चिराग
चिराग Oct 31, 2017

देवउठनी एकादशी की सुबह भूलकर भी ना करें ये काम

देवउठनी एकादशी की सुबह भूलकर भी ना करें ये काम
देवउठनी एकादशी की सुबह भूलकर भी ना करें ये काम
देवउठनी एकादशी की सुबह भूलकर भी ना करें ये काम
देवउठनी एकादशी की सुबह भूलकर भी ना करें ये काम

देवउठनी एकादशी की सुबह भूलकर भी ना करें ये काम

एकादशी का पर्व श्रीहरि विष्णु और उनके अवतारों के पूजन का पर्व है. श्रीहरि की उपासना की सबसे अद्भुत एकादशी कार्तिक महीने की एकादशी होती है जब श्रीहरि जागते हैं. इसी दिन वह अपनी प्रिय तुलसी से विवाह करते हैं. आइए जानते हैं इस दिन भूलकर भी कौन से काम नहीं करने चाहिए...


एकादशी के दिन चावल नहीं खाना चाहिए, इसे खाने से व्यक्ति का मन चंचल होता है और प्रभु भक्ति में मन नहीं लगता है.


एकादशी की सुबह दातून करना वर्जित है. इस दिन किसी पेड़-पत्ती की फूल-पत्ती तोड़ना वर्जित है.


एकादशी के दिन उपवास करें या ना करें लेकिन ब्रह्माचर्य का पालन करें. इस दिन संयम रखना जरूरी है.


एकादशी के दिन झूठ नहीं बोलें, इससे पाप लगता है. झूठ बोलने से मन दूषित हो जाता है और दूषित भक्ति से पूजा नहीं की जाती है. एकादशी के दिन भूलकर भी क्रोध नहीं करें.


एकादशी को बिस्तर पर नहीं, जमीन पर सोना चाहिए. मांस और नशीली वस्तुओं का सेवन भूलकर ना करें. स्नान के बाद ही कुछ ग्रहण करें.

+176 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 151 शेयर

कामेंट्स

Tarun Mishra Oct 31, 2017
ओम नमो भगवते वासुदेवाय

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB