दशावतार स्तोत्रम् (जयदेव-गीत गोविन्दम्)

दशावतार स्तोत्रम् (जयदेव-गीत गोविन्दम्)

दशावतारस्तोत्रम्

(जयदेवकृतं, अष्टपदी अन्तर्गतम्)

प्रलयपयोधिजले  धृतवानसि वेदम्
विहितवहित्रचरित्रमखेदम् ।
केशव धृत *मीन*शरीर
जय जगदीश हरे ॥ १ ॥
🐟💦🛥
   

क्षितिरतिविपुलतरे तव तिष्ठतिपृष्ठे
धरणिधरणकिणचक्रगरिष्ठे ।
केशव धृत *कच्छप*रूप
जय जगदीश हरे ॥ २ ॥
🐢🌋✨

वसति दशनशिखरे धरणी तव लग्ना
शशिनि कलङ्ककलेव निमग्ना ।
केशव धृत *सूकर*रूप
जय जगदीश हरे ॥ ३ ॥
🌏🐗🗺

तव करकमलवरे नखमद्भुतशृङ्गम्
दलितहिरण्यकशिपुतनुभृङ्गम्|
केशव धृत *नरहरि*रूप
जय जगदीश हरे ॥ ४ ॥
🦁👳🏻‍♂💥
   
छलयसि विक्रमणे बलिमद्भुतवामन
पदनखनीरजनित जनपावन ।
केशव धृत *वामन*रूप
जय जगदीश हरे ॥ ५ ॥
👶🏻☂👣

क्षत्रियरुधिरमये जगदपगतपापम्
स्नपयसिपयसि शमितभवतापम् ।
केशव धृत *भृगुपति*रूप
जय जगदीश हरे ॥ ६ ॥
🧔⚔📿
   

वितरसि दिक्षु रणे दिक्पतिकमनीयम्
दशमुखमौलिबलिं रमणीयम् ।
केशव धृत *रघुपति*वेष
जय जगदीश हरे ॥ ७ ॥
🌳👳🏾‍♂🚩
   

वहसि वपुषि विशदे वसनं जलदाभम्
हलहतिभीतिमिलितयमुनाभम् ।
केशव धृत *हलधर*रूप जय जगदीश हरे ॥ ८ ॥
🐉⛏👳🏻‍♀
   

निन्दसि यज्ञविधेरहह श्रुतिजातम्
सदयहृदय दर्शितपशुघातम् ।
केशव धृत *बुद्ध*शरीर
जय जगदीश हरे ॥ ९ ॥
💆🏻‍♂👳‍♂🕎

म्लेच्छनिवहनिधने कलयसि करवालम्
धूमकेतुमिव किमपि करालम् ।
केशव धृत *कल्कि*शरीर
जय जगदीश हरे ॥ १० ॥
🐎🧑🏻🗡

श्रीजयदेवकवेरिदमुदितमुदारम्
शृणु सुखदं शुभदं भवसारम् ।
केशव धृतदशविधरूप
जय जगदीश हरे ॥ ११ ॥
1⃣0⃣🔄

वेदानुद्धरते जगन्निवहते भूगोलमुद्बिभ्रते
दैत्यं दारयते बलिं छलयते क्षत्रक्षयं
कुर्वते।
पौलस्त्यं जयते हलं कुलयते
कारुण्यमातन्वते
म्लेच्छान् मूर्च्छयते दशाकृतिकृते
कृष्णाय तुभ्यं नमः ॥ १२ ॥
🙏🙌👏
                ***

ॐ नमः शिवाय जय श्री जगन्नाथ जय श्री कृष्ण

Pranam Fruits Like +216 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 126 शेयर

कामेंट्स

Sandeep Chatterjee Nov 5, 2017
जय जगन्नाथ महाप्रभु हर हर महादेव

Dhoop Pranam Jyot +57 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 127 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB