🌷Om Sai Shyam🌷
🌷Om Sai Shyam🌷 Mar 1, 2021

🌲Om Sai Shyam🌲 🌷Om Namah Shivay 🌷 😀Good MORNING😀 ☘☘☘🌹☘☘☘

🌲Om Sai Shyam🌲  
   🌷Om Namah Shivay 🌷
     😀Good MORNING😀
        ☘☘☘🌹☘☘☘
🌲Om Sai Shyam🌲  
   🌷Om Namah Shivay 🌷
     😀Good MORNING😀
        ☘☘☘🌹☘☘☘

+43 प्रतिक्रिया -6 कॉमेंट्स • 5 शेयर
ramkumarverma Apr 13, 2021

+90 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 243 शेयर

+60 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 218 शेयर

+106 प्रतिक्रिया 21 कॉमेंट्स • 78 शेयर
Devel Dublish Apr 13, 2021

द्वितीय नवदुर्गा: माता ब्रह्मचारिणी मंत्र :- दधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलु | देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा || [3] ब्रह्मचारिणी माँ की नवरात्र पर्व के दूसरे दिन पूजा-अर्चना की जाती है[1]। साधक इस दिन अपने मन को माँ के चरणों में लगाते हैं। ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली। इस प्रकार ब्रह्मचारिणी का अर्थ हुआ तप का आचरण करने वाली। इनके दाहिने हाथ में जप की माला एवं बाएँ हाथ में कमण्डल रहता है। यह जानकारी भविष्य पुराण[2] से ली गई हे। इस दिन साधक कुंडलिनी शक्ति को जागृत करने के लिए भी साधना करते हैं। जिससे उनका जीवन सफल हो सके और अपने सामने आने वाली किसी भी प्रकार की बाधा का सामना आसानी से कर सकें। माँ दुर्गाजी का यह दूसरा स्वरूप भक्तों और सिद्धों को अनन्तफल देने वाला है। इनकी उपासना से मनुष्य में तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार, संयम की वृद्धि होती है। जीवन के कठिन संघर्षों में भी उसका मन कर्तव्य-पथ से विचलित नहीं होता। माँ ब्रह्मचारिणी देवी की कृपा से उसे सर्वत्र सिद्धि और विजय की प्राप्ति होती है। दुर्गा पूजा के दूसरे दिन इन्हीं के स्वरूप की उपासना की जाती है। इस दिन साधक का मन ‘स्वाधिष्ठान ’चक्र में शिथिल होता है। इस चक्र में अवस्थित मनवाला योगी उनकी कृपा और भक्ति प्राप्त करता है।

+20 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 27 शेयर
Ramesh Agrawal Apr 13, 2021

+30 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 138 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB