एक मार्मिक कथा।

एक मार्मिक कथा।

💧एक बुढ़िया का स्वभाव था कि जब तक वह किसीसे लड़ न लेती, उसे भोजन नहीँ पचता था।
♠♥♠♥♠♥♠♥♠♥♠♥♠♥♠♥♠

💧बहू घर मेँ आयी तो बुढ़िया ने सोचा, 'अब घर में ही लड़ लो, बाहर किसलिए जाना ?' अब वह बात-बात पर बहू को जली-कटी सुनाती : 💧"तुम्हारे बाप ने तुम्हें क्या सिखाया है ? माँ ने क्या यही शिक्षा दी है ? अरी, बोलती क्यों नहीँ ? तेरे मुँह में जीभ नहीँ है क्या ?"
💧वह चुप साधे सुनती रहती और मुस्कुरा देती। पड़ोसी सुनकर सोचते: 'यह कैसी सास है !
💧बहू को चुप देखकर सास कहती : "अरी ! धरती पर पाँव पटकें तो भी धप की आवाज आती है और मैं इतना बोलती हूँ फिर भी तू चुप रहती है ?"
💧यह सब देखकर एक पड़ोसिन बोली: "बुढ़िया ! लड़ने का इतना ही चाव है तो हमसे लड़ ले, तेरी इच्छा पूरी हो जायेगी।इस बेचारी गाय को क्यों सताती है ?"
💧तभी बहू ने पड़ोसिन को नम्रतापूर्वक कहा : "इन्हें कुछ मत कहो मौसी! ये तो मेरी माँ हैं।माँ बेटी को नहीँ समझायेगी तो और कौन समझायेगा ? "
💧सास ने यह बात सुनी तो पानी-पानी हो गयी।उस दिन से बहू को उसने अपनी बेटी मान लिया और झगड़ा करना छोड़कर प्रेम से रहने लगी।
💧यह बहू की सहनशक्ति, सास के प्रति सदभाव और मातृत्व की भावना का ही कमाल था कि उसने सास का स्वभाव बदल दिया।
💧सास- बहू के जोड़े में चाहे सास का स्वभाव थोडा ऐसा-वैसा हो चाहे बहू का , परंतु दूसरा पक्ष थोडा सूझबूझवाला, स्नेही हो तो समय पाकर उसका स्वभाव अवश्य बदल जाता है और घर का वातावरण मंगलमय हो जाता है।
💧हे भारत की माताओँ-बहनो-देवियो ! आप अपने और परिवार के सदस्यों की जीवन-वाटिका को सुंदर-सुंदर सद्गुणोंरूपी फूलों से महका सकती हो।
💧आपमें ऐसा सामर्थ्य है कि आप चाहो तो घर को नन्दनवन बना सकती हो और उन्नति में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकती हो।

Agarbatti Pranam Like +224 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 331 शेयर

कामेंट्स

Naresh Attri Sep 14, 2017
भगवान् ऐसी सद बुद्धि सभी बहनो और बहुओ में भी देना

Like Pranam Jyot +33 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 50 शेयर

लेख सार : हमारा पूरा जीवन प्रभु कृपा से भरा हुआ है पर हमें प्रभु कृपा देखने की कला ही नहीं आती इसलिए हम प्रभु की कृपा अपने जीवन के हर प्रसंग जीवन में नहीं देख पाते । अगर हम प्रभु की कृपा देखने की कला सीख लेते हैं तो हमारा हृदय सदैव प्रभु के लिए आभ...

(पूरा पढ़ें)
+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Dhanraj Maurya Oct 17, 2018

Om jai jai Om Jai Jai Om

Pranam Like Flower +21 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 236 शेयर
Aechana Mishra Oct 17, 2018

Like Pranam Jyot +133 प्रतिक्रिया 49 कॉमेंट्स • 434 शेयर
Dhanraj Maurya Oct 17, 2018

Om jai jai Om jai jai

Lotus Like Pranam +5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 116 शेयर
Seema Sharma Oct 17, 2018

Flower Pranam Like +157 प्रतिक्रिया 71 कॉमेंट्स • 499 शेयर
Shipra Kumari Oct 17, 2018

Like Dhoop Agarbatti +49 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 314 शेयर
Dhanraj Maurya Oct 17, 2018

Om Jai Jai Om

Pranam Jyot Like +8 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 88 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB