मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें
surinder sharma
surinder sharma May 23, 2019

+10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 8 शेयर

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Vinod Kumrawat Jun 16, 2019

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+71 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 113 शेयर
Mamta Chauhan Jun 18, 2019

+194 प्रतिक्रिया 51 कॉमेंट्स • 44 शेयर
Ajanta electric bike Jun 18, 2019

+26 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 20 शेयर

+32 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 18 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

श्री भगवान् की ऐश्वर्य लीला ब्रज में एक बार सब ग्वाल बाल जिद पे अड़ गए,और श्री भगवान से उनका ईश्वरिय रूप दिखाने की जिद करने लगे। बोलने लगे.... अरे कृष्णा मेरे बाबा बोलते है की तू भगवान है। क्या तू सच में भगवान है ? अगर है तो अपना भगवान वाला रूप दिखा, दूसरा गोप बालक बोला हा ये भगवान है मेरी मइया बोलती है जब ये पैदा हुआ था तो जेल के दरवाजे अपने आप खुल गए थे और देवी दुर्गा दुष्ट कंस को चेतावनी देते हुए बोली थी की रे मुर्ख कंस त्रिभुवन पति का जन्म हो चूका है तू उनसे नहीं बच सकता वो समस्त देवताओ के भी स्वामी है और वो ही तेरा संहार करेंगे। एक और ग्वाल बाल बोला मेरे बाबा बोलते है ना जब ये पैदा हुआ था तो भगवान शिव इसके दर्शन को आये थे। इसको गोद में लेकर खूब प्रेम कर रहे थे प्रेम वश महादेव की आँखों से अश्रु प्रवाहित हो रहे थे। और बार बार बोल रहे थे कि ये ही समस्त सृष्टि के ईश्वर है जो आज बाल रूप में मेरे गोद में है,मैं हमेशा समाधि लगाकर इनका ध्यान करता हूं,इनके ही नाम का सैदव जाप करता रहता हुँ । तो इसका मतलब हमारा कान्हा सच में भगवान हैं। एक गोप बालक बोला नहीं मेरी मैया बोलती है कि कान्हा तो हम लोग जिनको भगवान समझते है ये उनका भी भगवान है। शिव जी ,ब्रम्हा जी ,देवी जी,समस्त देवताओं ने इसके ऊपर पुष्प वर्षा की थी इसके जन्मोत्सव के अवसर पर .......और ये जन्म लेते ही असुरो को मारने लगा था। ये हमारा कान्हा ही सच्चा भगवान है। फिर तो सब गोप बालक मिल कर बोले.... सुन कान्हा आज अपना भगवान वाला रूप दिखा हम सबको। सब सुन लो भाई अगर आज कृष्णा ने हमको,अपना भगवान वाला रूप नहीं दिखाया तो इसको अपने साथ गेंद नहीं खेलने देंगे। और आगे से भी इसके साथ कोई नहीं खेलेगा। भक्तवत्सल श्री भगवान ग्वाल बालकों की जिद मान गए और अगले ही पल गोपवृन्द बैकुंठ धाम में पहुच गये। वहाँ का ऐश्वर्य भला कौन वर्णन कर सकता है। हजारों जन्मो की तपस्या से भी जिस धाम में जाना असम्भव है। योगी,मुनि ॐ जप कर लाख जतन करते हैं बैकुंठ दर्शन करने को,.... धन्य है वो गोप बालक जो अपने कृष्ण से इतना प्रेम करते है की स्वमं भगवान उनके संग खेल रहे है और प्रेमवश अपने बैकुंठ धाम का दर्शन भी करा रहे है। ये है जीव का ईश्वर से परम प्रेम जो पूर्ण पुरुषोत्तम भी अपने अधीन कर लेता है। ग्वाल बालक देखते है की बैकुंठ में कान्हा महाराजा के जैसे एक रत्नजड़ित ऊँचे सिंहासन पे विराजित है और और समस्त देवी देवता उनका उत्तम स्तोत्रों से स्तुति कर रहें हैं। गोप बालक सबसे पीछे है वो अपने कान्हा की स्तुति होते हुए देख रहें हैं।काफी समय हो गया श्री भगवान की स्तुति तो बंद ही नहीं हो रही समस्त देवगण उनकी स्तुति सेवा में लगे ही हैं। सेवा,आरती ,स्तुति ,पूजा चलती ही जा रही रही है....... अब तो बहुत समय हो गया, गोप बालकों से रहा नहीं गया किसी तरह से हिम्मत जुटा कर एक गोप बालक ने पीछे से आवाज दे ही दिया ........ये कान्हा गइया कब चऱायेगा ? गोधन बेला हो गई बालक के इतना बोलते ही श्री भगवान की स्तुति में लगें देवगण भी पीछे मुड़कर देखने लगें गोप बालक तो डर गए किन्तु देवगण सोचने लगे धन्य हैं ब्रज के ये सब बालक, ना जाने कितने जन्मों के उनके पुण्य है जो ब्रज में जन्म लिए और समस्त चराचर पति हम देवताओं के स्वामी उनसे इतना स्नेह करते है। मनुष्य रूप में उनके संग बाल लीला करते है। ब्रज के ग्वालबालों की जय हो। अगले ही पल श्री भगवान ने अपने ऐश्वर्य लीला का समापन कर दिया सभी गोपवृन्द वापस ब्रज में अपने सखा कृष्ण के साथ खेल खेलने में व्यस्त हो गए। वो अपने कृष्ण को भगवान नहीं अपना सखा मानते है। उनका कान्हा अब उनके साथ है,वो सब मिलकर गइया चऱायंगे, खेल खेलेंगे ,कान्हा उनके साथ भोजन करेंगे। समस्त ऐशवर्य कि देवी श्रीमती लक्ष्मी देवी भगवान के कोमल चरणकमलो की सेवा में सदा लगी रहती है। सारे देवगण श्री भगवान की सेवा में सदा लगे रहते है। भगवान कृष्ण समस्त जीवो के रचयिता है सबसे प्रेम करते है हम सबको भी उनसे प्रेम करना चाहिए। श्री भगवान अपने भक्तों के प्रेम के भूखे है। माधव भक्तवत्सल करुणासागर है। हम कृष्ण से थोड़ा सा भी प्रेम करे तो बदले में वो हमसे कई गुना ज्यादा प्रेम करते है ये उनकी दायलुता है। भगवान श्री कृष्ण की जय हो। महामंत्र नित्य जपे.... हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे। और खुश रहे।

+21 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 41 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB