prakash patel
prakash patel Feb 27, 2021

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Abadhesh Yadav Apr 17, 2021

+20 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 35 शेयर
RamniwasSoni Apr 17, 2021

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 56 शेयर

*🌞💥ईश्वर_कहा_रहते_है💥🌞* एक ब्राह्मण था, वह घरों पर जाकर पूजा पाठ कर अपना जीवन यापन किया करता है. एक बार उस ब्राह्मण को नगर के राजा के महल से पूजा के लिये बुलावा आया. वह ब्राम्हण राजमहल का बुलावा पाकर खुशी खुशी पूजा करने गया | पूजा सम्पन्न कराकर जब ब्राह्मण घर को आने लगा तब राजा ने ब्राह्मण से एक सवाल किया - हे ब्राम्हण देव आप कहते है, भगवान की पूजा बात करते है तो यह बताये की भगवान कहाँ रहते है? और भगवान की नजर किस ओर है? और भगवान क्या कर सकते है. राजा के सवाल सुन ब्राम्हण अचंभित हो गया और कुछ समय विचार करने के बाद राजा से कहा - हे राजन इस सवाल के जवाब के लिए मुझे समय दीजिए. राजा ने ब्राम्हण को एक माह का समय दिया. राजा प्रतिदिन यही सोच मे उलझा रहता कि इसका जवाब क्या होगा. ऐसा करते करते समय बीतता गया और कुछ ही दिन शेष रह गया. समय बीतने के साथ ब्राहमण की चिंता भी बढ़ने लगी और जवाब नही मिलने के कारण ब्राह्मण उदास रहने लगा. एक दिन ब्राम्हण को चिंतित देख ब्राम्हण के पुत्र ने कहा पिता जी आप इतने उदास क्यो है. तब ब्राम्हण ने कहा बेटा कुछ दिनों पहले में पूजा कराने राजमहल गया हुआ था, पूजा सम्पन्न कराकर जब मैं वापस आ रहा था तब राजा ने मुझसे एक सवाल पूछा था. राजा ने कहा था कि भगवान कहाँ रहते है? भगवान क्या कर सकते है और भगवान की नजर किस ओर है. राजा के सवाल का जवाब मुझे उस समय नही सुझा तो मैने उनसे कुछ समय मांगा था, जिसके जवाब के लिये राजा ने मुझे एक माह की समय दिया था और वह एक माह बीतने वाला है लेकिन इसका जवाब मेरे पास नही है, इसलिए मैं चिंतित हूँ. ब्राम्हण की बात सुनकर उनका पुत्र बोला पिता जी इसका जवाब मैं राजा को दूंगा. आप मुझे साथ ले चलिये|एक माह पूरा हुआ तब ब्राह्मण अपने पुत्र को लेकर राजमहल गया और राजा से कहा हे राजन आपके सवाल का जवाब मेरा पुत्र देगा| तब राजा ने ब्राम्हण के पुत्र से वही सवाल पूछा बताओ भगवान कहाँ रहते है, भगवान की नजर किस ओर है तथा भगवान क्या कर सकते हैं ? उस ब्राम्हण पुत्र ने राजा से कहा - हे राजन, क्या आपके राज्य मे पहले अतिथि का आदर सम्मान नही किया जाता. यह सुन राजा को थोड़ा लज्जित महसूस हुआ. पहले उस बालक को आदर सत्कार के साथ स्थान दिया गया फिर पीने हेतु दास के दूध लाया गया. वह बालक दूध के गिलास पकड़कर दूध में अंगुली डालकर घुमाकर बार बार दूध को बाहर निकालकर देखने लगा. यह देख राजा ने पूछा ये क्या कर रहे हो? बालक ने कहा - सुना है दूध में मक्खन होता है. मैं वही देख रहा हूं कि दूध में मक्खन कहाँ है? आपके राज्य के दूध से तो मक्खन ही गायब है. राजा ने कहा दूध में मक्खन होता है, परन्तु वह ऐसे दिखाई नहीं देता. जब दूध को जमाकर दही बनाया जाता है, और फिर दही को मथा जाता हैं तब जाकर मक्खन प्राप्त होता है. ब्राहमण के पुत्र ने कहा- महाराज यह आपके पहले सवाल का जवाब है. जिस तरह दूध से दही और फिर दही को मथने से मक्खन प्राप्त होता है, उसी प्रकार परमात्मा प्रत्येक जीव के अन्दर विद्यमान होते है. परंतु उन्हें पाने के लिये सच्ची भक्ति कब आवश्यकता होती है. मन से ध्यानपूर्वक भक्ति करने पर आत्मा में छुपे हुए परमात्मा का आभास होता है. राजा ब्राम्हण के पुत्र के जवाब से खुश हुआ और कहा अब मेरे दूसरे सवाल का जवाब दो, भगवान किस ओर देखते है? उस बालक ने कहा राजा इसका जवाब में दूंगा परंतु मुझे इसके लिये एक मोमबत्ती की आवश्यकता है. राजा ने तुरंत मोमबत्ती मंगाई और उस बालक को दिया. उस बालक ने मोमबत्ती को जलाकर कहा राजा आप बताये - कि इस मोमबत्ती की रोशनी किस ओर हैं? राजा ने कहा इसकी रोशनी चारों दिशा में एक समान है. तब उस बालक ने कहा हे राजन यह आपके दूसरे सवाल का जवाब है. क्योंकि परमात्मा सर्वदृष्टा है और उनकी नजर सभी प्राणियों के कर्मों की ओर परस्पर रहती है. राजा उस बालक को जवाब से अत्यधिक प्रसन्न हो गये. अब तो वे अंतिम प्रश्न के उत्तर दे लिये और भी उत्सुक हो उसे. राजा ने कहा मेरे अंतिम सवाल का जवाब दो कि भगवान क्या कर सकते है? बालक ने कहा - हे राजन मैं इस सवाल का उत्तर अवश्य दूंगा परंतु इसके लिये मुझे आपकी जगह पर और आपको मेरी जगह पर आना होगा. राजा को तो उत्तर जाने की उत्सुकता थी वो अपनी सहमति दे दिये. वह बालक राजा के सिहासन पर बैठा और कहा राजन आपके अंतिम सवाल का जवाब यह है, आपने कहा न कि भगवान क्या कर सकते है तो भगवान यह कर सकते कि मुझ जैसे रंक को राज सिहासन पर बैठा सकते है और आप जैसे राजा को मुझ जैसे सवाली के स्थान पर अर्थात राजा को रंक और रंक को राजा बना सकते है यह आपके अंतिम सवाल का जवाब हैं. राजा उस ब्राह्मण पुत्र के जवाब से अत्यधिक प्रसन्न हुए और उसे अपना सलाहकार बना लिया. भगवान हर एक जीव के ह्रदय में निवास करते है. परमात्मा के साथ प्रेम करेंगे तो वह आपको सही मार्ग दिखाएंगे. इसलिए हर जीव को पूजा-पाठ, भजन-कीर्तन करना चाहिए. जिससे आप अपने अंदर के उस शक्ति से जुड़ सके जो आपके भीतर ही मौजूद है लेकिन आप उसे पहचान नहीं पा रहे..!! *🙏🏻🙏🏽🙏जय जय श्री राधे*🙏🏿🙏🏼🙏🏾

+38 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 176 शेयर
Jai Mata Di Apr 17, 2021

+88 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 64 शेयर
Gulshan Kumar Apr 17, 2021

+60 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 87 शेयर
Anita Sharma Apr 17, 2021

🔔🔔🔔🔔 . जाबनेर ग्राम में एक संतसेवी भक्त श्री गोपाल जी रहते थे। भगवान् से भक्त को इष्ट मानने की, सेवा करने की प्रतिज्ञा उन्होंने की थी और उसका पालन किया। . श्री गोपाल जी के कुल मे एक सज्जन (काकाजी) विरक्त वैष्णव हो गए थे। उन्होने सन्तो के मुख से इनकी निष्ठा प्रशंसा सुनी कि श्री गोपाल जी भक्तोंको इष्टदेव मानते हैं। . तब वे विरक्त संत श्री गोपाल भक्त की परीक्षा लेने के विचार से उनके द्वारपर आये। . इन्हें आया देखकर श्री गोपाल भक्त जी ने झट आकर सप्रेम साष्टांग दण्डवत् प्रणाम किया कि.. भगवन् ! अपने निज घर में पधारिये। . उन्होने (परीक्षा की दृष्टि से ) उत्तर दिया कि.. मेरी प्रतिज्ञा है कि मैं स्त्री का मुख न देखूंगा। तुम्हरे घर के भीतर जाकर मैं अपनी इस प्रतिज्ञा को कैसे छोड दूं ? . तब श्री गोपाल जी ने कहा.. आप अपनी प्रतिज्ञा न छोडिये। परिवार की सभी स्त्रियां एक ओर अलग छिप जायेंगी। आपके सामने नहीं आयेगी। . ऐसा कहकर घर के अंदर जाकर उन्होने सब स्त्रियो को अलग कमरे में छिपा दिया। तब इनको अंदर ले आये। . घर की स्त्रियां भी संतो में बड़ी निष्ठा रखती थी.. अतः इसी बीच सन्त दर्शन के भाव् से या कौतुकवश एक स्त्री ने बहार झाँककर संत जी को देखा.. . स्त्री की झांकते ही उन संत ने गोपाल भक्त के गालपर एक तमाचा मारा। श्री गोपालजी के मन मे जरा सा भी कष्ट नहीं हुआ। . श्री गोपाल जीे हाथ जोडकर बोले.. महाराज जी ! आपने एक कपोल (गाल ) को तमाचा प्रसाद दिया, वह तो कृतार्थ हो गया। . दूसरा आपके कृपाप्रसाद से वंचित रह गया। अत: उसे रोष हो रहा है, एक गाल को तो संत की कृपा प्राप्त हो गयी और दूसरा बिना कृपा के ही रह गया। . कृपा करके इस कपोलपर भी तमाचा मारकर इसे भी कृतार्थ कर दीजिये। . प्रियवाणी सुनकर उन वैष्णव संत के नेत्रो मे आसू भर आये। वह श्रीगोपाल जी के चरणो मे लिपट गए क्या और बोले.. . आपकी सन्तनिष्ठा अलौकिक है। मैने आकर आपकी परीक्षा ली। . आज मुझे आपसे बहुत बड़ी यह शिक्षा मिली कि भक्त को अति सहनशील होना चाहिये तथा भगवान् के भक्त को भगवान् से भी बढ़कर मानना चाहिये।

+59 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 39 शेयर
Neeru Devi Apr 17, 2021

+15 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 23 शेयर
❤Dev❤ Apr 17, 2021

+53 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 7 शेयर

+227 प्रतिक्रिया 76 कॉमेंट्स • 50 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB