ष को मूल(जड़) से ही खुराक अर्थात् आहार प्राप्त होता है। जैसे हम आम का पौधा लगायेंगे तो मूल को सीचेंगे, जड़ से खुराक तना में जायेगी, तना से मोटी डार में, डार से शाखाओं में जायेगी, फिर उन शाखाओं को फल लगेंगे, फिर वह टहनियां अपने आप फल देंगी। इसी प्रकार पूर्णब्रह्म अर्थात् परम अक्षर ब्रह्म रूपी मूल की पूजा अर्थात् सिंचाई करने से अक्षर पुरुष अर्थात् परब्रह्म रूपी तना में संस्कार अर्थात् खुराक जायेगी, फिर अक्षर पुरुष से क्षर पुरुष अर्थात् ब्रह्म रूपी डार में संस्कार अर्थात् खुराक जायेगी। फिर ब्रह्म से तीनों गुण अर्थात् श्री ब्रह्मा जी, श्री विष्णु जी, श्री शिव जी रूपी तीनों शाखाओं में संस्कार अर्थात् खुराक जायेगी। फिर इन तीनों देवताओं रूपी टहनियों को फल लगेंगे अर्थात् फिर तीनों प्रभु श्री ब्रह्मा जी, श्री विष्णु जी, श्री शिव जी हमें संस्कार आधार पर ही कर्म फल देते हैं। यही प्रमाण गीता अध्याय 15 श्लोक 16 व 17 में भी है कि दो प्रभु इस पृथ्वी लोक में है, एक क्षर पुरुष अर्थात् ब्रह्म, दूसरा अक्षर पुरुष अर्थात् परब्रह्म। ये दोनों प्रभु तथा इनके लोक में सर्व प्राणी तो नाशवान हैं, वास्तव में अविनाशी तथा तीनों लोकों में प्रवेश करके सर्व का धारण-पोषण करने वाला परमेश्वर परमात्मा तो उपरोक्त दोनों भगवानों से भिन्न है। अनुवाद: (अनेन) इस यज्ञके द्वारा (देवान्) देवताओं अर्थात् शाखाओं को (भा��

Saryu Das Jan 3, 2018
जयबालाहनुमान

CHATAN ROY May 4, 2018
जय बाबा बद्रीनाथ

taran patil Aug 14, 2018
जय श्री बद्रीनाथ🙏🙏🙏

0 कॉमेंट्स • 3 शेयर



पावन कार्तिक मास की संक्षिप्त व्याख्या

Pranam +1 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 3 शेयर



क्या आप जानते है वृन्दावन के इस मंदिर के बारे में ।।

वृन्दावन धाम में किसी भी प्रकार की सेवा के लिए समपर्क करें ।।
www.vrindavanguide.com
Phone 9837127949

Like Pranam Bell +6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 4 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB