Sandeep Jain
Sandeep Jain Dec 22, 2016

Sandeep Jain ने यह पोस्ट की।

Sandeep Jain ने यह पोस्ट की।

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

Jai Shri Krishna हे! आनंद कंद, देवकी नंद, दुखियों का उद्धार करो । जग को बचाने, कष्ट मिटाने, हे कृष्ण! फिर से धरा पर अवतार करो। मानव ही नहीं प्रकृति भी तड़प रहे, दुख से पीड़ित हो प्राणी बिलख रहे, कितने कुब्जा की आँखें तरस रहे, करुणा औषधि की बरसात करो हे प्रभु! फिर से सुखी संसार करो फिर गीता की अमृत दान करो, जग को बचाने, कष्ट मिटाने, हे कृष्ण! फिर से धरा पर अवतार करो । हे! आनंद कंद, देवकी नंद, दुखियों का उद्धार करो । जग को बचाने, कष्ट मिटाने, हे कृष्ण! फिर से धरा पर अवतार करो । पल – पल द्रोपदी पुकार रही, पग – पग दुशासन की है साहस बढ़ी, हे! निर्दोष के सखा सहारे, अब ना ज्यादा देर करो, कलयुगी कंस, दुशासन का अब आकर के संहार करो, हे प्रभु! दुष्टों का नाश करो, फिर से कर में चक्र धरो। जग को बचाने, कष्ट मिटाने, हे कृष्ण! फिर से धरा पर अवतार करो । हे आनंद कंद, देवकी नंद, दुखियों का उद्धार करो । जग को बचाने, कष्ट मिटाने, हे कृष्ण! फिर से धरा पर अवतार करो । लाखों सुदामा, ओ मेरे कृष्णा! आज भी जग में भटक रहे, उसके आँसू पोंछ दो आकर, दुख से पीड़ित सब बिलख रहे, शरणागत की आस की झोली सुख वैभव से भरपूर करो । दुखिया के दुख अब दूर करो । फिर से प्रभु! शंख नाद करो । जग को बचाने, कष्ट मिटाने, हे कृष्ण! फिर से धरा पर अवतार करो । हे आनंद कंद, देवकी नंद, दुखियों का उद्धार करो । जग को बचाने, कष्ट मिटाने, हे कृष्ण! फिर से धरा पर अवतार करो । घोर अज्ञान है चारों ओर, प्रभु ज्ञान का प्रकाश भरो, ईर्ष्या, द्वेष, मद, लोभ, प्रपंच का नाग फुफकार रहे, जाने कितने शकुनी, धृतराष्ट्र घर – घर अपनी चाल चल रहे, कलयुगी कालिया, धृतराष्ट्र, शकुनी का हे नाथ! गर्व अब चूर करो, हर दिल में प्रेम के गीत भरो, फिर से वंशी मुख अधर धरो, जग को बचाने, कष्ट मिटाने, हे कृष्ण! फिर से धरा पर अवतार करो । आनंद कंद, देवकी नंद, दुखियों का उद्धार करो । जग को बचाने, कष्ट मिटाने, हे कृष्ण! फिर से धरा पर अवतार करो।।👏👏👏👏👏👏👏👏👏🌹श्री कृष्ण गोविंद हरे मुरारी🌹 🌹हे नाथ नारायण वासुदेवा 🌹 आपको एवम आपके पुरेपरिवार एवम ईष्ट मित्रो को भी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की बहुत बहुत हार्दिक बधाई एवम शुभकामनाये । 🙏🌺जय श्रीकृष्ण🌺🙏🍅✴☀❣जय मां अंबे भवानी ❣☀✴🍅❣ 🍂🐚 गंगा गीता गायत्री 🍂🐚 (¯`•.•´¯) *`•.¸(¯`•.•´¯)¸.•´ `•.¸.•´ ჱܓ*“ 🍅✴☀✴☀✴☀✴☀✴☀✴☀✴🍅 ☆*´¨`☽  ¸.★* ´¸.★*´¸.★*´☽ (  ☆** Ψ त्रिवेणी घाट हरिद्वार .Ψ `★.¸¸¸. ★• ° 🙏सेवक भरत व्यास बांगा हिसार त्रिवेणी घाट हरिद्वार

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 8 शेयर
Shuchi Singhal Aug 9, 2020

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Kamlesh Aug 8, 2020

+23 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 43 शेयर

जय माता दी कैसे मान लूँ की तू पल पल में शामिल नहीं, कैसे मान लूँ की तू हर चीज़ में हाज़िर नहीं, कैसे मान लूँ की तुझे मेरी परवाह नहीं, कैसे मान लूँ की तू दूर है पास नहीं, देर मैने ही लगाईं पहचानने में मेरे माते.. वरना तूने जो दिया उसका तो कोई हिसाब ही नहीं, जैसे जैसे मैं सर को झुकाता चला गया ...वैसे वैसे तू मुझे उठाता चला गया...!! 🙏जय माता दी 🙏*मैंने एक फूल से कहा*:... कल तुम मुरझा जाओगे:..! *फिर क्यों मुस्कुराते हो* ..? व्यर्थ में यह ताजगी ... *किस लिए लुटाते हो* ..?? फूल चुप रहा...!! *इतने में एक तितली आई* ..! पल भर आनंद लिया ..! *उड गई* ..!! एक भौंरा आया..! *गान सुनाया* ..! सुगंध बटोरी..! *और आगे बढ गया* ..!! एक मधुमक्खी आई..! *पल भर भिन भिनाई* ..! पराग समेटा ..! और ... *झूमती गाती चली गई* ..!! खेलते हुए एक बालक ने ... *स्पर्श सुख लिया* ..! रूप-लावण्य निहारा..! *मुस्कुराया*..! और... खेलने लग गया..!! *तब फूल बोला*:----- मित्र: ! *क्षण भर को ही सही*:... मेरे जीवन ने कितनों... *को सुख दिया* ..! क्या तुमने भी कभी..? *ऐसा किया* कल की चिन्ता में ... *आज के आनंद में* ... विराम क्यो करूँ..? *माटी ने जो* ... रूप; रंग; रस; गंध दिए ..! *उसे बदनाम क्यो करूँ*..? मैं हँसता हूँ..! क्योंकि... *हँसना मुझे आता हैं* ..! मैं खिलता हूँ..! क्योंकि ... *खिलना मुझे सुहाता हैं* ..! मैं मुरझा गया तो क्या ..? *कल फिर एक* ... नया फूल खिलेगा ..! *न कभी मुस्कान* रुकी हैं .. _नही सुगंध_ ...!! *जीवन तो एक* सिलसिला है ..! *इसी तरह चलेगा* :!! जो आपको मिला है ... *उस में खुश रहिये* ..! और प्रभु का ... *शुक्रिया कीजिए* ..! क्योंकि आप जो ... *जीवन जी रहे हैं* ... वो जीवन कई लोगों ने ... *देखा तक नहीं है*..! खुश रहिये .खुश रखिए ! और मुस्कुराते रहिये..!! Jai Shri KrishnaTheme post📪 MCP 🇮🇳जय भारत 🌹जय गणतंत्र🇮🇳 *चक्रव्यूह रचने वाले सारे अपने ही होते हैं.!* *कल भी यही सच था* *और आज भी यही सच है.!!* *संभाल के रखना अपनी पीठ को यारो.!* *'शाबाशी' और 'खंजर' दोनो* *यहीं पर मिलते है. 🙏🙏🙏भारत माता की जय .🙏🙏🙏🍅✴☀❣जय मां अंबे भवानी ❣☀✴🍅❣ 🍂🐚 गंगा गीता गायत्री 🍂🐚 (¯`•.•´¯) *`•.¸(¯`•.•´¯)¸.•´ `•.¸.•´ ჱܓ*“ 🍅✴☀✴☀✴☀✴☀✴☀✴☀✴🍅 ☆*´¨`☽  ¸.★* ´¸.★*´¸.★*´☽ (  ☆** Ψ त्रिवेणी घाट हरिद्वार .Ψ `★.¸¸¸. ★• ° 🙏 सेवक भरत व्यास बांगा हिसार चंडी घाट हरिद्वार

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 10 शेयर
Vijay Pathak Aug 9, 2020

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB