मोहन
मोहन Aug 23, 2017

"जानिए गणेश जी का असली मस्तक कटने के बाद कहां गया"

"जानिए गणेश जी का असली मस्तक कटने के बाद कहां गया"

जानिए गणेश जी का असली मस्तक कटने के बाद कहां गया

भगवान गणेश गजमुख, गजानन के नाम से जाने जाते हैं, क्योंकि उनका मुख गज यानी हाथी का है। भगवान गणेश का यह स्वरूप विलक्षण और बड़ा ही मंगलकारी है।

आपने भी श्रीगणेश के गजानन बनने से जुड़े पौराणिक प्रसंग सुने-पढ़े होंगे। लेकिन क्या आप जानते हैं या विचार किया है कि गणेश का मस्तक कटने के बाद उसके स्थान पर गजमुख तो लगा, लेकिन उनका असली मस्तक कहां गया? जानिए, उन प्रसंगों में ही उजागर यह रोचक बात –

श्री गणेश के जन्म के सम्बन्ध में दो पौराणिक मान्यता है। प्रथम मान्यता के अनुसार जब माता पार्वती ने श्रीगणेश को जन्म दिया, तब इन्द्र, चन्द्र सहित सारे देवी-देवता उनके दर्शन की इच्छा से उपस्थित हुए। इसी दौरान शनिदेव भी वहां आए, जो श्रापित थे कि उनकी क्रूर दृष्टि जहां भी पड़ेगी, वहां हानि होगी। इसलिए जैसे ही शनि देव की दृष्टि गणेश पर पड़ी और दृष्टिपात होते ही श्रीगणेश का मस्तक अलग होकर चन्द्रमण्डल में चला गया।

इसी तरह दूसरे प्रसंग के मुताबिक माता पार्वती ने अपने तन के मैल से श्रीगणेश का स्वरूप तैयार किया और स्नान होने तक गणेश को द्वार पर पहरा देकर किसी को भी अंदर प्रवेश से रोकने का आदेश दिया। इसी दौरान वहां आए भगवान शंकर को जब श्रीगणेश ने अंदर जाने से रोका, तो अनजाने में भगवान शंकर ने श्रीगणेश का मस्तक काट दिया, जो चन्द्र लोक में चला गया। बाद में भगवान शंकर ने रुष्ट पार्वती को मनाने के लिए कटे मस्तक के स्थान पर गजमुख या हाथी का मस्तक जोड़ा।

Pranam Flower Dhoop +205 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 83 शेयर

कामेंट्स

Samyak Jain Aug 24, 2017
मस्तक कहा गया, यह तो बताया ही नहीं । कृपया पूरी कथा बताइए

"शिव गायत्री मंत्र- ।। ॐ तत्पुरुषाय विद्महे महादेवाय धीमहि तन्नो रुद्रः प्रचोदयात ।।

शिव नमस्कार मंत्र

पूजा से पूर्व इस मंत्र का उच्चारण करते हुए भगवान शिव का ध्यान करें: “नमः शम्भवाय च मयोभवाय च नमः शन्कराय च मयस्कराय च नमः शिवाय च शिवतराय च।। ...

(पूरा पढ़ें)
Flower Jyot Belpatra +63 प्रतिक्रिया 25 कॉमेंट्स • 58 शेयर
Narayan Tiwari Dec 16, 2018

🌿🌹🌻🌿🌹🌻🌿🌹🌻🌿🌹🌻🌿🌹🌻🌿
श्री शिव जी के सिर पर चन्द्र कैंसे पहुंचे-:--:- शि‌व पुराण के अनुसार चन्द्रमा का विवाह दक्ष प्रजापति की 27 कन्याओं से हुआ था। यह कन्‍याएं 27 नक्षत्र हैं। इनमें चन्द्रमा रोहिणी से विशेष स्नेह करते थे। इसकी शिकायत जब...

(पूरा पढ़ें)
Belpatra Like Flower +97 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 40 शेयर
Kamal Kumar Varshney Dec 16, 2018

Pranam +4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 14 शेयर
sanjay vishwakarma Dec 16, 2018

राधे राधे जी🌺🌺🌺🌺🌺🌺
सुप्रभात जी🙏🙏🙏🙏🙏

Like Pranam +7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 45 शेयर
Ashish shukla Dec 16, 2018

Like Pranam Lotus +128 प्रतिक्रिया 33 कॉमेंट्स • 286 शेयर
Bhagirath Jangid Dec 16, 2018

Fruits Like Jyot +81 प्रतिक्रिया 17 कॉमेंट्स • 148 शेयर

🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏
❇️शुभ रात्रि वंदन जी❇️

Pranam Like Lotus +47 प्रतिक्रिया 29 कॉमेंट्स • 211 शेयर
Queen Dec 16, 2018

🌷 radhe radhe 🌷 radhe radhe 🌷
🌷 radhe radhe 🌷 radhe radhe 🌷
🌷 🌸 🌹 🌺 🌹 🌷🌺🌸🌹🍀🍁🌷

Pranam Tulsi Like +14 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 128 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB