Kamlesh Mishra
Kamlesh Mishra Oct 4, 2017

सुविचार मित्रो

सुविचार मित्रो

+83 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 165 शेयर

+63 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 294 शेयर
Amar jeet mishra Jan 16, 2021

+22 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 68 शेयर
JAGDISH BIJARNIA Jan 17, 2021

+239 प्रतिक्रिया 80 कॉमेंट्स • 173 शेयर
Amar jeet mishra Jan 17, 2021

+25 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 85 शेयर

**जय श्री राधे कृष्णा जी** **शुभरात्रि वंदन जी** एक पाँच छ: साल का मासूम सा बच्चा अपनी छोटी बहन को लेकर मंदिर के एक तरफ कोने में बैठा हाथ जोडकर भगवान से न जाने क्या मांग रहा था । कपड़े में मैल लगा हुआ था मगर निहायत साफ, उसके नन्हे नन्हे से गाल आँसूओं से भीग चुके थे । बहुत लोग उसकी तरफ आकर्षित थे और वह बिल्कुल अनजान अपने भगवान से बातों में लगा हुआ था । जैसे ही वह उठा एक अजनबी ने बढ़ के उसका नन्हा सा हाथ पकड़ा और पूछा : - "क्या मांगा भगवान से" उसने कहा : - "मेरे पापा मर गए हैं उनके लिए स्वर्ग, मेरी माँ रोती रहती है उनके लिए सब्र, मेरी बहन माँ से कपडे सामान मांगती है उसके लिए पैसे".. "तुम स्कूल जाते हो"..? अजनबी का सवाल स्वाभाविक सा सवाल था । हां जाता हूं, उसने कहा । किस क्लास में पढ़ते हो ? अजनबी ने पूछा नहीं अंकल पढ़ने नहीं जाता, मां चने बना देती है वह स्कूल के बच्चों को बेचता हूँ । बहुत सारे बच्चे मुझसे चने खरीदते हैं, हमारा यही काम धंधा है । बच्चे का एक एक शब्द मेरी रूह में उतर रहा था । "तुम्हारा कोई रिश्तेदार" न चाहते हुए भी अजनबी बच्चे से पूछ बैठा । पता नहीं, माँ कहती है गरीब का कोई रिश्तेदार नहीं होता, माँ झूठ नहीं बोलती, पर अंकल, मुझे लगता है मेरी माँ कभी कभी झूठ बोलती है, जब हम खाना खाते हैं हमें देखती रहती है । जब कहता हूँ माँ तुम भी खाओ, तो कहती है मैने खा लिया था, उस समय लगता है झूठ बोलती है । बेटा अगर तुम्हारे घर का खर्च मिल जाय तो पढाई करोगे ? "बिल्कुलु नहीं" "क्यों" पढ़ाई करने वाले, गरीबों से नफरत करते हैं अंकल, हमें किसी पढ़े हुए ने कभी नहीं पूछा - पास से गुजर जाते हैं । अजनबी हैरान भी था और शर्मिंदा भी । फिर उसने कहा "हर दिन इसी इस मंदिर में आता हूँ, कभी किसी ने नहीं पूछा - यहाँ सब आने वाले मेरे पिताजी को जानते थे - मगर हमें कोई नहीं जानता । "बच्चा जोर-जोर से रोने लगा" अंकल जब बाप मर जाता है तो सब अजनबी क्यों हो जाते हैं ? मेरे पास इसका कोई जवाब नही था... ऐसे कितने मासूम होंगे जो हसरतों से घायल हैं । बस एक कोशिश कीजिये और अपने आसपास ऐसे ज़रूरतमंद यतीमों, बेसहाराओ को ढूंढिये और उनकी मदद किजिए ......................... मंदिर मे सीमेंट या अन्न की बोरी देने से पहले अपने आस - पास किसी गरीब को देख लेना शायद उसको आटे की बोरी की ज्यादा जरुरत हो कुछ समय के लिए एक गरीब बेसहारा की आँख मे आँख डालकर देखे, आपको क्या महसूस होता है । स्वयं में व समाज में बदलाव लाने के प्रयास जारी रखें..!! *🙏🏻🙏🏼🙏जय जय श्री राधे*🙏🏾🙏🏽🙏🏿

+215 प्रतिक्रिया 52 कॉमेंट्स • 231 शेयर
Anilkumar Tailor Jan 17, 2021

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 53 शेयर

+253 प्रतिक्रिया 36 कॉमेंट्स • 286 शेयर
jyotipandey94 Jan 16, 2021

+12 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 62 शेयर
Anilkumar Tailor Jan 17, 2021

+30 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 114 शेयर
ramkumarverma Jan 16, 2021

+37 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 121 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB